गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में भ्रूण का विकास, शारीरिक बदलाव और देखभाल - Second Trimester of Pregnancy in Hindi
गर्भावस्था

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में भ्रूण का विकास, शारीरिक बदलाव और देखभाल – Second Trimester of Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में भ्रूण का विकास, शारीरिक बदलाव और देखभाल - Second Trimester of Pregnancy in Hindi

Pregnancy ki dusri timahi अपनी गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में आपका स्वागत है। कई महिलाओं के लिए यह समय तीनों ट्राइमेस्टर में सबसे आरामदायक होता है। इस अवस्था के आगमन के साथ आप कुछ नए परिवर्तनों का अनुभव करेंगे। इस तिमाही में गर्भावस्था के अधिकांश शुरुआती लक्षण कम या गायब ही हो जाएंगे। आप संभवतः कम उतावलेपन का अनुभव करेंगी जिसका अर्थ है कि आप अच्छे भोजन की अच्छी गंध और स्वाद ले सकती है। आपका ऊर्जा स्तर ऊपर उठेगा और आपके स्तन अभी भी बड़े होंगे लेकिन बहुत कम संवेदनशीलता महसूस करेंगे। गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि इस के अंत तक आपके निचले पेट में उभार दिखाई देने लगेगा। और आपकी दोपहर की भूख भी कम हो सकती है। आइये गर्भावस्था की दूसरी तिमाही की सम्पूर्ण जानकारी को विस्तार से जानते है।

विषय सूची

  1. गर्भावस्था की दूसरी तिमाही कब शुरू और खत्म होती है – When does the second trimester start and end in Hindi
  2. प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में शिशु की वृद्धि – Baby’s growth in the second trimester in Hindi
  3. गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में बच्चे का विकास – Garbhavastha ki dusri timahi me bhrun ka vikas
  4. गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में होने वाले शारीरिक बदलाव – Garbhavastha ki dusri timahi me hone vale sharirik privartan
  5. गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में वजन बढ़ना – Weight gain in Second Trimester of Pregnancy in Hindi
  6. दूसरी तिमाही में गर्भावस्था के लक्षण की जाँच – Symptoms of Second Trimester of Pregnancy in Hindi
  7. प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में देखभाल के लिए टिप्स – Pregnancy ki dusri timahi me dekhbhal ke tips in Hindi

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही कब शुरू और खत्म होती है – When does the second trimester start and end in Hindi

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही कब शुरू और खत्म होती है - When does the second trimester start and end in Hindi

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही या दूसरा ट्राइमेस्टर गर्भावस्था के 14 वें सप्ताह में शुरू होता है और 27 वें सप्ताह के अंत तक रहता है।

(और पढ़े – गर्भावस्था का दूसरा महीना – लक्षण, बच्चे का विकास, शारीरिक बदलाव और देखभाल…)

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में शिशु की वृद्धि – Baby’s growth in the second trimester in Hindi

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में शिशु की वृद्धि - Baby's growth in the second trimester in Hindi

आपका बच्चा दूसरी तिमाही में बहुत अधिक व्यस्त रहता है। गर्भावस्था के 18 वें सप्ताह तक आपके बच्चे का वजन लगभग मुर्गी के चूजे (chicken breast) के जितना होता है। और इसके कारण आपको हिचकी आना और जंभाई आने आदि की भी समस्या हो सकती है। लगभग 21 सप्ताह तक आप अपने बच्चे के हाथ और पैरों को महसूस करने लगेंगी जैसे मुक्का मारना और लात मारना आदि। लगभग 23 सप्ताह तक आपका बच्चा आपसे एक इशारा या संकेत लेने लगता है। धीरे-धीरे बच्चे का वजन बढ़ने लगता हैं वह अगले चार हफ्तों में अपना वजन दोगुना कर देता है। अपने दूसरे ट्राइमेस्टर के अंत तक आपके पेट में 2 पाउंड का बच्चा होगा।

(और पढ़े – गर्भ में पल रहा बच्चा क्यों मारता है किक…)

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में बच्चे का विकास – Garbhavastha ki dusri timahi me bhrun ka vikas

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में बच्चे का विकास - Garbhavastha ki dusri timahi me bhrun ka vikas

बाल, त्वचा और नाखून – Hair, skin and nails in Hindi – लगभग 16 वें सप्ताह तक बच्चे के पहले छोटे बाल उगने शुरू होते हैं और 22 वें सप्ताह तक उसे पलकें और भौहें भी मिल जाती हैं। बेबी की त्वचा अब लानुगो बाल (lanugo hair) एक हल्का “फर कोट (fur coat)” है जो उसे तब तक गर्म रखती है जब तक कि वह तीसरी तिमाही तक अपने शरीर में अधिक वसा का निर्माण ना कर लें। और 19 वें सप्ताह तक वर्निक्स केसोसा (तेल और मृत कोशिकाओं की एक चिकनी परत) जो उसकी त्वचा को अम्लीय एमनियोटिक द्रव से ढाल देती है।

पाचन तंत्र – Digestive system – पहले तिमाही के अंत तक बेबी का पाचन तंत्र पूरी तरह से बन जाता है। तो अब बच्चा गर्भ के बाहर जीवन की तैयारी के लिए चूसना और निगलना शुरू कर देता है। वह आपके एमनियोटिक द्रव के माध्यम से आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों का स्वाद भी ले सकता है।  एक शोध से पता चला है कि वह गर्भ के बाहर अपनी प्राथमिकताओं को प्रभावित कर सकता है। अभी बच्चे की अपशिष्ट प्रणालियां भी कड़ी मेहनत कर रही होती हैं हालाँकि वह अभी भी आपकी पौष्टिकता के माध्यम से अपना पोषण प्राप्त करती है।

चेतना – Senses – इस समय बच्चे के कान और आंखें अपनी सही स्थिति में आते हैं। गर्भावस्था के 22 वें सप्ताह तक उसकी विकासशील इंद्रिया आती हैं जिससे वह सूंघना, देखना और सुनना शुरू करता है और उसकी छोटी आँखें खुलने लगी हैं।

हृदय – Heart – 17 वें सप्ताह तक शिशु का दिल नहीं धड़कता है क्योंकि उसका मस्तिष्क अब तक उसके दिल की धड़कन को नियंत्रित करता है। आप 20 वें सप्ताह तक स्टेथोस्कोप के साथ बच्चे की धड़कन सुन सकते हैं।  25 वें सप्ताह तक ह्रदय में उसके शरीर के माध्यम से ऑक्सीजन युक्त रक्त ले जाने के लिए केशिकाएं बनना शुरू हो जाती हैं।

मस्तिष्क – Brain – अपने बच्चे के दिल की धड़कन को नियंत्रित करने और बच्चे को उत्तेजित करने के अलावा 26 वें सप्ताह तक आपके बच्चे का मस्तिष्क उसकी छोटी-छोटी पलकों को झपकाना शुरू कर देगा।

(और पढ़े – गर्भावस्था के आठवें सप्ताह के लक्षण…)

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में होने वाले शारीरिक बदलाव – Garbhavastha ki dusri timahi me hone vale sharirik privartan

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में होने वाले शारीरिक बदलाव - Garbhavastha ki dusri timahi me hone vale sharirik privartan

दूसरी तिमाही में गर्भावस्था के दौरान कुछ गर्भावस्था के लक्षण जैसे चिड़चिड़ापन, जलन और कब्ज आदि की समस्या रह सकती है। इस समय आपका पेट बढ़ता रहता है और गर्भावस्था के हार्मोन के स्तर में वृद्धि होती है।

रक्त-संकुलन – आपके शरीर के श्लेष्म झिल्ली में रक्त प्रवाह में वृद्धि होती है। आपकी नाक में जमाव के कारण आप पहली बार खर्राटे भी ले सकती हैं। इसके उपचार के लिए कुछ OTC दवाएं ले सकती हैं जो गर्भावस्था के दौरान उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं।

पैरों की हल्की सूजन – यह समस्या गर्भावस्था के 22 वें सप्ताह से शुरू होती है और प्रसव तक स्थायी रहती है। इस दौरान घबराहट को कम करने के लिए सक्रिय रहने का प्रयास करें। जब आप चल-फिर नहीं सकती तो अपने पैरों को ऊपर उठाएं। और लंबे समय तक खड़े रहने या बैठने से बचें।

पैर की मरोड़ – पैर की मरोड़ आमतौर पर दूसरी तिमाही में शुरू होती है और तीसरी तिमाही के माध्य तक रहती है। यह हार्मोन और वजन वृद्धि के साथ कैल्शियम या मैग्नीशियम की कमी के कारण भी होता है। इसलिए स्वस्थ, अच्छी तरह से संतुलित गर्भावस्था आहार का सेवन अवश्य करें।

संवेदनशील मसूड़े – अगर आपके मसूड़े संवेदनशील हैं और मसूड़े से खून बह रहा है तो अपने दंत चिकित्सक को देखने के लिए सुनिश्चित करें। क्योंकि यह मसूड़े की सूजन का संकेत हो सकता है। यह अपेक्षाकृत हानिकारक नहीं होता है लेकिन ठीक से इलाज नहीं होने पर एक बड़ी समस्या का कारण बन सकता है।

पेट के निचले हिस्से में दर्दयह भिन्न प्रकार की मांसपेशियों में दर्द के रूप में जाना जाता है। यह कठोर, लचीली, रेशेदार संयोजी ऊतक की एक छोटी पट्टी जो आपके पेट से जुड़ी होती हैं और आपके पेट के बढ़ते आकार का समर्थन करने के लिए खिंचाव का समर्थन करती है।

सिर चकराना – आपके शरीर के सभी अतिरिक्त रक्त को पंप करने के कारण और निम्न रक्तचाप के कारण सिर चकराना होता है। इस दौरान घबराएं नहीं और शान्ति रखें। छोटे भोजन खाएं और इसके लक्षणों को कम करने के लिए तरल पदार्थों को अधिक से अधिक सेवन करें।

उपरोक्त सभी शरीर में होने वाले परिवर्तन पूरी तरह से सामान्य और अस्थायी हैं।

(और पढ़े – गर्भावस्था में आहार जो देगा माँ और बच्चे को पूरा पोषण…)

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में वजन बढ़ना – Weight gain in Second Trimester of Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में वजन बढ़ना - Weight gain in Second Trimester of Pregnancy in Hindi

ये ही कुछ महीने हैं जब आप वास्तव में गर्भावस्था के वजन को प्राप्त करना शुरू करते हैं, क्योंकि आपके बढ़ते बच्चे का समर्थन करने के लिए आपकी भूख बढ़ने की संभावना होती हैं। यदि आपने एक सामान्य वजन पर अपनी गर्भावस्था शुरू की है तो इस तिमाही में लगभग 14 पाउंड प्रति सप्ताह वजन बढ़ने की सम्भवना है।

(और पढ़े – डिलीवरी के बाद इन तरीकों से घटाएं पेट की चर्बी…)

दूसरी तिमाही में गर्भावस्था के लक्षण की जाँच – Symptoms of Second Trimester of Pregnancy in Hindi

दूसरी तिमाही में गर्भावस्था के लक्षण की जाँच - Symptoms of Second Trimester of Pregnancy in Hindi

जब आप अपने दूसरे ट्राइमेस्टर में पहुंचे हैं तो कुछ बाहरी लक्षण जिनमें योनि से भारी रक्तस्राव, गंभीर पेट दर्द और 101.5 F से अधिक बुखार शामिल हैं। इसके अलावा गर्भावधि मधुमेह के संकेत को ध्यान में रखें। इसके अन्य लक्षण अत्यधिक प्यास, लगातार और प्रचुर मात्रा में पेशाब, अत्यधिक थकान, अचानक वजन बढ़ने, चेहरे और हाथों में गंभीर सूजन, दृष्टि में परिवर्तन और खर्राटे शामिल हैं। किसी भी प्रकार की गंभीर समस्या होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – जेस्टेशनल डायबिटीज (गर्भकालीन मधुमेह) के कारण, लक्षण, निदान और इलाज…)

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में देखभाल के लिए टिप्स – Pregnancy ki dusri timahi me dekhbhal ke tips in Hindi

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में देखभाल के लिए टिप्स - Pregnancy ki dusri timahi me dekhbhal ke tips in Hindi

दूसरी तिमाही में नीचे दी गई बातों का ध्यान अवश्य रखें –

नियमित रूटीन का ध्यान रखें – प्रत्येक तिमाही में आपका डॉक्टर आपके वजन, आपके गर्भाशय के आकार, आपके गर्भाशय के ऊपर की जाँच करेगा। और यह सुनिश्चित करेगा कि शिशु के दिल की धड़कन सब कुछ ठीक है।

अपने ग्लूकोज की जांच करवाएं – लगभग 10 गर्भवती महिलाओं में से एक को गर्भकालीन मधुमेह का पता चलता है। सभी महिलाओं को गर्भावस्था के 24 से सप्ताह 28 के सप्ताह के आसपास की स्थिति में इसकी जांच की जानी चाहिए। यदि आपका परीक्षण परिणाम आपके मूत्र में अतिरिक्त ग्लूकोज के लिए सकारात्मक आता है तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपको मधुमेह है। आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियमित रूप से ट्रैक करना होगा।

दो बार अल्ट्रासाउंड जांच कराएं – आमतौर पर गर्भावस्था के 18 से 22 सप्ताह के बीच आपका डॉक्टर बच्चे को मापेगा, विकासशील अंगों की जांच करेगा और एमनियोटिक द्रव की मात्रा निर्धारित करेगा। यदि आप चाहते तो अपने बच्चे के लिंग को देखें सकते हैं। आपके डॉक्टर को 3 डी और 4 डी अल्ट्रासाउंड का प्रदर्शन करना चाहिए।

टीकाकरण करवाएं – यदि आप ठंड और फ्लू के मौसम में गर्भवती हैं तो फ्लू का टीका लगवाना सुनिश्चित करें।

अपनी तरफ से सोएं – गर्भावस्था में नींद आमतौर पर पहली या तीसरी की तुलना में दूसरी तिमाही में आरामदायक होती है। इस समय में आपको अपनी तरफ से सोना शुरू करना चाहिए। क्योंकि आपके बढ़ते हुए गर्भाशय का वजन वेना कावा (आपकी नस से खून लाने वाली नस) पर दबाव डालता है जो रक्त परिसंचरण में हस्तक्षेप कर सकते हैं।

प्रसवपूर्व वर्कआउट को प्राथमिकता दें – आपके और आपके बच्चे के लिए व्यायाम सभी प्रकार से लाभदायक है। इसके लिए गर्भावस्था के अनुकूल व्यायाम को चुनना एक अच्छा विचार है। और अभी आपका पेट बड़ा है इसलिए उन गतिविधियों से बचें जो आपके लिए सुरक्षित नहीं हैं।

कैलोरी सेवन को बढ़ाये – यदि आप गर्भवती होने से पहले सामान्य वजन पर थीं। तो दूसरी तिमाही के दौरान आपको लगभग 300 से 350 अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होगी।

अपने वजन को ट्रैक करें – जब आपका लगातार वजन बढ़ने लगेगा तो आपका डॉक्टर आपको यह सलाह देगा कि आप हर हफ्ते इस पर नज़र रखें।

(और पढ़े – गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड कब और कितनी बार करवाना चाहिए…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration