गर्भावस्था

तीन महीने की गर्भावस्‍था में क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं? – 3rd Month Pregnancy Diet: What to Eat and Not to Eat in Hindi

तीन महीने की गर्भावस्‍था में क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं? - 3rd Month Pregnancy Diet in Hindi

3rd Month Pregnancy Diet in Hindi प्रेगनेंसी के दौरान स्‍वस्‍थ आहार की बहुत ही आवश्‍यकता होती है। जब महिलाएं गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में होती हैं तब उन्‍हें कुछ विशेष और अतिरिक्‍त देखभाल और पोषक तत्‍वों की आवश्‍यकता होती है। प्रेगनेंसी के थर्ड मंथ में क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं खाना चाहिए यह मां और बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य को निर्धारित करने में सहायक होता है। यदि आप भी गर्भवती होना चाहती हैं तो आपको उन आहारों की जानकारी होना आवश्‍यक है कि गर्भावस्‍था के अलग-अलग महीने में आपको खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए। आज का लेख इसलिए भी महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि गर्भवती महिला के लिए तीसरा महीना बहुत ही संवेदनशील होता है। इस लेख में हम बता रहे हैं कि महिलाओं के लिए थर्ड मंथ डाइट क्‍या है। आइए जाने प्रेगनेंसी के तीसरे मंथ में क्‍या खाना या क्‍या नहीं खाना चाहिए।

(और पढ़ें – जानें, गर्भावस्‍था के पहले महीने में क्या खाएं और क्या नहीं)

विषय सूची

तीसरे महीने के लिए प्रेगनेंसी डाइट – 3rd Month Pregnancy Diet in Hindi

तीसरे महीने के लिए प्रेगनेंसी डाइट - 3rd Month Pregnancy Diet in Hindi

प्रेगनेंसी का तीसरा महीना महिलाओं के लिए बहुत ही अहम होता है। क्‍योंकि इस समय तक महिला के शरीर में परिवर्तन और गर्भ में भ्रूण में बहुत अधिक विकास हो जाता है। गर्भ के तीन महीने के दौरान अजन्‍मे बच्‍चे के हार्ट, लिवर, आंख, प्राइवेट पार्ट और स्‍वर यंत्र आदि विकसित होने लगते हैं। ऐसी स्थिति में मां और बच्‍चे को पर्याप्‍त पोषक तत्‍वों की आवश्‍यकता होती है। इसलिए महिलाओं को गर्भावस्‍था के तृतीय माह के लिए डाइट में पोषण तथ्‍य और दिशानिर्देशों की आवश्‍यकता होती है। साथ ही प्रेगनेंसी में क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं खाना चाहिए यह भी अहम है। गर्भावस्‍था के महीनों में कुछ सप्‍लीमेंट्स की भी आवश्‍यकता होती है। आइए जाने तीसरे माह की गर्भावस्‍था के लिए प्रेगनेंसी डाइट प्‍लान क्‍या है।

(और पढ़े – गर्भावस्था के शुरुआती दिनों का आहार)

तीन महीने की गर्भावस्‍था आहार के बारे में – About Three Months Pregnancy Diet in Hindi

गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी के तीसरे महीने के लिए दिशा निर्देशों के अनुसार दैनिक आवश्‍यकता से लगभग 300 कैलोरी अधिक का सेवन करना चाहिए। प्रेगनेंसी के शुरुआती महीने में महिलाओं को दैनिक रूप से लगभग 6-11 बार थोड़ी थोड़ी मात्रा में अनाज अधारित भोजन करना चाहिए। इस दौरान कम से कम 2-4 बार ताजे फल, सलाद, सब्जियां खाना चाहिए। लगभग दिन में 4 सर्विंग्‍स डेयरी उत्‍पाद जैसे दूध, दही, पनीर आदि का सेवन करना चाहिए। इसी तरह दैनिक आधार पर लगभग 4 सर्विंग्‍स चिकन और मटन का सेवन करना चाहिए। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान प्रतिदिन लगभग 1 सर्विंग्‍स नट्स और सूखे फलों को लेना भी आवश्‍यक होता है।

(और पढ़े – गर्भावस्था में आहार जो देगा माँ और बच्चे को पूरा पोषण)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में खाये जाने वाले खाद्य पदार्थ – Three Months Pregnancy Food To Eat in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में खाये जाने वाले खाद्य पदार्थ - Three Months Pregnancy Food To Eat in Hindi

जो महिलाएं गर्भवती हैं और प्रेगनेंसी के शुरुआती दौर से गुजर रही हैं। उन्‍हें अपने आहार पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए। उन्‍हें इस बात की जानकारी होना चाहिए कि उन्हें कौन-कौन से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए। क्‍योंकि स्‍वस्‍थ और हेल्‍दी भोजन न केवल महिला बल्कि उनके होने वाले बच्‍चे के लिए भी आवश्‍यक होता है। आइए जाने गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में खाये जाने वाले खाद्य पदार्थ क्‍या हैं।

(और पढ़ें – गर्भावस्‍था के पहली तिमाही में क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं)

तीन महीने की गर्भावस्‍था में खाना चाहिए विटामिन बी6 – 3rd Month Pregnancy Diet Vitamin B6 in Hindi

तीन महीने की गर्भावस्‍था में खाना चाहिए विटामिन बी6 - 3rd Month Pregnancy Diet Vitamin B6 in Hindi

स्‍वस्‍थ बच्चे के जन्‍म की तैयारी गर्भावस्‍था की पहली तिमाही से ही शुरु की जानी चाहिए। गर्भावस्‍था के पहले तीन महीनों में महिलाओं को उल्‍टी और मतली जैसी समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसी समस्‍या से बचने के लिए महिलाओं को अपने दैनिक आहार में विटामिन बी6 युक्‍त खाद्य पदार्थों और सप्लीमेंट्स आदि को शामिल करने की सलाह दी जाती है। इस प्रकार के खाद्य पदार्थ महिलाओं के मूड को बेहतर बनाने में भी मदद करते हैं। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में विटामिन बी6 की कमी को पूरा करने के लिए महिलाएं निम्‍न खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर सकती हैं।

इस प्रकार के खाद्य पदार्थों का सेवन कर महिलाएं गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में अतिरिक्‍त विटामिन को प्राप्‍त कर सकती हैं।

(और पढ़े – विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के फायदे, स्रोत और नुकसान)

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने के दौरान खाना चाहिए कार्बोहाइड्रेट – 3rd Month Pregnancy Diet Carbohydrates in Hindi

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को कार्बोहाइड्रेट की विशेष आवश्‍यकता होती है। हालांकि इस दौरान कार्बोहाइड्रेट का अधिक सेवन करना महिलाओं की कमर के निचले हिस्‍से को अधिक प्रभावित करता है। लेकिन गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान कार्बोहाइड्रेट उन विशेष पोषक तत्‍वों में से एक है जिनकी विशेष जरूरत होती है। प्रेगनेंसी के समय कार्बोहाइड्रेट की कमी को पूरा करने के लिए महिलाएं अपने आहार उबले आलू, चावल और ब्रेड आदि पदार्थों को शामिल कर सकती हैं। ये सभी खाद्य पदार्थ महिलाओं को ऊर्जा दिलाने में मदद करते हैं। प्रेगनेंसी के थर्ड मंथ में महिलाओं को अपने दैनिक आहार में उच्‍च कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थों की पर्याप्‍त मात्रा को शामिल करने की सलाह दी जाती है।

(और पढ़े – गर्भावस्था के दौरान खाये जाने वाले आहार और उनके फायदे)

गर्भावस्‍था के तीसरे मंथ में खाना चाहिए सब्जियां -3rd Month Pregnancy Diet Vegetables in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे मंथ में खाना चाहिए सब्जियां -3rd Month Pregnancy Diet Vegetables in Hindi

ताजी और फ्रेश सब्जियां हमेशा ही स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छी मानी जाती हैं। लेकिन गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में इनका महत्‍व महिलाओं के लिए और अधिक बढ़ जाता है। क्‍योंकि हरी और पत्तेदार सब्जियों में फाइबर की उच्‍च मात्रा होती है जो बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही महत्‍वपूर्ण होता है। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को अपने आहार में ब्रोकली और पालक जैसी हरी सब्जियों का विशेष रूप से सेवन करना चाहिए। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं की गर्भावस्‍था डाइट में गाजर, शिमला मिर्च, कद्दू और खुबानी जैसी सब्जियों को भी शामिल किया जा सकता है।

(और पढ़े – पालक खाने के फायदे और नुकसान)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में सेवन करना चाहिए फल – Eat Fruit In The Third Month Of Pregnancy in Hindi

ताजे फल विटामिन, एंटीऑक्‍सीडेंट, प्राकृतिक शुगर और फाइबर के सबसे अच्‍छे स्रोत होते हैं। इस कारण ही गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में खाये जाने वाले आहारों में फलों को प्राथमिकता दी जाती है। जो गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं के लिए बहुत ही आवश्‍यक होते हैं। प्रेगनेंट महिलाओं द्वारा नियमित रूप से फलों का सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि ये महिलाओं को कई प्रकार से लाभ पहुंचाते हैं। इस दौरान फलों का सेवन रक्‍त वाहिकाओं और मांसपेशियों को मजबूत करते हैं। फलों में मौजूद विटामिन सी प्रसव के दौरान होने वाली समस्‍याओं की संभावना को भी कम करने में अहम योगदान देता है।

(और पढ़ें – फल खाने के फायदे, गुण और उपयोग)

थ्री मंथ प्रेगनेंसी में खाना चाहिए मीट – 3rd Month Pregnancy Diet Meat in Hindi

थ्री मंथ प्रेगनेंसी में खाना चाहिए मीट - 3rd Month Pregnancy Diet Meat in Hindi

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में मीट का सेवन करना महिलाओं को आयरन की कमी से बचाने में मदद कर सकता है। गर्भावस्‍था के दौरान आयरन एक बहुत ही महत्‍वपूर्ण खजिन है जिसकी हर महिला को विशेष आवश्‍यकता होती है। शुरुआती गर्भावस्‍था के दौरान मीट का सेवन करने से शरीर में हीमोग्‍लोबिन के उत्‍पादन को बढ़ाने में मदद मिलती है। जिससे मां और बच्‍चे तक ऑक्‍सीजन के परिवहन को बढ़ाया जा सकता है। तीसरे माह की गर्भावस्‍था में खून की कमी संबंधी लक्षणों से बचने के लिए मीट का सेवन आवश्‍यक रूप से किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – चिकन के फायदे और नुकसान)

तीन महीने की गर्भावस्‍था में कैल्शियम युक्‍त भोजन करना चाहिए – Calcium-rich food for three months pregnancy diet in Hindi

तीन महीने की गर्भावस्‍था में कैल्शियम युक्‍त भोजन करना चाहिए - Calcium-rich food for three months pregnancy diet in Hindi

तीन माह के गर्भ वाली महिलाओं को अपने आहार में कैल्शियम आधारित खाद्य पदार्थ और सप्‍लीमेंट्स को शामिल करने की सलाह दी जाती है। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में महिलाओं को अपने आहार में डेयरी उत्‍पादों का सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि ये उत्‍पाद कैल्शियम की कमी को पूरा करने और हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। कैल्शियम न केवल महिला बल्कि होने वाले शिशु के लिए भी लाभकारी होता है। इस दौरान नियमित रूप से कैल्शियम आधारित भोजन करने से बच्‍चे की हड्डियां, दांत, सुनने की क्षमता और मांसपेशियों आदि के विकास में सहायक होते हैं।

(और पढ़ें – कैल्शियम की कमी दूर करने वाले भारतीय आहार)

थर्ड मंथ प्रेगनेंसी डाइट फोलेट फूड – 3rd Month Pregnancy Diet Floate foods in Hindi   

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान महिलाओं को फोलेट युक्‍त खाद्य पदार्थों का पर्याप्‍त सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि फोलेट भ्रूण के विकास के लिए बहुत ही महात्‍वपूर्ण विटामिन होता है। फोलेट न्‍यूरल ट्यूब में किसी भी प्रकार के दोष की संभावना को रोकने में मदद करता है। फोलेट में विटामिन बी9 होता है जो कि महिला स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही आवश्‍यक होता है। फोलेट की पर्याप्‍त मात्रा प्राप्‍त करने के लिए महिलाओं को गर्भावस्‍था के समय शतावरी, ब्रोकोली, ऐवोकैडो आदि खाद्य पदार्थों का पर्याप्‍त सेवन करना चाहिए।

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में वसा आधारित खाद्य पदार्थ – 3rd Month Pregnancy Diet Fat oils in Hindi   

गर्भावस्‍था के दौरान गर्भ में भ्रूण के शारीरिक विकास में वसा एक महत्‍वपूर्ण घटक होता है। प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में स्‍वस्‍थ वसा प्राप्‍त करने के लिए मांस और डेयरी उत्‍पादों का सेवन किया जाना चाहिए। इन खद्य पदार्थों से प्राप्‍त स्‍वस्‍थ वसा बच्‍चे के संपूर्ण विकास में मदद करता है। लेकिन इस दौरान गर्भवती महिलाओं को कैलोरी की दैनिक आवश्‍यकता से 30 प्रतिशत से अधिक प्राप्‍त नहीं करना चाहिए। स्‍वस्‍थ वसा की प्राप्‍ति के लिए महिलाओं को गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान अपने आहार में विभिन्‍न प्रकार के तेल जैसे सूरजमुखी, जैतून, मूंगफली, तिल, बादाम और अखरोट आदि को शामिल करना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भावस्था के लिए बेस्ट ड्राई फ्रूट्स और उनके फायदे)

3 महीने की गर्भावस्था आहार जिंक खाद्य पदार्थ – Third Month Pregnancy Diet Zinc foods in Hindi

3 महीने की गर्भावस्था आहार जिंक खाद्य पदार्थ – Third Month Pregnancy Diet Zinc foods in Hindi

जिंक एक और महत्‍वपूर्ण घटक है जो गर्भावस्‍था में महिलाओं के लिए बहुत ही महत्‍वपूर्ण होता है। इस दौरान महिलाओं को जिंक आधारित खाद्य पदार्थ और सप्‍लीमेंट्स का सेवन करना चाहिए। जिंक भ्रूण के शारीरिक विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है। जिंक की कमी को दूर करने के लिए गर्भवती महिलाएं चिकन, मीट, मछली, अदरक, प्‍याज, सेम और अन्‍य जिंक युक्‍त खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में इस प्रकार के खाद्य पदार्थों का सेवन करना रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें – जिंक के स्रोत, फायदे और नुकसान)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में खाएं विटामिन डी – Third Month Pregnancy Diet Vitamin D foods in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में खाएं विटामिन डी - Third Month Pregnancy Diet Vitamin D foods in Hindi

विटामिन डी की उचित मात्रा गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान विशेष रूप से आहार में लिया जाना चाहिए। विटामिन डी होने वाले बच्‍चे की हड्डियों और दांतों के विकास को बनाए रखने में मदद करता है। आप भ्रूण के उचित विकास के लिए गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के भोजन में उन खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकती हैं जिनसे विटामिन डी प्राप्‍त किया जा सकता है। विटामिन डी प्राप्‍त करने के लिए वसायुक्‍त मछली और अंडे की जर्दी जैसे खाद्य पदार्थ प्रमुख हैं।

(और पढ़ें – विटामिन डी की कमी के लक्षण)

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में आवश्‍यक है आयोडीन – Third Month Pregnancy Diet Iodine in Hindi

गर्भ में भ्रूण के तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्‍क के कार्यों के विकास के लिए आयोडीन महत्‍वपूर्ण होता है। प्रेगनेंसी के तीसरे महीने के दौरान आयोडीन की पर्याप्‍त मात्रा का सेवन करने की सलाह दी जाती है। आयोडीन प्राप्‍त करने के लिए महिलाओं को पनीर, दही, आलू, दाल और समुद्री भोजने जैसे झींगा, सालमन मछली आदि का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भावस्था में डाइट चार्ट)

तीसरे महीने की गर्भावस्‍था में नहीं खाये जाने वाले आहार – 3 Months Pregnancy Food Not To Eat? in Hindi

गर्भावस्‍था के किसी भी महीने में स्‍वस्‍थ आहार का सेवन करना आवश्‍यक होता है। लेकिन कुछ ऐसे भी खाद्य पदार्थ होते हैं जिन्‍हें गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान खाने से बचना चाहिए। क्‍योंकि इन खाद्य पदार्थों में कुछ ऐसे गुण होते हैं जो गर्भावस्‍था के अनुकूल नहीं होते हैं साथ ही ये भ्रूण और महिला के स्‍वास्‍थ्‍य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। आइए जाने प्रेगनेंसी के तीसरे महीने के दौरान क्‍या नहीं खाना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भावस्था के समय क्या न खाएं)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में जंक फूड खाने से बचें – Avoid junk food in the third month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में जंक फूड खाने से बचें - Avoid junk food in the third month of pregnancy in Hindi

अधिकांश महिलाओं को जंक फूड बहुत ही पसंद होते हैं। लेकिन गर्भावस्था के तीसरे महीने के दौरान ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए। क्‍योंकि ये खाद्य पदार्थ महिला और बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। जंक फूड का अधिक सेवन करने पर आप साबुत अनाज का पर्याप्‍त सेवन नहीं करते हैं। जिससे आपको मल त्‍याग (bowel movements) संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इस प्रकार की समस्‍या गर्भावस्‍था में प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। इसके आलावा जंक फूड में चीनी और वसा की उच्‍च मात्रा होती है जो गर्भवती महिला के लिए हानिकारक माना जाता है।

(और पढ़ें – जानिए जंक फूड (फास्ट फूड) के नुकसान और हानिकारक प्रभावों को)

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में नहीं करें पारा युक्‍त समुद्री भोजन – Avoid Mercury Contained Sea Food in the third month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे माह के दौरान महिलाओं को समुद्री भोजन नहीं करने की सलाह दी जाती है। क्‍योंकि समुद्री भोजन में मिथाइल मरकरी (methyl mercury) की उपस्थिति होती है। यह समुद्री भोजन में पाया जाने वाला एक हानिकारक तत्‍व है जो आपके भ्रूण को कमजोर कर सकता है। इसलिए गर्भावस्‍था के प्रेगनेंसी के समय महिलाओं को समुद्री भोजन जैसे ट्यूना फिश, सेलफिश आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

(और पढ़े – मछली खाने के फायदे और नुकसान)

प्रेगनेंसी के तीसरे मंथ में पैक्‍ड भोजन न करें – Do not eat packaged food in the third month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं और बच्‍चों के विकास के लिए लगभग सभी प्रकार के खाद्य पदार्थ टिन के डिब्‍बे में उपलब्‍ध होते हैं। इस प्रकार के खाद्य पदार्थ महिला और शिशु के लिए हानिकारक हो सकते हैं। इसलिए गर्भावस्‍था के दौरान हमेशा प्राकृतिक खाद्य पदार्थों का सेवन किया जाना चाहिए न कि टिन के डब्‍बों में बंद खाद्य पदार्थों का सेवन किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – जानिए जंक फूड (फास्ट फूड) के नुकसान और हानिकारक प्रभावों को)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में अन पाश्चराइज्ड डेयरी उत्‍पादों से बचें – Avoid Dairy Products Which Are Unpasteurized in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान किसी भी प्रकार की विषाक्‍तता संबंधी समस्‍याओं से बचने के लिए हमेंशा ही पाश्चराइज्ड दूध उत्‍पादों का सेवन करना चाहिए। क्‍योंकि गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान अन पश्चराइज्‍ड दूध उत्‍पादों का सेवन करने से लिस्‍टेरिया या फूड पॉइजनिंग संबंधी संक्रमण हो सकता है। इसलिए घर में बने डेयरी उत्‍पादों का सेवन करना सबसे अच्‍छा माना जाता है क्‍योंकि इनमें किसी प्रकार के संक्रमण की संभावना नहीं होती है।

(और पढ़े – दूध पीने से है परहेज तो इन चीजों से भी ले सकते हैं कैल्शियम)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में नहीं पीना चाहिए कॉफी या चाय – Avoid Coffee/Tea in the third month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में नहीं पीना चाहिए कॉफी या चाय - Avoid Coffee/Tea in the third month of pregnancy in Hindi

कॉफी या चाय का सेवन सामान्‍य रूप से सुरक्षित होता है। लेकिन गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान कॉफी या चाय का सेवन नहीं किया जाना चाहिए। क्‍योंकि इनमें मौजूद कैफीन आपके शिशु के लिए हानिकारक हो सकती है। अधिक मात्रा में सेवन करने पर कैफीन प्‍लेसेंटा को पार करके हृदय गति को प्रभावित कर सकता है। साथ ही कैफीन की उच्‍च मात्रा रक्‍तचाप और हृदय रोगों की संभावना को बढ़ा सकता है। इसलिए गर्भावस्‍था के शुरुआती महीने के दौरान महिलाओं को अधिक मात्रा में कैफीन आधारित चाय या कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए।

(और पढ़े – कैफीन के फायदे, नुकसान और उपयोग)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में कच्‍चे अंकुरित अनाज ना खाएं – Avoid Raw Sprouts in the third month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में कच्‍चे अंकुरित अनाज ना खाएं - Avoid Raw Sprouts in the third month of pregnancy in Hindi

हालांकि प्रेगनेंसी के दौरान अंकुरित अनाज खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन गर्भावस्‍था के तीसरे महीने और पूरी गर्भावस्‍था के दौरान इन्‍हें कच्‍चे खाने से बचना चाहिए। क्‍योंकि अनाज को अंकुरित करने के दौरान इनमें बैक्‍टीरिया उत्‍पन्‍न हो जाते हैं। जब आप कच्‍चे ही इन अंकुरित अनाज का सेवन करते हैं तो ये बैक्‍टीरिया सीधे ही शरीर के अंदर पहुंच जाते हैं और महिला स्‍वास्‍थ्‍य को खराब कर सकते हैं। इसके अलावा कच्‍चे अंकुरित अनाज को पचाना आसान नहीं होता है जो अपच, बदहजमी, पेट की ऐंठन और कब्‍ज जैसी समस्‍याओं को बढ़ा सकता है। यदि आप भी प्रेगनेंसी के दौरान अंकुरित अनाज का सेवन करना चाहते हैं तो पहले उन्‍हें भाप में पका कर या उबाल कर सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें – अंकुरित अनाज खाने के फायदे और नुकसान)

3 मंथ प्रेगनेंसी में बिना धुले फल और सब्जियां खाने से बचें – Avoid Unwashed Vegetables And Fruits in the third month of pregnancy in Hindi

आप गर्भावस्‍था के दौरान सब्जियों और फलों को अच्‍छी तरह से धोने के बाद ही आहार के रूप में उपयोग करें। क्‍योंकि फल और सब्जियां स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छे होते हैं। लेकिन इनके ऊपर जमा हानिकारक कीटनाशक और अन्‍य रासायनिक उत्‍पाद महिला और उसके बच्‍चे के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं। इसलिए प्रेगनेंसी के तीसरे महीने के दौरान फलों और सब्जियों का सेवन करने से पहले इन्‍हें 10 से 15 मिनिट के लिए चूना और विनेगर के मिश्रण में भिगोना अच्‍छा होता है।

(और पढ़े – पपीता खाने के फायदे और नुकसान)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के लिए अनुशंसित सप्‍लीमेंट्स – Recommended Supplements During 3rd Month Pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान लगभग सभी पोषक तत्‍वों और खनिज पदार्थों की विशेष आवश्‍यकता होती है। लेकिन जिन पोषक तत्‍वों को हम खाद्य आहार के रूप में प्राप्‍त नहीं कर पाते हैं उनके लिए हमें अलग से कुछ सप्‍लीमेंट्स की आवश्‍यकता होती है। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान महिलाओं को अपने आहार में कुछ विशेष सप्‍लीमेंट्स को शामिल करना चाहिए जो इस प्रकार हैं।

  • कैल्शियम (Calcium) – 300 मिली ग्राम
  • फोलिक एसिड (Folic Acid) – 400 माइक्रो ग्राम
  • राइबोफ्लेविन (Riboflavin) – 2 ग्राम
  • विटामिन डी (Vitamin D) – 400 आईयू
  • विटामिन सी (Vitamin C) – 70 मिली ग्राम
  • थायमिन (Thiamine) – 3 मिली ग्राम
  • नियासिन (Niacin) – 20 मिली ग्राम
  • विटामिन बी12 (Vitamin B12) – 6 माइक्रो ग्राम
  • विटामिन ई (Vitamin E) – 10 मिली ग्राम
  • जिंक (Zinc) – 15 मिली ग्राम
  • आयरन (Iron) – 17 मिली ग्राम
  • आयोडीन (Iodine) – 150

(और पढ़ें – प्रेगनेंसी में किये जाने वाले योग)

तीसरे महीने की गर्भावस्‍था के लिए आहार संबंधी अन्‍य टिप्‍स – Additional Tips For Third Month Pregnancy Diet in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान आप अपने आहार में कुछ सामान्‍य से परिवर्तन कर सकते हैं। जो आपके बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य में आपकी मदद कर सकते हैं। यहां कुछ सुझाव दिये जा रहे हैं जिनका पालन करने से स्‍वस्‍थ गर्भावस्‍था का आनंद लिया जा सकता है।

  • आप अपने लिए भोजन संबंधी एलर्जी का निर्धारण करें। यदि आपको कुछ विशेष खाद्य पदार्थों से एलर्जी है तो उनका सेवन न करें।
  • भूख लगने पर कभी भी सस्‍ते और फास्‍ट फूड का सेवन न करें। विशेष रूप से जो सड़कों के किनारे तैयार किये जाते हैं और आस-पास स्‍वच्‍छता की कमी होती है।
  • कीटनाशकों और हानिकारक रसायनों से बचने के लिए हमेशा जैविक भोजन करना चाहिए।
  • पौष्टिक आहार के साथ ही सप्‍लीमेंट्स भी समय पर लें।
  • अपने आप को हमेशा हाइड्रेट रखें।

(और पढ़ें – प्रेगनेंसी में प्रोटीन पाउडर)

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने में कितना भोजन करना चाहिए – How Many Meals Should I Eat Per Day During 3rd Month Pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान भोजन करने की सामान्‍य मात्रा से अधिक भोजन करना चाहिए। इस दौरान आपके चिकित्‍सक एक या दो बार अधिक मात्रा में भोजन करने के बजाय दिन में कई बार कम-कम मात्रा में भोजन करने की सलाह दे सकते हैं। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन 4 भोजन और बीच में 3 बार हल्‍के नाश्‍ते के रूप में आहार करना चाहिए। आप भोजन के दौरान अपनी पसंद के अनुसार फल और सब्जियों को भी शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें – आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम)

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में सामान्‍य खाद्य एलर्जी क्‍या है – What Are The Common Food Allergies in 3rd Month Pregnancy Diet in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान आमतौर पर खाद्य एलर्जी का अनुभव होता है। इनमें से कुछ एलर्जी की प्रतिक्रिया बचपन से ही होती है जबकि कुछ प्रकार की एलर्जी गर्भावस्‍था के दौरान नई होती हैं। गर्भावस्‍था के तीसरे महीने के दौरान होने वाली कुछ आम खाद्य एलर्जी में लैक्‍टोज एलर्जी, साइट्रिक एसिड, बैंगन, समुद्री भोजन, मूंगफली, खसखस आदि से एलर्जी हो सकती है। इस प्रकार के खाद्य पदार्थों से त्‍वचा में चकत्ते, छींकना, पेट की गड़बडी, सांस फूलना और खुजली जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं। यदि आपको भी इनमें से किसी भी एक प्रकार की समस्‍या होती है तो इन खाद्य पदार्थों का सेवन बंद कर दें और तुरंत ही डॉक्‍टर से संपर्क करें।

(और पढ़ें – एलर्जी के घरेलू उपाय और उपचार)

तीसरे महीने की गर्भावस्‍था के लिए आहार संबंधी सावधानी – Any Precautions To Be Taken While Following Pregnancy Diet in Hindi

प्रेगनेंसी के तीसरे महीने में प्रेगनेंसी डाइट का पालन करने के लिए कोई विशेष सावधानियां नहीं है। इस दौरान महिलाओं को अपने आहार में लगभग सभी प्रकार के पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थों का सेवन करना चाहिए। हालांकि जिन खाद्य पदार्थों से उन्‍हें एलर्जी होती है उनसे बचना ही अच्‍छा विकल्‍प है।

(और पढ़ें – प्रेगनेंसी में ट्रेन का सफर)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration