पीलिया रोग के लिए योगासन – Yoga For Jaundice In Hindi

पीलिया रोग के लिए योगासन - Yoga For Jaundice In Hindi
Written by Jaideep

यदि आप अपने लिवर को दुरुस्त रखना चाहते हैं, तो योगासन आपके लिए बेहत मददगार साबित हो सकता है अगर आपका शरीर पीला पड़ रहा है तो ये पीलिया का लक्षण हो सकता है। पीलिया को अंग्रेजी में जॉन्डिस भी कहा जाता है। आइये जानें पीलिया रोग को दूर करने के लिए योगासन के नाम और करने की विधि और तरीका हिंदी में। पीलिया यकृत (लीवर) में होने वाली एक गंभीर बीमारी है जिसकी वजह से त्वचा का रंग, श्लेष्मा झिल्ली और आँखों का रंग पीला हो जाता हैं। हम सभी जानते हैं कि लीवर हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है तो इसका अच्छी तरह से काम करना आवश्यक है। पीलिया के इलाज के लिए आपको तीन स्तरों मानसिक, शारीरिक और आहार स्तर पर काम करना चाहिए। पीलिया के दौरान आप मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से कमजोर महसूस करते हैं।

आप मन को सकारात्मक और तनावमुक्त रखने के लिए कुछ योगासन को कर सकते हैं। आइये पीलिया रोग को दूर करने लिए योग आसन को विस्तार से जानते है।

1. पीलिया क्या है – What is Jaundice In Hindi
2. पीलिया रोग के लिए योग – Piliya Ke Liye Yoga In Hindi

पीलिया क्या है – What is Jaundice In Hindi

पीलिया क्या है – What is Jaundice In Hindi

 

पीलिया एक प्रकार का रोग हैं जो कि लीवर में होता है। पीलिया फ्रांसीसी शब्द “Jaune” से आया है जिसका अर्थ है पीला होता है। पीलिया आमतौर पर चेहरे से शुरू होकर, पैरों की ओर (Top To Bottom) बढ़ते हुए दिखाई देता है और नीचे से ऊपर की ओर (Bottom To Top) ठीक होता है। यह रोग व्यक्ति को किसी भी उम्र में हो सकता है। योग के द्वारा लिवर को स्ट्रांग बनाकर पीलिया को ठीक किया जा सकता है।

(और पढ़ें – पीलिया का घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज)

पीलिया रोग के लिए योग – Piliya Ke Liye Yoga In Hindi

  1. पीलिया को दूर करने के लिए योग कपालभाति प्राणायाम – Kapalbhati Pranayama For Jaundice In Hindi
  2. पीलिया के लिए योग धनुरासन – Dhanurasana Yoga For Jaundice In Hindi
  3. जॉन्डिस को दूर करने के लिए योग नौकासन – Naukasana Yoga For Jaundice In Hindi
  4. पीलिया रोग को दूर करने के लिए योगासन अर्धमत्स्येन्द्रासन – Ardha Matsyendrasana Yoga For Jaundice In Hindi
  5. जॉन्डिस रोग के लिए योग सर्वांगासन – Piliya Ke Liye Yoga Sarvangasana In Hindi
  6. पीलिया का उपचार के लिए योग गोमुखासन – Piliya Ke Liye Yoga Gomukhasana In Hindi
  7. पीलिया रोग को दूर करने के लिए योगासन बद्ध-पद्मासन – Baddha Padmasana Yoga For Jaundice In Hindi
  8. पीलिया रोग के लिए योग निद्रा – Piliya Rog Ke Liye Yoga Nidra In Hindi

जब आपको पीलिया होता है तो आपको यकृत में पित्त के अतिरिक्त स्राव होता है इससे छुटकारा पाने के लिए योगा और प्राणायाम के माध्यम से शरीर में ऊर्जा का संचार करना चाहिए, जो पीलिया का प्राथमिक कारण है। यकृत के कार्यों को महत्वपूर्ण बनाने के लिए कुछ योग आसनों का अभ्यास किया जा सकता है।

(और पढ़ें – नवजात शिशु में पीलिया (जॉन्डिस) के लक्षण, कारण और इलाज)

पीलिया को दूर करने के लिए योग कपालभाति प्राणायाम – Kapalbhati Pranayama For Jaundice In Hindi

पीलिया को दूर करने के लिए योग कपालभाति प्राणायाम - Kapalbhati Pranayama For Jaundice In Hindi

प्राणायाम एक साँस लेने का व्यायाम है जो यकृत के सिरोसिस, पीलिया, हेपेटाइटिस और अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों के यकृत के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। कपालभाति प्राणायाम योग जो यकृत को उत्तेजित करता है और विभिन्न प्रकार की यकृत समस्याओं का प्रभावी ढंग से इलाज करता है। यह प्लीहा की कार्यक्षमता में भी मदद करता है। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को जमीन पर बिछाकर पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं। अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रखे और ध्यान की मुद्रा में बैठे। साँस अन्दर को ओर ले अब साँस को बाहर छोड़ते हुए पेट को अन्दर की ओर इस प्रकार खींचे की पेट और पीठ आपस में मिल जाएं। फिर साँस को अन्दर ले ओर पेट को ढीला करें। यह क्रिया फिर से दोहराहएं। कपालभाति प्राणायाम को पांच मिनट तक लगातार दोहराएं।

(और पढ़ें – कपालभाति करने का तरीका और लाभ)

पीलिया के लिए योग धनुरासन – Dhanurasana Yoga For Jaundice In Hindi

पीलिया के लिए योग धनुरासन - Dhanurasana Yoga For Jaundice In Hindi

धनुरासन योग उन लोगों के लिए अद्भुत काम करता है जो फैटी लीवर की बीमारी से पीड़ित हैं। यह लीवर को उत्तेजित, मजबूत और स्ट्रेच करता है, और इसमें जमें वसा को शरीर के लिए ऊर्जा स्रोत के रूप में उपयोग किया जाता है। इस आसन को करने के लिए आप एक योगा मैट बिछा के उस पर पेट के बल लेट जाएं, दोनों हाथों को शरीर के समान्तर रखें और पैरों को पीछे की ओर मोड़ लें। अब अपने हाथों को पीछे ले जाएं और दोनों पैरों को दोनों हाथों से पकड़ लें। इस आसन में 20 से 30 सेकंड तक रुकने का प्रयास करें। अंत में दोनों हाथों को खोल के अपनी प्रारंभिक स्थिति में आयें।

(और पढ़ें – धनुरासन करने के फायदे और करने का तरीका)

जॉन्डिस को दूर करने के लिए योग नौकासन – Naukasana Yoga For Jaundice In Hindi

नौकासन या नवासन जिसे नाव मुद्रा के रूप में जाना जाता है। यह यकृत कैंसर के इलाज में मदद करने के लिए एक सरल अभी तक प्रभावी आसन है। नौकासन योग के से आप अपने लीवर की उत्तेजना और मजबूती में मदद कर सकते हैं, जिससे यह आपके शरीर के सभी हानिकारक विषाक्त पदार्थों को साफ कर देता है। नवासना करने के लिए आप एक योगा मैट को बिछा के दण्डासन में बैठ जाएं। अब दोनों पैरों को सीधा रखें हुए ऊपर की ओर उठायें। आप थोड़ा सा पीछे की ओर झुक जाएं जिससे संतुलन बना रहे, हाथों को अपने आगे की ओर सीधा और फर्श के समान्तर रखें। इस मुद्रा में अपनी कमर पर 45 डिग्री का कोण बनाए। इस आसन को आप 20 से 60 सेकंड तक करने का प्रयास करें।

(और पढ़ें – नावासन (नौकासन) करने का तरीका और फायदे)

पीलिया रोग को दूर करने के लिए योगासन अर्धमत्स्येन्द्रासन – Ardha Matsyendrasana Yoga For Jaundice In Hindi

पीलिया रोग को दूर करने के लिए योगासन अर्धमत्स्येन्द्रासन - Ardha Matsyendrasana Yoga For Jaundice In Hindi

यह एक ऐसा पोज है जिसे फिश पोज के बादशाह के रूप में भी जाना जाता है। यह लिवर के लिए अत्यधिक फायदेमंद होता है। यह लीवर पर दबाव डालने में मदद करता है और फाइब्रोसिस (Fibrosis), एपोप्टोसिस (Apoptosis), सूजन और तनाव से क्षतिग्रस्त लीवर को मजबूत और उत्तेजित करता है। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को बिछा के उस पर दण्डासन में बैठ जाएं। अपने दायं पैर को बाएं पैर के घुटने के साइड में बाहर की ओर रखें। रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें अपने गर्दन कंधे और कमर को दाहिनी ओर घुमा लें। कुछ सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहे और फिर यही पूरी प्रक्रिया दूसरे पैर से करें।

(और पढ़ें –अर्ध मत्स्येन्द्रासन के फायदे और करने का तरीका)

जॉन्डिस रोग के लिए योग सर्वांगासन – Piliya Ke Liye Yoga Sarvangasana In Hindi

पीलिया रोग में सर्वांगासन योग बहुत ही फायदेमंद होता है। यह यकृत, गुर्दे और श्वसन प्रणाली को मजबूत करने में भी मदद करता है। इसके अलावा आप एक स्वस्थ जिगर और मजबूत प्रतिरक्षा के लिए सर्वांगासन योग करें। इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट के सीधे पीठ के बल लेट जाएं। अपने दोनों हाथों को सीधा रखें। अब अपने दोनों पैरों को कमर के यहाँ से मुड़े और उनकों ऊपर करें। इसके बाद अपने दोनों हाथों से पीठ को सहारा देते हुए उठायें। अपने पैरों को अधिकतम ऊंचाई तक ऊपर करें। इस स्थिति में आपकी रीड की हड्डी और आपके पैर एक सीधी रेखा में रहने चाहियें।

आपके शरीर का पूरा वजन कन्धों पर होगा और दोनों हाथ पीठ को ऊपर की ओर सीधा रखने में सहायता करेगें। इस आसन में आपको कम से कम 30 सेकंड तक रुकना हैं उसेक बाद पैरों को नीचे करते हुए अपनी प्रारंभिक अवस्था में आना हैं।

(और पढ़ें – सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे)

पीलिया का उपचार के लिए योग गोमुखासन – Piliya Ke Liye Yoga Gomukhasana In Hindi

गोमुखासन योग को काउ फेस पोज़ के नाम से भी जाना जाता है। यह सिरोसिस (Cirrhosis) के इलाज के लिए सबसे अच्छे आसनों में से एक है। जब आप यकृत सिरोसिस (Liver Cirrhosis) से पीड़ित होते हैं, तो ऑक्सीजन और रक्त प्रवाह को घाव के निशान वाले ऊतकों द्वारा रोका जाता है। जिससे आपका लीवर विषाक्त पदार्थों और रोगजनक बैक्टीरिया को हटाने और वसा को चयापचय करने में असमर्थ हो जाता है। गोमुखासन योग करने से आपका लिवर उत्तेजित हो जाता है, जिससे ऑक्सीजन और रक्त इसके माध्यम से मुक्त रूप से प्रवाहित होते है। इस आसन को करने के लिए आप आप सबसे एक योगा मैट बिछा के सुखासन में बैठ जाएं।

अपने दाएं पैर को खिंच के अपने शरीर के पास लाएं फिर अपने बाएं पैर को भी खिंच के दाएं पैर की जांघ के ऊपर से अपने पास लाएं। अब अपने दाएं हाथ को कंधे के ऊपर से पीठ पर ले जाएं और बाएं हाथ को कोहनी के यह से मोड़ें के पीठ के पीछे ले जाये और अपने दोनों हाथों को आपस में मिला लें। आप इस स्थिति में कुछ समय तक रहें।

(और पढ़ें – गोमुखासन करने का तरीका और फायदे)

पीलिया रोग को दूर करने के लिए योगासन बद्ध-पद्मासन – Baddha Padmasana Yoga For Jaundice In Hindi

बद्ध-पद्मासन योग आपके पेट के अंगों खासकर लिवर को टोन और मजबूत बनाने में मदद करता है। बद्ध पद्मासन करने के लिए सबसे पहले आप फर्श पर पद्मासन या कमल की मुद्रा में बैठ जाएं। इसके बाद अपने दोनों हाथों को पीछे की ओर ले जाएं विपरीत स्थिति में अपने अंगूठों को पकड़े अर्थात अपने दाएं हाथ से बाएं पैर के अंगूठे को पकड़े और बाएं हाथ से दाएं पैर के अंगूठे को पकड़ें। बद्ध पद्मासन में अपने रीढ़ की हड्डी और सिर को एक सीधी रेखा में रखें। इसे आप कम से कम 30 सेकंड एक लिए करें।

(और पढ़ें – बद्ध पद्मासन करने का तरीका और फायदे )

पीलिया रोग के लिए योग निद्रा – Piliya Rog Ke Liye Yoga Nidra In Hindi

पीलिया रोग के लिए योग निद्रा - Piliya Rog Ke Liye Yoga Nidra In Hindi

योग निद्रा शरीर और दिमाग के लिए एक अच्छी आराम देने वाली तकनीक है और शरीर को प्राकृतिक रूप से ऊर्जा भरने में मदद करती है, जिससे उसे अच्छी नींद मिलती है। योग निंद्रा आसन को करने के लिए आप किसी खुले शांत स्थान पर योगा मैट बिछाकर लेट जाएं। हाथों को सीधा और अपने दोनों पैरों के बीच थोड़ी दूरी रखें। अब आंखे बंद करके सामान्य रूप से साँस ले और अपने मन में आने वाले सभी विचारों को रोक दें और कुछ भी ना सोचें। इसे अपनी क्षमता के अनुसार बिना कर सकते है।

(और पढ़ें – योग निद्रा क्या है करने का तरीका और लाभ)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration