कालमेघ के फायदे और नुकसान – Kalmegh (andrographis paniculata) benefits and side effects in Hindi

कालमेघ के फायदे और नुकसान - Kalmegh (andrographis paniculata) benefits and side effects in Hindi
Written by Jaideep

कालमेघ प्‍लांट को हम आमतौर पर बिटर के राजा (kings of bitters) के नाम से जानते हैं। क्योंकि  इसका स्वाद कड़वा होता है, इसका उपयोग भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्‍सा, पारंपरिक चीनी दवा और अन्‍य प्राकृतिक चिकित्‍सा प्रणालियों (natural treatment) में लंबे समय से किया जा रहा है। यह एक आयुर्वेदिक औषधी के रूप में हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होता है। इसे हरा चिरायता (Green chiretta) के नाम से भी जाना जाता है। इस लेख में आप जानेंगे  कालमेघ के फायदे और नुकसान (Kalmegh benefits and side effects in Hindi) के बारे में।

कालमेघ  सामान्‍य बुखार के लिए प्राकृतिक उपचार के लिए जाना जाता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने, सूजन को कम करने, एंटीऑक्‍सीडेंट संरक्षण प्रदान करने, पेट से सम्बंधित शिकायतों को कम करने, विषाक्‍त पदार्थों (toxic substances) को दूर करने और बहुत से स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने के लिए सफल औषधीय गुण रखता है। एंड्रो‍ग्राफोलिड के एक प्रमुख बायोएक्टिव रासायनिक घटक ने विभिन्‍न जांचों में एंटीकेन्‍सर क्षमता दिखायी है। कालमेघ का उपयोग पेट में गैस, अपच, पेट में कीड़े आदि को दूर करता है। यह अस्‍थमा, स्‍ट्रोक और गठिया के लिए एंटी-इंफ्लामैट्री प्रभाव छोड़ता है। इंडियन ड्रग इंस्टीट्यूट की एक रिपोर्ट के अनुसार कालमेघ में रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता पाई जाती है और यह मलेरिया और अन्य प्रकार के बुखार के लिए रामबाण दवा है, पिछले कुछ वर्षो में इस पर किये गए शोध से पता चलता है कि इसमें एंटीबैक्टीरियल, एंटीट्यूमर, एंटीडाइबेटिक गुण बहुत अच्‍छी मात्रा में होते हैं।

1. कालमेघ पौधा – Kalmegh (Green Chiretta) plant in Hindi
2. कालमेघ के फायदे इन हिंदी – Kalmegh ke Fayde in Hindi

3. कालमेघ के नुकसान (साइड इफेक्ट्स) – Kalmegh ke Nuksan in hindi

कालमेघ पौधा – Kalmegh (Green Chiretta) plant in Hindi

कालमेघ पौधा – Kalmegh (Green Chiretta) plant in Hindi

कालमेघ का पौधा लगभग 1 मीटर लंबा और झाड़ीनुमा होता है। भारत में यह पौधा नवंबर और दिसंबर के बीच में फूलता है। इसके फूल हल्‍के पीले और भूरे होते हैं। यह एक्‍नथेक्‍सेस परिवार (Acanthaceae family) से संबंधित पौधा है, इसके बीज आकार में छोटे होते हैं और इसकी पत्तियां रेखिक होती हैं। आमतौर पर यह पौधा निर्जन स्‍थान पर पाया जाता है लेकिन भारत के कुछ हिस्‍सों में इसकी खेती भी की जाती है। कालमेघ को दुनिया भर में भुनीम्‍बा, कारमांतिना, चिरेट्टा, चिरेटे वेरेट, चुआन जिन लिआन, एचिनासी डी इंडे, महालिता, कीर्त, नबीन चन्‍वांडी, पूगीफलम, रोई, शिवफला, इंडियन इचिनेसिया (Indian Echinacea) आदि कई नामों से जाना जाता है।

इसकी दक्षिणी और दक्षिणपूर्वी एशिया में व्यापक रूप से खेती की जाती है, जहां इसे पारंपरिक रूप से संक्रमण को दूर करने और कुछ बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। ज्यादातर इसकी पत्तियों और जड़ें औषधीय उद्देश्यों के लिए उपयोग की जाती है। लेकिन कुछ मामलों में पेड़ के विभिन्न हिस्सों का भी उपयोग किया जाता है

कालमेघ के फायदे इन हिंदी – Kalmegh ke Fayde in Hindi

  1. मधुमेह के लिए कालमेघ चूर्ण के फायदे – Kalmegh ke Fayde for Diabetes in Hindi
  2. ददिल के लिए कालमेघ के फायदे – Kalmegh ke Fayde for Heart in Hindi
  3. कैंसर में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for cancer in hindi
  4. कालमेघ के लाभ बुखार कम करने के लिए – Kalmegh ke Labh Bukhar kam Karne Me
  5. अनिद्रा दूर करने में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Insomnia in hindi
  6. सामान्य जुखाम में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Common cold in Hindi
  7. रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने में कालमेघ का उपयोग – Kalmegh Benefits for Immunity in hindi
  8. विषाणु संक्रमण में कालमेघ के फायदे – Kalmegh for Viral Infections in hindi
  9. कालमेघ के फायदे अपचन और हार्टबर्न में – Kalmegh Benefits for Indigestion and Heartburn in hindi
  10. जिगर के लिए कालमेघ चूर्ण के फायदे – Kalmegh churn for Liver health in hindi
  11. घाव ठीक करने में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Wound in hindi
  12. कालमेघ की अनुशंसित खुराक – Recommended dosage of Kalmegh in hindi

यह आयुर्वेदिक पौधा अपने विशिष्‍ट औषधीय गुणों के कारण बहुत सी प्राकृतिक दवाओं में उपयोग किया जाता है। इस लेख में आप इस चमत्‍कारी पौधे के फायदे और उपयोग के बारे में जानेगें जो आपके स्‍वास्‍थ्‍य की द्रष्टि से बहुत लाभकारी होते हैं।

मधुमेह के लिए कालमेघ चूर्ण के फायदे – Kalmegh ke Fayde for Diabetes in Hindi

मधुमेह के लिए कालमेघ चूर्ण के फायदे – Kalmegh ke Fayde for Diabetes in Hindi

कालमेघ चूर्ण का उपयोग कर आप मधुमेह के खतरे को कम कर सकते हैं। इस पर थॉमस जेफरसन विश्‍वविद्यालय द्वारा किये गए अध्‍ययन बताते हैं  कि यह मधुमेह के उपचार पर उपयोग करने वाली जड़ी बूटीयों में सबसे अधिक प्रभावशाली होता है। यह मधुमेह के कारण बढ़ने वाले वजन को भी नियंत्रित करता है। यह आपके शरीर में रक्‍त ग्‍लूकोज के स्‍तर को नियंत्रित करता है और मधुमेह के खतरे को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय…)

दिल के लिए कालमेघ के फायदे – Kalmegh ke Fayde for Heart in Hindi

दिल के लिए कालमेघ के फायदे – Kalmegh ke Fayde for Heart in Hindi

कार्डियोवैस्कुलर बीमारियां पूरी दुनिया में पुरुषों और महिलाओं दोनों में मौत का प्रमुख कारण हैं। भारतीय और चीनी दोनों की पारंपरिक दवाओं में, इस जड़ी बूटी का उपयोग कार्डियक स्वास्थ्य में सुधार के लिए किया जाता है। कोरोनरी धमनियों में वसा की जमावट, रक्त वाहिकाओं में कठोरता और लिपिड थक्के के विकास को बढ़ाती है। एक अध्ययन में, यह निष्कर्ष निकाला गया है कि कालमेघ (एंड्रोग्राफिस पैनिक्युलता) से निकला गया रस रक्त के थक्के बनने के समय में काफी वृद्धि कर सकते हैं और रक्त वाहिकाओं की कठोरता को रोक सकते हैं। इस जड़ी बूटी के उपयोग के साथ, दिल के दौरे को रोका जा सकता है क्योंकि इस पौधे के एंटी-क्लोटिंग गुण (anti-clotting properties) रक्त के नियमित प्रवाह को सुनिश्चित करते हैं जिससे दिल के दौरे का सामना करने वाले व्यक्ति में इसकी संभावना बहुत कम हो जाती है।

(और पढ़े – कार्डियक अरेस्ट और हार्ट अटैक में अंतर…)

कैंसर में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for cancer in hindi

कैंसर में कालमेघ के फायदे - Kalmegh Benefits for cancer in hindi

एंड्रोग्राफिस पैनिक्युलता (कालमेघ) का अर्क कैंसर के लिए , पशु और टेस्ट-ट्यूब अध्ययनों में संभावित लाभ दिखाते हैं।

भारतीय शोधकर्ताओं ने विभिन्न प्रकार के मानव कैंसर कोशिकाओं पर एंड्रोग्राफाईड की कैंसर विरोधी गतिविधियों को देखा है।

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय…)

कालमेघ के लाभ बुखार कम करने के लिए – Kalmegh ke Labh Bukhar kam Karne Me

कालमेघ के लाभ बुखार कम करने के लिए – Kalmegh ke Labh Bukhar kam Karne Me

बुखार और गले की आम स्थितियां हैं जो टोनसिल से पीड़ित व्यक्ति को प्रभावित करती हैं, और रोगी के लिए अत्यधिक असुविधा का कारण बन सकती हैं। भारतीय पारंपरिक दवा में, धनिया पत्तियों के साथ कालमेघ की पत्तियों को मिश्रित कर (40-60 मिलीलीटर) पानी में गर्म करके बुखार को कम करने के लिए किया जाता है।

(और पढ़े – ऐसे दूर रहें वायरल फीवर से…)

अनिद्रा दूर करने में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Insomnia in hindi

अनिद्रा दूर करने में कालमेघ के फायदे - Kalmegh Benefits for Insomnia in hindi

कालमेघ का उपयोग अनिद्रा दूर करने के लिए किया जा सकता है। कालमेघ का रस के सेवन से व्यवहार में महत्वपूर्ण बदलाव आता है जिससे अनिद्रा की सिकायत दूर की जा सकती है

कालमेघ का एक्सट्रेक्ट से प्रेरित पेंटोबर्बिटन ने नींद के समय की लम्बाई को बढ़ाया है और शरीर के तापमान को भी कम कर दिया है।

(और पढ़े – अनिद्रा के कारण, लक्षण और उपचार…)

सामान्य जुखाम में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Common cold in Hindi

सामान्य जुखाम में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Common cold in Hindi

कुछ मानव शोध से पता चलता है कालमेघ का मौखिक उपयोग, सामान्य जुखाम के लक्षणों में सुधार करता है, खासकर जब जुखाम शुरू होने के 72 घंटों के भीतर उपचार शुरू होता है।

(और पढ़े – गले की खराश को ठीक करने के घरेलू उपाय…)

रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने में कालमेघ का उपयोग – Kalmegh Benefits for Immunity in hindi

रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने में कालमेघ का उपयोग - Kalmegh Benefits for Immunity in hindi

 कालमेघ प्रतिरक्षा में वृद्धि कर सकता है। भारतीय शोधकर्ताओं ने एंड्रोग्राफिस पैनिकुलटाटा में तीन डाइटरपीन यौगिकों को देखा उनके अध्ययन में मानव रक्त लिम्फोसाइट्स में प्रसार को देखा इसके अलावा इसने एंटीबॉडी की महत्वपूर्ण उत्तेजना को प्रेरित किया। एंटीबॉडी हमारे शरीर को रोगों से बचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

(और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)

विषाणु संक्रमण में कालमेघ के फायदे – Kalmegh for Viral Infections in hindi

विषाणु संक्रमण में कालमेघ के फायदे - Kalmegh for Viral Infections in hindi

कालमेघ से निकाला गया रस वायरल संक्रमण से पीड़ित लोगों को लाभ पहुंचा सकते हैं। कालमेघ का जलीय अर्क एंटीमाइक्रोबायल गतिविधि दिखाते हैं।

फेरींगोटोंसिलिटिस के साथ 152 रोगियों के एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि कालमेघ (एंड्रोग्राफिस पैनिक्युलता) की उच्च खुराक के प्रभाव बुखार और गले में पेरासिटामोल के सामान तुलनीय थे ।

यूके विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पांच अध्ययनों की समीक्षा की और निष्कर्ष निकाला कि एंड्रोग्राफिस पैनिक्युलता अपरिपक्व ऊपरी श्वसन मार्ग संक्रमण के व्यक्तिपरक लक्षणों को कम करने में सहायक है।

(और पढ़े – अस्थमा (दमा) के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव…)

कालमेघ के फायदे अपचन और हार्टबर्न में – Kalmegh Benefits for Indigestion and Heartburn in hindi

कालमेघ के फायदे अपचन और हार्टबर्न में – Kalmegh Benefits for Indigestion and Heartburn in hindi

एंड्रोग्राफिस (कालमेघ) को आमतौर पर “बिटर के राजा” कहा जाता है। कड़वी जड़ी बूटी आमतौर पर पाचन क्रिया को उत्तेजित करने के लिए फायदेमंद मानी जाती है, और अपचन, एसिड रेफल्स, या कम पेट अम्लता जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल शिकायतों के लक्षणों को बेहतर बनाने में मदद करती है।

मिशिगन मेडिकल का कहना है कि कड़वी जड़ी बूटियों को पेट एसिड और पाचन एंजाइमों के साथ-साथ लार के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। यह पाचन कार्य को उत्तेजित कर सकती है और उन मामलों में लाभ हो सकता है जहां भोजन को ठीक से तोड़ने के लिए अपर्याप्त एसिड मौजूद होता है।

हालांकि, मिशिगन मेडिकल ने चेतावनी दी है कि इस जड़ी बूटी के हार्टबर्न के मामलों में नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं जहां पर यह पेट के एसिड की मात्रा में वृद्धि इसके लक्षणों को बढ़ा सकती है।

(और पढ़े – एसिड रिफ्लक्स के कारण, लक्षण, जांच, इलाज, और परहेज…)

जिगर के लिए कालमेघ चूर्ण के फायदे – Kalmegh churn for Liver health in hindi

जिगर के लिए कालमेघ चूर्ण के फायदे - Kalmegh churn for Liver health in hindi

कालमेघ का सेवन करने से जिगर की सुरक्षा में लाभ हो सकता है कालमेघ के चूर्ण के सेवन से कार्बन टेट्राक्लोराइड जैसे विभिन्न रसायनों से यकृत पर संरक्षण दिखाए गए हैं।

(और पढ़े – लीवर को साफ करने के लिए खाएं ये चीजें…)

घाव ठीक करने में कालमेघ के फायदे – Kalmegh Benefits for Wound in hindi

घाव ठीक करने में कालमेघ के फायदे - Kalmegh Benefits for Wound in hindi

कालमेघ के एक्सट्रेक्ट का घाव के उपचार पर लाभ हो सकता हैं। यह अधिक कोलेजन और सूजन कोशिकाओं में कमी के रूप में काम करता है। साथ ही यह घाव के निशान को भी कम करने में मदद करता है। इसके लिए आपको घाव पर कालमेघ के चूर्ण को कम मात्रा में लागाकर पट्टी करनी है।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

कालमेघ की अनुशंसित खुराक – Recommended dosage of Kalmegh in hindi

एंड्रोग्राफिस पैनिकुलटा (कालमेघ) गोलियों या कैप्सूल के रूप में सामान्य उपयोग के लिए उपलब्ध है, जो इस जड़ी बूटी को लेने का सबसे अच्छा तरीका है।

आप आसानी से इन गोलियों या कैप्सूल को “एंड्रोग्राफिस पैनिकुलटा एक्स्ट्रेक्ट ” लेबल वाले उत्पादों के रूप में पा सकते हैं।

न्यूनतम दैनिक खुराक प्रति दिन 60 मिलीग्राम है, जबकि अधिकतम खुराक 300 मिलीग्राम है। हालांकि, ध्यान रखें कि आप जिस रोग का इलाज कर रहे हैं उसके अनुसार खुराक भिन्न हो सकती हैं।

(और पढ़े – गले की खराश को ठीक करने के घरेलू उपाय…)

कालमेघ के नुकसान (साइड इफेक्ट्स) – Kalmegh ke Nuksan in hindi

कालमेघ के नुकसान (साइड इफेक्ट्स) - Kalmegh ke Nuksan in hindi

आम तौर पर, कालमेघ (एंड्रोग्राफिस पैनिकुलटाटा) के उपयोग ने सकारात्मक परिणाम दिखाए हैं और कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाए हैं। फिर भी, कुछ अध्ययन ऐसे हैं जिनके परिणाम इस जड़ी बूटी के दुष्प्रभावों को बताते हैं।

इस जड़ी बूटी के रस की अत्यधिक कड़वाहट के परिणामस्वरूप उल्टी हो सकती है।

कालमेघ के उपयोग के साथ देखे गये अन्य नुकसानों में शामिल हैं:

  • एलर्जी की प्रतिक्रिया
  • सिरदर्द और थकान
  • गैस्ट्रिक प्रॉब्लम
  • भूख और स्वाद का नुकसान
  • जी मिचलाना
  • दस्त

गर्भावस्था के दौरान इसका इस्तेमाल ना किये जाने की सिफारिश की जाती है।

कालमेघ के दुष्प्रभाव मुख्य रूप से तब उत्पन्न होते हैं जब दैनिक खुराक 1500 मिलीग्राम और उससे अधिक हो जाती है। यदि कम खुराक में उपयोग किया जाता है, तो इस जड़ी बूटी के फायदे दुष्प्रभावों के बिना उत्कृष्ट परिणाम प्रदान करते हैं।

हालांकि, सुरक्षित पक्ष पर होने के लिए कालमेघ (एंड्रोग्राफिस पैनिकुलटा) की खुराक लेने से पहले आपको अपने चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए।

(और पढ़े – अपच या बदहजमी (डिस्पेप्सिया) के कारण, लक्षण, इलाज और उपचार…)

Subscribe for daily wellness inspiration