उष्ट्रासन करने की विधि और फायदे – Ustrasana (Camel Pose) Steps And Benefits In Hindi

उष्ट्रासन करने की विधि और फायदे - Ustrasana (Camel Pose) Steps And Benefits In Hindi
Written by Shivam

Ustrasana In Hindi उष्ट्रासन पूर्णता एक ऊँट मुद्रा है। इस मुद्रा का नियमित अभ्यास आपको मूल शक्ति में सुधार करने, सहनशक्ति प्राप्त करने और आपके कूल्हे और कंधे को लचीला बनाने में मदद करता है। यह आसन आपको एक अद्भुत खिंचाव देता है। योग की कुंडली धारा का मानना है कि यह आसन हृदय चक्र को खोलता और जगा सकता है। उष्ट्रासन एक ऐसा योग आसन है जो शरीर के प्रमुख प्रतिकूलता को कम करता है, मानसिक तनाव को कम करता है, आत्माओं को पुन: संतुलित करता है, और अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देता है। आइये उष्ट्रासन करने के तरीके और उससे होने वाले लाभ को विस्तार से जानते है।

1. उष्ट्रासन क्या है – What is Ustrasana in Hindi
2. उष्ट्रासन करने से पहले यह आसन करें – Ustrasana karne se pahle yah asan Karen in Hindi
3. उष्ट्रासन करने का तरीका – Steps to do Ustrasana in Hindi
4. शुरुआती लोगों के लिए उष्ट्रासन करने की प्रारंभिक टिप – Beginner’s Tip to do Ustrasana in Hindi
5. उष्ट्रासन करने के फायदे – Benefits Of The Ustrasana in Hindi

6. उष्ट्रासन करने से पहले यह सावधानियाँ रखें – Precautions to do Ustrasana in Hindi

उष्ट्रासन क्या है – What is Ustrasana in Hindi

उष्ट्रासन एक बहुत ही लोकप्रिय योग आसन हैं यह एक संस्कृत भाषा का शब्द है। उष्ट्रासन दो शब्दों से मिलके बना है जिसमे पहले शब्द “उष्ट्र” का अर्थ है “ऊँट” है और “आसन” का अर्थ “मुद्रा” होता है। इस आसन को ऊँट मुद्रा के नाम से भी जाना जाता है। उष्ट्रासन को अंग्रेजी में कैमल पोज (Camel Pose) के नाम से भी जाना जाता है। इस मुद्रा को करने वाला व्यक्ति एक ऊँट के समान दिखाई देता है। इस आसन को करने के लिए आपको पीछे की ओर मुड़ना होता है। यह हृदय चक्र को खोलने, शक्ति बढ़ाने और लचीलेपन को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इस आसन से सांस और संवेदनाओं के प्रति सजगता से शरीर को एक निश्चित योग मुद्रा में ले जाकर प्रभावी ढंग से मनोदशा को बढ़ा सकते हैं।

(और पढ़े – योग मुद्रा क्या है प्रकार और फायदे…)

उष्ट्रासन करने से पहले यह आसन करें – Ustrasana karne se pahle yah asan Karen in Hindi

उष्ट्रासन करने से पहले यह आसन करें - Ustrasana karne se pahle yah asan Karen in Hindi

उष्ट्रासन करने से पहले आप नीचे दिए गया आसन को करें जिससे आपको उष्ट्रासन करने में आसानी होगी-

(और पढ़े – सेतुबंधासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

उष्ट्रासन करने का तरीका – Steps to do Ustrasana in Hindi

उष्ट्रासन एक सरल और आसान योग मुद्रा है इसके साथ यह हमारे शरीर के लिए अनेक प्रकार से लाभदायक है। आइये इस योग आसन को करने की विधि को विस्तार से जानते है-

  • उष्ट्रासन करने के लिए सबसे पहले आप के योगा मैट को फर्श पर बिछा के उस पर घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • इस आसन को करने के लिए आप वज्रासन की मुद्रा में भी बैठ सकते हैं।
  • अब घुटनों के बल सीधे खड़े हो जाएं और अपनी पिंडलियों को फर्श पर ही रखें।
  • इस स्थिति में आपकी जांघ और छाती एक सीधी रेखा में होनी चाहिए।
  • अब साँस को अन्दर ले और कमर के यहाँ से थोड़ा सा पीछे की ओर झुके।
  • अपने दाएं हाथ को पीछे की ओर ले जाकर दाएं पैर की एड़ी के पर रख लें।
  • इसके बाद अपने बाएं हाथ को भी पीछे की ओर लेकर जाएं और उसे बाएं पैर की एड़ी पर रख लें।
  • अब अपनी गर्दन को पीछे की ओर झुका लें।
  • अपने शरीर का पूरा भार अपने दोनों हाथ और पैरों पर रखें।
  • इस मुद्रा में आप 30 से 60 सेकेंड के लिए रहे और फिर अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(और पढ़े – वज्रासन करने का तरीका और फायदे…)

शुरुआती लोगों के लिए उष्ट्रासन करने की प्रारंभिक टिप – Beginner’s Tip to do Ustrasana in Hindi

अगर आप एक बिगिनर है और योग अभ्यास करने की शुरआत कर रहे तो शायद आपको अपने दोनों हाथों को एड़ी पर रखने में कठिनाई हो सकती हैं इसके लिए आप एक लकड़ी के ब्लॉक का उपयोग करें और अपने दोनों हाथों को उन पर रखें।

उष्ट्रासन करने के फायदे – Benefits Of The Ustrasana in Hindi

  1. उष्ट्रासन के लाभ पाचन शक्ति बढ़ाने में – Ustrasana benefits for Digestion in Hindi
  2. हृदय चक्र खोलने में फायदेमंद उष्ट्रासन योग – Ustrasana Opens the Heart Chakra in Hindi
  3. उष्ट्रासन के फायदे थायराइड ग्रंथियों को उत्तेजित करने में – Ustrasana ke fayde Thyroid Glands ko uttejit Karne me in Hindi
  4. उष्ट्रासन योग के लाभ रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाये –  Ustrasana benefits for Spinal flexibility in Hindi
  5. तनाव को कम करने में लाभकारी उष्ट्रासन योगा – Ustrasana benefits for Stress Buster in Hindi

उष्ट्रासन विभिन्न प्रकार से हमारे स्वस्थ के लिए लाभकारी हैं आइये इस आसन को करने से होने वाले लाभों को विस्तार से जानते हैं-

उष्ट्रासन के लाभ पाचन शक्ति बढ़ाने में – Ustrasana benefits for Digestion in Hindi

उष्ट्रासन के लाभ पाचन शक्ति बढ़ाने में – Ustrasana benefits for Digestion in Hindi

उष्ट्रासन पाचन सकती को बढ़ाने में बहुत ही लाभदायक आसन है। यदि आप नियमित रूप से एसिडिटी, ब्लोटिंग, अपच, कब्ज, आदि से पीड़ित है तो आपके लिए यह बहुत ही अच्छा आसन हैं। उष्ट्रासन के लाभ पाचन संबंधी कई प्रकार की समस्याओं को दूर करते हैं। उष्ट्रासन शरीर को detoxify करता है और पाचन तंत्र में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है जिससे पाचन, भूख और भोजन के उत्सर्जन में सुधार होता है।

(और पढ़े – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय…)

हृदय चक्र खोलने में फायदेमंद उष्ट्रासन योग – Ustrasana Opens the Heart Chakra in Hindi

हृदय चक्र खोलने में फायदेमंद उष्ट्रासन योग - Ustrasana Opens the Heart Chakra in Hindi

ऊँट मुद्रा या उष्ट्रासन का दैनिक अभ्यास हृदय चक्र को अनलॉक करता है जिसे अनाहत चक्र के रूप में भी जाना जाता है। हृदय चक्र का जागृत करना जीवन को प्रेम, करुणा और सौंदर्य से रंग देता है। यह अन्य मनुष्यों के साथ गहरे बंधन का केंद्र है, यह दयालुता, सम्मान और परोपकारिता की भावना को बढ़ता है। जब हम एक ऊंट मुद्रा में होते हैं तो अनाहत चक्र खुल जाता है जो शक्तिशाली ऊर्जा को जीवन को समृद्ध करने के लिए स्वतंत्र रूप से प्रवाह करने की अनुमति देता है।

(और पढ़े – दिल मजबूत करने के उपाय…)

उष्ट्रासन के फायदे थायराइड ग्रंथियों को उत्तेजित करने में – Ustrasana ke fayde Thyroid Glands ko uttejit Karne me in Hindi

उष्ट्रासन के फायदे थायराइड ग्रंथियों को उत्तेजित करने में - Ustrasana ke fayde Thyroid Glands ko uttejit Karne me in Hindi

उष्ट्रासन योग आसन को करने के लिए गर्दन को पीछे की ओर झुकाना पड़ता है जो गर्दन में उपस्थित मांसपेशियों को फैलाता है जहां थायरॉयड और पैराथायरायड ग्रंथियां स्थित होती हैं। उष्ट्रासन योग इन ग्रंथियों को उत्तेजित करता है और उनके कामकाज में सुधार करता है। यह योग आसन अंतःस्रावी ग्रंथियों पर भी सकारात्मक रूप से कार्य करता है और अंडाशय, पीनियल ग्रंथियों आदि से संबंधित बीमारियों को कम करता है।

(और पढ़े – थायराइड के लिए योग और करने की विधि…)

उष्ट्रासन योग के लाभ रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाये –  Ustrasana benefits for Spinal flexibility in Hindi

उष्ट्रासन योग के लाभ रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाये -  Ustrasana benefits for Spinal flexibility in Hindi

उष्ट्रासन रीढ़ को अधिक लचीला बनाता है और आपके शरीर को बेहतर बनाने में भी मदद करता है। यह आसन पीठ और कंधों को मजबूत करता है और पीठ के निचले हिस्से में दर्द को कम करने में मदद करता है। यह आसन पूरे शरीर को फैलाता है और रीढ़ को मजबूत करता है, जिससे शरीर और मन पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव को दूर किया जाता है।

(और पढ़े – पीठ दर्द के लिए योगासन…)

तनाव को कम करने में लाभकारी उष्ट्रासन योगा – Ustrasana benefits for Stress Buster in Hindi

तनाव को कम करने में लाभकारी उष्ट्रासन योगा - Ustrasana benefits for Stress Buster in Hindi

तनाव को कम करने के लिए उष्ट्रासन एक बहुत ही लाभदायक आसन है। इसे चिंता निवारक के रूप में भी जाना जाता है। यह आसन दिमाग खोलता है, तनाव को निकलता है और मस्तिष्क को पुनर्जीवित करता है। यह आसन हमारे मन को शांत रखता है और शांत मन रचनात्मकता, एकाग्रता बढ़ाता है जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखता है।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

उष्ट्रासन करने से पहले यह सावधानियाँ रखें – Precautions to do Ustrasana in Hindi

उष्ट्रासन एक सरल आसन है और इसे आसानी से भी किया जा सकता हैं फिर भी इसे करने से पहले आपको कुछ सावधानी रखना बहुत ही आवश्यक है। इसकी कुछ प्रमुख सावधानियां निम्न हैं-

  • अपने कूल्हों की तुलना में घुटनों को अधिक दूर-दूर न करें।
  • यदि आपको पीठ का दर्द है तो आप इस आसन को ना करें।
  • जिन लोगों को गर्दन दर्द की समस्या है उनको उष्ट्रासन योग नहीं करना चाहिए।
  • यदि आप निम्न रक्तचाप या उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं तो इस आसन को करने से बचें।
  • जो लोग अनिद्रा या माइग्रेन से पीड़ित हैं उन्हें इस आसन से बचना चाहिए।
  • इस आसन को अपनी क्षमता से अधिक करने की कोशिश ना करें।
  • किसी भी बीमारी या शारीरिक समस्या के दौरान इस आसन को करने के लिए डॉक्टर से सलाह अवश्य करें।
  • योग प्रशिक्षक की देखरेख में इस आसन का अभ्यास करना सबसे अच्छा है।

(और पढ़े – योग की शुरुआत करने के लिए कुछ सरल आसन…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration