स्टडी ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन संभव है – Sperm production possible in transgender women in Hindi

स्टडी ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन संभव है - Sperm production possible in transgender women in Hindi
Written by Daivansh

अभी तक इस बात को लेकर संशय बना हुआ था कि क्‍या जेंडर ट्रांसफॉर्मेशन (Gender transformation) करवाने के बाद प्रजनन की संभावना उसी तरह बनी रहेगी। इस पर एक रिसर्च में पाया गया है कि एक ट्रांसजेंडर महिला अपने यौवन (puberty)  को रोकने वाली दवा को बंद करने के कुछ महीनों के बाद स्पर्म प्रड्यूस करने में सक्षम हो सकती है। शोधकर्ताओं ने ऐसे दो मामले पाए हैं जिनमें युवा ट्रांसजेंडर महिलाओं ने जेंडर अफर्मिंग दवाओं को शुरू करने और रोकने के बाद, उनमें प्रजनन क्षमता स्पसर्म प्रोडक्शन संभव हो सका है। सभी अध्ययन प्रतिभागी युवा वयस्कों के रूप में 2015 और 2018 के बीच पिट्सबर्ग में प्रजनन संरक्षण कार्यक्रम (Fertility Preservation Program) के माध्यम से आए थे।

एक ट्रांसजेंडर महिला अपने यौवन को रोकने वाली दवा (puberty-halting medication) को बंद करने के कुछ महीनों के बाद शुक्राणुओं का उत्पादन करने में सक्षम थी, जबकि हार्मोन थेरेपी पर एक अलग रोगी दवा छोड़ने के बाद मनोवैज्ञानिक असर खत्म होने तक शुक्राणुओं का उत्पादन नहीं कर सकती थी।

इस स्टडी में यह समझा गया कि स्पसर्म प्रोडक्शन में महिला की मानसिक स्थिति का भी असर पड़ता है। यह स्टडी जर्नल ऑफ पीडियाट्रिक्स में छपी है।

क्‍या है ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन का ताजा मामला

क्‍या है ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन का ताजा मामला

अध्ययन के प्रमुख लेखक हन्ना वल्ली-पुलस्की बताते हैं “हम मर्दानगी को दबाने वाली दवा (masculinity-suppressing medication) को रोकने के बाद व्यवहार्य शुक्राणु प्राप्त करने के लिए समयरेखा की जांच करने में रुचि रखते थे। लिंग-पुष्टि दवाओं (gender-affirming medications) पर जाने और बंद करने से इस आबादी में मनोवैज्ञानिक संकट पैदा हो सकता है और किसी भी उपचार को शुरू करने और रोकने से पहले उसके स्‍वासथ्‍य पर प्रभाव की जांच जरूरी होती है। जिसमे रोगियों का इलाज शुरू होने से पहले उनके स्वास्थ्य प्रदाता के साथ चर्चा होती है।

(और पढ़े – शुक्राणु क्या है, कैसे बनते है, कार्य और संचरना)

ऐसे किया गया ट्रांसजेंडर महिलाओं पर शोध

ऐसे किया गया ट्रांसजेंडर महिलाओं पर शोध

शोध टीम ने दो ट्रांसजेंडर महिलाओं के मेडिकल रिकॉर्ड की जांच की, जिन्होंने हार्मोन थेरेपी को रोकने के बाद अपने शुक्राणु को संरक्षित (preserve their sperm) करने की कोशिश की और आठ अन्य ट्रांसजेंडर महिलाओं (transgender women) के से अपने वीर्य की गुणवत्ता की तुलना की, जिन्होंने शुरुआत चिकित्सा से पहले अपने शुक्राणु को संरक्षित करने के लिए चुना। सभी अध्ययन प्रतिभागी युवा वयस्कों के रूप में 2015 और 2018 के बीच पिट्सबर्ग में प्रजनन संरक्षण कार्यक्रम के माध्यम से आए थे।

(और पढ़े – स्पर्म टेस्ट क्या है, कीमत, आवश्यकता)

ये रहे ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन के परिणाम

ये रहे ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन के परिणाम

उन रोगियों में से एक जिन्होंने थेरेपी शुरू करने के बाद अपने शुक्राणु को संरक्षित करने के लिए चुना था, उनमे से एक सेक्स हार्मोन ब्लॉकर (sex hormone blocker) ड्रग ल्यूप्रोन (Lupron) ले रही थी, जो छह महीने तक किशोरावस्था (adolescence) में लेने पर यौवन (puberty) को रोक देता है। वह शुक्राणु क्रायोप्रेजर्वेशन (sperm cryopreservation) का प्रयास करने के लिए ल्यूप्रोन को लेने से रोकने के लिए चुनी गई।

पांच महीने बाद, वह आठ ट्रांसजेंडर महिलाओं से एकत्र शुक्राणु के नमूने के सामान शक्राणु का उत्पादन करने में सक्षम थी, जिन्होंने इलाज से पहले अपने शुक्राणु संरक्षित किए थे।

(और पढ़े – स्खलन के बाद शुक्राणु कितनी देर तक जीवित रह सकता है)

संभव है ट्रांसजेंडर महिलाओं में स्‍पर्म रीप्रोडक्‍शन

संभव है ट्रांसजेंडर महिलाओं में स्‍पर्म रीप्रोडक्‍शन

वल्ली-पुलस्की ने कहा कि यह एक मामला है जो दिखाता है कि लिंग-पुष्टि चिकित्सा (gender-affirming therapy) शुरू करने के बाद शुक्राणु को पुनर्प्राप्त करना संभव है, यहां तक कि कुछ महीनों के लिए दवा रोकना मनोवैज्ञानिक (psychologically) रूप से परेशान कर सकता है । पुरुष-से-महिला ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए, चेहरे के बाल उगने शुरू हो सकते हैं और दवा को रोकने के कुछ महीनों बाद आवाज गहरी होने लगती है। इन प्रभावों को उलटना संभव है, लेकिन इसमें समय लगेगा।

(और पढ़े – स्परमिसिडिस क्या है शुक्राणुनाशक का उपयोग और सावधानियां)

ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन की इस स्टडी में और क्या है

ट्रांसजेंडर महिलाओं में शुक्राणु उत्पादन की इस स्टडी में और क्या है

प्रजनन क्षमता हमेशा इतनी जल्दी वापस नहीं आती है, इस अध्ययन में शामिल एक दूसरे केस से पता चला है कि लिंग-पुष्टि दवाओं को बंद करने के बाद प्रजनन क्षमता हमेशा जल्दी वापस नहीं लौटती है।

यह महिला करीब दो साल से अधिक समय से एस्ट्राडियोल और स्पिरोनोलैक्टोन (estradiol and spironolactone) ले रही थी। उपचार रोकने के चार महीने बाद, वह अभी भी स्पर्म (viable sperm) का उत्पादन करने में असमर्थ थी, और उस बिंदु पर, उसने प्रजनन संरक्षण के लिए प्रयास करना बंद करने का फैसला किया और जेंडर बदलवाने के लिए लिंग पुनर्संरचना सर्जरी (gender reassignment surgery) के साथ आगे बढ़ी।

वल्ली-पुलस्की ने कहा की दो अध्ययन से प्राप्त प्रतिभागियों के शुक्राणु उत्पादन के परिणाम मूल्यवान जानकारी प्रदान करते हैं जो चिकित्सक लिंग-पुष्टि चिकित्सा की शुरुआत के बाद जैविक बच्चों की इच्छा रखने वाले भविष्य के रोगियों के साथ साझा कर सकते हैं। वल्ली-पुलस्की ने यह भी कहा, “फिलहाल, ट्रांसजेंडर मरीजों (transgender patients) के लिए प्रजनन संरक्षण के बारे में बहुत अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है।

आपको ये भी जानना चाहिये – 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration