कपोतासन के फायदे और करने का तरीका - Kapotasana (Pigeon Pose) Steps And Benefits In Hindi
योग

कपोतासन के फायदे और करने का तरीका – Kapotasana (Pigeon Pose) Steps And Benefits In Hindi

कपोतासन के फायदे और करने का तरीका - Kapotasana (Pigeon Pose) Steps And Benefits In Hindi

Kapotasana In Hindi कपोत्ताससन योग या पिजन पोज (pigeon pose) को कबूतर मुद्रा के नाम से भी जाना जाता है। योग के प्रमुख आसन में से कपोतासन एक अच्छा आसन हैं जो हमारे शरीर से चर्बी को खत्म कर करने में मदद करता हैं। आज की व्यस्त जिन्दगी में लोग अपने शरीर के लिए समय नहीं निकल पाते हैं दिन भर ऑफिस में बैठ के काम करने से, शारीरिक परिश्रम नहीं करने के कारण अनेक शारीरिक समस्या जैसे मोटापा, वजन बढ़ना आदि समस्या हो सकती हैं। लोगों के पास इतना समय भी नहीं रहता हैं कि वो घंटो जिम में जाकर व्यायाम करें, अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए योग बहुत अच्छा माध्यम हो सकता हैं। इसे सुबह कम समय में भी कर सकते हैं। नियमित रूप से योग करने से विभिन्न प्रकार के रोगों में लाभ मिलता हैं। आइये कपोतासन करने कि विधि और उसके लाभों को विस्तार से जानते हैं।

विषय सूची

1. कपोतासन क्या हैं – what is pigeon pose in Hindi
2. कपोतासन करने का तरीका – Kapotasana karne ka tarika in Hindi
3. कपोतासन के फायदे – kapotasana benefits in hindi

4. कपोतासन करने में क्या सावधानी बरती जाए – Kapotasana karne me kya savdhani barti jaye in Hindi

कपोतासन क्या हैं – what is pigeon pose in Hindi

कपोतासन मुद्रा को कबूतर मुद्रा के नाम से भी जाना जाता हैं। कपोतासन शब्द से संस्कृत भाषा से लिए गया हैं जो दो शब्दों से मिलके बना हैं जिसे में कपाता (कपोत) शब्द का अर्थ “कबूतर” हैं और आसन का अर्थ “मुद्रा” हैं। जब कोई इस मुद्रा को करता हैं तो वह कबूतर पक्षी के सामान सुन्दर दिखाई देता हैं। यह मुद्रा आपकी रीड की हड्डी और दिमाग के विकास में मदद करता हैं। इस योग से आपके शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती हैं। यह आपके शरीर को खिचाव भी देता हैं, यह जो अनेक प्रकार की बीमारियों से हमारी रक्षा करता हैं। आइये जानते हैं कपोतासन करने की विधि और उसके लाभों को।

(और पढ़े – योग क्‍या है योग के प्रकार और फायदे हिंदी में…)

कपोतासन करने का तरीका – Kapotasana karne ka tarika in Hindi

कपोतासन के लाभ को जानने से पहले इसके करने का तरीका जनना बहुत ही आवश्यक हैं, किसी भी योग को करने से पहले उसके बारे में सम्पूर्ण जानकरी होना बहुत जरूरी होता हैं, आइये कपोतासन करने की विधि को क्रमानुसार विस्तार से जानते हैं-

  • कपोतासन (कबूतर मुद्रा) करने के लिए सबसे पहले वज्रासन में बैठ जाएं या आप उष्ट्रासन में बैठ के भी कर सकते हैं।
  • वज्रासन में बठने के बाद आप गहरी साँस लें और अपने दोनों हाथों को पीछे की ओर कमर के पास रखें।
  • या उष्ट्रासन में बैठ के अपने दोनों हाथों को पैरों के पंजो पर रखें।
  • उष्ट्रासन में बैठ के शरीर के उपरी हिस्से को यानि अपनी गर्दन को पीछे की ओर झुकाएं और उसके बाद धीरे धीरे अपनी कमर को भी साथ में पीछे की ओर झुकाते जाएं।
  • अपने दोनों हाथों को अपने पैरों के पीछे जमीन की ओर ले जाने की कोशिश करें।
  • अगर आपको पीछे झुकने पर हाथ को फर्श से टिकने में असुविधा हो तो आप वज्रासन का प्रयोग करें इससे आपको अपने हाथ पीछे जमीन से टिकने में आसानी होगी।
  • जमींन से दोनों हाथ टिकने के बाद आप अपने दोनों हाथों को अपने दोनों पैरों की ओर धीरे धीरे खिसकाएं।
  • इस स्थिति में आपके दोनों हाथ कोहिनी के यहाँ से मुड़ जायेगें।
  • कुछ सेकंड आप इस मुद्रा में रहने उसके बाद फिर से अपने हाथों को पैरों के पंजों के पास लेके आयें और पंजों के ऊपर रख के अपनी एड़ी को पकड़ लें।
  • इस मुद्रा में आप कबूतर की मुद्रा में आ जायेगें।
  • अब आप इस मुद्रा में कुछ देर तक अपनी क्षमता अनुसार बने रहें।
  • अंत में हाथों का सहारा लेते हुए पैरों को सीधा करें और पुनः अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(और पढ़े – वज्रासन करने का तरीका और फायदे…)

कपोतासन के फायदे – Kapotasana benefits in Hindi

वैसे तो योग की सभी मुद्रा करने से लाभ होता हैं उसी प्रकार कपोतासन करने के भी अनेक लाभ हैं। यह हमें अनेको प्रकार के रोगों से मुक्ति दिलाता हैं, आइये कपोतासन के लाभ को विस्तार से जानते हैं।

कपोतासन के फायदे शारीरिक दर्द को ठीक करने के लिए – Kapotasana Benefits for physical pain in Hindi

कपोतासन के फायदे शारीरिक दर्द को ठीक करने के लिए – Kapotasana Benefits for physical pain in Hindi

कपोतासन आपके शरीर के विभिन्न प्रकार के दर्द को ठीक करने लिए लाभ दायक होता हैं यह आसन आपके कन्धों के दर्द, रीढ़ की हड्डी का दर्द, पिंडली का दर्द और हाथों में लोच बढ़ने में मदद करता हैं।

(और पढ़े – मांसपेशियों में खिंचाव (दर्द) के कारण और उपचार…)

रोगों को ठीक करे कपोतासन – Kapotasana Benefits for Diseases in Hindi

रोगों को ठीक करे कपोतासन – Kapotasana Benefits for Diseases in Hindi

इस आसन से आप विभिन्न प्रकार के रोगों को भी ठीक कर सकते हैं यह आसन साइटिका, ब्लड प्रेशर, पाचन की समस्या आदि को ठीक करता हैं। मूत्र संबंधी विकारों का इलाज करने में मदद करता हैं। यह तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करता है और इससे ऑक्सीजन का सेवन भी बढ़ाता है, यह आपके फेफड़ो को मजबूत बनता हैं।

(और पढ़े – मूत्राशय में संक्रमण के कारण, लक्षण और बचाव…)

कपोतासन के लाभ से जोड़ो के दर्द को ठीक करें – Kapotasana ke fayde for Joint pain in Hindi

कपोतासन के लाभ से जोड़ो के दर्द को ठीक करें - Kapotasana ke fayde for Joint pain in Hindi

यह कूल्हों, पीठ दर्द और कंधों के दर्द को ठीक करने मदद करता हैं और उनको मजबूत करता है। कपोतासन के लाभ आपके पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करते हैं और जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं।

(और पढ़े – जोड़ों में दर्द का घरेलू उपचार…)

कपोतासन योग करने के फायदे मानसिक शांति के लिए – Kapotasana ke fayde for mantle piece in Hindi

कपोतासन योग करने के फायदे मानसिक शांति के लिए – Kapotasana ke fayde for mantle piece in Hindi

योग की कपोतासन मुद्रा आपको मानसिक शांति प्रदान करने में मदद करती हैं। यह हमारे तनाव को कम कर देती हैं, जिससे आपका किसी भी कार्य को करने में अधिक मन लगता हैं, और आप उस कार्य को अच्छे से कर पाते हैं।

(और पढ़े – गुस्से को कंट्रोल और मन शांत करने के आसान उपाय…)

कपोतासन करने में क्या सावधानी बरती जाए – Kapotasana karne me kya savdhani barti jaye in Hindi

योग की इस मुद्रा को करने से पहले आपको इसके बारे में कुछ महत्त्वपूर्ण जानकारी होना आवश्यक हैं जैसे कि इसकी सावधानी का पता होना चाहियें, इसे कब करें, कब ना करें आदि। नीचे कुछ सावधानियां जा रही हैं जो आपको कपोतासन करने से पहले ध्यान में रखना हैं।

  • यह आसन करने लिए योगा ट्रेनर की आवश्यकता होती, उसके बिना यह आसन ना करें।
  • कपोतासन करने के लिए अपने पेट को 4 से 6 घंटे तक अपने पेट को खाली रखें उसके बाद इस आसन को करें।
  • यह आसन वो लोग ना करें जो योग करने की अभी शुरुआत कर रहें।
  • कपोतासन योग आसन में खाली पेट होना आवश्यक होता हैं इसलिए इस आसन को सुबह समय करना चाहियें।
  • गर्भवती महिलाएं कपोतासन योग को ना करें।
  • अगर आपके घुटनों में दर्द हैं तो आप इस आसन को ना करें।
  • इसे आसन को आराम से करें जल्दबाजी में ना करें नहीं तो यह नुकसानदायक हो सकता हैं।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी में करें प्री नेटल योग जो है मां और बच्चों के लिए फ़ायदेमंद…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration