मैमोग्राफी या मैमोग्राम क्या है तैयारी प्रक्रिया परिणाम और कीमत – Mammography Procedure Result and price in Hindi

मैमोग्राफी या मैमोग्राम क्या है तैयारी प्रक्रिया परिणाम और कीमत - Mammography Preparation Procedure Result and price in Hindi
Written by Ramkumar

Mammography in Hindi मैमोग्राफी या मैमोग्राम एक प्रकार का स्तन का एक्स-रे होता है यह एक स्क्रीनिंग जाँच (स्तन का चित्रण) उपकरण है जिसका उपयोग स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए किया जाता है। तो आइये जानते है कि मैमोग्राफी क्या है, मैमोग्राफी या मैमोग्राम कैसे की जाती है? मैमोग्राफी क्यों की जाती है? इसकी तैयारी, प्रक्रिया, जटिलता और परिणाम के बारे में।

  1. मैमोग्राफी क्या है – Mammography Kya Hai In Hindi
  2. मैमोग्राफी की जरुरत क्यों होती है – Why Need Of Mammography In Hindi
  3. मैमोग्राफी के लिए तैयारी कैसे करे – How Do I Prepare For Mammography In Hindi
  4. मैमोग्राफी के दौरान क्या होता है – What Happens During Mammography In Hindi
  5. मैमोग्राफी के साथ जुड़ी हुई जटिलताएँ क्या है – Mammography Complication In Hindi
  6. मैमोग्राफी के परिणाम का क्या मतलब है – Mammography Result Mean In Hindi
  7. मैमोग्राफी की कीमत – Mammography Test Cost In Hindi

मैमोग्राफी क्या है – Mammography Kya Hai In Hindi

मैमोग्राफी क्या है - Mammography Kya Hai In Hindi

मैमोग्राफी या मैमोग्राम, स्तन का एक एक्स-रे होता है। यह एक स्क्रीनिंग (जाँच) उपकरण है जिसका उपयोग स्तन कैंसर का पता लगाने और निदान करने के लिए किया जाता है, आपको अपने स्तन कैंसर की नियमित रूप से जाँच करने के लिए मैमोग्राम या मैमोग्राफी एक अच्छा विकल्प है, स्तन कैंसर की जाँच आप अपने घर पर भी स्वयं कर सकती है, आइने में देखकर स्वयं के ब्रैस्ट (स्तन) का परीक्षण करे। कि आपको कोई गांठ या कसावट तो नहीं जिसे दबाने से आपको दर्द महसूस तो नहीं हो रहा है। यदि स्तन में आपको दर्द महसूस हो तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

नेशनल कैंसर इंस्टिट्युट के अनुसार त्वचा के कैंसर के अलावा महिलाओ में स्तन कैंसर दूसरा सबसे आम कैंसर है हर साल पुरुषो में स्तन कैंसर लगभग 2,300 मामले सामने आते है जबकि हर साल महिलाओ में लगभग 230,000 नए मामले सामने आते है।

(और पढ़े – ब्रैस्ट कैंसर (स्तन कैंसर) के लक्षण, कारण, जांच, इलाज और बचाव…)

मैमोग्राफी की जरुरत क्यों होती है – Why Need Of Mammography In Hindi

मैमोग्राफी की जरुरत क्यों होती है - Why Need Of Mammography In Hindi

  • यदि आपके परिवार में किसी को पहले से स्तन कैंसर की बीमारी या कैंसर की गांठ रही हो तो, आपको डॉक्टर से सलाह लेने की जरुरत है।
  • यदि आपको अपने स्तन में दर्द और कसावट लग रही हो तो स्क्रीनिंग के द्वारा अपने स्तन में कैंसर व गांठ की जाँच करवाए।
  • यदि डॉक्टर आपको स्तन कैंसर की नियमित जाँच करने की सलाह देते है तो इसे स्क्रीनिंग (स्तन कैंसर) की जाँच के रूप में जाना जाता है इस प्रकार की जाँच में डॉक्टर आपके स्तन का एक्स-रे करता है।
  • महिलाओ में मैमोग्राम 74 वर्ष की उम्र तक जरुरी होता है।

(और पढ़े – स्तन (ब्रेस्ट) में गांठ क्या है कारण, लक्षण, जांच, इलाज और बचाव…)

मैमोग्राफी के लिए तैयारी कैसे करे – How Do I Prepare For Mammography In Hindi

आपको अपने मैमोग्राफी के दिन कुछ निर्देशों का पालन करना होगा-

  • स्तन परीक्षण करने के दौरान आपको डियोडरेन्ट, बॉडी पाउडर या इत्र परफ्यूम नहीं लगाना चाहिए इसके अलावा, आपको अपने स्तनों या अंडरआर्म्स पर कोई मलहम या क्रीम नहीं लगाना चाहिए।
  • सामान्य तौर पर ये पदार्थ जैसे-परफ्यूम, या बॉडी स्प्रे लगाने से ये स्तन चित्रण को पूरी तरह से या स्पष्ट रूप से ख़राब कर देते है जिससे यह स्तन चित्रण केल्सिकरण (हड्डियों का घिसना) या कैल्शियम जमा होने जैसे दिखाई दे सकते है, कैल्सियम के जमा होने से आपकी किडनी पर भी बुरा असर पड़ सकता है इसलिए इनसे बचाव करना बहुत जरुरी होता है।
  • यदि आप गर्भवती महिला है या बच्चे को स्तनपान करवा रही है तो स्तन परीक्षण की जाँच से पहले अपने रेडियोलाजिस्ट को इसके बारे में अवश्य बताये।
  • सामान्य तौर पर गर्भवती महिलाओ को स्क्रीनिंग जाँच (मैमोग्राफ) स्तन का चित्रण नहीं करवाना चाहिए इससे होने वाले बच्चे पर रेडिएशन का बुरा असर पड़ने का खतरा हो सकता है यदि यह जरुरी है तो डॉक्टर गर्भवती महिलाओ को अल्ट्रासाउंड करने की सलाह दे सकता है।
  • मैमोग्राफी करने से पहले कोई भी वस्तु या पर्स अपने साथ न ले जाये।

(और पढ़े – अल्ट्रासाउंड क्या है और सोनोग्राफी की जानकारी…)

मैमोग्राफी के दौरान क्या होता है – What Happens During Mammography In Hindi

  • मैमोग्राफी या मैमोग्राम करते समय (स्तन-चित्रण) के दौरान कमर से ऊपर तक पहने कपड़ो को उतार दे, और किसी भी वस्तु को उतारने के बाद तकनीशियन आपको एक स्माक, (जो कागज का बना होता है) या गाउन देगा जिसे आपको पहनना है और सामने की तरफ बांधना होता है। स्तन कैंसर की जाँच-परीक्षण के आधार पर, आप या तो अपने मैमोग्राम (स्तन-चित्रण) के दौरान खड़े हो सकते है या बैठ सकते है।
  • अपने स्तन को आपको एक फ्लैट एक्स-रे प्लेट पर रखना होता है। एक कम्प्रेसर (दबाव देने वाली मशीन  उतक को समतल (समान) करने के लिए स्तन को नीचे की तरफ फिट कर देगा। यह स्तन की एक स्पष्ट तस्वीर आपको प्रदान करेगा।
  • आपको अपने स्तन चित्रण के लिए अपनी साँस थोड़ी देर के लिए रोकनी पड़ सकती है। इससे आप थोड़ी मात्रा में दबाव या असुविधा महसूस कर सकते है, लेकिन ये आमतौर पर बहुत सरल होता है।
  • इस जाँच प्रक्रिया के दौरान, डॉक्टर आपको (स्तन-चित्रण) अलग अलग एंगेल से स्तन की जांच करने की सलाह देगा या वो बार-बार (स्तन चित्रण) करने की सलाह आपको देगा जिससे स्तन के चित्रण आपको अलग-अलग रूप में दिखाई देंगे।
  • यदि स्तन के चित्र में आपको कुछ भी स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे रहा है या आपको स्तन चित्र को देखने के लिए अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है।
  • डिजिटल मैमोग्राफ (स्तनचित्रण) का उपयोग महिलाओ में कभी-कभी किया जाता है जहाँ वह उपलब्ध होता है। ये 50 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं के लिए विशेष रूप से सहायक होते हैं, जो आमतौर पर बड़ी महिलाओं की तुलना में ठोस स्तन होते हैं।
  • एक डिजिटल मैमोग्राफ एक्स-रे को स्तन की इलेक्ट्रॉनिक तस्वीर में बदल देता है जो कंप्यूटर में होता है स्तन का (चित्रण) कंप्यूटर पर तुरंत दिखाई देते है, इसलिए आपके रेडियोलाजिस्ट को स्तन (चित्रण) को देखने के लिए इंतज़ार नहीं करना पड़ता है
  • कंप्यूटर आपके डॉक्टर को इन स्तन (चित्रण) को देखने में भी मदद कर सकता है जो नियमित रूप से  मैमोग्राम पर भी नहीं दिख पाते है।

(और पढ़े – एक्स-रे क्या है, क्यों किया जाता है, कीमत और तरीका…)

मैमोग्राफी के साथ जुड़ी हुई जटिलताएँ क्या है – Mammography Complication In Hindi

किसी भी प्रकार के एक्स-रे लेने के साथ, आप मैमोग्राम (स्तनचित्रण) के दौरान यदि आप बहुत कम विकिरण (रेडिएशन) के संपर्क में आ रहे है तो इसमें रेडिएशन का खतरा बहुत कम होता है यदि एक महिला गर्भवती है और उसकी डिलीवरी की तारीख के पहले उसे एक मैमोग्राम (स्तन चित्रण) की जरुरत है, तो सामान्य तौर पर रेडियोलाजिस्ट उन्हें शीशा एप्रेन (लेड का कोट) पहनने की सलाह देगा। ताकि होने वाले बच्चे को रेडिएशन से कोई नुकसान न हो।  

मैमोग्राफी के परिणाम का क्या मतलब है – Mammography Result Mean In Hindi

मैमोग्राफी के परिणाम का क्या मतलब है - Mammography Result Mean In Hindi

  • मैमोग्राफी से स्तन चित्रण लेने से आपको कैल्सीफिकेशन (हड्डियों) का घिसना, या कैल्शियम जमा होने का पता चलेगा अधिकांश कैल्सिफिकेशन कैंसर का संकेत नहीं होते हैं। इस परीक्षण में कुछ महिलाओं के मासिक धर्म चक्र के दौरान और किसी भी कैंसर या अशुभ गांठ के दौरान सामान्य रूप से आने वाले और जाने वाले तरल पदार्थ से भरे अल्सर भी देखे जा सकते हैं।
  • BI-RADS या ब्रैस्ट इमेजिंग रिपोर्टिंग और डेटाबेस सिस्टम नामक मैमोग्राम पढ़ने के लिए यह एक राष्ट्रीय निदान प्रणाली है, इस प्रणाली में शून्य से लेकर छह तक सात श्रेणियां है। प्रत्येक श्रेणी यह वर्णन करता है की ब्रैस्ट कैंसर (स्तन चित्रण) की जाँच क्यों आवश्यक है, और क्या कैंसरग्रस्त और कैंसरमुक्त गांठ होने की सम्भावना कितनी है।
  • आपको अपने ब्रेस्ट (स्तन) की नियमित जाँच करनी होगी, अगर आपको स्तन कैंसर की सम्भावना होती है तो 6 महीनो के अन्दर आपको बायोंप्सी करना भी जरुरी है।
  • इसके बाद आपको डॉक्टर (रेडियोलाजिस्ट) आपके ब्रेस्ट कैंसर (स्तन) की जाँच के परिणामो को देखकर और आपको आने वाली अगली जाँच के बारे में बतायेगा।

(और पढ़े – बायोप्सी कराने का उद्देश्य, तरीका, फायदे और नुकसान…)

मैमोग्राफी की कीमत – Mammography Test Cost In Hindi

मैमोग्राफी या मैमोग्राम (स्तन-चित्रण) कराने की औसत कीमत 800/- से 1500 के बीच होती है। और यह आपके शहर की गुणवत्ता और उपलब्धता पर निर्भर करती है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration