एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और शादीशुदा जिन्दगी में इसका असर – Extra Marital Affairs And How It Effects Marriage In Hindi




एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और शादीशुदा जिन्दगी में इसका असर - Extra Marital Affairs And How It Effects Marriage In Hindi
Written by Daivansh

Extra Marital Affairs In Hindi एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों शादी के लिए बुरे साये की तरह है। इससे शादी के बाद आपका रिश्ता बुरी तरह से प्रभावित होता है, अपने पार्टनर के अलावा किसी दूसरे व्यक्ति से संबंध, एक्सट्रामैरिटल अफेयर्स में आता है। इससे आपकी बसी-बसाई दुनिया बर्बाद हो सकती है। भारत में इन दिनों एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का ट्रेंड बहुत बढ़ गया है। हालांकि, लोगों की नजरों में आज भी यह अच्छा नहीं है, लेकिन लोग अपनी मानसिक और आत्म संतुष्टि के लिए अपने साथी से इतर कहीं दूसरी जगह प्यार खोजने की कोशिश करते हैं। आंकड़ों की मानें, तो महिलाओं की अपेक्षा पुरूषों के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर बहुत होते हैं। जहां 12 प्रतिशत महिलाएं ही शादी के बाद अफेयर करती हैं, वहीं पुरूषों की संख्या 28 प्रतिशत है।

ये सच है कि पिछले एक से डेढ़ दशक से हमारे देश में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के मामले बढ़े हैं। लेकिन आख़िर क्यों लोगों को अपने घर के बाहर दूसरा प्यार करने वाला तलाशना पड़ रहा है, और क्यों उनकी शादी का रिश्ता कमज़ोर पड़ता जा रहा है? आज हम आपको इसके बारे में गहराई से बताने जा रहे हैं कि क्या होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और लोग क्यों देते है पार्टनर को धोका?

विशेषज्ञों के अनुसार, बदलती लाइफस्टाइल, बढ़ती उम्मीदें और कमजोर होते विश्वास के साथ एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर करने की कई वजहें हैं, जिनमें से मुख्य है कमजोर होता विश्वास और दोनों पार्टनर के बीच समय की कमी। इन वजहों से हर साल एक्स्ट्रा मैरिटल के मामले बढ़ रहे हैं और हर साल हो रहे 20 प्रतिशत तलाक की वजह एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर है। आज का हमारा आर्टिकल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से संबंधित है। इसमें हम आपको बताएंगे कि शादी के बाद क्यों होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और शादीशुदा जिन्दगा पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है। लेकिन इससे पहले ये जानना जरूरी है कि एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर क्या होता है।

1. क्या होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंध – What is extramarital affairs in Hindi
2. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के कारण – Reasons why people have extra marital affair in Hindi
3. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के प्रकार – Types of extra marital affairs in Hindi

4. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का रिश्तों पर प्रभाव – Effect of Extra marital Affair on Relationships in Hindi
5. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के जरूरी फैक्टर – Extra marital affair factor in Hindi
6. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों से जुड़े तथ्य – Facts related to extra-marital affair in Hindi
7. एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से बचने के लिए ध्यान रखें ये बातें – Keep things in mind to avoid extramarital affair in Hindi

क्या होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंध – What is extramarital affairs in Hindi

क्या होता है एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंध – What is extramarital affairs in Hindi

शादी के बाद होने वाला अफेयर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर कहलाता है। शादी के बाद कई बदलावों के बाद दोनों में से एक पार्टनर को अपनी जिन्दगी में किसी तीसरे की जरूरत महसूस होने लगती है, जिसके लिए वह घर से बाहर प्यार तलाशता है। ऐसा करते हुए वह अपने पति या पत्नी से दूर, लेकिन किसी तीसरे के बेहद करीब चला जाता है। वैसे, भारत में आज भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को अच्छी निगाहों से नहीं देखा जाता, लेकिन साथी द्वारा दिल में लगाए गए घावों को भरने के लिए लोग शादी के बाद भी अफेयर करने लगे हैं।

एक्सट्रा मैरिटल अफेयर्स या विवाहेतर संबंध का सीधा सा मतलब होता है शादी के बाद भी किसी और के साथ सेक्सुअल या इमोशनल संबंध रखना। इस तरह के मामले आए दिन हमारे सामने आते रहते हैं। लेकिन अब सवाल यह उठता है कि एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स रखना सही या गलत?

हाल ही में हुई एक स्‍टडी की मानें तो कुछ ऐसे कपल्‍स भी हैं जो एक्‍सट्रा मैरिटल अफेयर्स या विवाहेतर संबंधों को अपनी खुशी की वजह मानते हैं। कुछ एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर ऐसे भी हैं जो खुद जीवनसाथी की रज़ामंदी से चलते, तो कुछ जीवनसाथी जानकर भी इससे अनजान बने रहते हैं।

वैसे तो किसी से प्यार करना गलत नहीं होता लेकिन आपका रिश्ता किस प्रकार का है और आप इसको लेकर आप कितने गंभीर हैं। इन बातों पर तय होता है कि आप गलत हैं या सही। एक्‍सट्रा मैरिटल अफेयर्स या विवाहेतर संबंधों को लेकर कानून या सामाजिक मान्यताओं के अलावा खुद से पूछें कि ये कितना सही और कितना गलत है।

(और पढ़े – आखिर पुरुष धोखा क्‍यों देते हैं?…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के कारण – Reasons why people have extra marital affair in Hindi

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के कारण - Reasons why people have extra marital affair in Hindi

कई बार आपने देखा होगा कि सालों साल चलने वाले रिश्ते में अचानक से दरार आ जाती है। कई लोग शादी के कई साल बाद किसी तीसरे की जरूरत महसूस करने लगते हैं। पति-पत्नी के रिश्ते में प्यार और विश्वास बहुत जरूरी है, लेकिन अचानक से ऐसा क्या हो जाता है, कि व्यक्ति अपने जीवनसाथी को धोखा दे देता है। आइए, नीचे जानते हैं, इन कारणों के बारे में।

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों की संभावना तब ज्यादा होती है, जब व्यक्ति की शादी उसकी बिना मर्जी के करा दी गई हो। इस स्थिति में महिला हो या पुरूष दोनों को अपने प्यार को भुलाना आसान नहीं होता और फिर जब पति या पत्नी से उसे वो प्यार न मिले, जो उसे शादी से पहले अपने प्रेमी से मिलता था, तो वह अपने अतीत की ओर आकर्षित होने लगता है।

कई लोग अपनी शादी से बहुत जल्दी बोर हो जाते हैं। ऐसे लोग अपने जीवन में कुछ नया फील करने के लिए बाहर प्यार तलाशते हैं और न चाहते हुए भी बीवी या पति को धोखा दे देते हैं।

भावनात्मक अकेलापन भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों की एक बड़ी वजह है। जब पति या पत्नी अपने पार्टनर को समय नहीं देता, उससे बात नहीं करता, तो ऐसी स्थिति में अफेयर या विवाहेतर संबंधों का होना तो स्वभाविक है।

पति-पत्नी के रिश्ते में मानसिक और भावनात्मक जरूरतों के साथ शारीरिक जरूरतों का भी ध्यान रखना होता है, लेकिन जब ये जरूरत पूरी न हो पाए, तो लोग अफेयर या विवाहेतर संबंधों का सहारा लेते हैं। यह भी कहा जाता है कि आपकी अधिक यौन इच्छा एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की वजह बन सकती है।

(और पढ़े – पति पत्नी के रिश्ते की समस्याओं के कारण और समाधान…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के प्रकार – Types of extra marital affairs in Hindi

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के प्रकार - Types of extra marital affairs in Hindi

हम सभी प्यार को महत्व देते हैं, तो फिर क्यों शादी के बाद एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में उलझते हैं। विशेषज्ञों ने इसे बहुत दिलचस्प तरीके से बयां किया है। उनके अनुसार, प्रेम वास्तव में भावना नहीं है, बल्कि मास्तिष्क प्रणाली का हिस्सा है। जब बात मास्तिष्क प्रणाली की आती है, तो यह तीन तरह की होती है। पहला सेक्स ड्राइव, दूसरा रोमांटिक लव और तीसरा साथी का लगाव। अलग-अलग लोग एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों पर अलग से प्रतिक्रिया करते हैं। कुछ लोग तनाव से बचने के लिए, तो कुछ संभोग के लिए, कुछ बोरियत जीवन से बचने और कुछ नया करने के लिए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर करते हैं। नीचे हम आपको एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के प्रकारों के बारे में बता रहे हैं।

सेक्सुअल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर – Only-lust extra marital affairs in Hindi

सेक्सुअल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर - Only-lust extra marital affairs in Hindi

यह एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंध सबसे कॉमन है। सेक्सुअल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में दो ऐसे लोग एक दूसरे के करीब आते हैं, जो अपने-अपने पार्टनर से यौन संतुष्ट नहीं होते हैं और अपनी सेक्सुअल डिज़ायर को पूरा करना चाहते हैं। इसमें दो लोग सिर्फ संभोग करने के लिए अफेयर करते हैं। हालांकि, इस दौरान उनका मकसद अपने जीवनसाथी को छोड़ने का नहीं होता, बस वे अपने नए साथी के साथ संभोग का आनंद लेना चाहते हैं। इस तरह के मामले बहुत ज्यादा समय तक नहीं रहते।

(और पढ़े – क्या होता है जब एक औरत संतुष्ट नहीं होती है…)

इमोश्नल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर – Emotional extra marital affairs in Hindi

इमोश्नल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर - Emotional extra marital affairs in Hindi

इस तरह के अफेयर में दो लोग सेक्स करने की इच्छा से नहीं जुड़ते। बल्कि वे दोनों एक दूसरे के दिलों-दिमाग में समा जाते हैं। वे अपने जीवनसाथी को छोड़े बगैर आपस में फ्लर्ट करते हैं, मैसेज का आदान-प्रदान करते हैं और ज्यादा से ज्यादा एकदूसरे के साथ समय बिताना चाहते हैं।

(और पढ़े – जानें, प्यार होने की क्या हैं निशानियां…)

रिवेंज एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर – Revenge extra marital affairs in Hindi

रिवेंज एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर - Revenge extra marital affairs in Hindi

यह अफेयर अपने साथी के साथ बदला लेने की भावना से किए जाते हैं। साथी के प्रतिज नाराजगी के कारण ऐसे रिवेंज अफेयर आजकल ज्यादा देखने को मिल रहे हैं। विशेषज्ञ कहते हैं, कि कपल्स अपने जीवन में इतने व्यस्त हैं, कि उन्हें एकदूसरे के लिए टाइम ही नहीं मिल रहा। इसी नाराजगी के चलते वे बाहर प्यार तलाशते हैं और यहीं से शुरूआत होती है, रिवेंज अफेयर की। बता दें, कि इस तरह के अफेयर में दोनों को बहुत जल्दी अपनी गलती का अहसास हो जाता है, इसलिए ऐसे अफेयर बहुत ज्यादा दिनों तक नहीं चलते।

(और पढ़े – इन कारणों से आती है वैवाहिक रिश्तों में कड़वाहट…)

इमेजनरी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर  – Imaginary extra marital affairs in Hindi

इमेजनरी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर  - Imaginary extra marital affairs in Hindi

इस तरह के अफेयर पूरी तरह से काल्पनिक होते हैं। जिम या ऑफिस में साथ में काम करने वाले कलीग के साथ आकर्षण होना आम बात है, लेकिन कई लोग मन में ये सोच लेते हैं, कि सामने वाला उन्हें दिल दे बैठा है और आपके लिए अपने जीवनसाथी को छोड़ देगा। जबकि असल में ऐसा होता कुछ नहीं है। थोड़ा सा साथ में समय बिताने का मतलब ये बिल्कुल नहीं कि सामने वाला आपसे प्यार कर बैठा है। ये अफेयर पूरी तरह से वन साइडेड होते हैं, इसलिए ज्यादा समय तक नहीं चलते।

(और पढ़े – जब आपका प्यार एकतरफा (वन साइडेड लव) हो तो क्या करें…)

बॉडी एंड सोल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर – Body and soul extra marital affairs in Hindi

बॉडी एंड सोल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर - Body and soul extra marital affairs in Hindi

यह अफेयर पूरी तरह से शरीर और आत्मा से जुड़ा होता है। इसमें दोनों एक दूसरे को सोल मेट की तरह समझते हैं और सेक्स में भी इंवॉल्व रहते हैं। इस तरह के अफेयर में अक्सर दोनों अपने जीवनसाथी को धोखा देते हैं और शादी तोड़ देते हैं। हालांकि, आज भी समाज में शरीर और आत्मा से जुड़े मामले बहुत कम देखने को मिलते हैं। लेकिन ये ऐसे मामले हैं, जो तलाक और फिर पुर्नविवाह की ओर जाते हैं।

(और पढ़े – संकेत जो बताते हैं कि आपकी गर्लफ्रेंड किसी और पुरूष की तलाश में है…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का रिश्तों पर प्रभाव – Effect of Extra marital Affair on Relationships in Hindi

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का रिश्तों पर प्रभाव - Effect of Extra marital Affair on Relationships in Hindi

बदलती लाइफस्टाइल, बढ़ती आकांक्षाओं का ही असर है, कि आज शादी का रिश्ता कमजोर पड़ रहा है और लोग घर के बाहर प्यार तलाश रहे हैं। लेकिन, ये सबसे बड़ा सच है कि एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर शादीशुदा जिन्दगी को बहुत प्रभावित करता है। इससे केवल तीन नहीं, बल्कि कई जिन्दगियां बर्बाद हो जाती हैं। खासतौर से अगर साथ में बच्चे हों, तो यह बच्चों की जिन्दगी पर बहुत बुरा असर डालता है। घर में पति या पत्नी होते हुए बाहर अफेयर करने से घर में लड़ाई,  झगड़े शुरू हो जाते हैं, पति-पत्नी के बीच मनमुटाव होने लगते हैं, कई बार मामले मार-पिटाई तक भी पहुंच जाते हैं और आखिरी में नतीजा होता है, तलाक। नीचे जानते हैं, एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का शादीशुदा जिन्दगी में क्या असर होता है।

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का भावनात्मक असर

जब शादी के बाद एक साथी बाहर अफेयर करता है, तो दूसरा भावनात्मक रूप से काफी प्रभावित होता है। यह उसके लिए जीवन का सबसे बड़ा झटका होता है, जो उनकी जिन्दगी में विनाश लेकर आता है। इससे आपके साथी के मन में भावनाएं कम हो जाती हैं और वह तनाव में चला जाता है।

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से टूटता है विश्वास

एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर करने वाला साथी अपने साथी का पूरा भरोसा तोड़ देता है। एक बार जब आप ऐसा कर दें, तो आपका साथी आपसे दूर तो होता ही है, साथ ही दोबारा उस पर विश्वास करना भी मुश्किल हो जाता है।

(और पढ़े – जब पति आप पर ध्यान नहीं देता तो क्या करना चाहिए…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से आत्म सम्मान में कमी

रिश्ता कोई भी क्यों न हो, हर व्यक्ति के लिए उसका आत्म सम्मान मायने रखता है। लेकिन एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर करके आप अपने आत्म सम्मान को कम कर देते हैं। आपका पार्टनर भी आपके प्रति अपना प्यार खत्म कर देता है। इस स्थिति से उभरने में आपके साथी को समय तो लगेगा ही साथ ही आपको अपना आत्म सम्मान बनाने में भी काफी वक्त लगता है।

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से टूटते हैं पारिवारिक बंधन

जो व्यक्ति अपने परिवार को धोखा देता है, वह पारिवरिक बंधनों से दूर हो जाता है। जिस घर और परिवार को उसने प्यार से बनाया था,  वह अपने प्यार के लिए उन सबको तोड़ देता है। परिवार के लोगों का उस पर से भरोसा उठ जाता है और यह होता है केवल आपके अफेयर की वजह से।

(और पढ़े – एक अच्छी पत्नी कैसे बने जाने अच्छी जीवनसाथी बनने के 34 टिप्स…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से मिलता है अकेलापन

अकेलापन एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का ही दिया हुआ है। जो व्यक्ति अपने पार्टनर को धोखा देता है, खुशी उससे कोसों दूर चली जाती है। सभी लोग उससे दूर हो जाते हैं और वह अकेला रह जाता है।

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से हो सकता है तलाक

प्रत्येक विवाहित व्यक्ति के पास एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के अलग-अलग कारण होते हैं। यदि आप एक अवैध संबंध या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के लिए ललचाते हैं, क्योंकि आप अपने साथी का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं, लेकिन आप उससे प्यार करते हैं, तो अपनी इस बुरी योजना को भूल जाएं और इस प्रलोभन को दूर करें। याद रखें, धोखा देना अवैध संबंध या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर तलाक लेने के सबसे आम कारणों में से एक है। यदि आप विवाह को नहीं तोड़ना चाहते हैं, तो बस अपना ध्यान अपनी पत्नी और पूरे परिवार पर केंद्रित करें।

(और पढ़े – इन संकेतों से जानिए आपकी पत्नी आपको धोखा दे रही है…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के जरूरी फैक्टर – Extra marital affair factor in Hindi

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के जरूरी फैक्टर - Extra marital affair factor in Hindi

  • न्यू संसाधनों की वजह से ही एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों रखना काफी आसान हो गया है। जैसे फेसबुक पर जब व्यक्ति अकाउंट बनाता है, तो उसमें अपना स्टेटस सिंगल डालता है। ऐसे लोग ढेरों लोगों से दोस्ती करते हैं और फिर उनसे मिलने की इच्छा जाहिर करते हैं।
  • स्मार्टफोन भी इस मामले में बहुत मददगार साबित होता है। खासतौर से व्हाट्सएप जैसे ऐप मैसेज से बात करने के लिए काफी है। इसमें आप बात भी कर लें और आपके पार्टनर को पता भी नहीं चलता।
  • इंटरनेट शॉपिंग के कारण भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स की संख्या बढ़ी है। जब लोग अपनी गर्लफ्रेंड को गिफ्ट देना हो, तो सीधे इंटरनेट शॉपिंग कर लेते हैं। इससे वह अपनी पत्नी द्वारा पूछे गए कई सवालों से बच जाते हैं। ऐसे लोग अपने अकाउंट की डीटेल कभी अपनी वाइफ को नहीं बताते।
  • आजकल लोग अफेयर करने के बाद सीक्रेट मेल अकाउंट बनाते हैं, ताकि उनका पैसा कहां और कितना खर्च हो रहा है, कोई न जान सके,  उनकी बीवी तक नहीं।
  • फेसबुक इसमें एक अन्य तरह से भूमिका निभाता है। अक्सर फेसबुक पर आपका एक्स लव मिल जाता है, जिनसे आपकी शादी नहीं हो सकी। खासतौर से शादी से पहले दोनों के बीच में यौन संबंध स्थापित हुए थे, तो फेसबुक के जरिए दोनों की यौन संबंध की इच्छा जागृत हो सकती है।

(और पढ़े – लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप क्या है, फायदे, नुकसान और बनाए रखने के उपाय…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों से जुड़े तथ्य – Facts related to extra-marital affair in Hindi

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों से जुड़े तथ्य - Facts related to extra-marital affair in Hindi

पूरी दुनिया में एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों से जुड़े कई तथ्य देखने को मिलते हैं। इन तथ्यों के बारे में आप नीचे जान सकते हैं।

  • कई रिसर्च के अनुसार, जिन महिलाओं के पति ज्यादा समय तक घर से दूर रहते हैं, वे महिलाएं जल्दी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की ओर आकर्षित होती हैं। आंकड़ों के मुताबिक, पुरुषों से ज्‍यादा महिलाएं अपने विवाहेतर संबंधों की वजह से ज्‍यादा खुश रहतीं हैं।
  • कई रिसर्च के अनुसार, पत्नी के प्रेग्नेंट होने पर पति का एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर होने की संभावना बढ़ जाती है। पत्नी से सेक्सुअल डिजायर पूरी न होने की वजह से पति अक्सर ऐसा कदम उठाते हैं।
  • रिसर्च के मुताबिक, अमेरिकी पुरूष और 25 प्रतिशत अमिरिकी महिलाएं शादी के बाद एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर करती हैं।
  • हैरानी की बात है 10 में से सात लोगों ने कहा कि एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंध करने के बाद वे अपनी शादीशुदा जिंदगी से ज्‍यादा संतुष्‍ट हैं।
  • दिसंबर 2011 में हुए एक सर्वे के अनुसार, भारत की 16 प्रतिशत महिलाएं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में दिलचस्पी लेती हैं।
  • अमेरिका की ओर से दिए गए आंकड़ों के अनुसार, 16 प्रतिशत शादी शुदा लोगों ने शादी के बाद एक्स्ट्रमेरिटल सेक्स किया है। जबकि 30 प्रतिशत लोगों ने शादी के बाद एक्स्ट्रा मैरिटल सेक्स करने की इच्छा जताई है।
  • इस एक्स्ट्रा मैरिटल सेक्स करने वाले बहुत से कारक थे जैसे, अपनी गृहस्‍थी में पार्टनर से यौन संतुष्टि न मिल पाना लेकिन बाहर वाले पार्टनर से यह खुशी मिली, इस आउट साइड पार्टनर के साथ हफ्ते में कम से कम दो बार यौन संबंध बनाना वगैरह।
  • एक आंकड़ों के अनुसार भारत में तीन में से एक तलाक एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों के कारण ही होता है।
  • राज्यों की बात करें, तो सबसे ज्यादा एक्स्ट्रा मैरिटल मामले मुंबई में समाने आए हैं। राजधानी दिल्ली का नंबर दूसरा है। और फिर केरल, तमिलनाडु, पंजाब, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, राजस्थान और गुजरात हैं। इसके पीछे भी सबसे बड़ी वजह कल्चरल गैप है।
  • एक अध्ययन के अनुसार, अमेरिका में 16 प्रतिशत एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर पार्टनर की रजामंदी से ही होते हैं।

(और पढ़े – कैसे पता करें कि पति धोखा दे रहा है…)

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से बचने के लिए ध्यान रखें ये बातें – Keep things in mind to avoid extramarital affair in Hindi

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से बचने के लिए ध्यान रखें ये बातें - Keep things in mind to avoid extramarital affair in Hindi

ताली कभी एक हाथ से नहीं बजती। अगर आपके बीच कोई तीसरा आ गया है, तो इसका मतलब ये नहीं, कि सिर्फ आपका पार्टनर ही गलत हो, हो सकता है कमी आपमें ही हो। इसलिए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों से बचने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।  

  • आपके बीच चाहे कितना भी झगड़ा क्यों न हो, लेकिन बातचीत बंद न करें। एक दूसरे से सवाल करें और अपनी नाराजगी जाहिर करें। वरना आपकी चुप्पी आपके रिश्ते में दरार डाल सकती है।
  • हर रिश्ते में शारीरिक संतुष्टि ही सबकुछ नहीं होती, कई बार लोग मानसिक संतुष्टि के कारण भी किसी तीसरे की ओर कदम बढ़ाते हैं। खासतौर से महिलाएं ऐसा करती है। इसलिए पति अपनी पत्नियों की मानसिक संतुष्टि का भी बेहद ख्याल रखें।
  • अपने जीवनसाथी को नजरअंदाज करने की भूल कभी ना करें। ऐसा न हो कि आपके ध्यान न देने से उनका ध्यान किसी दूसरे की तरफ भटक जाए।
  • अगर आप अपनी शादीशुदा जिन्दगी को खुशहाल देखना चाहते हैं, तो एकदूसरे के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं।
  • जीवनसाथी को हर बात के लिए टोके नहीं। उसे अपनी जिन्दगी उसके हिसाब से जीने दें। कई मामलों में जीवनसाथी का डॉमिनेटिंग बिहेवियर भी पार्टनर के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर या विवाहेतर संबंधों के लिए जिम्मेदार होता है।
  • एक अच्छी सेक्स लाइफ और रोमांस की भावना रखें। जानें कि एक-दूसरे के रोमांस के बारे में क्या अच्छा लगता है और इस बात पर चर्चा करें कि आपको क्या रोमांटिक लगता है। अपनी अच्छी सेक्स लाइफ के लिए कल्पनाशील और रचनात्मक बनें।
  • अगर आप बच्चों का भविष्य नहीं बिगाड़ना चाहते हैं तो एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स से दूरी बनाकर रखें।

(और पढ़े – वैवाहिक जीवन को खुशनुमा बनाने के आसान तरीके…)

अडल्टरी पर कानून और सजा  – Adultery law in India in Hindi

अडल्टरी पर कानून और सजा  - Adultery law in India in Hindi

शादी के बाद किसी अन्य पुरूष या महिला से शारीरिक संबंध बनाना गलत है। लेकिन साल 2018 में सुप्रीम  कोर्ट ने एडल्टरी यानि विवाहेतर संबंध से जुड़ी 150 साल से भी पुरानी आईपीसी की धारा 497 और सीआरपीसी की धारा 198 को असंवैधानिक घाषित कर दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि जो भी व्यवस्था किसी महिला की गरिमा कम करती है या फिर उसके साथ भेदभाव करती है, वे असंवैधानिक है। कानून की नजर में महिला और पुरूष दोनों बराबर हैं। आपको बता दें कि, इस धारा के अंतर्गत पहले पांच साल की सजा उस युवक को दी जाती थी, जिसका किसी विवाहित महिला के साथ संबंध या अफेयर होता था, लेकिन महिला के खिलाफ किसी भी शिकायत का कोई प्रावधान नहीं रहा और न ही किसी सजा का कोई प्रावधान रहा। यानि की यह कानून पूरी तरह एकपक्षीय था।

अब पिछले साल ही सुप्रीम कोर्ट ने धारा 497 को हटा दिया है। यानि की शादी के बाद अफेयर करना किसी अपराध की श्रेणि में नहीं आता। लेकिन अगर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की वजह से एक जीवनसाथी आत्महत्या करता है और यह बात कोर्ट में साबित हो जाए, तो आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा चलाया जा सकता है। इसके अलावा अब यदि कोई शादीशुदा महिला किसी गैर मर्द से शारीरिक संबंध बनाती है, तो महिला का पति उस गैर मर्द के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज नहीं करा सकता।

अडल्टरी लॉ से जुड़ी खास बातें-

कोर्ट ने धारा 497 को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया है। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा था कि अडल्टरी यानि विवाहेतर संबंध तलाक का आधार हो सकता है, लेकिन यह अपराध नहीं है।

बता दें, कि अब तक आईपीसी की धारा 497 के तहत पुरूषों को अपराधी माना जाता था और महिला पीड़ित मानी जाती थी। इसके तहत अडल्टरी के मामले में पुरूषों को दोषी पाए जाने पर सजा दिए जाने का प्रावधान था, महिलाओं को नहीं।

इस धारा के तहत अगर कोई पुरूष किसी शादीशुदा महिला के साथ उसकी सहमति से शारीरिक संबंध बनाता है, तो महिला के पति की शिकायत पर पुरूष को अडल्टरी काननू के तहत अपराधी माना जाता था। ऐसा करने पर पुरूष को 5 साल की कैद और जुर्माना या फिर दोनों ही सजा का प्रावधान था।

कोर्ट ने धारा 497 को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया है। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा था कि अडल्टरी यानि विवाहेतर संबंध तलाक का आधार हो सकता है, लेकिन यह अपराध नहीं है।

बता दें, कि अब तक आईपीसी की धारा 497 के तहत पुरूषों को अपराधी माना जाता था और महिला पीड़ित मानी जाती थी। इसके तहत अडल्टरी के मामले में पुरूषों को दोषी पाए जाने पर सजा दिए जाने का प्रावधान था, महिलाओं को नहीं।

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration