नवरात्रि में शारीरिक संबंध बनाना कितना सही और कितना गलत – Physical Relation During Navratri allowed or not In Hindi




नवरात्रि में शारीरिक संबंध बनाना कितना सही और कितना गलत – Physical Relation During Navratri allowed or not In Hindi
Written by Daivansh

Lovemaking during Navratri Is allowed or not in Hindi क्या सच में नवरात्र के वक्त शाररिक संबंध बनाना खतरनाक हो सकता? या फिर यह सिर्फ एक टैबू मात्र है. जी हां हम बात कर रहें हैं कि नवरात्र में शारीरिक संबंध बनाना चाहिए या नहीं और यदि नहीं तो क्यों? कुछ लोगों का ऐसा मानना है कि नवरात्र के वक्त सेक्स करने से आपको स्वास्थ्य और आस्था से जुड़े नुकसान हो सकते हैं और इस दौरान सेक्स करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है. लेकिन इसका कोई प्रमाण नहीं है की आखिर ऐसा कैसे हो सकता है बल्कि कुछ रिसर्च में यह बात सामने आई है कि अन्य दिनों की तरह ही नवरात्रि के दौरान सेक्स करने या महिला के साथ शाररिक संबंध रखने से कोई खतरा नहीं है, हां लेकिन अगर आप माँ देवी की अराधना में लगे है तो इस दौरान सेक्स से परहेज जरुर करें.

कई बार लोग इस दौरान इसलिए भी सेक्स नहीं करते क्योंकि उनके दिमाग में एक अलग सा डर बैठ जाता है और कई बार यह डर उनके दिमाग पर इतना ज्यादा हावी होता है कि अगर वह नवरात्रि में शारीरिक संबंध न बनाने के इस नियम को न मानें तो हो सकता है उनके साथ कुछ बुरा हो.

  1. नो सेक्स प्लीज, अभी नवरात्रि चल रही है – No Sex Please, It Is The Navratri In Hindi
  2. नवरात्र में 10 दिन का ब्रेक बढ़ा सकता है पार्टनर के बीच प्यार – Distance Makes The Heart Grow Fonder In Hindi
  3. एक दूसरे का मन बन जाए तो बिल्कुल इंतजार न करें – Do not wait until each other’s mind is made In Hindi
  4. नवरात्र के वक्त सेक्स न करना, ये आपकी मर्जी – Be Aware Of What You Want In Hindi
  5. दिमाग और शरीर को शांत करने के लिए श्रद्धा और भक्ति करें – Have devotion to calm the mind and body In Hindi
  6. मन और शरीर में सात्विक – Sattvic in mind and body In Hindi
  7. इंद्रियों को नियंत्रित करना – Controlling the senses In Hindi
  8. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आप इसे करें या न करें – It does not matter, does it In Hindi
  9. नवरात्रि के दौरान सेक्स को लेकर माता-पिता की चिंता – Parents worry about sex during Navratri In Hindi
  10. नवरात्रि के दौरान सेक्स के पीछे धर्म और विज्ञान – Religion and science behind sex during Navratri In Hindi
  11. नवरात्र के दौरान संयम पालन का यह भी है वैज्ञानिक कारण – This is also the scientific reason for abstinence during Navratri In Hindi
  12. नवरात्रि के लिए नियम – Niyama for Navratri In Hindi

नो सेक्स प्लीज, अभी नवरात्रि चल रही है – No Sex Please, It Is The Navratri In Hindi

नो सेक्स प्लीज, अभी नवरात्रि चल रही है - No Sex Please, It Is The Navratri In Hindi

कोई भी धार्मिक दिन होने पर लोग उस दिन एक अलग नियम का पालन करते हैं। वही लवमेकिंग या सेक्स करने के संवेदनशील विषय भी इसपर लागू होता है। क्या आप नवरात्रों के दौरान सेक्स कर सकते हैं या आपको इससे परहेज करना चाहिए? क्या शास्त्र इसके बारे में कुछ कहते हैं या यह हमारा अपना मन है जो सेक्स को माया के रूप में दर्शाता है?

(और पढ़े – नवरात्रि के दौरान क्‍यों नहीं करना चाहिए सेक्‍स? जानिए पौराणिक महत्व…)

नवरात्र में 10 दिन का ब्रेक बढ़ा सकता है पार्टनर के बीच प्यार – Distance Makes The Heart Grow Fonder In Hindi

नवरात्र में 10 दिन का ब्रेक बढ़ा सकता है पार्टनर के बीच प्यार - Distance Makes The Heart Grow Fonder In Hindi

नवरात्रि के समय अगर आप थोड़े वक्त के ही लिए अपने पार्टनर से शारीरिक दूरी बना लेते हैं तो हो सकता है आप दोनों के बीच प्यार और लगाव बढ़ जाए. कुछ लोग कहते हैं कि कुछ दिनों तक एक दूसरे से अलग रहना प्यार और यौन ऊर्जा को बढ़ाता है इसलिए वास्तव में नवरात्री के इन नौ दिनों शारीरिक सम्बंध में अंतराल देने से आपको इस ऊर्जा का बेहतर उपयोग करने में मदद मिलती है।

एक साधक का कहना है कि नवरात्रि का सेक्स से कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन अगर आप इन दिनों में सेक्स नहीं करने का फैसला करते हैं, तो आप इसे एक ब्रेक के रूप में देख सकते हैं। वह आगे कहते हैं कि इस तरह के ब्रेक से आपसी जुनून को बढ़ाने में मदद मिलेगी। यहां तक कि वह अपनी बात कहने के लिए उर्दू शायरी का भी इस्तेमाल करते हैं: जंग दूरी के बाद मोहब्बत का माज़ा ही कुछ और है।

(और पढ़े – रात में पति और पत्नी के बीच प्यार और शारीरिक संबंध…)

एक दूसरे का मन बन जाए तो बिल्कुल इंतजार न करें – Do not wait until each other’s mind is made In Hindi

एक दूसरे का मन बन जाए तो बिल्कुल इंतजार न करें - Do not wait until each other's mind is made In Hindi

एक और साधू का यह कहना था कि सेक्स मूल रूप से एक वयस्क की शारीरिक जरूरत है, जैसे भूख और नींद। अगर आप दोनों को सेक्स करने का मन करता है, तो इसे करें। लेकिन प्यार करने के बाद किसी भी दोषी भावना को विकसित न करें। यदि आवश्यक हो, तो आप दोनों संभोग के बाद स्नान कर सकते हैं, क्योंकि स्नान हमारे शरीर को शुद्ध करने के लिए है।

(और पढ़े – शारीरिक संबंध बनाने से पहले यौन सहमति क्यों है जरूरी…)

नवरात्र के वक्त सेक्स न करना, ये आपकी मर्जी – Be Aware Of What You Want In Hindi

नवरात्र के वक्त सेक्स न करना, ये आपकी मर्जी - Be Aware Of What You Want In Hindi

नवरात्रि के दौरान सेक्स करना या न करना धर्म से संबंधित नहीं है। नवरात्र के वक्त सेक्स ना करना ये आपकी मर्जी है. इसको धर्म से जोड़ कर ना देखें। लेकिन अगर आपने देवी के दस अवतारों को प्रतिदिन पूजा-अर्चना करने का फैसला किया है, तो आपको सेक्स से बचना चाहिए, क्योंकि इन दस दिनों के दौरान आप जिन देवी-देवताओं की पूजा कर रहे हैं, वे बहुत शक्तिशाली हैं और उनसे शक्ती प्राप्त करने के लिए, शुद्ध जीवनशैली बनाए रखना भी महत्वपूर्ण है।

(और पढ़े – इन बातों से जानें क्या आप सेक्स के लिए तैयार हैं…)

दिमाग और शरीर को शांत करने के लिए श्रद्धा और भक्ति करें – Have devotion to calm the mind and body In Hindi

दिमाग और शरीर को शांत करने के लिए श्रद्धा और भक्ति करें - Have devotion to calm the mind and body In Hindi

नवरात्रि उपवास के साथ जुड़ा हुआ है, मुख्य रूप से क्योंकि यह एक अवधि के रूप में देखा जाता है जब कोई भोजन से दूर रहकर, प्रार्थना, आत्मनिरीक्षण जैसे काम कर परमात्मा पर ध्यान केंद्रित कर सकता है। यह मूल रूप से सभी भौतिक इच्छाओं से अलगाव या उनमें से कुछ पर अंकुश लगाने का मतलब है। इस तर्क से आपको सेक्स से बचना चाहिए क्योंकि इस समय संयम आपकी भक्ति का हिस्सा बन जाता है।

(और पढ़े – जानिए सेक्स करने के फायदे और ना करने के नुकसान…)

मन और शरीर में सात्विक – Sattvic in mind and body In Hindi

मन और शरीर में सात्विक - Sattvic in mind and body In Hindi

हालांकि, कुछ का मानना है कि स्वस्थ रखने के लिए शरीर की नियमित शुद्धि या सफाई आवश्यक है, और इसमें सेक्स न करना भी शामिल है। उपवास और संयम हमारी ऊर्जाओं को सेक्स से दूर और मोक्ष पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगा। ऐसा माना जाता है, केवल शुद्ध शरीर ही शुद्ध विचारों का घर हो सकता है।

(और पढ़े –  मन को काबू कैसे करें…)

इंद्रियों को नियंत्रित करना – Controlling the senses In Hindi

इंद्रियों को नियंत्रित करना - Controlling the senses In Hindi

इन दिनों फास्ट करने के लिए इसलिए भी कहा जाता है ताकि आप अपनी इंद्रियों को कंट्रोल में कर सके. सेक्स पर भी यही सिद्धांत लागू होता है। ऐसे लोग हैं जो सुझाव देते हैं कि इन नौ दिनों सेक्स न करने का यह विचार नौ दिनों तक सेक्स को टालना नहीं है और इसके अंत तक आपको निराश महसूस नही करना है। जिस तरह चिंतन का समय बुरे आचरण और बुरे भाषण से दूर रहने का समय होता है, वैसे ही सेक्स और यौन संबंधों से बचना यौन ऊर्जाओं को कम करने में मदद करता है। कहते हैं जब आपका इंद्रियों पर कंट्रोल होता है तो आपको कोई बाहरी शक्ति नहीं हरा सकती.

(और पढ़े – इन तरीकों से बढ़ाएं अपनी एकाग्रता…)

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आप इसे करें या न करें – It does not matter, does it In Hindi

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आप इसे करें या न करें - It does not matter, does it In Hindi

नवरात्रि के दौरान सेक्स कैसे बुरा हो सकता है? इस बात का निष्कर्ष निकालने के लिए, आपको यह समझना होगा की यह एक स्वाभाविक और सहज आग्रह है जिसे आप महसूस करते हैं। इसके साथ धर्म को मत मिलाओ और इसे गलत मत समझो। लेकिन अगर वास्तव में, आपका साथी लवमेकिंग करने का इच्छुक नहीं है, तो उसकी इच्छाओं का सम्मान करें, क्योंकि धार्मिक विकल्प व्यक्तिगत होते हैं।

अगर आप सेक्स के बाद मंदिर जा सकते हैं तो फिर नवरात्रि के दौरान सेक्स कैसे बुरा हो सकता है?  ऐसे लोग हैं जो मानते हैं कि अगर आप सेक्स के बाद मंदिर जा सकते हैं, तो नवरात्रों के दौरान सेक्स क्यों न करें?

(और पढ़े – इन बातों से जानें क्या आप सेक्स के लिए तैयार हैं…)

नवरात्रि के दौरान सेक्स को लेकर माता-पिता की चिंता – Parents worry about sex during Navratri In Hindi

नवरात्रि के दौरान सेक्स को लेकर माता-पिता की चिंता - Parents worry about sex during Navratri In Hindi

नवरात्रि के त्यौहार के दौरान गरबा और डांडिया के नाम पर, आमतौर पर गरवा डांस आधी रात से शुरू होकर सुबह तक चलते रहने से युवाओं को अधिक आजादी मिलती है, समय का कोई बंधन नहीं होता है और रात भर नाचने और जश्न मनाने में माता-पिता के अवरोधों की कमी होती है, जो कुछ निर्दोष युवाओं के यौन शोषण के रूप में वर्णित किया जा सकता है। इसने ऐसे भयानक अनुपात ग्रहण किए हैं कि भारत के पश्चिमी हिस्सों में माता-पिता अपने किशोर बच्चों की जासूसी करने के लिए निजी जासूसों को नियुक्त कर रहे हैं।

(और पढ़े – नवरात्रि में गरबा करने के फायदे और एक्टिव रहने के लिए खाये जाने वाले आहार…)

नवरात्रि के दौरान सेक्स के पीछे धर्म और विज्ञान – Religion and science behind sex during Navratri In Hindi

नवरात्रि के दौरान सेक्स के पीछे धर्म और विज्ञान - Religion and science behind sex during Navratri In Hindi

नवरात्र को नौ दिनों के दौरान व्रत रखने की मान्यता है। इस दौरान यदि घर में आप या आपकी जीवनसाथी व्रत रखती है तो शारीरिक संबंध बनाने के कारण उनका व्रत भंग हो सकता है। इसका वैज्ञानिक दृष्टिकोण भी है जिसके कारण व्रत रखने से शरीर में उर्जा की कमी होती है जिससे सेक्स करने के लिए साथी मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार नहीं हो पाता है। इसलिए नवरात्रि के इन दिनों संयम रखने की बात को धर्म से जोड़कर देखा जाता है।

(और पढ़े – नवरात्रि क्यों मनाई जाती है और नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण…)

नवरात्र के दौरान संयम पालन का यह भी है वैज्ञानिक कारण – This is also the scientific reason for abstinence during Navratri In Hindi

नवरात्र के दौरान संयम पालन का यह भी है वैज्ञानिक कारण - This is also the scientific reason for abstinence during Navratri In Hindi

साल में आने वाले दोनो नवरात्र के दौरान ऋतु में परिवर्तन होता है। आश्विन नवरात्र के शुरू होने के साथ शीत ऋतु (सर्दियों) का आगमन होता और चैत्र नवरात्र के शुरू होने के साथ ग्रीष्म ऋतु (गर्मियों) का आगमन होता है। इस तरह नवरात्र की शुरुआत को ऋतुओं का संक्रमण काल माना जाता है। ऋषि-मुनियों ने मौसम में होने वाले परिवर्तन  के लिए शरीर को तैयार करने के लिए कुछ नियम बनाये हैं जिसमे व्रत रखना शामिल है ताकि हम अपनी रोग प्रतिरोधी क्षमता विकसित कर शरीर को विकार मुक्त बना सकें। इसके लिए नौ दिनों में व्रत और संयम का नियम बनाया गया है ताकि शरीर मौसम में होने वाले परिवर्तन से आहार और व्यव्हार में हो रहे परिवर्तनों को समझ सके। इसलिए नवरात्र के दौरान व्रत और यौन संबंध से बचने के लिए कहा गया है।

(और पढ़े – सेक्स के बारे में ये 21 बातें आपको जरूर पता होनी चाहिए…)

नवरात्रि के लिए नियम – Niyama for Navratri In Hindi

नवरात्रि के लिए नियम - Niyama for Navratri In Hindi

इसके अलावा, नवरात्रि के लिए कुछ नियम हैं। नवरात्रि के दौरान सेक्स से बचने के लिए कृपया पाँचवाँ भाग देखें:

  1. पूजा स्थल में साफ-सफाई बनाए रखें
  2. नवरात्रि व्रत के दौरान मांसाहारी भोजन करने से बचें।
  3. पूजा के लिए एक समय सारिणी बनाएं और उसका पालन करें।
  4. जितना संभव हो मनोरंजन और अन्य मनोरंजक गतिविधियों से बचें।
  5. नवरात्रि के दौरान मैथुन या यौन गतिविधियों से बचें।
  6. दान नवरात्रि का मुख्य पहलू है। जितना हो सके दान-पुण्य करें।
  7. भोजन दान इस पूजा का मुख्य पहलू है। एक कन्या या सुहासिनी को खिलाना चाहिए।
  8. जितना संभव हो सके उतना ज्यादा समय देवी प्रतिष्ठा में बिताएं।

हिंदू धर्म के अलावा, अन्य धर्मों में भी यौन नैतिकता पर एकनियम है, हालांकि यह धार्मिक मान्यताओं से संबंधित नहीं हो सकता है। कैथोलिक चर्च सिखाता है कि मानव जीवन और मानव कामुकता अविभाज्य और पवित्र हैं। कैथोलिक चर्च सिखाता है कि मानव शरीर और सेक्स को अच्छा होना चाहिए। चर्च पति-पत्नी के बीच प्रेम की अभिव्यक्ति को मानवीय गतिविधि का एक उन्नत रूप मानता है, क्योंकि यह पति-पत्नी के बीच परस्पर आत्म-सहयोग की भावना उत्पन्न करता है और नए जीवन के लिए उनके रिश्ते को खोलता है। कैथोलिक चर्च को कुछ अलग तरह के सेक्स से आपत्ति है जब यह उन मामलों में होता है, जिसमें संस्कारिक विवाह के बाहर यौन क्रिया की मांग की जाती है, या जिसमें विवाह के बाद यौन सहमती के बिना ही शरीरिक संबंध बनाये जाते हैं।

आपको ये भी जानना चाहिये –

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration