पुरुष स्तन कैंसर के लक्षण, कारण, जाँच, इलाज और बचाव – Male Breast Cancer Symptoms, Causes And Treatment In Hindi

पुरुष स्तन कैंसर के लक्षण, कारण, जाँच, इलाज और बचाव - Male Breast Cancer Symptoms, Causes And Treatment In Hindi
Written by Sourabh

Male Breast Cancer In Hindi ब्रेस्ट कैंसर मुख्य रूप से महिलाओं में होने वाली एक आम समस्या है, लेकिन पुरुष में भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती है। पुरुष स्तन कैंसर तब शुरू होता है, जब स्तन में कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से बढ़ने लगती हैं। ये अनियंत्रित कोशिकाएं आमतौर पर एक ट्यूमर का निर्माण करती हैं, जिसे एक्स-रे द्वारा देखा जा सकता है, जबकि कुछ स्थितियों में इसे स्तन की गांठ के रूप में भी महसूस किया जा सकता है। हालांकि पुरुष ब्रेस्ट कैंसर की अधिकांश स्थितियों में किसी भी तरह के शुरूआती लक्षण प्रगट नहीं होते हैं। लेकिन जब ट्यूमर कोशिकाएं अपने आसपास के ऊतकों में फैलती हैं, तो यह स्थिति गंभीर लक्षणों को उत्पन्न कर सकती है और तुरंत उपचार की आवश्यकता पड़ सकती है।

आज के इस लेख में आप पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर क्या है, इसके कारण, लक्षण, जाँच, इलाज के साथ-साथ उपचार और बचाव के बारे में जानेगें।

1. पुरुष स्तन कैंसर क्या है – What is male breast cancer in Hindi
2. पुरुष स्तन कैंसर के प्रकार – Types of male breast cancer in Hindi
3. पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण – Male breast cancer symptoms in Hindi
4. पुरुष स्तन कैंसर का कारण – Male breast cancer causes in Hindi
5. पुरुषों में स्तन कैंसर के जोखिम कारक – Male breast cancer risk factors in hindi
6. पुरुष स्तन कैंसर के लिए डॉक्टर को कब दिखाएं – When to see a doctor for Male breast cancer in hindi
7. पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर की जाँच – Male breast cancer diagnosis in hindi
8. पुरुषों के ब्रेस्ट कैंसर का इलाज – Male breast cancer treatment in hindi
9. पुरुष स्तन कैंसर से बचाव – Male breast cancer prevention in hindi

पुरुष स्तन कैंसर क्या है – What is male breast cancer in Hindi

पुरुष स्तन कैंसर क्या है – What is male breast cancer in Hindi

वह कैंसर जो पुरुषों के स्तन ऊतकों में विकसित होता है उसे पुरुष स्तन कैंसर के नाम से जाना जाता है। पुरुषों में स्तन कैंसर की समस्या काफी दुर्लभ है। पुरुष स्तन कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन वृद्ध पुरुषों में यह काफी सामान्य है। महिलाओं के स्तन की तरह ही पुरुषों के स्तन ऊतकों में दूध पैदा करने वाली ग्रंथियाँ (लोब्यूल) और नलिकाएँ होती हैं, लेकिन पुरुष में इनकी बहुत कम मात्रा होती है। चूँकि पुरुष स्तन कैंसर की शुरुआत इन्ही लोब्यूल ग्रंथियों से होती है, इसी कारण पुरुष स्तन कैंसर काफी दुर्लभ है।

प्रारंभिक अवस्था में पुरुषों के ब्रेस्ट कैंसर का निदान करके, कम जोखिम वाले इलाज को प्राप्त किया जा सकता है। आमतौर पर मेल ब्रेस्ट कैंसर के इलाज के दौरान स्तन ऊतक को हटाने के लिए सर्जरी की की सिफारिश की जाती है। कुछ विशेष स्थितियों में कीमोथेरेपी और विकिरण थेरेपी जैसे अन्य उपचार भी पुरुष स्तन कैंसर का इलाज करने में सक्षम होते हैं।

पुरुष स्तन कैंसर के प्रकार – Types of male breast cancer in Hindi

पुरुष स्तन कैंसर के प्रकार – Types of male breast cancer in Hindi

मेल ब्रेस्ट कैंसर की शुरुआत सारकोमा (sarcomas) और लिम्फोमा (lymphomas) के रूप में हो सकती है। चूँकि पुरुषों में स्तन कैंसर की शुरुआत स्तन के विभिन्न हिस्सों से होती है, अतः इस आधार पर पुरुष स्तन कैंसर को निम्न प्रकारों में बांटा गया है:

  • डक्टल कार्सिनोमा (ductal carcinoma) – अधिकांश स्तन कैंसर की शुरुआत निप्पल तक जाने वाली दूध नलिकाओं (milkducts) से होते हैं, जिसके कारण इस प्रकार के पुरुष स्तन कैंसर को डक्टल कैंसर (ductal cancers) या डक्टल कार्सिनोमा के नाम से जाना जाता है। लगभग सभी पुरुषों में डक्टल कार्सिनोमा प्रकार के स्तन कैंसर ही उत्पन्न होते हैं।
  • लोब्युलर कार्सिनोमा (lobular carcinoma) – कुछ स्तन कैंसर की शुरुआत स्तन दूध बनाने वाली ग्रंथियों (lobules) से होती है, जिसे लोब्युलर कैंसर या लोब्युलर कार्सिनोमा कहा जाता है। इस प्रकार का स्तन कैंसर पुरुषों में दुर्लभ है, क्योंकि पुरुषों के स्तन के ऊतकों में कम लोब्यूल (lobules) होते हैं।
  • अन्य (other) – अन्य प्रकार के स्तन कैंसर काफी दुर्लभ हैं, जिनमें निप्पल की पैगेट डिजीज (Paget’s disease) और इंफ्लेमेटरी ब्रेस्ट कैंसर (inflammatory breast cancer) आदि शामिल हैं।

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण – Male breast cancer symptoms in Hindi

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण - Male breast cancer symptoms in Hindi

पुरुष स्तन कैंसर के संकेत और लक्षणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

  • स्तन के ऊतकों का मोटा होना या स्तन पर एक दर्द रहित गांठ।
  • निप्पल से तरल पदार्थ का रिसाव होना या खून बहना।
  • स्तन को ढ़कने वाली त्वचा में परिवर्तन जैसे लालिमा, डिंपल का उत्पादन, त्वचा का सिकुड़ना या स्केलिंग (डिंपल या डिम्पल का उत्पादन) इत्यादि।
  • निप्पल में बदलाव, जैसे लालिमा या स्केलिंग, निप्पल का अंदर की ओर मुड़ना इत्यादि।

(और पढ़े – ब्रेस्ट कैंसर का संकेत देते हैं ये लक्षण जानें स्तन कैंसर के शुरुआती लक्षण क्या हैं?)

पुरुष स्तन कैंसर का कारण – Male breast cancer causes in Hindi

पुरुष स्तन कैंसर का कारण - Male breast cancer causes in Hindi

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर का कोई भी स्पष्ट कारण नहीं है। पुरुष स्तन कैंसर तब उत्पन्न होता है, जब स्तन की कुछ कोशिकाएं, स्वस्थ कोशिकाओं की तुलना में अधिक तेजी से विभाजित होती हैं। यह कोशिकाएं एक ट्यूमर का निर्माण करती हैं और पास के ऊतक, लिम्फ नोड्स या शरीर के अन्य हिस्सों में फैल सकती हैं। पुरुष स्तन कैंसर का एक प्रमुख कारण पुरुषों में एस्ट्रोजन हार्मोन का अधिक मात्रा में पाया जाना है। एस्ट्रोजन के उच्च स्तर में आनुवंशिक, पर्यावरणीय और चिकित्सीय कारक इत्यादि अपना योगदान दे सकते हैं।

पुरुषों में स्तन कैंसर के जोखिम कारक – Male breast cancer risk factors in Hindi

पुरुषों में स्तन कैंसर के जोखिम कारक – Male breast cancer risk factors in hindi

पुरुष स्तन कैंसर के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  • स्तन कैंसर के पारिवारिक इतिहास से सम्बंधित व्यक्ति
  • मधुमेह या थायराइड की स्थिति
  • बढ़ती उम्र – जैसे-जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती जाती है, स्तन कैंसर का खतरा भी बढ़ता जाता है।
  • एस्ट्रोजन का उच्च स्तर – यदि कोई व्यक्ति एस्ट्रोजन से संबंधित दवाओं का सेवन करता है, या प्रोस्टेट कैंसर के लिए हार्मोन थेरेपी का उपयोग करता है, उसको स्तन कैंसर का खतरा अधिक होता है।
  • क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम (Klinefelter’s syndrome) – यह एक आनुवांशिक सिंड्रोम है, जो लड़कों में एक से अधिक एक्स क्रोमोसोम (X chromosome) की उपस्थिति का कारण बनती है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम की स्थिति में अंडकोष का असामान्य विकास होता है, जिसके फलस्वरूप सम्बंधित व्यक्ति में, कुछ पुरुष हार्मोन (androgens) के निम्न स्तर और महिला हार्मोन (estrogens) का अधिक उत्पादन होता है।
  • यकृत की बीमारी (Liver disease) – कुछ लीवर की बीमारियाँ जैसे- लिवर सिरोसिस इत्यादि, पुरुष हार्मोन में कमी और महिला हार्मोन में वृद्धि का कारण बन सकती हैं, जिससे स्तन कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।
  • मोटापा – मोटापा शरीर में एस्ट्रोजन के उच्च स्तर से सम्बंधित होता है, जिससे पुरुष स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
  • अंडकोष की बीमारी या सर्जरी (Testicle disease or surgery) – वृषण (अंडकोष) में सूजन (ऑर्काइटिस) की बीमारी और अंडकोष को हटाने के लिए की गई सर्जरी भी पुरुष स्तन कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकती है।

(और पढ़े – अंडकोष (वृषण) में दर्द के कारण, लक्षण, जांच, उपचार और रोकथाम…)

पुरुष स्तन कैंसर के लिए डॉक्टर को कब दिखाएं – When to see a doctor for Male breast cancer in Hindi

यदि किसी पुरुष को स्तन में परिवर्तन से सम्बंधित किसी भी प्रकार के संकेत या लक्षण महसूस होते हैं, किसी भी प्रकार की चिंतित या परेशानी उत्पन्न करते हैं, तब इस स्थिति में सम्बंधित व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर की जाँच – Male breast cancer diagnosis in Hindi

पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर की जाँच - Male breast cancer diagnosis in hindi

डॉक्टर, पुरुषों के स्तन कैंसर का निदान करने के लिए अनेक प्रकार के टेस्ट और प्रक्रियाओं की मदद ले सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • शारीरिक परीक्षण – डॉक्टर पुरुष स्तन कैंसर की जाँच करने के लिए शारीरिक परीक्षण कर सकता है, जिसके तहत स्तन की गांठ या अन्य परिवर्तनों का निरीक्षण किया जाता है।
  • इमेजिंग परीक्षण – इमेजिंग परीक्षण की मदद से स्तन ऊतकों की इमेज प्राप्त कर असामान्य क्षेत्रों की पहचान की जाती है। इस प्रकार के स्तन कैंसर टेस्ट में एक स्तन एक्स-रे (मैमोग्राम) या अल्ट्रासाउंड परीक्षण को शामिल किया जा सकता है।
  • बायोप्सी परीक्षण (biopsy) – बायोप्सी के लिए स्तन कोशिकाओं या ऊतकों का एक छोटा सा नमूना निकाला जाता है, और प्रायोगिक निरीक्षण की मदद से स्तन कैंसर का निदान किया जाता है। बायोप्सी परीक्षण की मदद से स्तन कैंसर के प्रकार और कैंसर की गंभीरता को निर्धारित किया जा सकता है।

जब डॉक्टर द्वारा स्तन कैंसर का निदान कर लिया जाता है, तो कैंसर की अवस्था (स्टेज) को निर्धारित करने के लिए अन्य टेस्ट और प्रक्रियाओं को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

  • बोन स्कैन (Bone scan)
  • कंप्यूटेड टोमोग्राफी या सीटी स्कैन
  • पोजीट्रान उत्सर्जन टोमोग्राफी या पीईटी स्कैन

स्तन कैंसर की अवस्था (स्टेज) 0 से IV तक होती है। कैंसर की 0 स्टेज, नॉन-इनवेसिव या दूध नलिकाओं (milk ducts) के भीतर निहित कैंसर का संकेत होती है। स्टेज IV स्तन कैंसर को मेटास्टेटिक ब्रेस्ट कैंसर (metastatic breast cancer) भी कहा जाता है, यह शरीर के अन्य क्षेत्रों में कैंसर के फैलने की स्थिति को इंगित करता है।

(और पढ़े – सीटी स्कैन क्या है कैसे होता है, कीमत, फायदे और नुकसान…)

पुरुषों के ब्रेस्ट कैंसर का इलाज – Male breast cancer treatment in Hindi

पुरुषों के ब्रेस्ट कैंसर का इलाज - Male breast cancer treatment in hindi

डॉक्टर द्वारा पुरुष स्तन कैंसर के उपचार का निर्धारण, कैंसर के चरण (स्टेज) और मरीज के समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। पुरुष स्तन कैंसर के उपचार में अक्सर सर्जरी के साथ साथ अन्य उपचार को भी शामिल किया जा सकता है।

सर्जरी (Surgery) – पुरुष स्तन कैंसर के इलाज के दौरान ट्यूमर और आसपास के प्रभावित ऊतकों को निकालने के लिए सर्जरी की जाती है। सर्जिकल प्रक्रिया में मास्टेक्टॉमी (mastectomy) को शामिल किया जा सकता है, जिसमें सभी स्तन ऊतक को हटा दिया जाता है। इसके अतिरिक्त लुम्पेक्टोमी (Lymphectomy) सर्जरी के द्वारा स्तन कैंसर से प्रभावित कुछ लिम्फ नोड्स को भी हटाया जा सकता है।

रेडिएशन थेरेपी (Radiation therapy) – विकिरण चिकित्सा (Radiation therapy) के तहत् कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए एक्स-रे और प्रोटॉन जैसे उच्च-ऊर्जा बीम का उपयोग किया जाता है। विकिरण चिकित्सा के दौरान, उच्च ऊर्जा विकिरणों को एक सटीक बिंदुओं पर निर्देशित किया जाता है।

हार्मोन थेरेपी (Hormone therapy) – पुरुष स्तन कैंसर से सम्बंधित अधिकांश पुरुषों में हार्मोन-संवेदनशीलता के कारण ट्यूमर का निर्माण होता है। यदि कैंसर हार्मोन-संवेदनशील (hormone-sensitive) है, तो डॉक्टर हार्मोन थेरेपी की सिफारिश कर सकता है। पुरुष स्तन कैंसर के उपचार के लिए हार्मोन थेरेपी में अक्सर टेमोक्सीफेन दवा को शामिल किया जाता है।

कीमोथेरपी (Chemotherapy) – कीमोथेरेपी उपचार के तहत् कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए दवाओं का उपयोग करती है। इन दवाओं को इंजेक्शन या गोली के रूप में दिया जा सकता है।

डॉक्टर, पुरुषों के स्तन कैंसर के इलाज के दौरान सर्जरी का उपयोग करने के बाद कीमोथेरेपी की सिफारिश कर सकता है।

(और पढ़े – कीमोथेरेपी क्या है फायदे और नुकसान…)

पुरुष स्तन कैंसर से बचाव – Male breast cancer prevention in hindi

पुरुष स्तन कैंसर से बचाव - Male breast cancer prevention in hindi

शुरुआती लक्षणों का पता लगाकर पुरुषों के ब्रेस्ट कैंसर को फैलने से रोका जा सकता है। यदि परिवार में पुरुष स्तन कैंसर का इतिहास है, तो उस परिवार के सभी व्यक्तियों को नियमित रूप से स्तन में किसी भी प्रकार के परिवर्तनों की जांच करनी चाहिए।

एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने के लिए और पुरुष स्तन कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए निम्न तरीकों को अपनाया जा सकता है, जैसे कि:

(और पढ़े – व्यायाम (एक्सरसाइज) के प्रकार, महत्व, करने का तरीका, लाभ और हानि…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration