नवरात्रि क्यों मनाई जाती है और नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण – Why is Navratri celebrated and scientific reasons behind Navratri in Hindi

नवरात्रि क्यों मनाई जाती है और नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण - Why is Navratri celebrated and scientific reasons behind Navratri in Hindi
Written by Anamika

Navratri in Hindi नवरात्रि एक हिंदू त्योहार है जो नौ रातों (और दस दिनों) तक चलता है और हर साल सितंबर और अक्टूबर के महीने में मनाया जाता है। यह शक्ति और पवित्रता का प्रतीक देवी दुर्गा को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है। नवरात्रि व्रत लगातार नौ दिनों तक चावल, गेहूं और दालों जैसे अनाज से बचने और उपवास करने के लिए प्रसिद्ध है। इस लेख में आप जानेंगें नवरात्रि क्या होती है, नवरात्रि कब मनायी जाती है, नवरात्रि क्यों मनाई जाती है, साल में नवरात्रि कितनी बार मनायी जाती है, नवरात्रि में दुर्गा के कितने रुपों की पूजा होती है, नवरात्रि के नौ दिन और नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण के बारे में।

भारत पर्वों का देश है और यहां अलग अलग ऋतु में अलग अलग त्योहार पड़ते रहते हैं। नवरात्रि भी एक ऐसा त्योहार है जो शरद ऋतु में पड़ती है। इस दौरान चारों तरफ भक्तिमय माहौल रहता है और हर ओर देवी के जयकारे सुनायी देते हैं। चूंकि यह नवरात्रि मां दुर्गा से संबंधित होती है इसलिए इसे बहुत शुभ और पवित्र माना जाता है। माता के भक्त नौ दिनों का उपवास रखकर पूरे भक्तिभाव से नवरात्रि मनाते हैं और सुख समृद्धि की कामना करते हैं। नवरात्रि को लेकर कई कहानियां प्रचलित हैं लेकिन इसके बावजूद कई लोगों को यह नहीं मालूम है कि वास्तव में नवरात्रि क्यों मनायी जाती है और नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण क्या है। इस आर्टिकल में हम इसके बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

1.नवरात्रि क्या है – What is Navratri in Hindi
2. नवरात्रि कब मनायी जाती है – Navratri kab manayi jati hai in Hindi
3. साल में नवरात्रि कितनी बार मनायी जाती है – Navratri kitni baar manayi jati hai in Hindi
4. नवरात्रि क्यों मनायी जाती है – Why we celebrate Navratri in Hindi
5. नवरात्रि में दुर्गा के कितने रुपों की पूजा होती है – Navratri mein durga ke kitne roopo ki pooja hoti hai in Hindi
6. नवरात्रि के नौ दिन – Nine days of Navratri in Hindi
7. नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण – Scientific reasons behind Navratri in Hindi

नवरात्रि क्या है – What is Navratri in Hindi

नवरात्रि क्या है - What is Navratri in Hindi

नवरात्रि हिंदू धर्म का एक प्रमुख त्योहार है जो प्रत्येक वर्ष बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। नवरात्रि नौ रातों और दस दिनों की होती है। इस दौरान आदि शक्ति मां दुर्गा की आराधना की जाती है और देश भर में विभिन्न स्थानों पर पूजा पांडालों में दुर्गा की प्रतिमा स्थापित करके पूजा की जाती है। नवरात्रि को दुर्गा पूजा भी कहा जाता है और पश्चिम बंगाल सहित देश के कई अन्य भागों में इसका बहुत अधिक महत्व है।

(और पढ़े – नवरात्रि में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए…)

नवरात्रि कब मनायी जाती है – Navratri kab manayi jati hai in Hindi

नवरात्रि प्रत्येक वर्ष शरद ऋतु में मनायी जाती है। वैसे तो वर्ष में कुल दो नवरात्रि पड़ती है लेकिन शरद ऋतु में मनायी जाने वाली नवरात्रि का बहुत ज्यादा महत्व होता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार नवरात्रि अश्विन मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से महानवमी तक मनायी जाती है। इसे शारदा नवरात्रि, शारदीय नवरात्र, आदिशक्ति दुर्गा पूजा के नाम से भी जाना जाता है। ग्रिगेरियन कैलेंडर के अनुसार शारदा नवरात्रि प्रत्येक वर्ष सितंबर या अक्टूबर माह में पड़ती है। जबकि चैत्र नवरात्र मार्च या अप्रैल में मनायी जाती है।

(और पढ़े – एक्सपर्ट के अनुसार नवरात्रि व्रत में इन चीजों को खानें से बचें…)

साल में नवरात्रि कितनी बार मनायी जाती है – Navratri kitni baar manayi jati hai in Hindi

हिंदू ग्रंथों और वैष्णव पुराण के अनुसार वरात्रि वर्ष में दो या चार बार मनायी जाती है। लेकिन इसमें से शारदा नवरात्रि और वसंत या चैत्र नवरात्रि ही मुख्य होती है। शारदा नवरात्रि आश्विन मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से महानवमी तक और चैत्र नवरात्रि विक्रम संवत के पहले दिन अर्थात चैत्र मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक मनायी जाती है। इन दोनों में शारदीय नवरात्रि को अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है।

(और पढ़े – नवरात्र व्रत के दौरान कौन से पेय पदार्थों का सेवन करें…)

नवरात्रि क्यों मनायी जाती है – Why we celebrate Navratri in Hindi

नवरात्रि नौ दिनों का त्योहार है और इसे पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। हालांकि नवरात्रि मनाने के पीछे दो कहानियों का जिक्र किया जाता है। नवरात्रि को बुराई पर अच्छाई की विजय के रुप में भी मनाया जाता है। देश के उत्तरी और पश्चिमी भागों में मान्यता है कि राम ने रावण को हराकर विजय प्राप्त की थी। इसी उपलक्ष्य में नवरात्रि मनायी जाती है। पुराणों के अनुसार रावण जब माता सीता का हरण करके ले गया था तब भगवान राम ने रावण से युद्ध करके उसका वध कर दिया था। राम और रावण का अंतिम युद्ध दशमी के दिन हुआ था और उसी दिन रावण मारा गया था। नवरात्रि में नौ दिनों तक रामायण का पाठ किया जाता है और रामलीला का मंचन आयोजित होता है। दसवें दिन रावण का पुतला जलाकर दशहरा मनाया जाता है।

भारत के पूर्वी और पूर्वोत्तर राज्यों में नवरात्रि उत्सव का मुख्य कारण यह माना जाता है कि शेर पर सवार होकर महिषासुर नामक राक्षस का वध किया था और देवताओं की रक्षा की थी। इसी के उपलक्ष्य में नवरात्रि मनायी जाती है और आदि शक्ति दुर्गा की नौ दिनों तक आराधना की जाती है।

(और पढ़े – नवरात्रि में गरबा करने के फायदे और एक्टिव रहने के लिए खाये जाने वाले आहार…)

नवरात्रि में दुर्गा के कितने रुपों की पूजा होती है – Navratri mein durga ke kitne roopo ki pooja hoti hai in Hindi

नवरात्रि में दुर्गा के कितने रुपों की पूजा होती है - Navratri mein durga ke kitne roopo ki pooja hoti hai in Hindi

प्रत्येक वर्ष नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। प्रत्येक दिन अलग अलग देवियों की आराधना होती है और उन्हें चढ़ावा चढ़ाया जाता है। आइये जानते हैं नवरात्रि के पहले दिन से लेकर नौवें दिन तक दुर्गा के किन रुपों की पूजा की जाती है।

  • नवरात्रि के पहले दिन शैलपुत्री की पूजा की जाती है।
  • दूसरे दिन ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है।
  • शारदीय नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है।
  • चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है।
  • पांचवें दिन स्कंद माता, छठें दिन कात्यायनी, सातवें दिन कालरात्रि, आठवें दिन माता गौरी, नवें दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है।

माता के इन विभिन्न रुपों में अलग अलग शक्तियां विराजमान होती हैं। लोग प्रत्येक दिन अलग अलग रंग के वस्त्र धारण करके और विभिन्न प्रकार की पूजा सामग्री के साथ मां के इन सभी रूपों को प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं।

(और पढ़े – नवरात्रि व्रत में खाएं इस तरह के आहार रहेंगे स्वस्थ्य…)

नवरात्रि के नौ दिन – Nine days of Navratri in Hindi

  • पहला दिन : शैलपुत्री
  • दूसरा दिन : ब्रह्मचारिणी
  • तीसरा दिन : चंद्रघंटा
  • चौथा  दिन : कुष्मांडा
  • पांचवा दिन : स्कंदमाता
  • छटवां दिन : कात्यायनी
  • सातवां दिन : कालरात्रि
  • आठवां दिन : महागौरी
  • नौवां दिन : सिद्धिदात्री

(और पढ़े – नवरात्र में हेल्दी और फिट रहने के टिप्स…)

नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण – Scientific reasons behind Navratri in Hindi

नवरात्रि के पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि जब दो ऋतुओं का समागम होता है तो दोनों नवरात्रि इसी ऋतु के बीच पड़ती है। इसे ऋतु संधिकाल कहा जाता है और सेहत के लिए इसका बहुत महत्व है। पुराणों के अनुसार संधिकाल में वात, कफ और पित्त घट जाता है और व्यक्ति की इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है जिसके कारण तमाम तरह की बीमारियां शरीर में घर करने लगती हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए नौ दिनों की नवरात्रि का व्रत रखकर माता की भक्ति करना फलदायी माना जाता है। इस दौरान शरीर का शुद्धिकरण भी हो जाता है। इसके अलावा एक और वैज्ञानिक तर्क यह दिया जाता है कि नवरात्रि की नौ रातें बहुत शुभ होती हैं और इस दौरान प्रकृति के सभी अवरोध खत्म हो जाते हैं। यही कारण है कि संधिकाल में नवरात्रि मनायी जाती है।

हिंदू धर्म का बहुत पवित्र और धार्मिक पर्व होने के कारण नवरात्रि में लोग पूरे श्रद्धाभाव से एकजुट होकर इस पर्व को हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। नवरात्रि हमारी संस्कृति का भी परिचायक है और इसके वैज्ञानिक कारण भी काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

(और पढ़े – नवरात्रि में वजन घटाने के लिए डाइट प्लान और आहार…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration