सुखासन करने का तरीका और फायदे – Sukhasana (Easy Pose) steps and benefits in Hindi

सुखासन करने का तरीका और फायदे - Sukhasana (Easy Pose) steps and benefits in Hindi
Written by Shivam

Sukhasana yoga in Hindi सुखासन सभी उम्र के लोगों के लिए बहुत ही कल्याणकारी योगासन हैं। यह योग के सभी आसन में सबसे सरल आसन हैं। दुनियाभर के सभी लोग सुखासन जैसे क्रॉस पैर वाली स्थिति में बैठते हैं। सुखासन में आपको अन्दर गेहराई में खींचने की शक्ति होती हैं जो कि ध्यान लगाने में मदद करती हैं। यह स्थिति आपको आराम और आनंद देती हैं। सुखसाना में एक संपूर्ण आंतरिक जीवन है जिसे आप अभ्यास के साथ खोज लेंगे। यह आसन आपके दिमाग को शांत और स्वस्थ भी रखता हैं। आइये सुखासन को करने के तरीके और इससे होने वाले लाभ को विस्तार से जानते हैं।

1. सुखासन क्या हैं  – What is Sukhasana in Hindi
2. सुखासन करने का तरीका – Sukhasana Step (Easy Pose) in Hindi
3. सुखासन के फायदे – Benefits Of The Sukhasana in Hindi

4. सुखासन के अन्‍य लाभ – Other Health Benefits of Sukhasana in Hindi
5. सुखासन करने में क्या सावधानी बरती जाए – Precautions to do Sukhasana (Easy Pose) in Hindi

सुखासन क्या हैं  – What is Sukhasana in Hindi

सुखासन क्या हैं  – What is Sukhasana in Hindi

सुखासन एक संस्कृत का शब्द हैं जो कि “सुखम” से बना हैं। जिसका अर्थ “खुसी” या “आनंद” होता हैं। इसे अंग्रेजी में “इजी पोज़ (Easy Pose), डीसेंट पोस (Decent Pose) या प्लेज़ेंट पोस (Pleasant Pose)” के नाम से भी जाना जाता हैं। जब कोई भी व्यक्ति योग को करना प्रारंभ करता हैं तो सबसे पहले उसे सरल योग से शुरुआत करनी चाहिए। क्योंकि एक नौसिखिया के रूप में आप उन्नत आसन का प्रयास करने के लिए सक्षम नहीं हैं। सर्वियोगा (SARVYOGA), योग को सीखने के लिए हर किसी का स्वागत करता है ताकि लोग प्रभावी तरीके से योग सीख सके। आइये इस आसन को करने के तरीके को विस्तार से जानते हैं।

(और पढ़े – योग क्‍या है योग के प्रकार और फायदे हिंदी में…)

सुखासन करने का तरीका – Sukhasana Step (Easy Pose) in Hindi

सुखासन करने का तरीका - Sukhasana Step (Easy Pose) in Hindi

सुखासन को करना सबसे आसान हैं, जिन लोगों को पद्मासन में बैठने में कठिनाई होती हैं वो सुखासन को कर सकते है। आइये सुखासन की विधि को स्टेप वाई स्टेप जानते हैं-

  • सुखासन को करने के लिए आप सबसे पहले फर्श पर योगा मेट को बिछा के पैरों को सीधे करके बैठ जाएं।
  • एक दो लम्बी साँस लें, और अपनी रीढ़ के हड्डी को सीधा रखें।
  • फिर बाएं पैर को मोड़े और दाएं पैर की जांघ पर या दायं पैर के घुटने के नीचे रखें जिसमे आपको आसानी हों।
  • अब दाएं पैर को मोड़ें और बाएं पैर की जांघ के नीचे या अपने बाएं पैर के घुटने के नीचे रखें।
  • अपने सिर और गर्दन पर बिना किसी प्रकार का खिचाव बनायें सीधा रखें।
  • अपने दोनों हाथों को ध्यान की मुद्रा में घुटनों पर रखें।
  • अपने शरीर को आरामदायक स्थिति में रखें।
  • अब आंखे बंद कर लें और पूरे शरीर को ढीला रखें।
  • इस आसन को आप 10-12 मिनिट या अपनी क्षमता के अनुसार करें।

(और पढ़े – पद्मासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां…)

सुखासन के फायदे – Benefits Of The Sukhasana in Hindi

  1. सुखासन करने के फायदे शांति दिलाएं – Sukhasana yoga benefits for relax body in Hindi
  2. सुखासन के लाभ कूल्‍हों को फैलाने में – Sukhasana yoga benefits for Unlock the hips in Hindi
  3. सुखासन मुद्रा का उपयोग घुटनों को मजबूत करे – Use sukhasana yoga for strengthen knees in Hindi
  4. सुखासन के फायदे एड़ी दर्द का इलाज करे – Benefits of Sukhasana to treat heel pain in Hindi
  5. सुखासन करने के लाभ करे तनाव को दूर – Sukhasana Benefits for stress in Hindi

सुखासन करने के अनेक लाभ हैं आइये इसके लाभ को विस्तार से जानते हैं –

सुखासन करने के फायदे शांति दिलाएं – Sukhasana yoga benefits for relax body in Hindi

सुखासन करने के फायदे शांति दिलाएं - Sukhasana yoga benefits for relax body in Hindi

लगभग सभी प्रकार के योग आपके शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद होते हैं। लेकिन सुखासन योग के लाभ आपको शारीरिक और मानसिक रूप से आराम दिलाने में मदद करते हैं। जब भी आप इस मुद्रा का उपयोग करते हैं तो आपको निश्चित ही शांतिदायक अनुभव प्राप्‍त होता है। सुखासन योग का उपयोग आप अपने तनाव को कम करने के लिए कर सकते हैं। सुखासन की स्थिति में बैठते हुए आप अपनी सांसों को नियंत्रित करें और आपनी इच्‍छानुसार किसी मंत्र का उच्‍चारण करें। यह आपके ध्‍यान को केंद्रित करने का सबसे आसान योग है। इस तरह से आप सुखासन योग के लाभ मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कर सकते हैं।

(और पढ़े – मन की शांति के उपाय हिंदी में…)

सुखासन के लाभ कूल्‍हों को फैलाने में – Sukhasana yoga benefits for Unlock the hips in Hindi

सुखासन के लाभ कूल्‍हों को फैलाने में - Sukhasana yoga benefits for Unlock the hips in Hindi

जो लोग अपने कूल्‍हों को बड़ा करना चाहते हैं उनके लिए सुखासन बहुत ही फायदेमंद योग हो सकता है। आप अपने कूल्‍हों को बड़ा करने के लिए नियमित रूप से प्रतिदिन सुखासन मुद्रा का उपयोग कर सकते हैं। इस दौरान आपको प्रतिदिन 5 से 10 मिनिट तक इस मुद्रा में बैठना चाहिए। इस योग को करने से आपके पैरों और कूल्‍हों में खिंचाव होता है। यदि आपको इस मुद्रा में बैठने में दिक्‍कत होती है तो आप अपने पैरों के घुटने के नीचे तकिया या अन्‍य कोई वस्‍तु रखें ताकि गुरुत्‍वाकरर्षण आपके कूल्‍हों को फैलाने में मदद करे। इस तरह से आप सुखासन मुद्रा के साथ अपने कूल्‍हों को बड़ा कर सकते हैं।

(और पढ़े – हिप्स को मोटा करने के टिप्स…)

सुखासन मुद्रा का उपयोग घुटनों को मजबूत करे – Use sukhasana yoga for strengthen knees in Hindi

सुखासन मुद्रा का उपयोग घुटनों को मजबूत करे - Use sukhasana yoga for strengthen knees in Hindi

यदि आप अपने घुटनों को मजबूत करना चाहते हैं तो सुखासन इसमें आपकी मदद कर सकता है। क्‍योंकि इस योग को करने के दौरान आपके पैरों के घुटनों में अत्‍यधिक दबाव पड़ता है। जिसके परिणामस्‍वरूप पैरों के घुटनों की सहन शक्ति और क्षमता में वृद्धि होती है। यह योग विशेष रूप से उन लोगों के लिए फायदेमंद होता है जो लंबे समय तक गाड़ी चलाते हैं या पूरे दिन कुर्सी में बैठकर काम करते हैं। इस तरह से व्‍यस्‍त जीवन शैली वाले लोगों को सुखासन के लिए दिन में कम से कम 10 मिनिट का समय निकालना चाहिए। क्‍योंकि यह उनके पैरों को स्‍वस्‍थ्‍य और मजबूत रखने में मदद करता है।

(और पढ़े – पैरों की देखभाल के लिए अपनाएं कुछ आसान टिप्स…)

सुखासन के फायदे एड़ी दर्द का इलाज करे – Benefits of Sukhasana to treat heel pain in Hindi

सुखासन के फायदे एड़ी दर्द का इलाज करे - Benefits of Sukhasana to treat heel pain in Hindi

नियमित रूप से सुखासन मुद्रा करने से आपको एडियों के दर्द से छुटकारा मिल सकता है। अक्‍सर पैरों की उंगलियों में दर्द होने के दौरान आपके पैरों के टखनों और एडियों में भी असुविधा हो जाती है। लेकिन आप इस प्रकार के दर्द को दूर करने के लिए सुखासन का उपयोग कर सकते हैं। यदि दर्द के कारण आपको सुखासन में बैठने में दिक्‍कत हो तो आप तकिया या कुशन आदि का उपयोग कर सकते हैं। इस आसन को करने के दौरान आपको महसूस होगा कि आपकी एडियों के दर्द कम हो रहा है। इस तरह से सुखासन करने फायदे एडियों और टखनों के दर्द को दूर करने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – एड़ी में दर्द के घरेलू उपाय…)

सुखासन करने के लाभ करे तनाव को दूर – Sukhasana Benefits for stress in Hindi

सुखासन करने के लाभ करे तनाव को दूर - Sukhasana Benefits for stress in Hindi

यदि आप मानसिक थकान और तनाव से ग्रसित हैं तो सुखासन एक अच्‍छा उपाय है। क्‍योंकि यह न केवल आपके मन शांत करता है बल्कि स्‍ट्रेस को भी दूर करने में मदद करता है। दिन भर काम करने के दौरान शरीर बहुत ही थक जाता है लेकिन इस दौरान सोने से पहले यदि कुछ देर के लिए सुखासन में बैठते हैं तो इससे कुछ हार्मोन उत्‍तेजित हो सकते हैं। ये हार्मोन शरीर को आराम दिलाने और तनाव का उचित प्रबंधन करने में सहायक होते हैं। इस तरह से सभी लोगों को नियमित रूप से रात में सोने से पहले सुखासन आसन का उपयोग करना फायदेमंद हो सकता है।

(और पढ़े – कामकाजी महिलाओं में तनाव के कारण, लक्षण और उपाय…)

सुखासन के अन्‍य लाभ – Other Health Benefits of Sukhasana in Hindi

सुखासन के अन्‍य लाभ - Other Health Benefits of Sukhasana in Hindi

नियमित रूप से सुखासन करने से आपको निम्‍न लाभ भी प्राप्त होते हैं।

  • इस योग को करने से आपकी रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है।
  • सुखासन का उपयोग कर आप अपने सीने की चौड़ाई को बढ़ा सकते हैं।
  • दिमाग को स्‍वस्‍थ्‍य रखने और ध्‍यान को केंद्रित करने में यह योग आपकी बेहद मदद कर सकता है।
  • इस योग को अपना कर आप अपनी मुद्रा स्थिति को सुधार सकते हैं।
  • यह आपकी पीठ को ताकत दिलाता है।
  • नियमित रूप से सुखासन करने के फायदे आपके पैरों, पिंडलियों और जांघों की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है।

(और पढ़े – दिमाग तेज करने के लिए क्या खाये और घरेलू उपाय…)

सुखासन करने में क्या सावधानी बरती जाए – Precautions to do Sukhasana (Easy Pose) in Hindi

सुखासन करने में क्या सावधानी बरती जाए - Precautions to do Sukhasana (Easy Pose) in Hindi

वैसे तो सुखासन को करने के लिए किसी विशेष प्रकार की सावधानी रखने की जरूरत नहीं होती हैं पर नीचे कुछ बिंदु दिए जा रहा हैं जिसमे आपको सुखासन को करने में क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए यह विस्तार से बताया जा रहा हैं-

  • यदि आपके कूल्हों और घुटनों में चोट या सूजन हैं तो आप इस आसन को ना करें।
  • यदि आपकी डिस्क फिसल गई हैं तो आप इस आसन को ना करें।
  • अगर आपकी पीठ के निचने हिस्से में दर्द हैं तो आप इस आसन को ना करें।

(और पढ़े – पीठ दर्द से छुटकारा पाना है तो अपनाएं ये घरेलू उपाय…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration