पूर्वोत्तानासन करने का तरीका और फायदे – Purvottanasana (Upward Plank Pose) steps and benefits in Hindi

पूर्वोत्तानासन करने का तरीका और फायदे - Purvottanasana (Upward Plank Pose) steps and benefits in Hindi
Written by Shivam

Purvottanasana In Hindi पूर्वोत्तानासन करने के फायदे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत अधिक हैं इसका शाब्दिक अर्थ पूर्व की ओर तीव्र खिंचाव हैं। यह योग कलाई, पैर, बांह को मजबूत करता है इस आसन को आध्यात्मिक स्तर पर आंतरिक प्रकाश के मार्ग को खोलने के लिए जाना जाता है। हम सभी के द्वारा हृदय को नाजुक माना जाता है, लेकिन यह आसन उस धारणा का प्रतिरोध करता है। प्राचीन योगियों ने सूर्य उदय के समय में पूर्व की ओर मुख करके अभ्यास किया था, इसलिए शरीर के अग्र भाग को “पूर्व” पक्ष माना जाता है।

यह हमारे हृदय को सूर्य के समान ऊंचा उठा देता है और भीतर के प्रकाश में वृद्धि कर देता है। हम अपनी सीमाओं को निर्धारित कर लेते हैं और अपने आप को सीमित कर लेते हैं। पूर्वोत्तानासन इन सीमाओं को खोलने में मदद करता हैं और हमारे मन से डर और शंका को दूर करता है। यह आसन हाथों, कलाई और पैरों को मजबूत करने में मदद करता हैं। इस लेख में आप पूर्वोत्तानासन करने का तरीका और फायदे को विस्तार से जानेगें।

1. पूर्वोत्तानासन क्या हैं – Purvottanasana kya hai in Hindi
2. पूर्वोत्तानासन करने से पहले यह आसन करें – Purvottanasana karne se pehle yeh aasan kare in Hindi
3. पूर्वोत्तानासन करने का तरीका – Purvottanasana Karne Ka Tarika in Hindi
4. शुरुआती लोगों के लिए पूर्वोत्तानासन करने की प्रारंभिक टिप – Beginner’s Tip to do Purvottanasana in Hindi
5. पूर्वोत्तानासन करने के फायदे – Purvottanasana Karne Ke Fayde in Hindi

6. पूर्वोत्तानासन करने के लिए सावधानियां – Precautions to do Purvottanasana in Hindi

पूर्वोत्तानासन क्या हैं – Purvottanasana kya hai in Hindi

पूर्वोत्तानासन क्या हैं - Purvottanasana kya hai in Hindi

पूर्वोत्तानासन का शाब्दिक अर्थ पूर्व की ओर एक तीव्र पूर्वमुखी खिंचाव है। यह एक संस्कृत भाषा का शब्द हैं जो कि तीन शब्दों से मिलके बना हैं इसमें पहला शब्द “पूर्वा” जिसका अर्थ “पूर्व” है, “उत्तरा” का अर्थ “तीव्र खिंचाव” हैं और “आसन” का अर्थ “मुद्रा” होता हैं। इस आसन को अंग्रेजी में अपवर्ड प्लांक पोज (Upward Plank Pose), इंक्लाइन प्लांक पोज (Inclined Plank Pose), रिवर्स प्लैंक पोज (Reverse Plank Pose), इंक्लूड प्लेन पोज (Inclined Plane Pose) और अपवर्ड प्लेन पोज (Upward Plane Pose) के नाम से जाना जाता हैं। यह आमतौर पर नवोदित क्षमता और नई शुरुआत की दिशा है। जैसा कि सूरज “पूर्व में उगता है और पश्चिम में डूब जाता है। पूर्वोत्तानासन हाथों, कंधों और रीढ़ में बनी अपार ताकत हमें अंधेरे से दूर भागने और चमकने का साहस देता है। आइये पूर्वोत्तानासन करने की विधि और उससे होने वाले फायदे को विस्तार से जानते हैं।

(और पढ़े – योग मुद्रा क्या है प्रकार और फायदे…)

पूर्वोत्तानासन करने से पहले यह आसन करें – Purvottanasana karne se pehle yeh aasan kare in Hindi

पूर्वोत्तानासन करने से पहले यह आसन करें - Purvottanasana karne se pehle yeh aasan kare in Hindi

पूर्वोत्तानासन करने से पहले आप नीचे दिए गए आसन को करें जिससे आपको इस आसन को करने में आसानी होगी-

(और पढ़े – सुप्त वज्रासन करने के तरीका और लाभ…)

पूर्वोत्तानासन करने का तरीका – Purvottanasana Karne Ka Tarika in Hindi

पूर्वोत्तानासन हमारे शरीर के लिए कई प्रकार से फायदेमंद है, हम नीचे इस आसन को करने की सरल विधि दे रहें हैं जिससे आप इस योग आसन को आसानी से कर सकते हैं।

  • पूर्वोत्तानासन करने के लिए आप फर्श पर एक योग मैट को बिछा के उस पर दोनों पैरों को अपने सामने की ओर सीधा करके बैठ जाएं।
  • इस आसन को करने के लिए आप दण्डासन की मुद्रा में भी बैठ सकते हैं।
  • अब अपने दोनों हाथों को कूल्हों के पीछे थोड़ी दूरी (लगभग एक फुट) पर रखें।
  • अपनी हथेलियों को फर्श पर रखते समय ध्यान रखें की दोनों हाथों की उंगलियां आपके पैर की दिशा में रहें।
  • अब साँस को बाहर छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों पर शरीर का भार डाले और हिप्स को फर्श से ऊपर उठायें।
  • अपने दोनों पैरों को सीधा करें और तलबे को पूरी तरह से फर्श पर रखने की कोशिश करें।
  • इस स्थिति में आपके कंधे और पैर एक सीधे रेखा में होगें।
  • अब अपने कूल्हों को जितना हो सके ऊपर उठायें जिससे आपकी छाती ऊपर उठ जाये।
  • अब अपने सिर को पीछे की ओर झुका लें
  • जब तक आप इस आसन में आराम से हैं तब तक इसके करें और फिर मुद्रा से बाहर आ जाएं।

(और पढ़ें – दंडासन करने का तरीका और फायदे)

शुरुआती लोगों के लिए पूर्वोत्तानासन करने की प्रारंभिक टिप – Beginner’s Tip to do Purvottanasana in Hindi

यदि आप अभी अभी योग करने की शुरुआत कर रहें है तो आपको इस योग आसन को करने में थोड़ी कठिनाई हो सकती हैं तो आप पूर्वोत्तानासन करने के लिए एक कुर्सी की मदद ले सकते हैं। योग अभ्यास के दौरान आप कुर्सी को अपनी कमर के नीचे रख कर सहारा ले सकते हैं। इसके अलावा आप किसी भी व्यक्ति का सहारा भी ले सकते है जो अपने हाथों से आपको पकड़ सके।

(और पढ़ें – योग की शुरुआत करने के लिए कुछ सरल आसन)

पूर्वोत्तानासन करने के फायदे – Purvottanasana Karne Ke Fayde in Hindi

  1. हाथों को मजबूत करने में फायदेमंद पूर्वोत्तानासन – Hatho Ko Majboot Karne Me Faydemand Purvottanasana in Hindi
  2. पूर्वोत्तानासन करने के लाभ श्वसन प्रणाली के लिए – Purvottanasana benefits for respiratory system in Hindi
  3. तनाव को कम करने में लाभकारी पूर्वोत्तानासन योग – Purvottanasana benefits for relief from stress in Hindi
  4. पूर्वोत्तानासन के लाभ छाती को फैलने में – Purvottanasana benefits for stretches the chest in Hindi
  5. पूर्वोत्तानासन योग के अन्य लाभ – Other benefits of Purvottanasana in Hindi

पूर्वोत्तानासन योग आसन हमारे शरीर के लिए अनेक प्रकार लाभदायक हैं,आइये इसके लाभों को विस्तार से जानते हैं-

हाथों को मजबूत करने में फायदेमंद पूर्वोत्तानासन – Hatho Ko Majboot Karne Me Faydemand Purvottanasana in Hindi

पूर्वोत्तानासन योग आसन करने के लिए हमें अपने दोनों हाथों को फर्श पर रख कर शरीर का भार हाथों पर उठाना पड़ता हैं जिससे आपके हाथों की मांसपेशियों पर दबाव पड़ता जो हमारे हाथों को मजबूत करने में मदद करता हैं, यह आसन हाथों के साथ अपनी कलाई को भी मजबूत करता है।

(और पढ़ें – मांसपेशियों में खिंचाव (दर्द) के कारण और उपचार)

पूर्वोत्तानासन करने के लाभ श्वसन प्रणाली के लिए – Purvottanasana benefits for respiratory system in Hindi

पूर्वोत्तानासन करने के लाभ श्वसन प्रणाली के लिए - Purvottanasana benefits for respiratory system in Hindi

पूर्वोत्तानासन करने से आपके फेफड़े पूरी तरह फैल जाते हैं जिसकी वजह से उनमे ऑक्सीजन के अच्छी मात्रा जाती हैं। यह ऑक्सीजन हमारी श्वसन प्रणाली को मजबूत करता है। इसके अलावा यह आसन आपके अस्थमा जैसे रोगों में भी राहत प्रदान करता है।

(और पढ़ें – अस्थमा (दमा) के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव)

तनाव को कम करने में लाभकारी पूर्वोत्तानासन योग – Purvottanasana benefits for relief from stress in Hindi

तनाव को कम करने में लाभकारी पूर्वोत्तानासन योग - Purvottanasana benefits for relief from stress in Hindi

तनाव को कम करने के लिए पूर्वोत्तानासन योग आसन एक बहुत अच्छा तरीका है। यह आसन मस्तिष्क की कोशिकाओं को ताज़ा करता है और दिमाग को शांत करता है। यह अवसाद या थकान के लिए अच्छा चिकित्सीय उपचार है।

(और पढ़ें – तनाव दूर करने के लिए योग…)

पूर्वोत्तानासन के लाभ छाती को फैलने में – Purvottanasana benefits for stretches the chest in Hindi

आकर्षक व्यक्तित्व के लिए फैली छाती बहुत आवश्यक होती हैं। पूर्वोत्तानासन योग करने से आपकी छाती को पर्याप्त फैलाव मिलता हैं। यह आसन एड़ियों के सामने, छाती और कंधों को एक अच्छा खिंचाव देता है। यह आसन आपकी पीठ, पैर, बाइसेप्स (biceps) और ट्राइसेप्स (triceps) को मजबूत बनाता है। यह आपको नई संभावनाओं के लिए खुला रखने (open to new possibilities) में मदद करें।

(और पढ़े – इस टिप्स से कुछ ही सप्ताह में बनेंगी ज़बरदस्त मसल्स…)

पूर्वोत्तानासन योग के अन्य लाभ – Other benefits of Purvottanasana in Hindi

पूर्वोत्तानासन योग के अन्य लाभ - Other benefits of Purvottanasana in Hindi

  • यह आसन पैरों और कमर में ताकत विकसित करता है।
  • यह आसन पीठ के निचले हिस्से और पैरों को मजबूत करता है।
  • यह अपने कूल्हों और हमारे पंजर (ribcage) के बीच जगह बनाता है।
  • यह आसन हमारे कूल्हों और श्रोणि (pelvis) को स्थिर करता है।
  • यह आसन पेट की चर्बी कम करने और पेट का फूलना जैसी समस्या से छुटकारा पाने में मददगार है।
  • इस आसन का अभ्यास सभी स्त्री रोग संबंधी विकारों में सहायक है।

(और पढ़ें – कमर और पेट कम करने के घरेलू उपाय)

पूर्वोत्तानासन करने के लिए सावधानियां – Precautions to do Purvottanasana in Hindi

पूर्वोत्तानासन करने के लिए सावधानियां - Precautions to do Purvottanasana in Hindi

पूर्वोत्तानासन योगासन हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में कई प्रकार से मदद करता हैं पर इस आसन का अधिक से अधिक लाभ लेने के लिए और इस आसन को सही ढंग से करने के लिए इसकी सावधानियों को जनना बहुत ही आवश्यक हैं। इस आसन की कुछ सावधानियां निम्न हैं-

  • अगर आपकी कलाई में चोट या किसी भी प्रकार का दर्द हैं तो आप आसन को ना करें।
  • यदि आपको गर्दन की चोट है तो आप अपने सिर के लिए दीवार या कुर्सी का उपयोग करें।
  • यदि आपको कार्पल टनल सिंड्रोम और कंधे में दर्द है तो आप इस आसन को ना करें।
  • किसी भी चिकित्सा मुद्दों में डॉक्टर से परामर्श अवश्य करें।
  • सभी योगासन और प्राणायाम को किसी योग प्रशिक्षक के सामने करें।

(और पढ़ें – गर्दन में दर्द और अकड़न दूर करने के घरेलू उपाय…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration