गोमुखासन करने का तरीका और फायदे – Gomukhasana (Cow Face Pose) steps and benefits in Hindi

गोमुखासन करने का तरीका और फायदे - Gomukhasana (Cow Face Pose) steps and benefits in Hindi
Written by Shivam

Gomukhasana in hindi गोमुखासन जैसे कि नाम से ही स्पष्ट हैं की इस आसन को करने में व्यक्ति की स्थिति गाय के समान दिखाई देती हैं। योग का यह आसन करने में बहुत ही सरल हैं। गोमुखासन महिलाओं के लिए बहुत ही लाभदायक होता हैं। वजन को कम करने के लिए और अपने शरीर को सुन्दर बनाने के लिए यह आसन बहुत ही फायदेमंद होता हैं। गोमुखासन हमारे कन्धों और जांघों की मांसपेशियों को मजबूत करता हैं। आइये गोमुखासन करने के तरीके और लाभ को विस्तार से जानते हैं।

  1. गोमुखासन क्या हैं – What in Gomukhasana in Hindi
  2. गोमुखासन करने से पहले किये जाने वाले आसन  – Gomukhasana (Cow Face Pose) karne se pahle ye aasan kare in Hindi
  3. गोमुखासन योग करने की विधि – Gomukhasana karne ki vidhi in Hindi
  4. शुरूआती लोगों के लिए गोमुखासन करने के टिप्स – Beginner’s Tips to do Gomukhasana in Hindi
  5. गोमुखासन योग के फायदे – Gomukhasana ke fayde in Hindi

गोमुखासन क्या हैं – What in Gomukhasana in Hindi

गोमुखासन एक संस्कृत का शब्द हैं जो दो शब्दों से मिलके बना हैं जिसमे पहला शब्द “गौ” का अर्थ “गाय” हैं और दूसरा शब्द “मुख” का अर्थ “ मुँह” हैं। इस आसन का सम्पूर्ण अर्थ गाय के मुँह के समान होता हैं। इसे अंग्रेजी में काऊ फेस पॉज़ (Cow Face Pose) के नाम से जाना जाता हैं। गौ शब्द का अर्थ प्रकाश भी होता हैं। इस आसन में जांघें और दोनों हाथ एक छोर पर पतले और दूसरे छोर पर चौड़े होते हैं जिसके कारण वो गाय के मुख के समान दिखाई देते हैं। यह हठ योग में की श्रेणी में सबसे प्रचलित आसन हैं। आइये इस योग को करने की विधि को विस्तार से जानते हैं।

(और पढ़ें – मयूरासन करने की विधि और फायदे)

गोमुखासन करने से पहले किये जाने वाले आसन  – Gomukhasana (Cow Face Pose) karne se pahle ye aasan kare in Hindi

गोमुखासन योग करने की विधि – Gomukhasana karne ki vidhi in Hindi

गोमुखासन योग के लाभ को देख के हर व्यक्ति इस योग को करना चाहता हैं, हम इस आसन को करने की कुछ स्टेप दे रहे हैं जिसका पालन करके आप इस योग को आसानी से कर सकते हैं-

  • इस आसन को करने के लिए आप खुले हवादार स्थान पर चटाई बिछा के सुखासन या क्रॉस पैर वाली मुद्रा में बैठ जाएं।
  • इसके बाद अपने बाएं पैर को अपने शरीर की ओर खींच के उसे अपने पास ले आयें।
  • उसके बाद अपने दायं पैर को बाएं पैर की जांघों के ऊपर रखें और उसे भी खींच के अपने शरीर के पास ले आयें।
  • अब अपने दाएं हाथ को कंधे के ऊपर करें और कोहनी के यहाँ से मोड़ के अपनी पीठ के पीछे जितना अधिक हो सकता हैं लें जाएं।
  • अब अपने बाएं हाथ को भी कोहनी के यहाँ से मोड़े और पेट के साइड से पीछे की ओर पीठ पर लेके जाएं।
  • अब दोनों हाथों को खींच के आपस में मिलाने की कोशिश करें।
  • और पीठ के पीछे हाथों को एक दूसरे से पकड़ लें।
  • अब इस आसन में कुछ देर तक रहें और 10-12 बार साँस लें।
  • जब आपको इस स्थिति में असुविधा होने लगे तो आप पुनः अपनी प्रारंभिक स्थिति में आयें
  • इसके लिए अपने दोनों को हाथों को खोलें और पैरों को सीधा करें।

(और पढ़ें – कपोतासन के फायदे और करने का तरीका )

शुरूआती लोगों के लिए गोमुखासन करने के टिप्स – Beginner’s Tips to do Gomukhasana in Hindi

अगर आप योग करने में नए हैं, अभी अभी योग करना स्टार्ट किया हैं या आप अपने दोनों हाथों को पीठ के पीछे मिलाने में असमर्थ हैं तो आप किसी रस्सी को एक हाथ में लेके दूसरे हाथों से उसे पकड़े और अपने दोनों हाथों पर खिचाब लगाएं।

(और पढ़ें – योग मुद्रा क्या है प्रकार और फायदे )

गोमुखासन योग के फायदे – Gomukhasana ke fayde in Hindi

इस योग करने के अनेक लाभ हैं आइये गोमुखासन के लाभ को विस्तार से जानते हैं-

गोमुखासन के फायदे जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए – Gomukhasana benefits To fix joints pain in Hindi

गोमुखासन शरीर के जोड़ो के दर्द को कम करने में मदद करता हैं, इस आसन से कंधे का दर्द, पीठ दर्द, रीड की हड्डी का दर्द, कटिस्नायुशूल, जांघों के दर्द आदि को कम करता हैं और दर्द कम करने के बाद इसको मजबूत करता हैं।

(और पढ़ें – योग निद्रा क्या है करने का तरीका और लाभ)

महिलाओं के लिए गोमुखासन योग के लाभ – Gomukhasana benefits for women in Hindi

योग के इस आसन से शरीर के आकार को एक आकर्षक रूप दिया जा सकता हैं। गोमुखासन से महिलाएं अपने स्तनों के आकार में वृद्धि कर सकती हैं। और अपने हिप्स को भी मजबूत और सुडौल कर सकती हैं साथ ही यह आपके कूल्हों को फैलाता है।

(और पढ़ें – हिप्स कम करने के लिए एक्सरसाइज)

गोमुखासन योग के लाभ से मधुमेह के रोग को ठीक करें – Gomukhasana benefits for Diabetes in Hindi

मधुमेह के रोगीओं के लिए गोमुखासन एक अच्छा आसन हैं, यह आसन गुर्दे का काम बढ़ा देता हैं जिससे मधुमेह से पीड़ितों को आराम मिलता हैं। अगर आप मधुमेह के रोगी हैं तो इस आसन के नियमित रूप से करें।

(और पढ़ें – शलभासन करने की विधि और फायदे)

अस्थमा के रोगीओं के लिए गोमुखासन योग के फायदे –  Gomukhasana benefits for Asthma in Hindi

यह आसन श्वास सम्बन्धी रोगी के लिए लाभदायक होता हैं, यह फेफड़ों को फैलता जिससे ऑक्सीजन शरीर में अधिक जाती हैं। यह आसन छाती को स्वस्थ बनता हैं और फेफड़ो की सफाई भी करता हैं, इस आसन का लाभ लेने के लिए इसे नियमित रूप से करें।

(और पढ़ें – अस्थमा (दमा) के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव)

गोमुखासन योग के फायदे मानसिक तनाव को कम करने के लिए – Gomukhasana benefits To reduce mental stress in Hindi

गोमुखासन डिप्रेशन, तनाव या टेंशन आदि को खत्म करने के लिए एक अच्छा आसन हैं यह मासिक तनाव को कर के हमारे मन को शांति प्रदान करता हैं। जिससे आप किसी भी कार्य को पूरे मन से कर पते हैं।

(और पढ़ें – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार)

प्रजनन क्षमता को बढ़ने के लिए गोमुखासन के फायदे – Gomukhasana benefits for Enhancing fertility in Hindi

गोमुखासन को नियमित रूप से अभ्यास करने से यह प्रजनन अंगों को उत्तेजित करता हैं। यह लैंगिक परेशानीयों को दूर करता हैं। और प्रजनन क्षमता को बढ़ता हैं। यह स्त्री रोगों को दूर करने का बहुत ही असरदायक उपचार हैं।

(और पढ़ें – महिला बांझपन के कारण, लक्षण, निदान और इलाज)

गोमुखासन करने का समय – Gomukhasana karne ka samay in Hindi

किसी भी योग को करने का एक निश्चित समय होता हैं, गोमुखासन योग का अधिकतम लाभ लेने के लिए इसे सुबह के समय करें। इस आसन को करने के लिए कम से कम 10 से 12 घंटे के लिए अपना पेट खली रखना जरूरी होता हैं इसलिए इस योग आसन के लिए सुबह के समय बहुत ही अच्छा माना जाता हैं।

(और पढ़ें – सूर्य नमस्कार करने का तरीका और फायदे )

गोमुखासन करने में सावधानी – Gomukhasana karne me savdhani in Hindi

किसी भी आसन को करने से पहले उसकी सावधानी जानना बहुत ही आवश्यक होता हैं, गोमुखासन करते समय कुछ सावधानियां निम्न हैं

  • अगर आपको कंधे, गर्दन, घुटने में दर्द हैं तो आप इस आसन को ना करें।
  • अगर आप पीठ दर्द से पीड़ित हैं तो इस आसन को करने से पहले आप डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • अगर आप गर्भवती महिला हैं तो पहले के तीन माह में इस आसन को ना करें।
  • अगर आपके बबासीर से खून आ रहा हैं तो आप इस आसन को ना करें।
  • अगर पीठ के पीछे हाथ को पकड़ने में परेशानी हो रही हैं तो जबरदस्ती ना करें।
  • रीड की हड्डी में किसी भी प्रकार की समस्या या दर्द हो तो इस आसन को ना करें।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration