माइग्रेन के दर्द को दूर करने के लिए योग  - Migraine Ke Liye Yoga In Hindi
योग

माइग्रेन के लिए योग  – Yoga For Migraine in Hindi

माइग्रेन के दर्द को दूर करने के लिए योग  - Migraine Ke Liye Yoga In Hindi

Migraine Ke Liye Yoga माइग्रेन के लिए योग: माइग्रेन आम सिरदर्द की तुलना में अधिक तीव्र होता है। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि योग उन लोगों की भी मदद कर सकता है जो लगातार माइग्रेन से पीड़ित हैं। योग आपके मन और शरीर को शांत करता और शांति प्रदान करता है, साथ ही चिंता, अवसाद और दर्द जैसी बीमारियों में मदद कर सकता है। योग के दौरान पीएनएस (PNS) आपकी हृदय गति को धीमा कर सकता है और आपके रक्तचाप को कम कर देता है। योग आपके शरीर से तनाव को कम करने में मदद करता है। योगाभ्यास न केवल माइग्रेन से लड़ने का एक उपाय है बल्कि यह दर्द को कम करने के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण भी है। आइये माइग्रेन के लिए योगासन को करने की विधि को विस्तार से जानते हैं।

विषय सूची

1. माइग्रेन क्या है – What is Migraine in Hindi
2. योग माइग्रेन को कैसे ठीक कर सकता है – How yoga can impact migraines in Hindi
3. माइग्रेन के लिए योग  पर अनुसंधान क्या कहता है – What does the research say about yoga for migraine in Hindi
4. माइग्रेन के लिए योग – Yoga for migraine in Hindi

5. माइग्रेन को रोकने के अन्य तरीके – Other Ways To Prevent A Migraine In Hindi

माइग्रेन क्या है – What is Migraine in Hindi

माइग्रेन क्या है - What is Migraine in Hindi

माइग्रेन एक प्रकार का सिर दर्द ही है जी आम सिरदर्द की तुलना में अधिक कष्टदायक होता है। यह आमतौर पर सिर के एक तरफ धड़कते दर्द का अनुभव देता हैं। इसके कारण अक्सर मतली, चक्कर आना और प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता के साथ होते हैं। माइग्रेन कुछ घंटों से लेकर कुछ दिनों तक भी रह सकता है। इस का दर्द केवल एक माइग्रेन से पीड़ित व्यक्ति ही वास्तव में समझते हैं। नीचे इसके इलाज के लिए कुछ योग आसन को करने की विधि दी जा रहीं हैं।

(और पढ़े – माइग्रेन के कारण, लक्षण और बचाव के उपाय…)

योग माइग्रेन को कैसे ठीक कर सकता है – How yoga can impact migraines in Hindi

योग माइग्रेन को कैसे ठीक कर सकता है - How yoga can impact migraines in Hindi

योग केवल शारीरिक फिटनेस के लिए नहीं होता यह इससे अधिक लाभ प्रदान कर सकता है। यह आपके मन और शरीर को शांति प्रदान कर सकता है, साथ ही चिंता, अवसाद और दर्द जैसी बीमारियों में मदद कर सकता है।

यह बिल्कुल स्पष्ट नहीं है कि योग इस तरह से शरीर को कैसे बदलता है, हालांकि पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र (पीएनएस) योग के दौरान एक भूमिका निभा सकता है। योग के दौरान, पीएनएस आपकी हृदय गति को धीमा कर सकता है और आपके रक्तचाप को कम कर सकता है। यह आपके शरीर को एक तनावपूर्ण घटना के बाद ठीक होने की अनुमति देता है, जैसे कि माइग्रेन।

माइग्रेन आम सिरदर्द की तुलना में अधिक तीव्र होता है। वे आमतौर पर सिर के एक तरफ धड़कते दर्द की विशेषता रखते हैं। वे अक्सर मतली, चक्कर आना और प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता के साथ होते हैं। माइग्रेन कुछ घंटों से लेकर कुछ दिनों तक कहीं भी रह सकता है।

न केवल योगाभ्यास माइग्रेन से लड़ने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण है, जैसा कि वे हो रहे हैं, यह दर्द को कम करने के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण भी है।

(और पढ़े – माइग्रेन और सिर दर्द में अंतर क्या होता है…)

माइग्रेन के लिए योग पर अनुसंधान क्या कहता है – What does the research say about yoga for migraine in Hindi

माइग्रेन के लिए योग  पर अनुसंधान क्या कहता है - What does the research say about yoga for migraine in Hindi

2014 के एक अध्ययन में पाया गया कि सिरदर्द की आवृत्ति और तीव्रता उन लोगों में कम हो गई जो अपने नियमित उपचार के अलावा योग का अभ्यास करते हैं। इन प्रतिभागियों ने भी वेगल ध्वनि में सुधार का अनुभव किया, जो पीएनएस में गतिविधि की मात्रा को संदर्भित करता है।

कुल मिलाकर, योग ने हृदय स्वायत्त संतुलन में सुधार किया। स्वायत्त तंत्रिका तंत्र में गड़बड़ी और संचार प्रणाली के नियमन माइग्रेन से जुड़े हैं। यदि इनमे संतुलन बहाल किया जाता है, तो माइग्रेन की संभावना कम हो जाती है।

(और पढ़े – योग क्‍या है योग के प्रकार और फायदे हिंदी में…)

माइग्रेन के लिए योग  – Yoga for migraine in Hindi

योग श्वास तकनीकों और आसनों के संयोजन के माध्यम से समग्र जीवन की भावना को बढ़ावा देता है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। यह शरीर में ऊर्जा प्रवाह और समग्र स्वास्थ्य को सही करते हुए विभिन्न रोगों में मदद करता है।

विशिष्ट योग पोज़ तनाव और टेंसन को कम कर सकते हैं, जो आपके माइग्रेन को बढ़ाने में योगदान देते है। कुछ योग आसन ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देने और आपके मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। यह आपके माइग्रेन के दर्द को कम कर सकता है।

यहां माइग्रेन के लिए योग दिये जा रहें हैं जो आपके माइग्रेन के लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकते हैं और आपकी शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक अवस्थाओं को संतुलित कर सकते हैं।

माइग्रेन के लिए योग अधोमुख श्वान आसन – Adho Mukha Svanasana Yoga for migraine in Hindi

माइग्रेन के लिए योग अधोमुख श्वान आसन - Adho Mukha Svanasana Yoga for migraine in Hindi

अधोमुख श्वान आसन एक मुद्रा है जो एक कुत्ते के समान स्ट्रेचिंग से मिलता जुलता है। इसलिए इसे Downward facing dog के नाम से भी जाना जाता हैं। यह आसन मस्तिष्क में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है और दर्द को ठीक करने और माइग्रेन के सिरदर्द की आवृत्ति को कम करने की दिशा में काम करता है। इस आसन का नियमित अभ्यास अन्य शरीरिक विकार को पूरी तरह से ठीक कर सकता है। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को बिछा के उस पर सीधे खड़े हो जाएं। अपने दोनों पैरों के बीच में थोड़ा सा अंतर रखें।

अब आगे की ओर झुकते जाएं अपने दोनों हाथों को जमीन पर रखे। दोनों पैरों को हाथों से दूर करें जिससे आपके हाथ और रीढ़ की हड्डी एक सीधी रेखा में आ जाएं। इसमें आपके पैर और सीने के बीच 90 डिग्री का कोण बनेगा। अधोमुख श्वान आसन को एक-दो मिनिट के लिए करें।

(और पढ़े – अधोमुख श्वानासन के फायदे और करने का तरीका…)

माइग्रेन के लिए प्राणायाम – Pranayama For Migraine In Hindi

माइग्रेन के लिए प्राणायाम - Pranayama For Migraine In Hindi

यह विशेष रूप से आयुर्वेद और योगियों द्वारा माइग्रेन के दर्द को दूर करने और प्रबंधित करने के लिए सुझाया गया है। अन्य प्राणायाम जो माइग्रेन के प्रबंधन में फायदेमंद साबित होते हैं, वे हैं कपालभाति प्राणायाम, अनुलोम विलोम प्राणायाम और ब्रह्मारी प्राणायाम।

माइग्रेन पर एक चिकित्सा प्रभाव होने के अलावा, भस्त्रिका प्राणायाम हमारे बीएमआर को बढ़ाती है, अस्थमा, साइनस की स्थिति और पाचन संबंधी बीमारियों को ठीक करती है। यह रक्त को शुद्ध करने का कार्यकरता है, मन को शांत करता है और मांसपेशियों की शिथिलता और ऑक्सीजन की कमी के विकारों के मामले में फायदेमंद साबित होता है। यह शरीर के वात, पित और कफ दोषों को संतुलित करता है।

यहाँ आप भस्त्रिका प्राणायाम को कैसे करे के बारे में जानेगे:

  • सम तल पर एक चटाई बिछाएं और कमल की स्थिति में उस पर बैठ जाएं। अपने सिर, गर्दन और शरीर को सीधा रखें (एक सीधी रेखा में)।अपना मुंह बंद कर लें। श्वास लेना और छोड़ना तेजी से 10 बार करें। साँस छोड़ना और साँस लेना दोनों को लोहार की धौंकनी की तरह ध्वनि चाहिए।
  • जब आप अपने फेफड़ों में सांस लेते हैं और जब आप सांस छोड़ते हैं तो पेट को फूलना और सिकोड़ना चाहिए। 10 की गिनती एक सेट के लिए होती है।
  • हर सेट पूरा होने के बाद 10 सेकंड के लिए रुकें। ठहराव की इस स्थिति के दौरान, फेफड़े की अधिकतम क्षमता तक धीरे-धीरे और पूरी तरह से सांस लें, 3-5 सेकंड के लिए रुकें और धीरे-धीरे और पूरी तरह से सांस छोड़ें।
  • सेट को दो बार सेट के बीच में रोकते हुए दोहराएं। अंतिम निष्कासन के बाद एक गहरी साँस लेना चाहिए।
  • जब तक यह सहज हो तब तक इस साँस के बाद रुकें। धीरे-धीरे और पूरी तरह से सांस छोड़ें।

(और पढ़े – अनुलोम विलोम प्राणायाम के फायदे और करने का तरीका…)

माइग्रेन के लिए योग शवासन – Migraine ke liye yoga Shavasana (Corpse pose) in Hindi

माइग्रेन के लिए योग शवासन – Migraine ke liye yoga Shavasana (Corpse pose) in Hindi

शवासन या कॉर्पस पोज एक महान बुनियादी चरमोत्कर्ष है। यह शरीर में आराम की गहरी स्थिति में लाता है। शरीर लगभग ध्यान की स्थिति में बह जाता है और अच्छी तरह से कायाकल्प (rejuvenation) किया जाता है। यह कायाकल्प माइग्रेन को दूर करने में भी मदद करता है। इस आसन को करने के लिए आप एक योगा मैट को फर्श पर बिछा के उस पर पीठ के बल लेट जाएं। अपने दोनों पैरों और हाथों को सीधा रखें। अब अपने दोनों पैरों के बीच में 1.5 फिट की दूरी रखें। अपने दोनों हाथों को शरीर से 45 डिग्री पर रखें और हथेलियों को ऊपर की ओर रखें। अब इस मुद्रा में आराम करें, इस स्थिति को 5 से 30 मिनट के बीच रखें। इस आसन में आपको सोना नहीं हैं। शवासन में आप अपनी क्षमता के अनुसार रह सकते है।

कुछ लोगों को इस मुद्रा के दौरान आराम से संगीत सुनना अच्छा लगता है। माइग्रेन के दौरान आप शोर के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं, इसलिए आपको यह तय करने की आवश्यकता होगी कि क्या संगीत आपको आराम करने में मदद करता है।

इस मुद्रा से बाहर निकलने के लिए, आपको धीरे-धीरे अपने शरीर में जागरूकता वापस लाना चाहिए। अपनी उंगलियों और पैर की उंगलियों को धकेलें। एक तरफ करवट लें और एक पल के लिए खुद को वहां आराम करने दें। धीरे-धीरे खुद को एक सीधी स्थिति में ले जाएं।

आप माइग्रेन के दौरान इन पोज़ को आज़मा सकते हैं, साथ ही अगर आप योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं तो आपको बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

(और पढ़े – शवासन योग करने के फायदे और तरीका…)

पश्चिमोत्तानासन योग के फायदे माइग्रेन में – Paschimottanasana yoga ke fayde migraine me in Hindi

पश्चिमोत्तानासन योग के फायदे माइग्रेन में – Paschimottanasana yoga ke fayde migraine me in Hindi

पश्चिमोत्तानासन माइग्रेन के दर्द के लिए योग में एक और अद्भुत आसन है। यह आसन मस्तिष्क को शांत करता है और तनाव से राहत देता है जो माइग्रेन के दर्द को कम करने के दो प्रमुख ट्रिगर हैं। पश्चिमोत्तानासन करने के लिए आप किसी साफ स्थान पर योगा मैट को बिछा के दोनों पैरों को सामने की ओर सीधा करके दण्डासन में बैठ जाएं। अपने दोनों हाथों को ऊपर उठा के सीधे कर लें। अब धीरे-धीरे आगे की ओर झुके और अपने दोनों हाथों से पैर के पंजे पकड़ लें। अपने सिर को घुटनों पर रख दें। इस आसन को 20 से 60 सेकंड के लिए करें।

(और पढ़े – पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

माइग्रेन के लिए योग मार्जरासन – Marjariasana Yoga for migraine in Hindi

माइग्रेन के लिए योग मार्जरासन – Marjariasana Yoga for migraine in Hindi

मार्जरासन को आमतौर पर गाय स्ट्रेच या कैट स्ट्रेच के साथ किया जाता है। इन दोनों आसनों का संयोजन हमारे पूरे शरीर के लिए फायदेमंद है। यह आसन दिमाग और मांसपेशियों को आराम देने वाला है। यह आसान आपकी सांस लेने की क्षमता में भी सुधार करता है और आपको तनाव मुक्त करने की अनुमति देता है। ये सभी कारक एक माइग्रेन के दर्द और लक्षणों से छुटकारा पाने में मदद करते हैं। इस आसन को करने के लिए आप एक योगा मैट पर घुटनों को टेक के अपने दोनों हाथों को जमीन पर रख लें।

अपने धड को फर्श के समान्तर रखें। अब साँस को अन्दर लेते हुए अपने सिर को पीछे की ओर तथा अपनी ठुड्डी को ऊपर करें। इसके बाद साँस को बाहर छोड़ते हुए सिर को सीधा करें। अब फिर से साँस को अन्दर लेते हुए अपने सिर को नीचे करें और अपनी ठुड्डी को छाती से लगाने का प्रयास करें। फिर से साँस को छोड़ते हुए अपने सिर को सीधा करें। इस आसन को कम से कम 5 से 6 बार करें।

(और पढ़े – मार्जरासन करने के तरीके और उससे होने वाले फायदे…)

माइग्रेन में फायदेमंद योग पद्मासन – Migraine me faydemand yoga Padmasana in Hindi

माइग्रेन में फायदेमंद योग पद्मासन - Migraine me faydemand yoga Padmasana in Hindi

पद्मासन या लोटस पोज़ एक ध्यान मुद्रा है जो मन को शांत करता है और सिर को साफ करता है, जिससे सिरदर्द कम होता है। पद्मासन करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को बिछा के उस पर दण्डासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। अब अपने दायं पैर को मोड़े और उसे बाएं पैर की जांघ पर रखे लें। अब बाएं पैर को मोड़े और उसे दायं पैर की जांघ पर रख लें। अपने दोनों हाथों को सीधा करके दोनों घुटनों पर रखे लें। आँखों को बंद करके ध्यान लगायें।

(और पढ़े – पद्मासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

माइग्रेन का योग सेतुबंध आसन – Migraine ke liye yoga Setubandh aasan in Hindi

माइग्रेन का योग सेतुबंध आसन – Migraine ke liye yoga Setubandh aasan in Hindi

सेतुबंध आसन को ब्रिज पोज भी कहा जाता है। यह आसन आपके रक्तचाप को नियंत्रित रखता है और आपके दिमाग को शांत भी करता है। यह चिंता को दूर करने में मदद करता है। यह आपके मस्तिष्क में ताजा रक्त भेजता है जो दर्द को कम करने में मदद करता है। सेतुबंध आसन करने के लिए आप एक योगा मैट को बिछा के उस पर सीधे लेट जाएं, अब अपने पैरों को घुटनों के यहाँ से मोड़ें और अपने हिप्स को ऊपर उठायें, अपने दोनों हाथों को पीठ के नीचे आपस में जोड़ लें। इस स्थिति में रहते हुयें 20 बार साँस लें और स्थिति से बाहर आयें।

(और पढ़े – सेतुबंधासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

माइग्रेन के लिए योग बालासन – Child’s Pose Yoga for migraine in Hindi

माइग्रेन के लिए योग बालासन - Child’s Pose Yoga for migraine in Hindi

बालासन योग आसन को बाल मुद्रा भी कहा जाता है। यह एक महान विश्राम मुद्रा है जो एक तनाव निवारक के रूप में जानी जाती है। यह आसन आपकी एड़ियों, कूल्हों और जांघों को एक अच्छा खिंचाव देने में मदद करता है। जब आपका शरीर फैला होता है तो आपका तंत्रिका तंत्र शांत हो जाता है। तनाव और थकान कम हो जाती है और इससे माइग्रेन गायब हो जाता है। इस आसन को करने के लिए आप एक योगा मैट को बिछा के उस पर वज्रासन में या घुटने टेक के बैठ जाएं। अब धीरे-धीरे अपने सिर को झुकाते जाएं और जमीन पर सिर को रखें। अपने दोनों हाथों को सामने की ओर सीधे करके फर्श पर रखें। इस आसन में आप कम से कम 2 से 3 मिनिट रहने का प्रयास करें।

(और पढ़े – बालासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

उत्तानासन योग के फायदे माइग्रेन दर्द में – Uttanasana Yoga ke fayde migraine dard me in Hindi

उत्तानासन योग के फायदे माइग्रेन दर्द में – Uttanasana Yoga ke fayde migraine dard me in Hindi

उत्तानासन या पादहस्तासन एक खड़े होकार आगे की ओर झुकने वाला आसन हैं। यह शरीर के कोर पर काम करता है क्योंकि यह तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है और रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है, जिससे दिमाग शांत होता है। यह माइग्रेन के सिरदर्द को कम करने में मदद करता है। उत्तानासन करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं। अपने दोनों पैरों को पास-पास रखें और अपने दोनों हाथों को ऊपर सीधा कर लें। अब धीरे-धीरे सामने को ओर कमर से नीचे झुकते जाएं और अपने दोनों हाथों से पैर के पंजों को छूने की कोशिश करें। इस आसन में आप 60 से 90 सेकंड के लिए रहें फिर आसन से बाहर आयें।

(और पढ़े – उत्तानासन (हस्तपादासन) करने का तरीका और फायदे…)

माइग्रेन को रोकने के अन्य तरीके – Other Ways To Prevent A Migraine In Hindi

माइग्रेन को रोकने के अन्य तरीके - Other Ways To Prevent A Migraine In Hindi

योग के अलावा, अन्य चीजें हैं जो आप माइग्रेन के जोखिम को कम करने में आपकी मदद कर सकती हैं।

  • अपना आहार सही रखें। आपको चॉकलेट, शराब और कैफीन जैसे माइग्रेन को ट्रिगर करने वाले खाद्य पदार्थों के अपने सेवन को सीमित करना चाहिए।
  • सूर्य के संपर्क में कम रहें। तेज रोशनी और धूप से माइग्रेन बढ़ सकता है।
  • रोजाना का शेड्यूल बना कर उसका पालन करें। एक ही नींद के पैटर्न पर रहने की कोशिश करें, उचित भोजन करें, और दैनिक व्यायाम करें।

(और पढ़े – आयुर्वेद के अनुसार दिनचर्या…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration