मस्से होने का कारण, प्रकार और मस्सों को दूर करने के घरेलू उपाय – Wart Causes, and Home Remedies in Hindi

मस्से होने का कारण, प्रकार और मस्सों को दूर करने के घरेलू उपाय – Wart Causes, and Home Remedies in Hindi
Written by Jaideep

मस्‍सा या वार्ट्स (Warts) को वररुका के रूप में भी जाना जाता है, ये आमतौर पर एक छोटे और मोटे ट्यूमर के सामान होते हैं जो शरीर के किसी भी हिस्‍से जैसे हाथ, पैर, गर्दन, चेहरे आदि पर दिखाई दे सकते हैं। सामान्‍य रूप से यह कहा जा सकता है कि मस्‍सा त्‍वचा पर असामान्‍य वृद्धि है जो कि एक ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (Human Papillomavirus) नामक बायरस संक्रमण के कारण होता है। जब कोई व्‍यक्ति मस्‍से से संक्रमित व्‍यक्ति की त्‍वचा के संपर्क में आते हैं तो उन्‍हें भी यह संक्रमण हो सकता है।

मस्‍से आमतौर पर कुछ समय के बाद ठीक हो जाते हैं या फिर यह कुछ सालों तक भी रह सकते हैं। मस्‍सा आमतौर पर दर्द रहित त्‍वचा विकार संक्रमण होता है, इसका तुरंत ही उपचार किया जाना चाहिए। मस्‍सा का उपचार कराने के बाद भी यह फिर से आ सकते हैं। जो यह बताता है कि आपकी त्‍वचा में वायरस की मौजूदगी अभी भी है। मस्‍सों को हटाने के बाद संक्रमित क्षेत्र की अच्‍छी तरह से सफाई की जानी चाहिए ताकि मस्‍सा फिर से बापस न आ सके। मस्‍सों को दूर करने के लिए आप कुछ दवाओं का उपयोग कर सकते हैं या इसे प्राकृतिक उपचार के माध्‍यम से भी हटा सकते हैं। लेकिन इन्‍हें हटाने से पहले यह जानना जरूरी है कि आपको किस प्रकार का मस्‍सा है।

1. मस्‍सा क्‍या है – What is Warts in Hindi
2. मस्से होने का कारण क्‍या है – Causes of Warts in Hindi
3. मस्से के प्रकार – Common Types of Warts in Hindi
4. मस्से किसी को कैसे प्रभावित करते है – How Does Warts Affects in Hindi
5. मस्‍सा को दूर करने के घरेलू उपाय – Home remedies for Wart in Hindi

6. मस्‍सा को दूर करने के अन्‍य घरेलू उपाय – Other Home remedies for Warts in Hindi
7. मस्‍सा को फैलने से रोकने की युक्तियॉं – Tips for Preventing Warts in Hindi
8. मस्‍से होने पर डॉक्‍टर को कब दिखाएं – When to See a Doctor for Warts in Hindi

मस्‍सा क्‍या है – What is Warts in Hindi

मस्‍सा क्‍या है – What is Warts in Hindi

वायरल संकम्रण के कारण त्‍वचा पर होने वाले छोटे, गोल या अंडाकार निशान का विकास होता है जिसे मस्‍सा कहा जाता है। ये आमतौर पर इनसे किसी भी प्रकार का दर्द नहीं होता है, ये उभरे हुए और मोटी सतह के होते हैं। मस्‍सों का रंग हल्‍का, गहरा या आपकी त्‍वचा के रंग के समान हो सकता है। कभी कभी मस्‍सा गुप्‍तांगों में भी हो सकते हैं जो पीड़ादायक हो सकते हैं, लेकिन इनके इस तरह होने की संभावना बहुत ही कम होती है।

(और पढ़े – जानें एक्टिवेटेड चारकोल के फायदे और इस्तेमाल के तरीकों के बारे में)

मस्से होने का कारण क्‍या है – Causes of Warts in Hindi

मस्से होने का कारण क्‍या है – Causes of Warts in Hindi

सामान्‍य रूप मस्‍से ह्यूमन पेपिलोमावायरस (human papillomavirus) के कारण होते हैं। ये वायरस बहुत ही आम होते हैं और लगभग 150 से अधिक प्रकार के होते हैं। लेकिन आपके हाथों पर केवल कुछ कारण से मस्‍सा हो सकते हैं। एचपीवी के कुछ प्रकार यौन संपर्क के माध्‍यम से फैलते हैं। हालांकि अधिकांश रूपों को आकस्मिक त्‍वचा संपर्क के माध्‍यम से या निजी वस्‍तुओं को साझा करने से फैलता है।

प्रत्‍येक व्‍यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली एचपीवी वायरस को अलग-अलग प्रतिक्रिया देती है, इसलिए एचपीवी के संपर्क में आने वाले हर कोई में मस्‍सा विकसित नहीं होता है।

(और पढ़े – हेयर रिमूवल क्रीम से एलर्जी के कारण और बचाव…)

मस्से के प्रकार – Common Types of Warts in Hindi

मस्से के प्रकार - Common Types of Warts in Hindi

वार्ट्स के लिए घरेलू उपचार का उपयोग करने से पहले आपको पता होना चाहिए कि आपको किस प्रकार का मस्‍सा है, उनकी उपस्थिति शरीर के किस भाग को प्रभावित करती है आदि जानकारी आपको होना चाहिए। आइए जाने मस्से कितने प्रकार के होते हैं।

  • सामान्‍य मस्‍सा (Common Warts) : इस प्रकार के मस्से आमतौर पर हाथ की उंगलियों, पैर की उंगलियों, हाथों, कोहनी और घुटनों पर दिखाई देते हैं। ये मस्‍से आकार में बहुत बड़े नहीं होते हैं उनमें काले धब्‍बे होते हैं। इस प्रकार के मस्‍से को सीड वार्ट्स (seed Warts) भी कहा जाता है। इस प्रकार के मस्‍से में रक्‍त वाहिकाएं मस्‍से पर काले निशान छोड़ देती हैं जिससे इसका रंग काला होता है।
  • प्‍लांटार वार्ट्स (Plantar Warts) : इस प्रकार के मस्से अधिकतर पैरों के तलवों में होते हैं, जो कि दर्दनाक होते हैं। प्‍लांटार वार्ट्स अन्‍य मस्‍सों से अलग होते हैं। यह त्‍वचा से बाहर होते हैं जो त्‍वचा की गहराई में बढ़ता है। इस प्रकार के मस्से कठोर त्‍वचा से घिरे होते हैं। जिन लोगों को यह मस्‍सा होता है उन्‍हें आराम से चलने में दिक्‍कत होती है।
  • फ्लैट वार्ट्स (Flat Warts) : फ्लैट वार्ट्स आकार में छोटे होते हैं, जो अधिकतर चेहरे में दिखाई देते हैं लेकिन यह बाहों,घुटने, हाथ या पैर पर भी हो सकता है। इन्‍हें किशोर मस्‍सा (juvenile warts) भी कहा जाता है। इस तरह के मस्‍से अक्‍सर 20 या 30 की संख्‍या में एक साथ होते हैं।
  • फिलिफ्रोम वार्ट्स (Filiform Wart) : फिलिफ्रोम मस्से आकार में लंबे और संकीर्ण होते हैं जो कि ज्‍यादातर मुंह, नाक, आंखों, होट पलकों और गर्दन के आसपास पाए जाते हैं।
  • पेरींगुअल वार्ट्स (Periungual Wart): इस तरह के मस्‍से हाथ और पैर के नाखूनों के नीचे होते हैं। यह मस्‍से हाथों और पैरों में दर्द का कारण बन सकते हैं साथ ही यह नाखूनों की बनावट को भी प्रभावित कर सकते हैं।
  • जननांग मस्‍सा (Genital warts) : इस तरह के मस्‍से यौन सक्रियताओं के माध्‍यम से होते हैं जिन्‍हें आमतौर पर वेनेरियल वार्ट्स (venereal warts) कहा जाता है। ये अक्‍सर किसी संक्रमित व्‍यक्ति के मौखिक, योनि या गुदा आदि त्‍वचा के सीधे संपर्क के दौरान फैल सकते हैं।

(और पढ़े – मुहांसों के प्रकार और उनका इलाज…)

मस्से किसी को कैसे प्रभावित करते है – How Does Warts Affects in Hindi

मस्से किसी को कैसे प्रभावित करते है – How Does Warts Affects in Hindi

औषधीय सिद्धांतों के अनुसार मस्‍सा आमतौर पर नुकसान दायक नहीं होते हैं और सभी प्रकार के मस्‍सों को ठीक किया जा सकता है। लेकिन इन मस्‍सों को अलग करने के बाद ये फिर से बापस आ सकते हैं। मस्‍सों के बारे में सामान्‍य धारणा यह है कि यह लोगों के लिए सौंदर्य-प्रसाधन (cosmetic) का खतरा बन गया है। हालाकि आयुर्वेद में मस्‍सा का उपचार करने के बहुत से तरीके हैं। आइये जाने मस्‍सा को दूर करने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय क्‍या हैं।

(और पढ़े – त्‍वचा में निखार के लिए सल्‍फर युक्‍त भोजन…)

मस्‍सा को दूर करने के घरेलू उपाय – Home remedies for Wart in Hindi

मस्‍सा को दूर करने के घरेलू उपाय - Home remedies for Wart in Hindi

  1. कच्‍चा पपीता मस्‍सा का आयुर्वेदिक उपचार – Masse Hatane Ka Upay hai Raw Papaya in Hindi
  2. मस्‍से खत्‍म करने का इलाज केले का छिलका – Masse khatam karne Ka Tarika Banana Peel in Hindi
  3. चेहरे के मस्‍से का उपाय एलोवेरा – Masso Se Chutkara paye Aloe Vera Se in Hindi
  4. गर्दन पर मस्‍से को दूर करने का उपाय तुलसी – Basil for Warts on the neck in Hindi
  5. मस्‍से के लिए लाभकारी मधुमक्‍खी का छत्‍ता – Bee Propolis for Warts in Hindi
  6. मस्‍से का उपचार करें चेंगेरी पत्तियों से – Changeri Leaves for Warts in Hindi
  7. टी ट्री ऑइल से मस्से के उपचार – Masse Hatane Ka gharelu nuskha hai Tea Tree Oil in Hindi
  8. मस्‍सा दूर करने का घरेलू उपाय है लहसुन – Massa Dur Karne Ka gharelu upay Garlic in Hindi
  9. मस्‍से का उपचार सेंधा नमक और एप्‍पल का सिरका – Masa hatane ka trika Epsom salts and Apple Cider Vinegar in Hindi
  10. बेकिंग सोडा से मस्से खत्म करने का इलाज – Baking Soda for Warts Home remedies in Hindi
  11. मस्‍से का आयुर्वेदिक उपचार है पान के डंठल – Masse Ka ayurvedic upchar hai pan in Hindi
  12. मस्‍से का घरेलू उपचार करें आलू से – Masse Ko hatane ka gharelu upay hai Potato in Hindi

आप सभी जानते हैं कि बाजार में ऐसी बहुत सी दवाएं उपलब्‍ध हैं जो मस्‍से के उपचार में उपयोग की जाती है। लेकिन यदि मस्‍सा शुरुआती चरण में है और जो लोग इससे छुटकारा पाने के लिए सस्‍ते और प्रभावी उपचारों की तलाश मे हैं हम उनकी मदद के लिए कुछ आयुर्वेदिक उपचारों को इस लेख के माध्‍यम से बता रहे हैं जो शायद उन लोगों की मदद कर सकते हैं। आइए इन उपायों को जाने।

(और पढ़े – स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के लिए लगाये इस तेल को…)

कच्‍चा पपीता मस्‍सा का आयुर्वेदिक उपचार – Masse Hatane Ka Upay hai Raw Papaya in Hindi

कच्‍चा पपीता मस्‍सा का आयुर्वेदिक उपचार – Masse Hatane Ka Upay hai Raw Papaya in Hindi

प्राकृतिक मस्‍से को दूर करने का यह एक प्रभावी आयुर्वेदिक उपाय है जिसका प्रयोग इस स्थिति के इलाज के लिए किया जाता है। कच्‍चे पपीते के रस में प्रोटीलिटिक एंजाइम (proteolytic enzyme) अच्‍छी मात्रा में होते हैं जो मस्‍सों को दूर करते हैं साथ ही मस्‍से के मृत ऊतको को हटाने में भी मदद करते हैं। यह फुट क्रोर्न, फोड़े और मुँहासों का भी इलाज करने में भी उपयोगी होते हैं। लेकिन गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचना चाहिए।

एक कच्‍चे पपीते की सतह पर हल्‍के कट लगाकर उससे निकलने वाले पौधे के रस (white sap) या जिसे हम पपीता का दूध भी कह सकते हैं उसे इक्‍हठ्ठा करें। इस गाढ़े दूध में कुछ मात्रा में पानी मिलाकर इसे मस्‍से पर लगाएं। बेहतर परिणामों के लिए आप इसे 2 सप्‍ताह तक उपयोग करें। यह आपकी त्‍वचा से मस्‍से को दूर करने में मदद करेगा।

(और पढ़े – पपीता खाना क्यों है सेहत के लिए लाभकारी…)

मस्‍से खत्‍म करने का इलाज केले का छिलका – Masse khatam karne Ka Tarika Banana Peel in Hindi

मस्‍से खत्‍म करने का इलाज केले का छिलका – Masse khatam karne Ka Tarika Banana Peel in Hindi

केले का छिल्‍का मस्‍सों से छुटकारा पाने का सबसे अच्‍छा और शक्तिशाली घरेलू उपाय होता है। केला के छिल्‍के में मौजूद प्रोटीलाइटिक एंजाइम मस्‍से को दूर करने में मदद करता है साथ ही इसके फिर से बापस आने की संभावना को भी कम करता है।

मस्‍सों को ठीक करने के लिए आप केले के छिल्‍के को काट कर इसे मस्‍से के ऊपर रखें या बांध लें ताकि यह छिल्‍का मस्‍से पर चिपका रहे। मस्‍से से जल्‍दी छुटकारा पाने के लिए आप ऐसा दिन में कई बार कर सकते हैं। अध्‍ययनों के अनुसार केले का छिल्‍का मस्‍से के उपचार को तेज कर सकता है। यदि आप अपने चेहरे या अन्‍य भाग में मस्‍से से परेशान हैं तो इस आयुर्वेदिक उपचार का उपयोग करें, यह आपको लाभ दिला सकता है।

(और पढ़े – केला खाने के फायदे जो आपने अभी तक सुने नहीं होंगे…)

चेहरे के मस्‍से का उपाय एलोवेरा – Masso Se Chutkara paye Aloe Vera Se in Hindi

चेहरे के मस्‍से का उपाय एलोवेरा – Masso Se Chutkara paye Aloe Vera Se in Hindi

इस पौधे को विभिन्‍न प्रकार के पोषक तत्‍वों को प्राप्‍त करने के लिए उपयोग किया जाता है, इसका एक और प्रभावी उपयोग मस्‍से को दूर करने के लिए जाना जाता है। इसके लिए आप एलोवेरा जेल की थोड़ी सी मात्रा कपास में लें और इसे मस्‍से के ऊपर थोड़ी देर के लिए रखें। इस प्रक्रिया को दिन में कम से कम 5-7 बार दोहराएं। आपको कुछ ही सप्‍ताह में मस्‍से के आकार में कमी देखेगी। यह तरीका बहुत ही आसान और सस्‍ता है जो हल्के मस्‍से को दूर करने के आयुर्वेदिक घरेलू उपायो में से एक है। आप इसका लाभ ले सकते हैं।

(और पढ़े – एलोवेरा के फायदे और नुकसान…)

गर्दन पर मस्‍से को दूर करने का उपाय तुलसी – Basil for Warts on the neck in Hindi

गर्दन पर मस्‍से को दूर करने का उपाय तुलसी – Basil for Warts on the neck in Hindi

तुलसी के एंटीवायरल और जीवाणुरोधी गुण बहुत ही अच्‍छी मात्रा में होते हैं जो इसे सर्दी और खांसी के लिए सबसे प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक बनाते हैं। स्‍वाभाविक रूप से मस्‍सा से छुटकारा पाने के लिए भी तुलसी का उपयोग किया जा सकता है। तुलसी के एंटी-वायरल घटक मस्‍से के वायरस को मारते हैं जो मस्‍सों का कारण बनते हैं, मस्‍सों के लिए तुलसी का उपयोग करने से यह इसके उपचार प्रक्रिया को तेज करता है और इसके फिर से होने की संभावना को भी कम करता है क्‍योंकि यह इसके वायरस को ही खत्‍म करने में मदद करता है।

मस्‍सों के उपचार के लिए आप तुलसी के पत्‍तों का बारीक पेस्‍ट बनाएं और इस पेस्‍ट का उपयोग मस्‍से के ऊपर करें। मस्‍से पर इस पेस्‍ट को लगाने के बाद इसे साफ कपड़े या बैड़ेंज से बांधे। इस प्रक्रिया को रोज दो बार तक दोहराएं। लगभग दो सप्‍ताह तक ऐसा करने से आप मस्‍से से छुटकारा पा सकते हैं।

(और पढ़े – तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान…)

मस्‍से के लिए लाभकारी मधुमक्‍खी का छत्‍ता – Bee Propolis for Warts in Hindi

मस्‍से के लिए लाभकारी मधुमक्‍खी का छत्‍ता – Bee Propolis for Warts in Hindi

मधुमक्खियों द्वारा बनाए गए छत्‍ते के निमार्ण में एक सीलेंट (sealant) का उपयोग किया जाता है। मधुमक्‍खी गोंद संक्रमण के खिलाफ रक्षा करता है और इसमें एंटीबायोटिक, एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण होते हैं। ये आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए थाइमस ग्रंथि (thymus gland) को उत्‍तेजित करने मे सहायक होती है।

एक अध्‍ययन में पाया गया कि जो लोग मौखिक रूप से प्रोपोलिस (propolis) जो कि मधुमक्खियों द्वारा फूलों से लाया हुआ एक  मोम होता है जिसे वे अपने छत्‍ते के छेद को बंद करने के लिए प्रयोग में लाती हैं। इसका सेवन करते हैं मस्‍सों से छुटकारा मिल सकता है।

(और पढ़े – शहद के फायदे उपयोग स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

मस्‍से का उपचार करें चेंगेरी पत्तियों से – Changeri Leaves for Warts in Hindi

मस्‍से का उपचार करें चेंगेरी पत्तियों से – Changeri Leaves for Warts in Hindi

आयुर्वेद के अनुसार चेंगेरी पत्तियां जिनका वैज्ञानिक नाम ऑक्‍सलिस कॉर्निकुलटा, लिन (Oxalis corniculata, Linn) है। इन पत्तियों के पेस्‍ट को मस्‍सों पर लगाने से इन्‍हें दूर किया जा सकता है। यह उपचार फ्लैट वार्ट्स के लिए बेहतर काम करता है। यदि आपको फ्लैट वार्ट्स (flat warts) की समस्‍या है तो आप इस उपचार को इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़े – चिरायता के फायदे और नुकसान…)

टी ट्री ऑइल से मस्से के उपचार – Masse Hatane Ka gharelu nuskha hai Tea Tree Oil in Hindi

टी ट्री ऑइल से मस्से के उपचार – Masse Hatane Ka gharelu nuskha hai Tea Tree Oil in Hindi

टी ट्री ऑइल विभिन्‍न त्‍वचा की समस्‍याओं और त्‍वचा विकारों को दूर करने का सबसे अच्‍छा उपाय होता है। इसमें एंटीवायरल और एंटीसेप्टिक गुण बहुत ही अच्‍छी मात्रा में होते हैं। टी ट्री से प्राप्‍त होने वाला पतला तेल मस्‍सों को स्‍वाभाविक रूप से त्‍वचा से दूर करने में मदद करता है। यह मस्‍से को फैलाने वाले वायरस को मारता है। यदि आप इस तेल का उपयोग करते हैं तो यह पहले दिन से ही अपना असर दिखाना शुरु कर देता है। इस तेल का उपयोग प्‍लांटार वार्ट्स (plantar warts) से छुटकारा पाने का सबसे अच्‍छा तरीका है। शुद्ध टी ट्री ऑइल बहुत ही मजबूत आवश्‍यक तेल (strong essential oil) है, इसलिए इसे हमेशा ही पतला करके उपयोग करना चाहिए।

2 चम्‍मच पानी के साथ टी ट्री ऑयल की 5 बूंदों को मिलाएं और इसमें कपास को भिंगों कर मस्‍सों के ऊपर लगाएं। मस्‍सा से जल्‍दी राहत पाने के लिए आप इसे दिन में कई बार दोहरा सकते हैं।

(और पढ़े – टी ट्री ऑयल के फायदे और नुकसान…)

मस्‍सा दूर करने का घरेलू उपाय है लहसुन – Massa Dur Karne Ka gharelu upay Garlic in Hindi

मस्‍सा दूर करने का घरेलू उपाय है लहसुन – Massa Dur Karne Ka gharelu upay Garlic in Hindi

लहसुन एक लोकप्रिय रसोई मसाला है जिसका उपयोग व्‍यंजनों को स्‍वादिष्‍ट बनाने के लिए मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है। लेकिन इसमे बहुत से औषधीय गुण भी होते हैं जो त्‍वचा रोगों और संक्रमणों का इलाज करने में आपकी मदद करते हैं। यह दाद (ringworms) का अब तक का सबसे अच्‍छा इलाज है। कच्‍चे लहसुन का उपयोग मस्‍सा से छुटकारा पाने के लिए भी किया जा सकता है। लहसुन में उपस्थित एंटीवायरल, एंटीफंगल और जीवाणुरोधी गुण मस्‍सा के संक्रमण से लड़ने में आपकी सहायता करते हैं। लहसुन के कास्टिक प्रभाव भी मस्‍सा का उपचार करते हैं और इसे एक सप्‍ताह के अंदर ही गिराने या दूर करने में सक्षम होते हैं।

कुछ लहसुन और लौंग को पीसे और एक पट्टी की सहायता से इस मिश्रण को मस्‍से के ऊपर रखकर बांधलें। इसे आधा घंटे के लिए लगे रहने दें और फिर साफ पानी से धो लें। अच्‍छे परिणाम पाने के लिए आप इसे 2 सप्‍ताह तक प्रति सप्‍ताह 2 बार उपयोग करें।

(और पढ़े – जानिए लहसुन के चमत्कारी स्वास्थ्यवर्धक गुणों के बारे में…)

मस्‍से का उपचार सेंधा नमक और एप्‍पल का सिरका – Masa hatane ka trika Epsom salts and Apple Cider Vinegar in Hindi

मस्‍से का उपचार सेंधा नमक और एप्‍पल का सिरका – Masa hatane ka trika Epsom salts and Apple Cider Vinegar in Hindi

सेंधा नमक और सेब का सिरका ( 1:4 के अनुपात में ) का मिश्रण बनाएं और इसे दिन में कई बार मस्‍सों के ऊपर लगाएं। यह आपके शरीर के मस्‍सों को दूर करने में मदद कर सकता है। क्‍योंकि सेब का सिरके में एंटीवायरल, एंटीफंगल और एंटीबैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो मस्‍से का प्रभावी तरीके से उपचार करने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – सेब के सिरके के फायदे, लाभ, गुण और नुकसान…)

बेकिंग सोडा से मस्से खत्म करने का इलाज – Baking Soda for Warts Home remedies in Hindi

बेकिंग सोडा से मस्से खत्म करने का इलाज – Baking Soda for Warts Home remedies in Hindi

बेकिंग सोडा का उपयोग प्‍लांट वार्ट्स को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है क्‍योंकि इसके एंटी-इन्‍फ्लामेट्री (anti-inflammatory), एंटीवायरल और एंटीसेप्टिक गुण मस्‍सों के वायरस को मारने में मदद करते हैं। यह मस्‍सों से निजात पाने का अच्‍छा तरीका होता है।

एक कटोरी में बेकिंग सोडा और 1 चम्‍मच सफेद सिरका लें और मोटा पेस्‍ट बनाएं। इस पेस्‍ट को मस्‍सों के ऊपर हल्‍के हाथ से लगाएं और इसे सूखने दें। इस मिश्रण को प्रतिदिन 2 बार सुबह और शाम को लगाएं। यह आपके मस्‍से को जड़ से अलग करने में मदद करता है।

(और पढ़े – बेकिंग सोडा से करें लिंग की जांच और जाने लड़का होगा या लड़की…)

मस्‍से का आयुर्वेदिक उपचार है पान के डंठल – Masse Ka ayurvedic upchar hai pan in Hindi

मस्‍से का आयुर्वेदिक उपचार है पान के डंठल – Masse Ka ayurvedic upchar hai pan in Hindi

जानकारों का मानना है कि पान के ठंडल का उपयोग कर आप मस्‍से का उपचार कर सकते हैं। इसके लिए आप पान के डंठल के साथ थोड़ा सा चूना (Lime) लेकर इसे सावधानी के साथ केवल मस्‍से के ऊपर रगड़ें, यह आपके मस्‍से को तुरंत ही साफ कर सकता है लेकिन ध्‍यान रखें कि पान और चूने के गुण आपकी त्‍वचा में कुछ घाव भी बना सकते हैं जो कि कुछ दिनों में स्‍वत: ही ठीक हो जाते हैं। यदि आप सावधानी पूर्वक पान के डंठल का उपयोग करते हैं तो यह सबसे अच्‍छा, प्रभावी और तत्‍काल राहत दिलाने वाला उपचार हो सकता है।

(और पढ़े – चंदन के फायदे जो शायद आपने अभी तक नहीं सुने होंगे…)

मस्‍से का घरेलू उपचार करें आलू से – Masse Ko hatane ka gharelu upay hai Potato in Hindi

मस्‍से का घरेलू उपचार करें आलू से – Masse Ko hatane ka gharelu upay hai Potato in Hindi

कच्‍चे आलू आंखों के चारो तरफ होने वाले काले निशानों को दूर करने का सबसे अच्‍छा इलाज होता है, लेकिन यह प्राकृतिक मस्‍से को हटाने में भी प्रमुख भूमिका निभाता है। यह बहुत ही पुराना उपचार है जो कि सदियों से लोगों द्वारा उपयोग किया जा रहा है। इसकी सबसे खास बात यह है कि यह तत्‍काल परिणाम दिखाता है, इसलिए इसे अजमाना लाभकारी हो सकता है।

एक आलू को छीलें और इसे गोल टुकड़ों में काट लें। इन तुकड़ों को 5 मिनिट के लिए मस्‍सों के उपर घिसे। मस्‍सा खत्‍म होने तक इस उपाय को दिन मे कम से कम 3 बार दोहराएं।

(और पढ़े – आलू के फायदे और नुकसान…)

मस्‍सा को दूर करने के अन्‍य घरेलू उपाय – Other Home remedies for Warts in Hindi

मस्‍सा को दूर करने के अन्‍य घरेलू उपाय – Other Home remedies for Warts in Hindi

  • मस्‍सों को दूर करने के लिए अरंडी का तेल (Castor oil) भी बहुत उपयोगी होता है। इसे नियमित रूप से मस्‍सों पर लगाने से मस्‍सों के प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है और धीरे-धीरे मस्‍सा खत्‍म होने लगते हैं। आप अरंडी के तेल की जगह कपूर तेल (camphor oil) का भी उपयोग कर सकते हैं।
  • अंगूर के रस का उपयोग करके भी आप मस्‍सों का उपचार कर सकते हैं। एक पट्टी पर अंगूर के रस की कुछ बूंदें डाले और मस्‍सा प्रभावित क्षेत्र को इस पट्टी से कवर करें। ऐसा दिन में 3-4 बार करें ऐसा करने पर मस्‍सा आपके शरीर से गायब हो जाएगें।

नोट : ऊपर बताए गए उपचार हर प्रकार के मस्‍सों को दूर करने के लिए उपयोग में लिये जा सकते हैं केवल जननांग क्षेत्र में पाए जाने वाले मस्‍सों को छोड़कर। आमतौर पर इन शरीर के अंगों में बढ़ने वाले मस्‍से गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लक्षण हो सकते हैं। इस कारण ऐसी स्थिति होने पर डॉक्‍टर से संपर्क किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – आलू के फायदे और नुकसान…)

मस्‍सा को फैलने से रोकने की युक्तियॉं – Tips for Preventing Warts in Hindi

मस्‍सा को फैलने से रोकने की युक्तियॉं - Tips for Preventing Warts in Hindi

कुछ उपायों के माध्‍यम से आप मस्‍सा के संक्रमण को फैलने या खुद को होने से रोक सकते हैं। ये उपाय इस प्रकार हैं :

  • अन्‍य लोगों के मस्‍सा को न छुएं।
  • किसी संक्रमित व्‍यक्ति के साथ कपड़े, तौलिया और अन्‍य निजी वस्‍तुओं को साझा न करें।
  • प्‍लांटर वार्ट्स वाले व्‍यक्तियों के साथ अपने मोजे या जूते साझा न करें।
  • यदि आपको मस्‍सा है और आप नहीं चाहते कि यह आपके शरीर के अन्‍य हिस्‍सों में फैले तो आप इसे बिल्‍कुल भी न खरोंचे, खरोंचने से इसके वायरस आपके शरीर के अन्‍य हिस्‍सों को भी प्रभावित कर सकते हैं।
  • यदि आपके हाथों में मस्‍सा है तो भारी काम करते समय या जिम जाते समय दस्‍तानों का उपयोग करें जो इन्‍हें चोट और शरीर के अन्‍य भागों में फैलने से रोकने में मदद करेगा।
  • आप जितनी बार भी अपने मस्‍से को छुऐं उतनी बार ही आपको अपने हाथ धोने चाहिए।

(और पढ़े – नाक पर से ब्लैकहेड्स साफ करने के घरेलू उपाय…)

मस्‍से होने पर डॉक्‍टर को कब दिखाएं – When to See a Doctor for Warts in Hindi

मस्‍से होने पर डॉक्‍टर को कब दिखाएं - When to See a Doctor for Warts in Hindi

मस्‍सों का विकास बिना दर्द के साथ होता है जो खुद ही ठीक हो जाते हैं इन्‍हें किसी भी उपचार की आवश्‍यकता नहीं होती है। लेकिन यह सुनिश्चित करने के‍ लिए डॉक्‍टर को दिखाने की आवश्‍यकता होती है कि यह मस्‍सा ही है और कुछ नहीं। यदि इनमें से कोई भी लक्षण आपको हो तो डॉक्‍टर से संपर्क करने की आवश्‍यकता होती है।

  • मस्‍सों में दर्द हो रहा हो।
  • मस्‍सा संक्रमण के लक्षण दिखाता है।
  • मवाद या रक्‍तस्राव होने की स्थिति में।
  • मस्‍से चेहरे या शरीर के किसी भी अन्‍य संवेदनशील भाग पर दिखाई दें।
  • यह शरीर के अन्‍य हिस्‍सों में तेज गति से फैल रहा हो।
  • ऊपर बताए गए घरेलू उपचारों के उपयोग करने के बाद भी मस्‍से खत्‍म न हो रहे हों।

(और पढ़े – एप्पल साइडर विनेगर करेगा स्किन से जुड़ी परेशानियों को दूर…)

Subscribe for daily wellness inspiration