सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय - Home Remedies for Headache in Hindi
घरेलू उपाय

सिर दर्द से छुटकारा पाने लिए 17 घरेलू उपाय – Home Remedies for Headache in Hindi

सिर दर्द से छुटकारा पाने लिए 17 घरेलू उपाय - Home Remedies for Headache in Hindi

Home Remedies for Headache in Hindi: सिर दर्द एक आम समस्या है जो लगभग सभी लोगों को कभी न कभी होती ही रहती है। कभी कभी तो यह दर्द इतना असहनीय होता है कि आप अपने दैनिक कार्यों को भी नहीं कर पाते हैं। सिर दर्द के अनेक कारण है लेकिन सबसे आम कारण इसका तनाव होता है। आप सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए दवाओं का सहारा लेते है, तो इससे आपका सिर दर्द उस दिन तो ठीक हो जाता लेकिन बाद में फिर से करने लगता हैं। सिर दर्द का इलाज आप घरेलू उपायों से भी कर सकते हैं। यहाँ पर सिरदर्द को ठीक करने के लिए के कुछ प्रभावी घरेलू उपचार दिए गए हैं जो हमेशा के लिए आपके सिरदर्द को ठीक कर सकते हैं। आइये सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय विस्तार से जानते हैं।

सिर दर्द क्या है – What is Headache in Hindi

सिरदर्द जो पहले हल्का-हल्का शुरू होता है और फिर धीरे-धीरे थोड़ा बढ़ जाता है और कभी-कभी असहनीय भी हो जाता है। ऐसा भी होता है की दवाइयां लेने के बावजूद भी हमको सिर के दर्द से राहत नहीं मिलती। सिर दर्द असल में नर्वस सिस्टम और गर्दन से जुड़ी हुई समस्या है। हम आपको सिर दर्द दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे है जिनकी मदद से आप आसानी से अपने सिर दर्द को दूर कर सकते है।

(और पढ़ें – सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय)

सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय – Home Remedies for Headache in Hindi

सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय – Home Remedies for Headache in Hindi

आइये जानते है सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय, जिनकी मदद से आप चुटकियों में अपने सिर दर्द को दूर कर सकते है।

(और पढ़े – माइग्रेन और सिर दर्द में अंतर क्या होता है…)

पानी पीना

पानी पीना

पानी की कमी और अपर्याप्त हाइड्रेशन के कारण आपको सिरदर्द हो सकता है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि क्रोनिक निर्जलीकरण (Chronic Dehydration) तनाव वाले सिरदर्द और माइग्रेन का एक सामान्य कारण है। पानी पीने से आपको आधा से तीन घंटे में आपको सिरदर्द से राहत मिल सकती हैं। (1) पानी की कमी एकाग्रता को ख़त्म कर सकता है और चिड़चिड़ापन पैदा कर सकता है, जिससे आपके सिरदर्द के लक्षण और भी ख़राब हो सकते हैं। इसलिए सिरदर्द से बचने के लिए आप दिन भर पर्याप्त मात्रा में पानी को पीते रहें।

(और पढ़े – डिहाइड्रेशन से बचने के घरेलू उपाय, जानलेंगें तो कभी नहीं होगी पानी की कमी…)

आहार में कुछ मैग्नीशियम लें

आहार में कुछ मैग्नीशियम लें

मैग्नीशियम हमारे शरीर में अनेक कार्यों के लिए आवश्यक एक महत्वपूर्ण खनिज पदार्थ है, जो रक्त शर्करा नियंत्रण और तंत्रिका संचरण में सहायता करता है। (2) मैग्नीशियम सिरदर्द के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी उपाय भी है। मैग्नीशियम की कमी जिन लोगों में अधिक होती है, उन्हें बार-बार माइग्रेन का सिरदर्द होता है। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि प्रति दिन 600 मिलीग्राम मैग्नीशियम साइट्रेट का सेवन माइग्रेन सिरदर्द का उपचार करने में मदद करता है। (3) हालांकि, मैग्नीशियम की खुराक लेने से कुछ लोगों में दस्त और पाचन आदि की समस्या हो सकती हैं, इसलिए सिरदर्द के लक्षणों का इलाज करते समय मैग्नीशियम की कम मात्रा के साथ शुरू करना सबसे अच्छा है।

रात में पर्याप्त नींद लें

रात में पर्याप्त नींद लें

नींद की कमी भी आपके सर दर्द का कारण बन सकता हैं। नींद की कमी कई मायनों में आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो भी सकती हैनींद की कमी कई मायनों में आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है (4)। एक अध्ययन से पता चलता है कि जो लोग लंबे समय तक सोते है उनकी अपेक्षा जो लोग प्रति रात छह घंटे से कम नींद लेते है उन लोगों को सिरदर्द की अधिक समस्या होती हैं (5)। हालाँकि, बहुत अधिक नींद लेना भी सिरदर्द का कारण बन सकता है, इसलिए आप प्रति रात सात से नौ घंटे की नींद का लक्ष्य रखें।

(और पढ़ें – गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय)

शराब का सेवन न करें

शराब का सेवन न करें

अधिक मात्रा में शराब का सेवन करना भी आपके सरदर्द का कारण बन सकता हैं। शराब पीना कई लोगों में तनाव और क्लस्टर (cluster) सिरदर्द पैदा कर सकता है(6)। यह एक वैसोडिलेटर (vasodilator) है, जिसका अर्थ है कि यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है और रक्त को अधिक स्वतंत्र रूप से बहने देता है। वासोडिलेशन कुछ लोगों में सिरदर्द का कारण हो सकता है। क्योंकि सिरदर्द रक्तदाब दवाओं जैसे वासोडिलेटर का एक सामान्य कारण भी है। शराब एक मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है, जिससे शरीर लगातार पेशाब के माध्यम से तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स खो देता है। इस द्रव की हानि से निर्जलीकरण हो सकता है, जिससे सिरदर्द हो सकता है।

(और पढ़ें – शराब की लत कैसे छोड़े)

कैफीन युक्त चाय या कॉफी पिएं

कैफीन युक्त चाय या कॉफी पिएं

कैफीन युक्त पेय पदार्थ जैसे कि चाय या कॉफी पीने से सिरदर्द होने पर राहत मिल सकती है। कैफीन मूड में सुधार करता है, सतर्कता बढ़ाता है और रक्त वाहिकाओं को संकुचित करता है, जो सभी सिरदर्द के लक्षणों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। कैफीन सिर दर्द के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सामान्य दवाओं की प्रभावशीलता को बढ़ाने में भी मदद करता है। इसलिए, जिन लोगों को लगातार सिरदर्द होता है, उन्हें अपने कैफीन सेवन का ध्यान रखना चाहिए (7), (8)।

अदरक की चाय पीएं

अदरक की चाय पीएं

अदरक में कई लाभकारी यौगिक जैसे एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant) और एंटी इंफ्लेमेटरी (Anti-inflammatory) पदार्थ शामिल होते हैं। पुराने माइग्रेन वाले 100 लोगों के एक अध्ययन में पाया गया है कि अदरक का 250 मिलीग्राम पाउडर माइग्रेन सिरदर्द को कम करने की दवा सुपाट्रिपन (sumatriptan) के समान प्रभावी था (9)। अदरक गंभीर सिरदर्द से जुड़े सामान्य लक्षण मतली और उल्टी को कम करने में मदद करता है। सिरदर्द के लिए आप ताजा अदरक की चाय बना कर पी सकते हैं (10)।

(और पढ़ें – अदरक के फायदे, औषधीय गुण, उपयोग और नुकसान)

हिस्टामाइन में खाद्य पदार्थों से बचें

हिस्टामाइन में खाद्य पदार्थों से बचें

हिस्टामाइन (Histamine) शरीर में प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला एक रसायन है जो प्रतिरक्षा, पाचन और तंत्रिका तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है (11)। कुछ खाद्य पदार्थों जैसे एज्ड चीज (aged cheeses), किण्वित भोजन (fermented food), बीयर, शराब, भुनी हुई मछली और मांस (cured meats) में भी हिस्टामाइन पाया जाता है। एक अध्ययन से पता चलता है कि हिस्टामाइन का सेवन उन लोगों में माइग्रेन का कारण हो सकता है जो इसके प्रति संवेदनशील हैं। इसलिए सिरदर्द से बचने के लिए आहार से हिस्टामाइन युक्त खाद्य पदार्थ को हटा दें(12)।

बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन लें

बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन लें

बी विटामिन पानी में घुलनशील सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक समूह है जो शरीर में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। न्यूरोट्रांसमीटर संश्लेषण (Neurotransmitter Synthesis) में सहायता करते हैं और भोजन को ऊर्जा में बदलने में मदद करते हैं । यह बी विटामिन सिरदर्द के के प्रभाव को कम कर सकते हैं। (13) कई अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन बी-कॉम्प्लेक्स में राइबोफ्लेविन (Riboflavin) (B2), फोलेट, बी-12 और पाइरिडोक्सिन (Pyridoxine) (B6) का सेवन सिरदर्द के लक्षणों को कम कर सकता है। बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन बी के सभी आठ विटामिन होते हैं, जो सिरदर्द के लक्षणों का इलाज करने के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी तरीका है। बी विटामिन को नियमित रूप से लेने के लिए सुरक्षित माना जाता है, क्योंकि ये पानी में घुलनशील हैं और इनकी अतिरिक्त मात्रा को मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल दिया जाता है(14)।

एसेंशियल ऑयल्स का इस्तेमाल करें

एसेंशियल ऑयल्स का इस्तेमाल करें

एसेंशियल ऑयल्स (Essential Oils) अत्यधिक संकेन्द्रित (concentrated) तरल पदार्थ होते हैं जिनमें विभिन्न प्रकार के पौधों के सुगंधित यौगिक होते हैं। एसेंशियल ऑयल्स के कई चिकित्सीय लाभ हैं जिसके कारण इनका उपयोग सिरदर्द के लिए माथे पर लगाने के लिए किया जाता हैं। सिर दर्द होने पर पुदीना और लैवेंडर आवश्यक तेल विशेष रूप से सहायक होते हैं। पेपरमिंट एसेंशियल ऑयल्स लगाने से तनाव वाले सिरदर्द के लक्षणों को कम करने मदद मिलती है। और लैवेंडर का तेल माइग्रेन के दर्द को कम करने के लिए ऊपरी होंठ पर लगाने और इसकी सांस लेने (सूंघने) पर प्रभावी होता है। (15)

कोल्ड कंप्रेस के साथ सिरदर्द ठीक करें

कोल्ड कंप्रेस के साथ सिरदर्द ठीक करें

एक कोल्ड कंप्रेस का उपयोग करने से आपके सिरदर्द के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है। गर्दन या सिर के क्षेत्र में कोल्ड कंप्रेस का उपयोग करने से सूजन कम हो जाती है, तंत्रिका चालन धीमा हो जाता है और रक्त वाहिकाओं को संकुचित हो जाती है (16)। ये  सभी सिरदर्द दर्द को कम करने में मदद करते हैं। एक अध्ययन में 28 महिलाओं के सिर में ठंडा जेल पैक लगाने से माइग्रेन का दर्द कम हुआ था (17)। एक कोल्ड कंप्रेस करने के लिए एक वाटरप्रूफ बैग में बर्फ को भरें और इसे एक नरम तौलिया में लपेटें। सिरदर्द से राहत के लिए गर्दन और सिर के पीछे सेके।

(और पढ़ें – कोल्ड वाटर बॉथ थेरेपी क्या है, इसके फायदे और सावधानियां)

एक हर्बल उपचार का प्रयास करें

एक हर्बल उपचार का प्रयास करें

फीवरफ्यू  (Feverfew)और बटरबर (Butterbur) जैसी कुछ जड़ी बूटियां सिरदर्द के लक्षणों को कम कर सकती हैं। फीवरफ्यू एक फूल वाला पौधा है जिसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि 50-150 मिलीग्राम प्रति दिन फीवरफ्यू की खुराक लेने से बार बार सिरदर्द की समस्या कम हो सकती है। बटरबर रूट एक बारहमासी झाड़ी है जिसमें फीवरफ्यू की तरह ही एंटी इंफ्लेमेटरी (Anti-inflammatory) गुण पाया जाता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि 50-150 मिलीग्राम की खुराक में बटरबर अर्क लेने से वयस्कों और बच्चों दोनों में सिरदर्द के लक्षण कम हो जाते हैं (18)।

जिस आहार से सिरदर्द होता है उसे हटा दें

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि भोजन की असहिष्णुता भी लोगों में सिरदर्द पैदा कर सकती है। यह पता लगायें कि क्या कोई निश्चित भोजन बार बार सिरदर्द पैदा कर रहा है। यदि ऐसा है तो आप उस भोजन को अपनी थाली से हमेशा के लिए निकल दें। एजेड चीज़ (Aged cheese), अल्कोहल, चॉकलेट, खट्टे फल और कॉफ़ी आदि माइग्रेन से पीड़ित लोगों में सबसे अधिक सिर दर्द का कारण बनते हैं (19)।

एक्यूपंक्चर का प्रयास करें

एक्यूपंक्चर का प्रयास करें

एक्यूपंक्चर (Acupuncture) पारंपरिक चीनी चिकित्सा की एक तकनीक है जिसमें शरीर पर विशिष्ट बिंदुओं को उत्तेजित करने के लिए त्वचा में पतली सुइयों को लगाना होता है। एक्यूपंक्चर पारंपरिक को कई अध्ययनों में सिरदर्द के लक्षणों में कमी करने में फायदेमंद बताया गया है। यदि आप पुराने सिरदर्द के इलाज के लिए प्राकृतिक तरीके की तलाश कर रहे हैं, तो एक्यूपंक्चर एक सार्थक विकल्प हो सकता है (20)।

स्ट्रॉन्ग स्मेल से बचें

स्ट्रॉन्ग स्मेल से बचें

इत्र और सफाई उत्पादों से निकलने वाली स्ट्रॉन्ग स्मेल कुछ व्यक्तियों में सिरदर्द को बढ़ाने का कारण बन सकती हैं। एक अध्ययन जिसमें 400 लोगों को शामिल किया गया था, जो माइग्रेन या तनाव वाले सिरदर्द से परेशान थे, उन्होंने पाया कि मजबूत गंध, विशेष रूप से इत्र, अक्सर सिरदर्द पैदा करते हैं। गंधों के लिए इस अतिसंवेदनशीलता को ऑस्मोफोबिया कहा जाता है और क्रोनिक माइग्रेन वाले लोगों में यह आम है। अगर आपको लगता है कि आप गंध के प्रति संवेदनशील हैं, इत्र, सिगरेट के धुएं और स्ट्रॉन्ग सुगंधित खाद्य पदार्थों से परहेज करने से माइग्रेन होने की संभावना कम हो सकती है (21)।

नाइट्रेट्स और नाइट्राइट्स से बचें

नाइट्रेट और नाइट्राइट (Nitrates and Nitrites) आम खाद्य संरक्षक हैं जिन्हें बैक्टीरिया, वृद्धि को रोककर उन्हें ताजा रखने के लिए हॉट डॉग, सॉसेज (sausages) और बेकन जैसी वस्तुओं में मिलाया जाता है। इसमें से कुछ खाद्य पदार्थ लोगों में सिरदर्द की समस्या का भी कारण बन सकते हैं। नाइट्राइट्स रक्त वाहिकाओं के विस्तार के कारण सिरदर्द को बढ़ा सकता हैं। इसलिए जब भी संभव हो नाइट्रेट मुक्त उत्पादों का चयन करें (22)।

सिरदर्द में योग करें

सिरदर्द में योग करें

योग का अभ्यास तनाव को दूर करने, लचीलापन बढ़ाने, दर्द को कम करने और आपके जीवन की समग्र गुणवत्ता में सुधार करने का एक शानदार तरीका है। योग करने से आपके सिरदर्द की तीव्रता और आवृत्ति को कम करने में मदद मिल सकती है। एक अध्ययन ने पुराने माइग्रेन वाले 60 लोगों पर योग चिकित्सा के प्रभावों की जांच की गई थी, तो पाया गया योग से सिरदर्द की आवृत्ति और तीव्रता कम हो गई थी (23)।

(और पढ़ें – सिर दर्द के लिए योग)

नियमित एक्सरसाइज करें

नियमित एक्सरसाइज करें

नियमित एक्सरसाइज बार-बार सिरदर्द की गंभीरता को कम करने के सबसे सरल तरीकों में से एक है। 91 लोगों में एक अध्ययन में पाया गया कि शारीरिक गतिविधि में प्रति सप्ताह तीन बार 40 मिनट की इनडोर साइकिल चलाना सिरदर्द को कम करने में अधिक प्रभावी है। आपकी गतिविधि के स्तर को बढ़ाने के कई तरीके हैं, लेकिन सबसे आसान तरीकों में से एक है कि आप सुबह-सुबह तेज गति से चलें या मोर्निंग वाक पर जायें (24)।

(और पढ़ें – व्यायाम (एक्सरसाइज) के प्रकार, महत्व, करने का तरीका, लाभ और हानि)

निष्कर्ष

बहुत से लोग लगातार सिरदर्द से नकारात्मक रूप से प्रभावित होते हैं, जिससे उनके लिए प्राकृतिक और प्रभावी उपचार विकल्प ढूंढना महत्वपूर्ण हो जाता है। योग, पूरक (supplements), एसेंशियल ऑयल्स और आहार संशोधन सिरदर्द के लक्षणों को कम करने के लिए प्राकृतिक, सुरक्षित और प्रभावी तरीके हैं। अब आप सिरदर्द को रोकने और इलाज करने के लिए ऊपर दिये गए प्राकृतिक और प्रभावी तरीके अपना सकते हैं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration