गला बैठ जाने का उपाय और घरेलू नुस्खा – Home Remedies for Hoarseness in Hindi

गला बैठ जाने का उपाय और घरेलू नुस्खा - Home Remedies for Hoarseness in Hindi
Written by Jaideep

गला बैठ जाना एक आम समस्‍या है, इसलिए आपको गला बैठ जाने का उपाय और घरेलू नुस्‍खा पता होना चाहिए। जब भी कभी आप बहुत देर तक तेज आवाज में बात करते हैं या चिल्‍लाते हैं तब आपको गला बैठना जैसी समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है। इस स्थिति में आपकी आवाज कर्कश या घरघराहट के साथ निकलती है। जैसा कि आप जानते हैं कि बहुत तेज आवाज में बात करना या गाना गाने या किसी जुलूस में नारे लगाने से आवाज बैठ जाती है। लेकिन गला बैठने के अन्‍य कारणों में सर्दी जुकाम आदि भी होते हैं।

ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि इस दौरान आपकी आवाज की पिच और वॉल्‍यूम में परिवर्तन हो सकते हैं। जिसके कारण आपकी आवाज कठोर या कर्कश हो जाती है। गला बैठ जाना किसी व्‍यक्ति के लिए असुविधा का कारण बन सकता है। आज इस आर्टिकल में आप गला बैठ जाने के उपाय और इसे ठीक करने के घरेलू नुस्‍खे जानेगें।

गला बैठ जाने के उपाय – Gala Baith Jane ke upay in Hindi

  1. गला बैठ जाने का उपाय नमक का पानी – Gala Baith jane ka upay namak ka pani in Hindi
  2. गला बैठ जाने का घरेलू उपाय भाप लेना – Gala Baith jane ka gharelu upay Steam treatment in Hindi
  3. गला बैठने का घरेलू नुस्‍खा है अदरक – Gala Baithne ka gharelu nuskha hai adrak in Hindi
  4. गला बैठने का इलाज है सिरका – Gala Baithne ka ilaj hai Vinegar in Hindi
  5. गला बैठने पर करना चाहिए नींबू का उपयोग – Gala Baithne par Karna chahiye nimbu ka Upyog in Hindi
  6. गला बैठने का ट्रीटमेंट करे लहसुन – Gala Baithne ka treatment kare Lahsun in Hindi
  7. गले की आवाज खोलने के लिए इलायाची – Gale ki awaj kholne ke liye elaichi in Hindi
  8. बंद गले का इलाज काली मिर्च – Band gale ka ilaj kali mirch in Hindi
  9. गला बैठने पर उपचार है शहद – Gala Baithne par Upchar hai shahad in Hindi
  10. गला बैठ जाने पर उपचार के लिए टिप्‍स – Gala Baith jane par Upchar ke liye tips in Hindi

गले का अवरूद्ध होना या बैठना एक आम समस्‍या है जो मुख्‍य रूप से गले में खराबी या सर्दी जुकाम के कारण होती है। लेकिन इसका एक और कारण बहुत देर तक तेज आवाज में बात करना या चिल्‍लाना भी हो सकता है। हालांकि गला बैठना कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्‍या नहीं है। यह एक सामान्य समस्या है जो कुछ दिनों में अपने आप ही ठीक हो सकती है। लेकिन गले का बैठना किसी भी व्‍यक्ति के लिए असुविधा का कारण बन सकता है। यदि आप गला बैठ जाने के उपाय जानना चाहते हैं आपको कुछ आसान सी विधियों का उपयोग करना होगा। आइए जाने गला बैठ जाने के उपाय क्‍या हैं।

गला बैठ जाने का उपाय नमक का पानी – Gala Baith jane ka upay namak ka pani in Hindi

गला बैठ जाने का उपाय नमक का पानी – Gala Baith jane ka upay namak ka pani in Hindi

आप गला बैठ जाने के उपाय के रूप में नमक के पानी का उपयोग कर सकते हैं। अपनी आवाज को सामान्‍य करने के लिए दिन में कई बार आपको गर्म नमक वाले पानी से गरारे करना लाभ दिला सकता है। गले के उपचार के लिए नमक का पानी इसलिए प्रभावी होता है क्‍योंकि यह श्वसन पथ से बलगम को हटाने में मदद करता है। इसके अलावा गर्म पानी का उपयोग करने से गले के आंतरिक भाग की सूजन को कम करने में भी मदद मिलती है। नमक में एंटीसेप्टिक गुण भी होते हैं जिसके कारण गले में मौजूद संक्रमण को भी प्रभावी रूप से दूर किया जा सकता है।

बैठे हुए गले का उपचार करने के लिए आपको 1 गिलास गर्म पानी और 1 छोटा चम्‍मच नमक के पाउडर की आवश्‍यकता होती है। आप इन दोनों को मिलाकर एक घोल बनाएं। याद रखें की पानी अधिक गर्म न हो लेकिन गुनगुना जरूर हो। इस पानी से दिन में 2 से 3 बार गरारे करें। यह गला बैठ जाने का सबसे प्रभावी उपाय माना जाता है।

(और पढ़े – गर्म पानी पीने के फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे आप…)

गला बैठ जाने का घरेलू उपाय भाप लेना – Gala Baith jane ka gharelu upay Steam treatment in Hindi

गला बैठ जाने का घरेलू उपाय भाप लेना – Gala Baith jane ka gharelu upay Steam treatment in Hindi

भारी, कर्कश और घरघराने वाली आवाज या गला बैठ जाने का घरेलू उपचार स्टीम द्वारा किया जा सकता है। इसके लिए आपको कुछ अलग से करने की आवश्‍यकता नहीं है, क्‍योंकि गला बैठ जाने का प्रमुख कारण गले में सूखापन होता है। इसलिए आपको एक भाप उपचार लेने की आवश्‍यकता है। आप अपने गले को ठीक करने के लिए इस विधि का उपयोग कर सकते हैं। जिस तरह से आप सर्दी के लक्षणों को कम करने के लिए भाप उपचार का इस्‍तेमाल करते हैं ठीक इसी तरह से बैठे हुए गले का भी उपचार संभव है। इस उपचार को अधिक प्रभावी बनाने के लिए आप आवश्‍यक तेल की कुछ बूंदों का भी उपयोग कर सकते हैं।

आप किसी बर्तन में पानी को उबलने तक गर्म करें। इस पानी में लैवेंडर तेल, कैमोमाइल तेल आदि तेल की कुछ बूंदें डालें। फिर इस पानी की भाप के ऊपर अपना चेहरा ले जाएं और ऊपर से तौलिया ढक लें। ताकि अधिक से अधिक भाप आपके चेहरे और गले तक पहुंचे। जल्‍दी लाभ प्राप्‍त करने के लिए आप इस‍ विधि को दिन में 2 बार तक उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़े – चेहरे पर भाप लेने के फायदे, तरीका और नुकसान…)

गला बैठने का घरेलू नुस्‍खा है अदरक – Gala Baithne ka gharelu nuskha hai adrak in Hindi

गला बैठने का घरेलू नुस्‍खा है अदरक - Gala Baithne ka gharelu nuskha hai adrak in Hindi

सामान्‍य रूप से गला बैठना कोई गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या नहीं है। इसलिए इसका इलाज घरेलू नुस्‍खा से किया जा सकता है। गला बैठने का घरेलू नुस्खे के रूप में आप अदरक का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कर्कश आवाज से छुटकारा दिलाने में अदरक एक प्रभावी जड़ी बूटी है। अदरक मुख्‍य रूप से वॉयस बॉक्‍स के आसपास के श्‍लेष्‍म झिल्‍ली (mucous membranes ) को आ‍राम दिलाने में सहायक होता है और सूजन को कम करता है। इस तरह से आप ऊपरी श्वसन पथ (upper respiratory tract) संक्रमण को रोकने के लिए अदरक का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

इसके लिए निश्चित समय अंतराल में कुछ ताजे कच्‍चे अदरक का सेवन कर सकते हैं। अदरक का स्‍वाद बढ़ाने के लिए आप इसके ऊपर नमक और नींबू के रस का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। एक अन्‍य विकल्‍प के रूप में आप 1 कप पानी को गर्म करें और इसमें 1 चम्‍मच ताजा अदरक का पेस्‍ट मिलाएं। अच्‍छी तरह से पकने के बाद आप इस मिश्रण को ठंडा करें और इसका सेवन करें। दिन में 3-4 कप अदरक की चाय का सेवन करने से आपको आराम मिल सकता है। अदरक की चाय को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए आप इसमें शहद भी मिला सकते हैं।

(और पढ़े – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग और नुकसान…)

गला बैठने का इलाज है सिरका – Gala Baithne ka ilaj hai Vinegar in Hindi

गला बैठने का इलाज है सिरका – Gala Baithne ka ilaj hai Vinegar in Hindi

गला बैठने से होने वाली असुविधाओं का इलाज करने के लिए आप सेब के सिरके का उपयोग कर सकते हैं। सेब के सिरका में रोगाणुरोधी गुण होते हैं जो गले के संक्रमण का प्रभावी रूप से इलाज करने में मदद करते हैं। गला बैठने का इलाज करने के लिए आपको 1 गिलास गर्म पानी और 1 चम्‍मच सेब के सिरका की आवश्‍यकता होती है।

आप 1 गिलास पानी में 1 चम्‍मच अनफिल्‍टर्ड सेब के सिरका को मिलाएं। इस मिश्रण को नियमित रूप से दिन में 2 बार सेवन करें। यह आपको जल्‍द ही राहत दिलाने में सहायक होता है।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान…)

गला बैठने पर करना चाहिए नींबू का उपयोग – Gala Baithne par Karna chahiye nimbu ka Upyog in Hindi

गला बैठने पर करना चाहिए नींबू का उपयोग – Gala Baithne par Karna chahiye nimbu ka Upyog in Hindi

नींबू एक औषधी उत्‍पाद है जिसका उपयोग आप गले की समस्‍याओं को दूर करने के लिए कर सकते हैं। नींबू का उपयोग करने से आप गला बैठने का उपचार कर सकते है। क्‍योंकि यह गले को नमीयुक्‍त बनाए रखने में सहायक होता है। इसके अलावा यह गले की खराश और सूजन से भी राहत दिलाता है। आप जानते हैं कि नींबू में विटामिन सी होता है जो एक महत्‍वपूर्ण एंटीऑक्‍सीडेंट है जो संक्रमण के प्रभाव को कम करने में सहायक होता है।

गला बैठने का घरेलू उपचार करने के लिए आप 1 कप गुनगुने पानी में 1 चम्‍मच शहद और 1 चम्‍मच नींबू के रस को मिलाएं। इस मिश्रण का दिन में कम से कम 2-3 बार सेवन करें। यह आपके बंद गले को ठीक करने में प्रभावी होता है।

अन्‍य विकल्‍प के रूप में आप 1 गिलास गर्म पानी में 1 नींबू का रस मिलाएं और इससे रोजाना कम से कम 2 बार गरारे करें। आप इस मिश्रण में थोड़ा सा नमक भी मिला सकते हैं। यह विधि भी आपके बैठे गले का इलाज करने में प्रभावी होती है।

(और पढ़े – नींबू के फायदे और नुकसान…)

गला बैठने का ट्रीटमेंट करे लहसुन – Gala Baithne ka treatment kare Lahsun in Hindi

गला बैठने का ट्रीटमेंट करे लहसुन – Gala Baithne ka treatment kare Lahsun in Hindi

हम सभी घरों में आसानी से प्राप्‍त होने वाले मसाले के रूप में लहसुन को जाना जाता है। यह मसाला होने के साथ ही एक औषधीय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍यओं को दूर करने के लिए किया जाता है। लहसुन में सूजन और दर्द को कम करने वाले औषधीय गुण होते हैं। जो आपको गले की समस्‍या से त्‍वरित लाभ दिला सकते हैं।

बैठे हुए गले का उपचार करने के लिए आप लहसुन की एक कली लें और इसका छिलका निकाल दें। इसके बाद इसे बीच से काटते हुए 2 टुकड़े कर लें। इसके बाद आप पहले एक टुकड़े को मुंह में लें और गले की जलन को कम करने के लिए इसे धीरे-धीरे चूसे। इसी तरह से कुछ देर के बाद आप लहसुन के दूसरे टुकड़े का भी उपयोग करें। इसके अलावा विकल्‍प के रूप में आप 1 कप गर्म पानी में लहसुन तेल की कुछ बूंदे मिलाएं और इससे दिन में 2 बार गरारे करें।

(और पढ़े – लहसुन के फायदे और नुकसान…)

गले की आवाज खोलने के लिए इलायाची – Gale ki awaj kholne ke liye elaichi in Hindi

गले की आवाज खोलने के लिए इलायाची – Gale ki awaj kholne ke liye elaichi in Hindi

यदि आप घरेलू उपचार के माध्‍यम से गले की आवाज खोलना चाहते हैं तो इलायची सबसे अच्‍छा घरेलू उपचार हो सकता है। आयुर्वेद में प्राचीन समय से हरी इलायची का उपयोग बंद गले का उपचार करने के लिए किया जा रहा है। इसमें मौजूद औषधीय गुण गले के आंतरिक अंगों की सूजन को कम करने और श्‍लेष्‍म झिल्‍ली (mucous membrane) को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक होते हैं। इसके लिए आप हरी इलायची का सेवन करें। विकल्‍प के रूप में आप हरी इलायची को पीसकर पाउडर बना लें और इसे 1 चम्‍मच शहद के साथ मिला कर सेवन करें। यह आपको बंद गले से छुटकरा दिलाने में सहायक होता है।

(और पढ़े – इलायची के फायदे और नुकसान…)

बंद गले का इलाज काली मिर्च – Band gale ka ilaj kali mirch in Hindi

बंद गले का इलाज काली मिर्च – Band gale ka ilaj kali mirch in Hindi

यदि आपका गला बंद है या बैठा हुआ है तो काली मिर्च का उपयोग आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। काली मिर्च एक औषधीय खाद्य पदार्थ है जिसका कई बीमारियों में जड़ी बूटी के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। गला बैठने पर काली मिर्च का सेवन करने से गले के दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है। यहां तक की इसके औषधीय गुण गले के संक्रमण को भी प्रभावी रूप से दूर कर सकते हैं।

बंद गले का उपचार करने के लिए आप 1 बड़े चम्‍मच शहद में 1 छोटा चम्‍मच काली मिर्च पाउडर मिलाएं। इस पूरे मिश्रण को दिन में 2 से 3 बार सेवन करें। इसके अलावा विकल्‍प के रूप में आप 1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्‍मच काली मिर्च पाउडर मिलाएं और इस पर आधा नींबू का रस मिलाएं। इस मिश्रण को दिन में 2 बार पीएं। आपको बंद गले से राहत मिलेगी।

(और पढ़े – काली मिर्च के फायदे और नुकसान…)

गला बैठने पर उपचार है शहद – Gala Baithne par Upchar hai shahad in Hindi

गला बैठने पर उपचार है शहद – Gala Baithne par Upchaar hai shahad in Hindi

शहद एक प्राकृतिक और औषधीय उत्‍पाद है जिसका उपयोग सदियों से किया जा रहा है। शहद का इस्‍तेमाल कर्कश आवाज और बंद गले का इलाज करने के लिए किया जा सकता है। शहद में मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण गले की सूजन, दर्द और संक्रमण से रक्षा करते हैं।

आप अपने गले को स्‍वस्‍थ रखने के लिए नियमित रूप से प्रतिदिन 1 चम्‍मच शहद का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा गला बैठने पर उपचार के लिए 1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्‍मच शहद और 1 चुटकी काली मिर्च मिलाकर दिन में 2 से 3 बार सेवन करें। यह उपचार भी आपको गले की समस्‍या को कम कर सकता है।

(और पढ़े – शहद के फायदे उपयोग स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

गला बैठ जाने पर उपचार के लिए टिप्‍स – Gala Baith jane par Upchar ke liye tips in Hindi

गला बैठ जाने पर उपचार के लिए टिप्‍स – Gala Baith jane par Upchaar ke liye tips in Hindi

यदि आपका गला बैठा हुआ है तो निश्चित ही आपको बेहद तकलीफ हो रही होगी। लेकिन यदि आप चाहते हैं कि आपको इससे अधिक तकलीफ न हो तो कुछ आसान से टिप्‍स का उपयोग कर सकते हैं। ये गला बैठ जाने पर उपचार के लिए टिप्‍स हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं।

  • गला बैठ जाने पर आप श्वांस संबंधी एक्‍सरसाइज का उपयोग करें।
  • जिन चीजों से आपको गले और जुकाम संबंधी एलर्जी होती है उन चीजों से दूर रहें।
  • गला बैठा होने पर गुनगुना पानी पीएं।
  • गले की खराश को कम करने के लिए नियमित रूप से पानी पीते रहें जिससे गला गीला बना रहे।
  • शांत और ठंडक वाले वातावरण में रहने की कोशिश करें।
  • इस दौरान शराब या अन्‍य नशीले पदार्थों का सेवन न करें। ऐसा करने पर आपके गले की समस्‍याएं और बढ़ सकती हैं।
  • इस दौरान आप ज्यादा तेज आवाज में बात करने या चिल्‍लाने की कोशिश न करें। क्‍योंकि यह आपके गले के दर्द को बढ़ा सकता है।

(और पढ़े – गले की खराश को ठीक करने के घरेलू उपाय…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration