गर्भावस्‍था के दौरान सबसे बेस्‍ट सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions during Pregnancy in Hindi




गर्भावस्‍था के दौरान सबसे बेस्‍ट सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions during Pregnancy in Hindi
Written by Daivansh

क्या आप जानतीं हैं गर्भवती के लिए सेक्‍स की सबसे बेस्‍ट पॉजिशन कौन सी हैं, गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स पोजीशन का ज्ञान होना बहुत ही आवश्‍यक है। सभी महिलाओं के लिए गर्भावस्‍था उनके जीवन का सबसे महत्‍वपूर्ण समय होता है। इस दौरान महिला को विशेष देखभाल और आराम की जरूरत है। लेकिन इस दौरान उनका खुश रहना भी बहुत ही आवश्‍यक है। जैसा कि हम सभी जानते हैं गर्भावस्‍था का समय 9 माह का होता है लेकिन इसकी तैयारी पहले से ही की जाती है। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि सेक्‍स मानव जीवन का अभिन्‍न अंग है, चूंकि गर्भावस्‍था का समय लंबा होता है और गर्भावस्‍था के दौरान अधिकांश महिलाओं में सेक्‍स करने की इच्‍छा तीव्र होती है। इसलिए इस दौरान सेक्‍स नहीं करना मुश्किल काम माना जाता है।

इसलिए गर्भावस्था के दौरान सेक्स करते समय पॉजिशन का ध्‍यान रखना जरूरी होता है। लेकिन गर्भावस्‍था के दौरान जब तक डॉक्‍टर सेक्स करने की सलाह न दे तब तक सेक्‍स करना सुरक्षित नहीं होता है। इसलिए यदि आपके डॉक्टर ने गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स करने की अनुमति दे दी है तो आप इस आर्टिकल में आप गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स पोजीशन के बारे में जानकर उनका इस्तेमाल कर सकते हैं।

1. गर्भावस्‍था की सेक्‍स पोजीशन – Garbhavastha Ki Sex Position in Hindi
2. गर्भावस्‍था की पहली तिमाही के लिए सेक्‍स पोजीशन – Garbhavastha ki 1st timahi ke liye sex position in Hindi

3. दूसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन – Dusri timahi ke doran sex position in Hindi

4. तीसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन – Tisri timahi ke duran sex position in Hindi

5. गर्भावस्‍था के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during Pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था की सेक्‍स पोजीशन – Garbhavastha Ki Sex Position in Hindi

गर्भावस्‍था की सेक्‍स पोजीशन - Garbhavastha Ki Sex Position in Hindi

मान्‍यताओं के विपरीत गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स करना सुरक्षित होता है। बल्कि कुछ महिलाओं के लिए गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स करना फायदेमंद भी होता है क्‍योंकि यह उनके शरीर में हार्मोन असंतुलन को नियंत्रित करते हैं। गर्भावस्‍था के दौरान महिलाएं अक्‍सर तनाव ग्रस्‍त रहती है लेकिन इस दौरान सेक्‍स करने से उन्हें मानसिक तनाव से राहत मिल सकती है। गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स पोजीशन न केवल दोनो भागीदारों की इच्‍छाएं पूरी करने मदद करती हैं बल्कि गर्भ में शिशु को भी सुरक्षा दिलाने में भी सहायक होती हैं। यदि आप और आपका साथी गर्भावस्‍था के दौरान यौन सुख प्राप्‍त करना चाहते हैं तो उन्‍हें किसी स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लेना चाहिए।

आइए जाने गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स करने के कुछ आसान से टिप्‍स जो गर्भावस्‍था के दौरान सुरक्षित यौन संबंध बनाने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – गर्भावस्था के दौरान सेक्स करना, सही या गलत…)

गर्भावस्‍था की पहली तिमाही के लिए सेक्‍स पोजीशन – Garbhavastha ki 1st timahi ke liye sex position in Hindi

  1. गर्भावस्‍था में सुरक्षित सेक्‍स पोजीशन के लिए मिशनरी पोज – Garbhavastha ke liye sex position Missionary Position in Hindi
  2. गर्भावस्‍था में सुरक्षित सेक्‍स के लिए कैंची पोजीशन – Garbhavastha ke liye sex position Scissor Position in Hindi
  3. पहली तिमाही में सुरक्षित यौन मुद्रा है मॉडिफाइड मिशनरी पोजीशन – Phali timahi me surakshit youn mudra hai Modified Missionary in Hindi

सामान्‍य रूप से गर्भावस्‍था की पहली तिमाही के दौरान सेक्‍स करना सुरक्षित और आसान होता है। क्‍योंकि इस दौरान महिला में पेट के आकार संबंधी परिवर्तन नहीं होता है। इस दौरान आप अपनी इच्‍छा के अनुसार सेक्‍स पोजीशन का उपयोग कर सकते हैं। गर्भावस्‍था की पहली तिमाही में सेक्‍स आपके दिमाग को स्‍वस्‍थ रखता है साथ ही मतली और थकान को भी दूर करने का अच्‍छा तरीका होता है। इसके अलावा इस दौरान सेक्‍स करने से प्रोजेस्‍टेरोन के उत्‍पादन में भी वृद्धि होती है जिससे योनि में पर्याप्‍त चिकनाई बनी रहती है। आपके शरीर के सभी कामोत्‍तेजक क्षेत्र (erogenous zones) संवेदनशील होते हैं जो स्‍तन और त्‍वचा को छूने से अधिक प्रतिक्रिया करते हैं जिससे अधिक आनंद प्राप्‍त होता है। हालांकि इस दौरान भी यह ध्‍यान रखा जाना चाहिए कि महिला के पेट में अधिक दबाव न पड़े। पहली तिमाही में तनाव मुक्‍त यौन सुख पाने के लिए यहां बताई गई कुछ सुरक्षित सेक्‍स पोजिशन्स को अजमाएं।

गर्भावस्‍था में सुरक्षित सेक्‍स पोजीशन के लिए मिशनरी पोज – Garbhavastha ke liye sex position Missionary Position in Hindi

गर्भावस्‍था में सुरक्षित सेक्‍स पोजीशन के लिए मिशनरी पोज - Garbhavastha ke liye sex position Missionary Position in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान यौन सुख प्राप्‍त करने के लिए मिशनरी सेक्स पोजीशन को सुरक्षि‍त माना जाता है। इस स्थिति में पुरुष महिला के ऊपर होता है।

यह स्थिति गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित मानी जाती है। पहली तिमाही के दौरान अधिक शारीरिक सुख प्राप्‍त करने के लिए मिशनरी स्थिति द्वारा लाभ उठाया जा सकता है। इस स्थिति में महिला साथी को अपने पैर नीचे या ऊपर रखने की स्‍वतंत्रता रहती है। ज‍बकि हाथों का उपयोग पुरुष साथी को सहलाने या अपनी तरफ खींचने के लिए स्‍वतंत्र रहते हैं। लेकिन इस यौन स्थिति को करने के दौरान भी आपको कुछ सावधानियों की आवश्यकता होती है। आप इस स्थिति को और अधिक आनंददायक बनाने के लिए महिला के नीचे एक तकिया रख सकते हैं।

(और पढ़े – मिशनरी सेक्स पोजीशन क्या होती है, फायदे और नुकसान…)

गर्भावस्‍था में सुरक्षित सेक्‍स के लिए कैंची पोजीशन – Garbhavastha ke liye sex position Scissor Position in Hindi

गर्भावस्‍था में सुरक्षित सेक्‍स के लिए कैंची पोजीशन - Garbhavastha ke liye sex position Scissor Position in Hindi

यह सेक्‍स स्थिति भी किसी गर्भवती महिला के लिए सुरक्षित यौन संबंध बनाने में सहायक होती है। इस स्थिति में आप अपने साथी के तरफ चेहरा करें और अपने पैरों को खोलें।

यह स्थिति यौन उत्‍तेजना को बढ़ाने में सहायक होती है क्‍योंकि इस दौरान महिला और पुरुष दोनों ही एक दूसरे को चुबंन कर सकते हैं या सहला सकते हैं। लेकिन इस दौरान यदि आवश्‍यक हो तो आप महिला साथी की कमर के नीचे एक तकिया रख सकते हैं। गर्भावस्‍था की पहली तिमाही के दौरान इस योन मुद्रा में सेक्‍स करना सुरक्षित माना जाता है।

(और पढ़े – सुरक्षित सेक्स करने के तरीके…)

पहली तिमाही में सुरक्षित यौन मुद्रा है मॉडिफाइड मिशनरी पोजीशन – Phali timahi me surakshit youn mudra hai Modified Missionary in Hindi

इस स्थिति में महिला साथी पीठ के सहारे विस्‍तर पर लेटी होती है जबकि पुरुष साथी जमीन पर खड़ा होता है और महिला की तरफ झुका होता है। ऐसी स्थिति में सेक्‍स करने से महिला को चरम सुख की प्राप्ति होती है क्‍योंकि इस स्थिति में बहुत ही कम कोण बनता है। जिससे पुरुष का लिंग महिला की योनि में गहराई तक जाता है। इसके अलावा इस स्थिति में महिला संतुलन बनाने के लिए पुरुष को अपने पैरों से लपेट भी सकती है। इस स्थिति में महिला को आराम दिलाने के लिए कुछ तकियों का भी उपयोग किया जा सकता है।

(और पढ़े – चरम सुख (ऑर्गेज्म) क्या होता है, पाने के तरीके और फायदे…)

दूसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन – Dusri timahi ke doran sex position in Hindi

  1. दूसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन साइड सैडल – Dusri timahi ke doran sex position Side Saddle in Hindi
  2. दूसरी तिमाही के दौरान सिटिंग पोजीशन – Dusri timahi ke doran sitting sex position in Hindi
  3. दूसरी तिमाही में द वुमेन ऑन टॉप सेक्स पोजीशन – Dusri Timahi Me The Woman On Top sex position in Hindi

गर्भावस्‍था की दूसरी तिमाही को हनीमून अवधि भी कहा जाता है। यह अपने साथी के साथ यौन संबंध बनाने का सबसे अच्‍छा समय है। इस समय मार्निग सिकनेस और मतली जैसी समस्‍याओं का प्रभाव कम हो जात है साथ ही हार्मोन के स्‍तर में भी संतुलन होता है जिससे अधिक आनंद प्राप्‍त होता है। लेकिन इस दौरान सेक्‍स करते समय सावधानी रखना आवश्‍यक है क्‍योंकि इस अवधि में पेट का आकार बढ़ने लगता है। अधिक संतुष्टि के लिए दूसरी तिमाही में इन सेक्‍स पोजिसन का उपयोग किया जा सकता है।

दूसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन साइड सैडल – Dusri timahi ke doran sex position Side Saddle in Hindi

इस अवधि के दौरान यौन संबंध बनाने के लिए महिला अपने पुरुष साथी के ऊपर होती है। क्‍योंकि इस स्थिति में महिला साथी के पेट में किसी प्रकार का दबाव नहीं पड़ता है। इसके अलावा महिला साथी और पुरुष साथी को एक दूसरे को चूमने और स्‍पर्श का अधिक समय मिलता है। दूसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन साइड सैडल सेक्‍स पोजीशन का फायदा यह है कि इस मुद्रा के दौरान सेक्‍स करने से भ्रूण को किसी प्रकार का दबाव या नुकसान नहीं होता है।

(और पढ़े – महिलाओं की सेक्‍सुअलिटी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य…)

दूसरी तिमाही के दौरान सिटिंग पोजीशन – Dusri timahi ke doran sitting sex position in Hindi

इस सेक्‍स मुद्रा में पुरुष साथी कुर्सी या सोफे पर बैठता है और महिला साथी उसके ऊपर होती है। इस स्थिति में महिला और पुरुष साथी एक दूसरे में लिपटे हुए होते हैं। चूंकि इस स्थिति में भी महिला पुरुष साथी के ऊपर होती है इसलिए इस दौरान उसके पेट में किसी प्रकार का दबाव नहीं होता है। इसके अलावा जब महिला और पुरुष दोनों ही एक दूसरे के सामने होते हैं तो उन्‍हें और भी अधिक सुख की प्राप्ति होती है। इसके अलावा यह भ्रूण में किसी प्रकार के दबाव या नुकसान की संभावना को भी कम करने में सहायक होता है। लेकिन इस स्थिति में सेक्‍स करते समय इस बात का ध्‍यान रखें कि पीछे की तरफ आपका संतुलन बना रहे हैं। क्‍योंकि इस स्थिति में पुरुष साथी पर पीछे की तरफ दबाव पड़ता है।

(और पढ़े – बेस्ट सेक्स पोजीशन (यौनासन या यौन आसन) जो आपको देंगे पूरा मजा…)

दूसरी तिमाही में द वुमेन ऑन टॉप सेक्स पोजीशन – Dusri Timahi Me The Woman On Top sex position in Hindi

दूसरी तिमाही में द वुमेन ऑन टॉप सेक्स पोजीशन - Dusri Timahi Me The Woman On Top sex position in Hindi

गर्भावस्‍था की दूसरी तिमाही में सेक्‍स करने की यह सबसे अच्‍छी मुद्रा है। इस मुद्रा में भी महिला पुरुष के ऊपर होती है। महिला अपने साथी के ऊपर बैठने के दौरान आगे या पीछे झुक सकती है। इस स्थिति का लाभ यह है कि पुरुष साथी को धक्‍के मारने के लिए पर्याप्‍त अंतर प्राप्‍त होता है। यह स्थिति इसलिए भी अच्‍छी मानी जाती है  क्‍योंकि इस दौरान महिला के पेट में किसी प्रकार का तनाव या दबाव नहीं होता है। इस यौन मुद्रा को करते समय इस बात का ध्‍यान रखें की अधिक ताकत लगाने पर भ्रूण को चोट पहुंचा सकता है।

(और पढ़े – वुमन ऑन टॉप में कैसे करें सेक्स फायदे और नुकसान…)

तीसरी तिमाही के दौरान सेक्‍स पोजीशन – Tisri timahi ke duran sex position in Hindi

  1. तीसरी तिमाही के दौरान स्‍पूनिंग सेक्‍स पोजीशन – Tisri timahi ke duran Spooning sex position in Hindi
  2. तीसरी तिमाही में सुरक्षित डोगी स्‍टाइल सेक्‍स पोजीशन – Tisri timahi me Doggy Style sex position in Hindi
  3. तीसरी तिमाही में सुरक्षित ओरल सेक्‍स – Tisri timahi me kare oral sex in Hindi

गर्भावस्‍था के दौरान यह स्थिति बहुत ही महत्‍वपूर्ण है। क्‍योंकि इस स्थिति में महिला के पेट के आकार में अधिक वृद्धि होती है। इसलिए इस दौरान सेक्‍स करते समय विशेष सावधानी रखने की आवश्‍यकता होती है। इस स्थिति में बहुत सी महिलाएं बवासीर से पीडि़त रहती हैं। इसलिए गर्भावस्‍था की तीसरी तिमाही के दौरान गुदा मैथुन करने से बचना चाहिए। क्‍योंकि यह बेहद दर्दनाक हो सकता है। इसके अलावा यह रक्‍तस्राव का कारण भी बन सकता है। इस दौरान गुदा मैथुन करने से इसलिए भी बचना चाहिए क्‍योंकि यह संक्रमण का खतरा भी फैला सकता है। तीसरी तिमाही के दौरान सु‍रक्षित यौन स्थिति इस प्रकार हैं।

तीसरी तिमाही के दौरान स्‍पूनिंग सेक्‍स पोजीशन – Tisri timahi ke duran Spooning sex position in Hindi

तीसरी तिमाही के दौरान स्‍पूनिंग सेक्‍स पोजीशन - Tisri timahi ke duran Spooning sex position in Hindi

यह स्थिति गर्भावस्‍था के दौरान सबसे सुरक्षित यौन मुद्राओं में एक है। स्‍पूनिंग पोजीशन में दोनो पार्टनर को एक दूसरे के बगल में लेटना पड़ता है। ऐसी स्थिति में पुरुष साथी अपने लिंग को महिला योनि में प्रवेश कराता है।

यह स्थिति तीसरी तिमाही में इसलिए फायदेमंद होती है क्‍योंकि इस तरह से सेक्‍स करने में महिला को अधिक ताकत लगाने की आवश्‍यकता नहीं होती है। इसके अवाला यह सेक्‍स पोजीशन महिला की योनि को चौड़ा करने में भी मदद करता है। साथ ही इस तरह से यौन संबंध बनाने में महिला के पेट में किसी प्रकार का वजन नहीं पड़ता है। सावधानी के रूप में सेक्‍स करते समय दबाव कम करने के लिए महिला के नीचे या बगल में एक तकिया लगाया जा सकता है।

(और पढ़े – सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद सेक्स का आनंद कैसे लें…)

तीसरी तिमाही में सुरक्षित डोगी स्‍टाइल सेक्‍स पोजीशन – Tisri timahi me Doggy Style sex position in Hindi

तीसरी तिमाही में सुरक्षित डोगी स्‍टाइल सेक्‍स पोजीशन - Tisri timahi me Doggy Style sex position in Hindi

ऐसा माना जाता है डोगी स्टाइल सेक्‍स पोजीशन महिला को चरम सुख प्राप्‍त करने में सहायक होती है। इस मुद्रा को करने के लिए महिला को अपने पैरों के घुटनों और दोनों हाथों को जमीन पर रखने होते हैं। जबकि पुरुष साथी पीछे से महिला की योनि में लिंग को प्रवेश कराता है।

सेक्‍स के लिए यह तकनीक सबसे आम है लेकिन गर्भावस्‍था की तीसरी तिमाही के लिए यह बहुत ही सुरक्षित है। क्‍योंकि इस स्थिति में महिला के पेट या भ्रूण को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचता है। लेकिन इस मुद्रा में सेक्‍स करते समय इस बात का ध्‍यान दें कि पीछे से अधिक दबाव पड़ने के कारण महिला की कलाइयों में दर्द हो सकता है साथ ही तेजी से धक्‍का लगने से गर्भाशय ग्रीवा को नुकसान हो सकता है। इसलिए पुरुष साथी को सावधानी रखने की आवश्‍यकता है।

(और पढ़े – डॉगी स्टाइल सेक्स पॉजिशन में कैसे करें सेक्स फायदे और नुकसान…)

तीसरी तिमाही में सुरक्षित ओरल सेक्‍स – Tisri timahi me kare oral sex in Hindi

तीसरी तिमाही में सुरक्षित ओरल सेक्‍स - Tisri timahi me kare oral sex in Hindi

गर्भावस्‍था की तीसरी तिमाही में महिला यौन सुख प्राप्‍त करने का एक और आसान तरीमा मौखिक सेक्‍स है। क्‍योंक ओरल सेक्‍स करने में महिला के शरीर में किसी भी प्रकार का दबाव नहीं पड़ता है। लेकिन इस स्थिति में मौखिक सेक्‍स करते समय सावधानी रखना चाहिए। क्‍योंकि इस दौरान किसी प्रकार की हवा योनि में न दें या फूंक न मारें क्‍योंकि इससे वायु का बुलबुला हो सकता है जो भ्रूण के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

(और पढ़े – ओरल सेक्स क्या होता है करने के तरीके, फायदे और नुकसान…)

गर्भावस्‍था के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during Pregnancy in Hindi

  1. पहली तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during First Trimester in Hindi
  2. दूसरी तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during Second Trimester in Hindi
  3. तीसरी तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during Third Trimester in Hindi

सुरक्षा की द्रष्टि से गभ्रावस्‍था के दौरान किसी भी प्रकार की सेक्‍स मुद्रा न करने की सलाह दी जाती है। क्‍योंकि इस दौरान थोड़ी सी लापरवाही असुविधा का कारण बन सकती है। यहां गर्भावस्‍था के दौरान उन सेक्‍स मुद्राओं की जानकारी है जिनसे बचना चाहिए।

पहली तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during First Trimester in Hindi

पहली तिमाही के दौरान ऐसी सेक्‍स पोजीशनों से बचना चाहिए जिसमें महिला के पेट में बहुत ही दबाव पड़ता हो। क्‍योंकि इस स्थिति में भ्रूण को नुकसान हो सकता है।

दूसरी तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during Second Trimester in Hindi

इस अवधि के दौरान उन सेक्‍स पोजीशन से बचना चाहिए जिनमें महिला को पीठ के वल लेटना पड़ता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि गर्भावस्‍था के 20 सप्‍ताह के बाद पेट में पड़ने वाला दबाव भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकता है जिसके कारण अविकसित भ्रूण हो सकता है।

तीसरी तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन – Sex Positions to Avoid during Third Trimester in Hindi

तीसरी तिमाही के दौरान न करने वाली सेक्‍स पोजीशन - Sex Positions to Avoid during Third Trimester in Hindi

गर्भावस्‍था की तीसरी तिमाही में बहुत ही सावधानी रखने की आवश्‍यकता होती है। क्‍योंकि इस दौरान महिला का शारीरिक परिवर्तन भी चरम पर होता है। ऐसी स्थिति में गर्भवती महिला को गुदा मैथुन से बचना चाहिए। क्‍योंकि ऐसा करने से कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं। ओरल सेक्‍स करने के दौरान योनि में किसी प्रकार का जख्‍म या फुंसी आदि नहीं होना चाहिए। यदि है तो इस दौरान ओरल सेक्‍स करना भी नुकसानदायक हो सकता है। यह सीधे ही भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकता है जो गर्भापात भी हो सकता है। इसके अलावा आपको निम्‍न स्थितियों में भी सेक्‍स करने से बचना चाहिए।

  • यदि आपको समय से पहले प्रसव या रक्‍तस्राव का अनुभव हो।
  • यदि एमनियोटिक थैली (amniotic sac) में रिसाव हो रहा है।
  • अगर आपको एक से अधिक या जुड़वा बच्‍चे पेट में हैं तो आपको चिकित्‍सक से परामर्श लेने की आवश्‍यकता है।
  • संक्रमण से बचने के लिए हमेशा यौन संबंध बनाते समय कंडोम का उपयोग करना चाहिए। क्‍योंकि यह संक्रमण बच्‍चे को नुकसान पहुंचा सकता है।

(और पढ़े – एनल सेक्स (गुदामैथुन) के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration