बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें? आयुष मंत्रालय ने बताए ये घरेलू उपाय - Healthunbox
हेल्थ टिप्स

बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें? आयुष मंत्रालय ने बताए ये घरेलू उपाय

बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें? आयुष मंत्रालय ने बताए ये घरेलू उपाय

बारिश का मौसम के शुरू होते है ही सर्दी जुकाम, खांसी, बुखार और फ्लू (Seasonal Flu) जैस समस्या भी प्रारंभ हो जाती हैं। इसके साथ ही बरसात के पानी में मलेरिया और डेंगू के मछर का भी आतंक बढ़ जाता है। आयुष मंत्रालय ने बताया कि इन सभी बिमारियों के लक्षण कोविड-19 से मिलते हैं, इसलिए हमें अधिक सावधान रहने की आवश्कता है। इस सब से बचने के लिए आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन्स भी जारी की है। इसमें बताया गया है कि किस प्रकार से आप घरेलू उपाय अपना कर इससे बच सकते है और अपने परिवार को भी फ्लू और बरसात में होने वाली सामान्य बीमारियों से बचा सकते हैं।

बारिश में होने वाले फ्लू के लक्षण

बरसात के मौसम में होने वाले तापमान में कमी शरीर को बैक्टीरिया और वायरल हमले के लिए अतिसंवेदनशील बनाता है, जिसके कारण व्यक्ति को बुखार, सिर दर्द और और फ्लू हो जाता है। यह वायरल संक्रमण का सबसे सामान्य रूप होता है। बारिश में होने वाले फ्लू के लक्षण निम्न हैं-

  • सर्दी जुकाम होना
  • नाक बंद होना
  • बुखार होना
  • सिर दर्द होना
  • खांसी होना
  • पूरे शरीर में दर्द होना
  • मांसपेशियों में खिंचाव आना

(और पढ़ें – बरसात में होने वाली बीमारियां और उनके घरेलू उपाय)

आयुष मंत्रालय ने बताए सीजनल फ्लू से बचाव के घरेलू उपाय

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि बरसात के मौसम में अपने शरीर की रक्षा के लिए आपको अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता हैं। पौष्टिक खाद्य शरीर विषाक्त पदार्थों के खिलाफ एंटीबॉडी का उत्पादन करके कीटाणुओं को मारने में मदद करता है।

(और पढ़ें – रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बढ़ाने वाले 14 खाद्य पदार्थ)

सीजनल फ्लू के लिए हल्दी वाला दूध पिएं

सीजनल फ्लू के लिए हल्दी वाला दूध पिएं

मौसम परिवर्तन होने के कारण सर्दी और जुकाम आदि होना सामान्‍य है। लेकिन आप इन लक्षणों को दूर करने के लिए भी हल्‍दी वाले दूध का प्रयोग कर सकते हैं। हल्‍दी के एंटीवायरल और एंटीबायोटिक गुण बरसात के मौसम में सर्दी, खांसी और इन्‍फ्लूएंजा वायरस को दूर रखने में मदद करते हैं। यदि आप भी सर्दी और इससे होने वाली अन्‍य समस्‍याओं से परेशान हैं तो हल्‍दी और दूध का सेवन करें। इसके अलावा हल्दी वाला दूध गले के संक्रमण को भी ठीक करने में मदद करता है।

(और पढ़ें –हल्दी और दूध के फायदे और नुकसान)

खांसी और गले की जकड़न के लिए

खांसी और गले की जकड़न के लिए

बरसात के मौसम में खांसी और जुकाम हो जाने के बाद, कुछ आसान घरेलू उपाय किए जा सकते हैं। गर्म पानी में हल्दी पाउडर, अदरक पाउडर और एक चम्मच शहद मिलाएं। यह एंटीबैक्‍टीरियल होता है जो न केवल खांसी को ठीक करने में मदद करता है बल्कि शरीर के दर्द, सर्दी और सिरदर्द से भी छुटकारा दिलाता है। अदरक वाली चाय का सेवन कर सकते हैं। ये घरेलू उपाय दिन में 2-3 बार खाने से आपके खांसी की समस्या दूर हो सकती है।

(और पढ़ें – खांसी के घरेलू उपाय और इलाज)

सर्दी-जुकाम के लक्षणों के लिए

सर्दी-जुकाम के लक्षणों के लिए

सर्दी जुकाम से बचने के लिए भाप का प्रयोग कर सकते है। सर्दी के कारण अपनी बंद नाक को साफ करने के लिए अपने चेहरे को एक गर्म पानी से भरे बर्तन के ऊपर ले जाएं और इससे निकलने वाली भाप से धीरे-धीरे सांस लें इससे आपकी बंद नाक साफ होगी और आपको सर्दी से राहत भी मिल सकती है। भाप लेने के लिए आप गर्म पानी में कुछ बूंदें लौंग का तेल, टी ट्री ऑयल, लेमनग्रास ऑयल या यूकेलिप्टस ऑयल आदि को डालकर अपने नाक और सीने में भाप लें सकते है।

(और पढ़ें – सर्दी जुकाम और खांसी के घरेलू उपाय)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिककर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration