निम्न रक्तचाप के लिए योग – Yoga For Low Blood Pressure In Hindi

निम्न रक्तचाप के लिए योग - Yoga For Low Blood Pressure In Hindi
Written by Hemant

निम्न-रक्तचाप में सुधार हेतु योग: निम्न रक्तचाप के लिए योग बहुत ही लाभदायक होता हैं। निम्न रक्तचाप या हाइपोटेंशन एक शारीरिक स्थिति है जिसमें रक्तचाप का स्तर 90/60 मिमी Hg से कम हो जाता है। डॉक्टरों का मानना ​​है कि निम्न रक्तचाप तब तक हानिकारक नहीं है जब तक कि यह चक्कर आना, बेहोशी और सदमे जैसे लक्षण दिखाई न दें। हाइपोटेंशन के कुछ अन्य लक्षणों में सिरदर्द, सीने में दर्द, दौरे पड़ना, लंबे समय तक दस्त और उल्टी शामिल हैं। निम्न रक्तचाप, एनीमिया, पोषण की कमी, हृदय की समस्याओं और कुछ लोगों को हार्मोनल परिवर्तन जैसे विभिन्न कारणों से हो सकता है। गंभीर मामलों में इससे मस्तिष्क और अन्य महत्वपूर्ण अंगों को ऑक्सीजन की आपूर्ति और पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। एक संतुलित आहार  और योग रक्तचाप के स्तर को सामान्य करने की आसान प्रक्रिया है।

निम्न रक्तचाप उच्च रक्तचाप से अधिक खतरनाक हो सकता है। यह अधिक परेशानी का कारण बन सकता है, क्योंकि इसके पीड़ित व्यक्ति को चक्कर आना, थकान, कमजोरी, भटकाव की भावना होती हैं। अक्सर, भावनात्मक स्थिति में, निम्न रक्तचाप से पीड़ित लोग भी अवसाद या चिंता से पीड़ित हो सकते हैं। योग जैसे शारीरिक व्यायाम का नियमित अभ्यास शरीर में रक्त के प्रवाह में सुधार कर सकता है और निम्न रक्तचाप को कम करता है। निम्न रक्तचाप से लड़ने के लिए योग आपको नियमित रूप से करने की आवश्यकता है। निम्न बीपी रोगियों के लिए योग में कुछ आसन और प्राणायाम निम्न हैं।

  1. लो ब्लड प्रेशर के लिए योग – Yoga for low blood pressure in Hindi
  2. निम्न-रक्तचाप के लिए प्राणायाम – Pranayama Yoga for low blood pressure in Hindi

लो ब्लड प्रेशर के लिए योग – Yoga for low blood pressure in Hindi

लो ब्लड प्रेशर या हाइपोटेंशन के रोगियों के लिए निम्न योग आसन और प्राणायाम को करने की सलाह दी जाती है जो लो ब्लड प्रेशर को सामान्य करने में आपकी मदद कर सकते है। इन आसन को करने से आपकी लो ब्लड प्रैशर की समस्या तो दूर होगी ही साथ ही इससे कई और हेल्थ प्रॉब्लम्स भी दूर हो जाएगी।

निम्न रक्तचाप के लिए योग अधोमुख श्वान आसन – Adho Mukha Svanasana Yoga for low blood pressure in Hindi

निम्न रक्तचाप के लिए योग अधोमुख श्वान आसन - Adho Mukha Svanasana Yoga for low blood pressure in Hindi

अधोमुख श्वान आसन या डाउनवर्ड फेसिंग डॉग (Downward Facing dog) रक्त के परिसंचरण को विशेष रूप से ऊपरी रीढ़ के क्षेत्र में उत्तेजित करता है। यह योग मस्तिष्क को शांत करता है और थकान के शरीर से छुटकारा दिलाता है। इसलिए इस योग को करने से लो ब्लड प्रैशर की समस्या दूर हो जाती है। यह सामान्य रूप से आपको स्वस्थ बनाने के साथ आपके कोर को मजबूत बनाने में मदद करता है। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को बिछा के उस पर सीधे खड़े हो जाएं। अपने दोनों पैरों के बीच में थोड़ा सा अंतर रखें। अब आगे की ओर झुकते जाएं अपने दोनों हाथों को जमीन पर रखे।

दोनों पैरों को हाथों से दूर करें जिससे आपके हाथ और रीढ़ की हड्डी एक सीधी रेखा में आ जाएं। इसमें आपके पैर और सीने के बीच 90 डिग्री का कोण बनेगा। अधोमुख श्वान आसन को दो-तीन मिनिट के लिए करें। शुरुआत में केवल कुछ सेकंड के लिए अभ्यास करें और धीरे-धीरे समय बढ़ाएं।

(और पढ़े – अधोमुख श्वानासन के फायदे और करने का तरीका…)

निम्न-रक्तचाप में सुधार हेतु योग उत्तानासन – Uttanasana yoga for low blood pressure in Hindi

निम्न-रक्तचाप में सुधार हेतु योग उत्तानासन - Uttanasana yoga for low blood pressure in Hindi

उत्तानासन योग को पादहस्तासन योग के नाम से भी जाना जाता हैं। इस आसन को करने में शरीर के ऊपरी हिस्से में रक्त अच्छी तरह से फैलता है। इस योग को नियमित रूप से करने से हृदय मजबूत होता है। यह योग मस्तिष्क को रक्त के प्रवाह में सुधार करता है इसके साथ ही यह चक्कर आना और थकान को कम करता है। उत्तानासन करने से निम्न रक्तचाप आपके दिल को कभी भी नुकसान नहीं पहुंचा पाएगा। इसके लिए आप बस सुनिश्चित करें कि आप अपने आप को तनाव ना दें। उत्तानासन करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं।

अपने दोनों पैरों को पास-पास रखें और अपने दोनों हाथों को ऊपर सीधा कर लें। अब धीरे-धीरे सामने को ओर कमर से नीचे झुकते जाएं और अपने दोनों हाथों से पैर के पंजों को छूने की कोशिश करें। इस आसन में आप 60 से 90 सेकंड के लिए रहें फिर आसन से बाहर आयें।

(और पढ़े – उत्तानासन (हस्तपादासन) करने का तरीका और फायदे..)

लो बीपी के लिए योग शिशुआसन – Low BP ke liye yoga Child’s Pose in Hindi

लो बीपी के लिए योग शिशुआसन - Low BP ke liye yoga Child’s Pose in Hindi

शिशुआसन बालासन योग के नाम से भी जाना जाता है। इस आसन को आप लंबे समय तक आसानी से कर सकते हैं। यह आसन शरीर को तनाव और थकान से छुटकारा दिलाता है और मस्तिष्क को शांत करता है। इस योग से निम्न रक्तचाप को नियंत्रित करने की इसकी क्षमता होता हैं। इस योग आसन को करने के लिए सबसे पहले आप किसी योगा मैट पर वज्रासन में या घुटने टेक के बैठ जाएं। अपने हिप्स को अपनी एड़ियों पर रखें, साँस को अंदर की ओर लें और अपने दोनों हाथों को सीधा ऊपर की ओर रखें, इसमें अपनी हथेली को खुली रखें तथा उंगलियों को सीधा रखना हैं।

साँस को बाहर की ओर छोड़ते हुयें शरीर के ऊपर के हिस्से को को धीरे-धीरे फर्श पर झुकाते जाएं और अपने माथे (सिर) को जमीन पर रख दें। इसमें आपके दोनों हाथ भी फर्श पर सीधे रहेंगे। इस आसन को कम से कम 1 से 3 मिनिट तक करें।

(और पढ़े – बालासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

पवनमुक्तासन योग फॉर लो ब्लड प्रेशर – Pawanmuktasana Yoga for low blood pressure in Hindi

पवनमुक्तासन योग फॉर लो ब्लड प्रेशर - Pawanmuktasana Yoga for low blood pressure in Hindi

पवनमुक्तासन निम्न रक्तचाप को अपने सामान्य प्रवाह में वापस लाने के लिए एक आसान और प्रभावी मुद्रा है। पवनमुक्तासन योग में रहने के दौरान गर्दन उठाना आपके लिए थोड़ा चुनौतीपूर्ण हो सकता है। लेकिन यह कुछ समय बाद आसान हो जाएगा। यह योग रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है और पीठ के निचले हिस्से में तनाव को कम करता है। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को बिछा के उस पर सीधे लेट जाएं। अपने दोनों पैर को घुटने से मोड़ें और घुटने को अपने मुँह की ओर कर लें। अपने कंधों को ऊपर उठायें, अपनी नाक से घुटने को छूने का प्रयास करें। इस आसन को आप 10 से 60 सेकंड के लिए करने का प्रयास करें।

(और पढ़े – पवनमुक्तासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

लो ब्लड प्रैशर के लिए योग सर्वांगासन – Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) for low BP in Hindi

लो ब्लड प्रैशर के लिए योग सर्वांगासन - Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) for low BP in Hindi

इस योग को अच्छे से करने के लिए आपको धैर्य और अभ्यास की अधिक आवश्यकता होती है। अपने कंधों पर खड़े रहने के लिए कुछ ताकत, संतुलन और लचीलापन (गर्दन में) महत्वपूर्ण है। सर्वांगासन शरीर को कई लाभ देता है जिसमें निम्न रक्तचाप का समाधान भी शामिल है। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट के सीधे पीठ के बल लेट जाएं। अपने दोनों हाथों को सीधा रखें। अब अपने दोनों पैरों को कमर के यहाँ से मुड़े और उनकों ऊपर करें। इसके बाद अपने दोनों हाथों से पीठ को सहारा देते हुए उठायें।

अपने पैरों को अधिकतम ऊंचाई तक ऊपर करें। इस स्थिति में आपकी रीड की हड्डी और आपके पैर एक सीधी रेखा में रहनी चाहियें। आपके शरीर का पूरा वजन कन्धों पर होगा और दोनों हाथ पीठ को ऊपर की ओर सीधा रखने में सहायता करेगें। इस आसन में आपको कम से कम 30 सेकंड तक रुकना हैं उसेक बाद पैरों को नीचे करते हुए अपनी प्रारंभिक अवस्था में आना हैं। इस आसन का अभ्यास दिन में 3 से 5 बार करने से आपकी त्वचा को फुंसी, मुंहासे, झुर्रियों और रूखेपन से छुटकारा मिलेगा।

(और पढ़े – सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे…)

निम्न रक्तचाप के लिए योग शवासन – Savasana Yoga for low blood pressure in Hindi

निम्न रक्तचाप के लिए योग शवासन - Savasana Yoga for low blood pressure in Hindi

शवासन योग को सभी योग आसन करने के बाद किया जाता है क्योंकि यह विश्राम मुद्रा है। यह थकान को दूर करता है और उत्साह के साथ दिन की शुरुआत करने के लिए शरीर को सक्रिय करता है। अपना अभ्यास पूरा करने के लिए शवासन योग में कम से कम एक मिनट के लिए आराम करें। इस आसन को करने के लिए आप एक योगा मैट को फर्श पर बिछा के उस पर पीठ के बल लेट जाएं। अपने दोनों पैरों और हाथों को सीधा रखें। अब अपने दोनों पैरों के बीच में 1.5 से 2 फिट की दूरी रखें। अपने दोनों हाथों को शरीर से 40 डिग्री पर रखें और हथेलियों को ऊपर की ओर रखें। शवासन में आप अपनी क्षमता के अनुसार रह सकते है। शवासन मुद्रा का अर्थ सोना नहीं हैं बस आपको ऑंखें बंद रखना हैं।

(और पढ़े – शवासन योग करने के फायदे और तरीका…)

लो ब्लड प्रेशर के लिए प्राणायाम – Pranayama Yoga for low blood pressure in Hindi

निम्न रक्तचाप या हाइपोटेंशन को कम करने में प्राणायाम भी आपकी मदद कर सकते हैं। यदि आप लो ब्लड प्रेशर के रोगी हैं तो आपको निम्न प्राणायाम को करना चाहिए।

निम्न रक्तचाप के लिए योग भस्त्रिका प्राणायाम – Bhastrika Pranayama Yoga for low blood pressure in Hindi

निम्न रक्तचाप के लिए योग भस्त्रिका प्राणायाम - Bhastrika Pranayama Yoga for low blood pressure in Hindi

निम्न रक्तचाप से पीड़ित लोगों के लिए भस्त्रिका प्राणायाम एक प्रभावी श्वास योग है। इसके अभ्यास से शरीर को सभी विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। फेफड़े मजबूत बनते हैं और आप भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास करके शरीर को ऑक्सीजन की प्रचुर आपूर्ति प्राप्त करते हैं। योग करने से पहले इसका अभ्यास करें। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को जमीन पर बिछा के पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं। अपनी आँखों को बंद कर लें और अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। कुछ देर ध्यान की मुद्रा में बैठे और तर्जनी को अंगूठे से मिलाएं।

अब एक गहरी साँस अन्दर लें और फिर बलपूर्वक उसके बाहर निकालें। फिर से बलपूर्वक अन्दर की ओर साँस लें और फिर से बलपूर्वक उसे बाहर निकले। इस भस्त्रिका प्राणायाम को कम से कम 21 बार करें।

(और पढ़े – भस्त्रिका प्राणायाम करने की विधि और फायदे…)

कपालभाति प्राणायाम के फायदे लो बीपी में – Kapalbhati Pranayama ke fayde low BP me in Hindi

कपालभाति प्राणायाम के फायदे लो बीपी में - Kapalbhati Pranayama ke fayde low BP me in Hindi

निम्न रक्तचाप से लड़ने के लिए प्राणायाम योग तैयार है, यह साँस लेने की तकनीक रक्त परिसंचरण में सुधार करती है और मस्तिष्क को शांत करती है। निम्न रक्तचाप को सामान्य करने के लिए यह अच्छा योग है। इस प्राणायाम को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को जमीन पर बिछाकर पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं। अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रखे और ध्यान की मुद्रा में बैठे। साँस अन्दर को ओर ले अब साँस को बाहर छोड़ते हुए पेट को अन्दर की ओर इस प्रकार खींचे की पेट और पीठ आपस में मिल जाएं। फिर साँस को अन्दर ले ओर पेट को ढीला करें। यह क्रिया फिर से दोहराहएं। कपालभाति प्राणायाम को पांच मिनट तक लगातार दोहराएं।

(और पढ़े – कपालभाति करने का तरीका और लाभ…)

लो बीपी के लिए योग सूर्यभेदी प्राणायाम – Suryabhedi Pranayama Yoga for low blood pressure in Hindi

लो बीपी के लिए योग सूर्यभेदी प्राणायाम - Suryabhedi Pranayama Yoga for low blood pressure in Hindi

सूर्यभेदी प्राणायाम मन को नियंत्रित करने में मदद करता है और सांस लेने की दर को धीमा करता है। जैसे ही ऑक्सीजन प्रवेश करती है और विषाक्त पदार्थ शरीर से बाहर निकलते हैं। यह दिमाग को शांत करता है जिससे सिर ठंडा रहता है और चक्कर नहीं आते हैं। यह एक उन्नत प्राणायाम है इसे योग शिक्षक के मार्गदर्शन में किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – हाई बीपी के लिए योग करने का तरीका और फायदे…)

निम्न रक्तचाप से लड़ने के लिए योग का उपयोग करते समय, कुछ विवरणों को याद रखने की आवश्यकता होती है: आपको नियमित रूप से योग करते रहने की आवश्यकता है, एक गतिशील तरीके से योग मुद्राएं करें, अपने सीखने को तब तक चरणबद्ध करें जब तक आपका शरीर अधिक चुनौतीपूर्ण पदों के लिए सहनशक्ति प्राप्त नहीं कर लेता। और निम्न रक्तचाप से लड़ने के लिए योग अभ्यास के एक बड़े हिस्से के रूप में प्राणायाम और ध्यान को शामिल करें।

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration