कत्था के फायदे और नुकसान – kattha ke fayde aur nuksan in hindi

कत्था के फायदे और नुकसान - kattha ke fayde aur nuksan in hindi
Written by Jaideep

kattha ke fayde aur nuksan in hindi क्‍या आपको खैर या कत्‍था के फायदे और नुकसान पता है। यह एक औषधीय पेड़ है, जिसका आयुर्वेद में विभिन्‍न प्रकार की दवाओं को बनाने में उपयोग किया जाता है। केटेचु या खैर का पेड़ उष्‍णकटिबंधीय देशों में व्‍यापक रूप से पाए जाते हैं। खैर के पेड़ के कुछ हिस्‍सों का औषधीय उद्देश्‍य के लिए उपयोग किया जाता है। खैर से कत्‍था निकाला जाता है जो इसकी लकड़ी को उबालकर प्राप्‍त किया जाता है। कत्‍था के फायदे में सामान्‍य सर्दी ठीक करने में, बवासीर का इलाज करना, महिलाओं में दूध उत्‍पादन बढ़ाना, मुंह के अल्‍सर का उपचार करना आदि शामिल हैं। आइये जाने कत्‍था के बारे में अन्‍य जानकारियां क्‍या हैं।

1. कत्था क्या है – Kattha Kya Hai in Hindi
2. कत्था का पेड़ – Kattha Ka Ped in Hindi
3. कत्था के फायदे – kattha ke fayde in hindi

4. कत्था खाने के नुकसान – Kattha Khane Ke Nuksan in Hindi

कत्था क्या है – Kattha Kya Hai in Hindi

यह (खैर) एक जड़ी बूटी है, जिसके लगभग सभी भागों का औषधीय उपयोग किया जाता है। खैर की पत्तियां, टहनीयां और लकड़ी का उपयोग दवा बनाने में उपयोग की जाती हैं। खैर की लकड़ी से निकाले गये रस को गाढ़ा करके कत्‍था बनाया जाता है। कत्‍थे का उपयोग भी विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। विशेष रूप से कत्‍थे का उपयोग पान और चूने के साथ किया जाता है। यह दस्‍त, नाक और गले की सूजन, पेंचिश, रक्‍तस्राव, अपचन आदि समस्‍याओं को दूर कर सकता है। त्‍वचा समस्‍याओं और चोट आदि पर कत्‍थे को सीधे ही उपयोग किया जा सकता है। इसके अलावा मसूड़ों की सूजन, दर्द, मुंह के छाले आदि के लिए कत्‍था फायदेमंद होता है। आइये जाने खैर के पेड़ के बारे में।

(और पढ़े – पेचिश (आंव) के लक्षण, कारण और उपचार…)

कत्था का पेड़ – Kattha Ka Ped in Hindi

विभिन्‍न औषधीयों में उपयोग किये जाने वाले कत्‍था का पेड़ एक पर्णपाती पेड़ है। इस पेड़ की ऊंचाई 9 से 12 मीटर तक हो सकती है। इस पेड़ में छोटे-छोटे कांटे होते हैं। इसकी पत्तियां छोटी-छोटी और दोनो तरफ 50 के समूह में होती हैं। इसकी छाल का रंग भूरा होता है। इसके फूल पीले रंग के बेलनाकार होते हैं। जिससे फललियों के रूप में इसके फल प्राप्त होते हैं।

कत्था के फायदे – kattha ke fayde in hindi

  1. कत्था के गुण बवासीर को ठीक करे – Catechu Benefits For Piles in Hindi
  2. कत्था के लाभ मुंह की समस्याओं के लिए – Catechu Benefits For Mouth Problem in Hindi
  3. कत्था के फायदे से करें दस्‍त का इलाज – Catechu Benefits For Diarrhoea in Hindi
  4. सूखी खांसी का इलाज है कत्‍था – Catechu Benefits For Dry Cough in Hindi
  5. कत्‍था के फायदे गम ब्‍लीडिंग को रोके – Catechu Benefits For Gum Problems in Hindi
  6. कत्थे का उपयोग संक्रमण से बचाएं – Catechu Benefits For Prevent Infection in Hindi
  7. कत्थे के गुण प्राकृतिक गर्भनिरोधक – Catechu Benefits For Birth Control in Hindi
  8. कत्थे के फायदे लीवर के लिए – Catechu Benefits For Liver Health in Hindi

इस औषधीय गुणों से भरपूर कत्‍थे का उपयोग कर आप बहुत सी सामान्‍य और गंभीर समस्‍याओं का इलाज कर सकते हैं। यह मुख्‍य रूप से मुंह में होने वाली समस्‍याओं के लिए फायदेमंद होता है। आइये विस्‍तार से जाने कत्‍था के फायदे और नुकसान क्‍या हैं।

कत्था के गुण बवासीर को ठीक करे – kattha ke fayde For Piles in Hindi

कत्था के गुण बवासीर को ठीक करे - Catechu Benefits For Piles in Hindi

जो लोग बवासीर से ग्रसित हैं उनके लिए कत्‍था फायदेमंद हो सकता है। कुछ जानकारों का मानना है कि इसमें मौजूद पोषक तत्‍व बवासीर के लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकते हैं। इसके लिए कत्‍थे को नींबू के साथ या इसके रस के साथ मिलाकर नियमित रूप से सुबह खाली पेट सेवन करना चाहिए। यह बवासीर के लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकता है।

(और पढ़े – बवासीर (हेमोरॉहाइड्स) क्या है: कारण, लक्षण, निदान, इलाज, रोकथाम और घरेलू उपचार…)

कत्था के लाभ मुंह की समस्याओं के लिए – Catechu Benefits For Mouth Problem in Hindi

कत्था के लाभ मुंह की समस्याओं के लिए - Catechu Benefits For Mouth Problem in Hindi

क्‍या आप मुंह के संक्रमण और अन्‍य समस्‍याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं। यदि ऐसा है तो आप कत्‍था का उपयोग कर सकते हैं। इसके औषधीय गुण मुंह के छाले, मसूड़ों की समस्‍या, छालों की जलन आदि समस्‍याओं का उचित इलाज कर सकते हैं। इन समस्‍याओं से बचने के लिए आप प्रभावित जगह पर कत्‍थे को सीधे ही उपयोग करें। यह आपके छालों को आराम दिलाने का प्रभावी उपाय हो सकता है।

(और पढ़े – मुंह के छाले दूर करने के घरेलू उपाय…)

कत्था के फायदे से करें दस्‍त का इलाज – kattha ke fayde For Diarrhoea in Hindi

कत्था के फायदे से करें दस्‍त का इलाज - Catechu Benefits For Diarrhoea in Hindi

यदि आप दस्‍त का घरेलू इलाज कर रहे हैं तो कत्‍थे को अजमा सकते हैं। इसके लिए आप ¼ चम्‍मच कत्‍था पाउडर और दालचीनी पाउडर का मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण को 1 चम्‍मच शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। यह दस्‍त से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – दस्‍त (डायरिया) के दौरान क्‍या खाएं और क्‍या ना खाएं…)

सूखी खांसी का इलाज है कत्‍था – kattha khane ke fayde For Dry Cough in Hindi

सूखी खांसी का इलाज है कत्‍था - Catechu Benefits For Dry Cough in Hindi

अक्‍सर देखा जाता है कि सर्दी या जकाम के ठीक होने के बाद भी सूखी खांसी चलती रहती है। यह आपको बहुत ही परेशान कर सकती है। इसलिए सूखी खांसी का समय पर इलाज किया जाना चाहिए। लेकिन आप इस समस्‍या का घरेलू इलाज भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको कत्‍थे की आवश्‍यकता होती है। आप 1/8 चम्‍मच कत्‍था पाउडर और 1/8 चम्‍मच हल्‍दी पाउडर का मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण को 1 चम्‍मच शहद के साथ सेवन करें। यह आपको सूखी खांसी से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

(और पढ़े – सूखी खांसी के लिए घरेलू उपचार…)

कत्‍था के फायदे गम ब्‍लीडिंग को रोके – kattha ke fayde For Gum Problems in Hindi

कत्‍था के फायदे गम ब्‍लीडिंग को रोके - Catechu Benefits For Gum Problems in Hindi

आप अपने मसूड़ों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने और इनकी बीमारियों से बचने के लिए कत्‍थे का उपयोग कर सकते हैं। आप अपने दांतों और मसूड़ों के लिए कत्‍थे का उपयोग मंजन पाउडर के रूप में इस्‍तेमाल करें। इस मंजन को बनाने के लिए आपको कत्‍था, फिटकरी, लोहबान (myrrh) और लौंग की आवश्‍यकता होती है। आप इन सभी को अच्‍छी तरह से मिलाकर पीस लें। इस महीन पाउडर से दांतों की सफाई करें। यह आपके मसूड़ों से आने वाले खून को रोकने और इनसे संबंधित समस्‍याओं को दूर करने में सहायक होते हैं।

(और पढ़े – दाँतों की देखभाल कैसे करे…)

कत्थे का उपयोग संक्रमण से बचाएं – Catechu Benefits For Prevent Infection in Hindi

कत्थे का उपयोग संक्रमण से बचाएं - Catechu Benefits For Prevent Infection in Hindi

अध्‍ययनों से पता चलता है कि खैर के पौधे से निकाले गये कत्‍था का नियमित उपभोग करना फायदेमंद होता है। यह विभिन्‍न प्रकार के फंगल के विकास को रोकता है जैसे कि पिरिक्‍युलरिया ओरीज़ा (Piricularia Oryzae) या कोलेटोट्रिचम फाल्‍ककम (colletotrichum falcatum) आदि। इस तरह से यह इन संक्रमणों से हमारे शरीर की रक्षा करता है।

(और पढ़े – फंगल इन्फेक्शन क्या है, कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार…)

कत्थे के गुण प्राकृतिक गर्भनिरोधक – kattha ke fayde For Birth Control in Hindi

प्राचीन समय से ही कत्‍थे का उपयोग गर्भनिरोधक के रूप में उपयोग किया जा रहा है। इसकी विशेषता यह है कि इसमें किसी प्रकार के हानिकारक रसायन नहीं होते हैं। लेकिन इसका उपयोग किसी जानकार व्‍यक्ति की सलाह के अनुसार ही किया जाना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक के सभी उपाय और तरीके…)

कत्थे के फायदे लीवर के लिए – Catechu Benefits For Liver Health in Hindi

कत्थे के फायदे लीवर के लिए - Catechu Benefits For Liver Health in Hindi

यकृत की सूजन को कम करने वाले गुण कत्‍था में मौजूद रहते हैं। कत्‍था का उपयोग कर आप लीवर की कमजोरी और सूजन को दूर कर अन्‍य बीमारियों से बच सकते हैं। आप कत्‍थे का सेवन कर अपने लीवर को स्‍वस्‍थ्‍य बना सकते हैं।

(और पढ़े – लीवर को साफ करने के लिए खाएं ये चीजें…)

कत्था खाने के नुकसान – Kattha Khane Ke Nuksan in Hindi

कत्‍था का उपयोग हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

लेकिन कुछ विशेष लोगों के लिए इसके कुछ दुष्पभाव भी होते हैं जो इस प्रकार हैं कत्थे के नुकसान :

गर्भावस्था और स्तनपान: गर्भवती और स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए कत्‍था का कम मात्रा में सेवन करना फायदेमंद होता है। लेकिन इन्‍हें सलाह दी जाती है कि अधिक मात्रा में इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

हाइपोटेंशन: कत्‍थे के फायदे में रक्‍तचाप को कम करना शामिल है। लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं किया जाना चाहिए। अधिक मात्रा में इसका सेवन करने पर यह रक्‍तचाप को बहुत ही निम्‍न स्‍तर पर ले जा सकता है। जिससे फैनिंग और अन्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं।

सर्जरी: अधिक मात्रा में कत्‍था का सेवन करने से सर्जरी के दौरान और उसके बाद रक्‍तचाप नियं‍त्रण में यह हस्‍तक्षेप कर सकता है।

इसलिए सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले कत्‍थे का सेवन बंद कर दें।

(और पढ़े – हाइ ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करगे ये आयुर्वेदिक हर्ब्‍स…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration