मैंगोस्टीन फल के लाभ और उपयोग – Mangosteen Fruit Benefits and side effects in Hindi

मैंगोस्टीन फल के फायदे, लाभ, उपयोग और नुकसान – Mangosteen Fruit Benefits and side effects in Hindi
Written by Jaideep

मैंगोस्‍टीन फल के लाभ और उपयोग हैरान करने वाले हैं। मैंगोस्टीन (गार्सिनिया मैंगोस्टाना) एक विदेशी, उष्णकटिबंधीय फल है जिसमें थोड़ा मीठा और खट्टा स्वाद होता है। जिसके कारण मैंगोस्‍टीन फल को फलों की रानी के नाम से जाना जाता है। इस फल में वो सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक होते हैं। मैंगोस्‍टीन फल को वैज्ञानिक रूप से गार्सिनिया मैंगोस्टाना (Garcinia mangostana) के रूप में जाना जाता है बैंगनी मंगोस्टीन, जिसे हिंदी में ‘मैंगस्टन'(Mangustan), तेलुगु में ‘इवारुमिडी'(Ivarumamidi), मलयालम में ‘कट्टम्पी'(Kaattampi), बंगाली में ‘काओ'(Kao), कन्नड़ में ‘मुरुगला हन्नू’, गुजराती में ‘कोकम’, ‘कोकम’ या ‘रतंबा’ (Kokam‘ or ‘Ratamba’) के नाम से जाना जाता है। इसे देवताओं का भोजन माना जाता है। हालांकि मैंगोस्‍टीन फल स्‍वादिष्‍ट होने के साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में सहायक होते हैं। मैंगोस्‍टीन फल में लगभग सभी प्रकार के पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थों की अच्‍छी मात्रा होती है।

मैंगोस्‍टीन फल का उपयोग रक्‍तचाप और रक्‍त परिसंचरण को ठीक रखने, कैंसर को रोकने, कोलेस्‍ट्रॉल को नियंत्रित करने, सूजन को कम करने और मासिक धर्म की परेशानियों को दूर करने के वजन घटाने, रक्त शर्करा नियंत्रण, उच्‍च रक्‍तचाप और पाचन की समस्या को दूर करने लिए किया जाता है। आज इस आर्टिकल में आप मैंगोस्‍टीन फल के फायदे और नुकसान संबंधी जानकारी प्राप्‍त करेगें। आइए इन्‍हें जानें।

1. मैंगोस्‍टीन क्‍या है – Mangosteen kya hai in Hindi
2. मैंगोस्‍टीन के अन्‍य नाम – Mangosteen ke other name in Hindi
3. मैंगोस्‍टीन के पोषक तत्‍व – Mangosteen Nutritional Value in Hindi
4. मैंगोस्‍टीन के फल के फायदे – Mangosteen Fruit benefits in Hindi
5. मैंगोस्‍टीन के अन्य स्वास्थ्य लाभ – Other Health Benefits of Mangosteen in Hindi
6. मैंगोस्टीन कैसे खाएं – How to Eat Mangosteen in Hindi
7. मैंगोस्‍टीन के नुकसान – Mangosteen ke Nuksan in Hindi

मैंगोस्‍टीन क्‍या है – Mangosteen kya hai in Hindi

यह एक सदाबहार पेड़ है जो विशेष रूप से इंडोनेशिया में पाया जाता है। मैंगोस्‍टीन थाईलैंड का राष्‍ट्रीय फल भी है। मैंगोस्‍टीन का फल बैंगनी रंग का होता है जिसके अंदर सफेद मांसल गूदा होता है। भारत जैसे देशों में इस फल को बहुत लोकप्रियता प्राप्‍त है।

मैंगोस्‍टीन फल के 3 मुख्‍य भाग होते हैं। पहला भाग इसका गहरा बैंगनी रंग का छिलका, दूसरा इसका मांसल गूदा और तीसरा इसके बीज। मैंगोस्‍टीन फल के बीजों का स्‍वाद कड़वा होता है जबकि इसका गूदा स्‍वादिष्‍ट और मीठा होता है। मैंगोस्‍टीन फल के ऊपर का आवरण या छिलका सख्‍त होता है। लेकिन फिर भी इसे आसानी से तोड़ा या अलग किया जा सकता है।

मैंगोस्‍टीन के अन्‍य नाम – Mangosteen ke other name in Hindi

बैंगनी मैंगोस्‍टीन को हिंदी में मैंगस्टन के नाम से जाना जाता है। मैंगोस्‍टीन एक स्‍वादिष्‍ट फल है जिसका वैज्ञानिक नाम गार्सिनिया मैंगोस्टाना (Garcinia mangostana) है। इसे तेलुगु में इवारुमिडी (Ivarumamidi), मलयालम में कट्टम्‍पी (Kaattampi), बंगाली में काओ (Kao), कन्नड में मुरूगला हन्नू (Murugala Hannu), गुजराती में कोकम (Kokum) आदि नामों से जाना जाता है।

मैंगोस्‍टीन के पोषक तत्‍व – Mangosteen Nutritional Value in Hindi

उच्‍च पोषक तत्‍वों की मौजूदगी के कारण मैंगोस्‍टीन फल बहुत ही लोकप्रिया फलों में शामिल हो चुका है। स्‍वाद से भरपूर होने के साथ ही इस फल में फाइबर और कार्बोहाइड्रेट की उच्च मात्रा होती है। इसके अलावा विटामिन ए और विटामिन सी के साथ ही आयरन, कैल्शियम और पोटेशियम भी अच्‍छी मात्रा में होते हैं। इस फल बी-कॉम्‍प्‍लेक्‍स विटामिन जैसे थियामिन (thiamine), नियासिन और फोलेट्स (niacin and folates) की मध्‍यम मात्रा होती है। ये विटामिन कॉफैक्‍टर्स (cofactors) के रूप में कार्य करते हैं जो शरीर को कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा को चयापचय करने में मदद करते हैं। मैंगोस्‍टीन फल में विशेष रूप से जैंथोन की अच्‍छी मात्रा होती है।

मैंगोस्टीन कैलोरी में अपेक्षाकृत कम है फिर भी कई आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है।

1-कप (196-ग्राम) डिब्बाबंद, सूखा मैंगोस्टीन में :

  • कैलोरी: 143
  • कार्ब्स: 35 ग्राम
  • फाइबर: 3.5 ग्राम
  • वसा: 1 ग्राम
  • प्रोटीन: 1 ग्राम
  • विटामिन सी: 9% संदर्भ दैनिक सेवन (आरडीआई)
  • विटामिन बी 9 (फोलेट): आरडीआई का 15%
  • विटामिन बी 1 (थायमिन): आरडीआई का 7%
  • विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन): आरडीआई का 6%
  • मैंगनीज: RDI का 10%
  • कॉपर: RDI का 7%
  • मैग्नीशियम: RDI का 6%

मैंगोस्टीन कैलोरी में कम होने के साथ कई आवश्यक विटामिन, खनिज और फाइबर प्रदान करता है। ये पोषक तत्व आपके शरीर में कई कार्यों के लिए महत्वपूर्ण हैं।

मैंगोस्‍टीन के फल के फायदे – Mangosteen Fruit benefits in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल लंबे समय से विभिन्‍न एशियाई देशों में पारंपरिक चिकित्‍सा के लिए उपयोग किया जा रहा है। मैंगोस्‍टीन फल का सेवन करने से कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को नियंत्रित करने में फायदा होता है जो अध्‍ययनों से भी स्‍पष्‍ट हो चुका है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि यह फल अद्भुद पोषक तत्‍वों से भरपूर है। स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए इस फल और पौधे के विभिन्‍न हिस्‍सों का उपयोग किया जाता है। आइए जाने स्‍वास्‍थ्‍य के लिए मैंगोस्‍टीन फल के फायदे क्‍या हैं।

मैंगोस्‍टीन फल के फायदे एंटीऑक्‍सीडेंट से भरपूर – Mangosteen Benefits for Antioxidants in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल एंटीऑक्‍सीडेंट और विटामिन का अच्‍छा स्रोत है। अब तक के ज्ञात फलों में सबसे अधिक एंटीऑक्‍सीडेंट इसी फल में पाए जाते हैं। इस फल में प्राकृतिक रूप से पॉलीफेनोल (polyphenol) यौगिकों की मौजूदगी होती है जिसे जैंथोन के रूप में जाना जाता है। मैंगोस्‍टीन में जेन्‍थोन्‍स-एल्‍फा मैंगोस्‍टीन और गामा मैंगोस्‍टीन होते हैं। ऐसा माना जाता है कि मैंगोस्‍टीन फल में कम से कम 20 ज्ञात जैंथोन (Xanthones) होते हैं जिनमें से अधिकांश फल की दीवार या छिलके में होते हैं। ये घटक तनाव को कम करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा ये एंटीऑक्‍सीडेंट शरीर को कई प्रकार के संक्रमण से बचाते हैं। जिनमें हृदय रोग, सर्दी और कैंसर आदि शामिल हैं।

(और पढ़ें – फाइबर क्या है, स्रोत, फाइबर के फायदे और फाइबर के नुकसान)

मैंगोस्‍टीन बेनिफिट्स फॉर वेट लॉस – Mangosteen Benefits for weight loss in Hindi

जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उन्‍हें मैंगोस्‍टीन का नियमित सेवन फायदे दिला सकता है। मैंगोस्‍टीन फल की100 ग्राम मात्रा में लगभग 63 कैलोरी होती है जो बहुत कम है। साथ ही इसमें संतृप्‍त वसा न के बराबर होता और यह कोलेस्‍ट्रॉल मुक्‍त है। मैंगोस्‍टीन में पाये जाने वाले पोषक तत्‍व और फाइबर पाचन तंत्र को मजबूत बनाकर शरीर में मौजूद अतिरिक्‍त वसा को कम करने में सहायक होते हैं। यदि आप भी अपना वजन घटाना चाहते हैं तो मैंगोस्‍टीन फल के साथ ही इसके छिलकों का भी सेवन करें। क्‍योंकि मैंगोस्‍टीन फल की अपेक्षा इसके छिलकों में जेन्‍थोन की मात्रा उच्च होती है। जो मोटापे के लक्षणों को कम करने में प्रभावी होता है।

(और पढ़ें – जल्दी वजन कम करने वाले आहार, फल और सब्जियां)

मैंगोस्‍टीन के लाभ प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाये – Mangosteen for boost immunity in Hindi

स्‍वस्‍थ शरीर के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली का मजबूत होना आवश्‍यक है। मैंगोस्‍टीन फल का उपयोग आपकी इम्‍यूनिटी पावर को बढ़ा सकता है। मैंगोस्‍टीन फल के छिलके में विटामिन सी की अच्‍छी मात्रा होती है। इसके अलावा इसमें एक्‍सथोन्‍स (Xanthones) भी होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक है। एक्‍सथोन्‍स फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव को कम करने और उनसे लड़ने में शरीर की मदद करता है। इस फल में मौजूद विटामिन सी ल्‍यूकोसाइट्स (leukocytes) या श्वेत रक्‍त कोशिकाओं के उत्‍पादन और कार्य को बढ़ावा देता है। जिससे आपके शरीर की प्रतिरक्षा शक्ति में सुधार होता है। यदि आप भी कमजोर प्रतिरक्षा का अनुभव कर रहे हैं तो मैंगोस्‍टीन फल आपके लिए एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। मैंगोस्‍टीन फल के फायदे आपको कई प्रकार की संक्रामक बीमारियों से बचाते हैं।

(और पढ़ें – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

मैंगोस्‍टीन का उपयोग मासिक धर्म के लिए – Mangosteen ka Upyog Menstrual Problems ke liye in Hindi

महिलाओं को मासिक धर्म चक्र के दौरान कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन मासिक धर्म से जुड़ी समस्‍याओं को दूर करने के लिए मैंगोस्‍टीन फल का उपयोग करने के फायदे हो सकते हैं। जिन महिलाओं को अनियमित पीरियड्स प्राप्‍त हो रहे हैं उनके लिए यह फल बहुत ही लाभकारी होता है। इसके अलावा कुछ जानकारों का मानना है कि मैंगोस्‍टीन की जड़ के अर्क का सेवन करना भी नियमित अवधि के लिए फायदेमंद होता है।

(और पढ़ें – पीरियड्स (मासिक धर्म) से जुड़े मिथक जो आपको पता होने चाहिये)

मैंगोस्‍टीन का इस्‍तेमाल रक्‍तचाप नियंत्रित करे – Mangosteen for Regulates Blood Pressure in Hindi

उच्‍च रक्‍तचाप संबंधी समस्‍या किसी भी व्‍यक्ति के लिए गंभीर स्थिति बन सकती है। लेकिन उच्‍च रक्‍तचाप रोगी मैंगोस्‍टीन फल का इस्‍तेमाल कर लाभ प्राप्‍त सकते हैं। मैंगोस्‍टीन फल में पोटेशियम, कॉपर, मैंगनीज और मैग्नीशियम जैसे मिनरल की अच्‍छी मात्रा होती है। ये सभी घटक रक्‍तचाप को नियंत्रित करने और हाई ब्‍लड प्रेशर के लक्षणों को कम करने में सहायक होते हैं। इसमें मौजूद पोटेशियम विशेष रूप से शरीर में नमक के उच्‍च स्‍तर को नियंत्रित करता है। जिससे हृदय रोगों संबंधी समस्‍याओं से बचा जा सकता है। अध्‍ययन भी बताते हैं कि मैंगोस्‍टीन फल के फायदे उच्‍च रक्‍तचाप रोगी के लिए होते हैं।

(और पढ़ें – हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं क्या नहीं खाएं )

मैंगोस्‍टीन खाने के फायदे ऊर्जा बढ़ाए – Mangosteen Khane ke Fayde Energy Badhaye in Hindi

अध्‍ययनों से पता चलता है कि शारीरिक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए मैंगोस्टीन फल एक अच्‍छा विकल्‍प है। मैंगोस्‍टीन फल में फाइबर और अन्‍य पोषक तत्वों की उच्‍च मात्रा होती है जो हमारी ऊर्जा को बढ़ाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा यह त्‍वरित ऊर्जा प्राप्‍त करने में भी विशेष योदान देता है। आप भी सुबह के समय इस फल का सेवन कर दिन भर के लिए अतिरिक्‍त ऊर्जा प्राप्‍त कर सकते हैं।

(और पढ़ें – ये प्री-वर्कआउट ड्रिंक रखेंगी आपको जिम के दौरान ऊर्जावान)

मैंगोस्‍टीन के गुण सूजन कम करें – Mangosteen ke gun sujan kam kare in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल में उच्‍च एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। जिसके कारण यह सूजन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में प्रभावी होता है। यह शरीर में हिस्‍टामाइन और प्रोस्‍टाग्‍लैंडीन (Histamine and Prostaglandin) को उत्‍तेजित करता है जिससे सूजन विरोधी प्रक्रिया में मदद मिलती है। इसलिए आप अपने शरीर में सूजन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए मैंगोस्‍टीन फल का उपयोग लाभकारी हो सकता है। सर्दी, फ्लू जैसी समस्‍याओं में होने वाली सूजन को नियंत्रित करने के लिए मैंगोस्‍टीन के फायदे होते हैं।

(और पढ़ें – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय)

मैंगोस्‍टीन खाने के फायदे कैंसर से बचाए – Mangosteen Fruit Benefits for Anticancer Effects in Hindi

मैंगोस्टीन में पाए जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट कैंसर और अन्य हृदय रोगों को रोकने में मदद करते हैं। यह एक शक्तिशाली और प्रभावी एंटीऑक्सिडेंट है जो हमारे शरीर को मुक्त कणों से बचाता है जो ऑक्सीडेटिव तनाव, या “सेलुलर जंग” (cellular rust) का कारण बनता है जो गंभीर चिकित्सा स्थितियों का कारण बन सकता है।

जनसंख्या अध्ययन से पता चलता है कि सब्जियां और फल जैसे कि मैंगोस्टीन से भरपूर आहार कैंसर को रोक सकते हैं।

मैंगोस्टीन में विशिष्ट पादप यौगिक – जिसमें एक्सथोन (xanthones) शामिल हैं – में एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होते हैं, जो कैंसर कोशिकाओं के विकास और प्रसार से लड़ने में मदद कर सकते हैं।

मल्टीपल टेस्ट-ट्यूब अध्ययनों से पता चलता है कि एक्सथोन कैंसर की कोशिका वृद्धि को रोक सकता है, जिसमें स्तन, पेट और फेफड़े के ऊतक शामिल हैं।

इसी तरह, अध्ययनों की एक छोटी संख्या ने पाया कि यह यौगिक चूहों में बृहदान्त्र और स्तन कैंसर की प्रगति को धीमा कर सकता है।

हालांकि ये परिणाम आशाजनक हैं, लेकिन मनुष्यों में अभी अपर्याप्त शोध किया गया है।

(और पढ़ें – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय)

मैंगोस्‍टीन फ्रुट के लाभ त्‍वचा के लिए – Mangosteen Fruit Benefits for Skin in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल में कई प्रकार के जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुण होते हैं। साथ ही इसमें एक्‍सथोन्‍स (Xanthone) नामक सक्रिय घटक भी होता है। यह घटक क्षतिग्रस्‍त कोशिकाओं की मरम्‍मत करने और कई प्रकार की त्वचा समस्‍याओं को दूर करने में सहायक होता है। इसके अलावा त्‍वचा को स्‍वस्‍थ रखने वाले विटामिन सी भी मैंगोस्‍टीन फल में पर्याप्‍त मात्रा में उपलब्‍ध होते हैं। जो कि त्‍वचा में मौजूद मुंहासों के पारंपरिक इलाज के लिए मैंगोस्‍टीन फल के लाभ दर्शाते हैं। आप भी त्वचा संबंधी लगभग सभी प्रकार की  समस्‍याओं को दूर करने के लिए मैंगोस्‍टीन फल का उपयोग कर सकते हैं। मैंगोस्‍टीन फल आपके उम्र बढ़ने संबंधी संकेतों को भी कम करने का सबसे अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है।

मैंगोस्टीन के छिलके से बना रस आपकी त्वचा को कोमल बना सकता है।

सूरज के संपर्क में आने से त्वचा की क्षति दुनिया भर में एक आम घटना है और त्वचा कैंसर और उम्र बढ़ने के संकेत के लिए एक प्रमुख योगदानकर्ता है।

एक अध्ययन में पूरक मैंगोस्टीन के साथ इलाज के दौरान त्वचा में पराबैंगनी-बी (UVB) विकिरण के खिलाफ एक सुरक्षात्मक प्रभाव देखा गया है।

एक छोटे से, 3 महीने के मानव अध्ययन में पाया गया कि लोगों ने दैनिक 100 मिलीग्राम मैंगोस्टीन अर्क का उपयोग किया, जिससे उनकी त्वचा में काफी अधिक लोच का अनुभव हुआ और त्वचा की उम्र बढ़ने में योगदान करने के लिए ज्ञात एक विशेष यौगिक का कम संचय हुआ।

शोधकर्ताओं का कहना है कि मैंगोस्टीन की एंटीऑक्सिडेंट और इंती इंफ्लेमेटरी क्षमता इन त्वचा-सुरक्षात्मक प्रभावों का मुख्य कारण है, लेकिन इस क्षेत्र में अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

(और पढ़ें – 35 के बाद चेहरे की देखभाल के लिए ब्यूटी टिप्स)

मैंगोस्‍टीन के औषधीय गुण पाचन को ठीक करे – Mangosteen for Digestive problems in Hindi

मैंगोस्‍टीन एक औषधीय फल है जो आपकी पाचन संबंधी समस्‍याओं का इलाज कर सकता है। मैंगोस्‍टीन फल में फाइबर की अच्‍छी मात्रा होती है जो पाचन तंत्र को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक है। नियमित रूप से मैंगोस्‍टीन फल का सेवन करने से कब्‍ज और दस्‍त जैसी समस्‍याओं से राहत दिलाता है। इसमें मौजूद फाइबर की उच्च मात्रा आपके प्रीबायोटिक्‍स (prebiotics) का सेवन भी बढ़ाती है जो आपकी आंतों को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक होता है। यदि आप भी पाचन संबंधी समस्‍याओं का सामना कर रहे हैं तो मैंगोस्‍टीन फल के लाभ प्राप्‍त करने के लिए इसे अपने नियमित आहार में शामिल कर सकते हैं।

(और पढ़ें – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय)

मैंगोस्‍टीन का प्रयोग कोलेस्‍ट्रॉल कम करे – Mangosteen ka pryog Cholesterol kam kare in Hindi

आप अपने आहार में मैंगोस्‍टीन फल को शामिल कर कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को रोक सकते हैं जिसमें उच्‍च कोलेस्‍ट्रॉल भी शामिल है। यह आपके शरीर में मौजूद खराब कोलेस्‍ट्रॉल के उच्‍च स्‍तर को भी नियंत्रित करने में सहायक होता है। शरीर में उच्‍च कोलस्‍ट्रॉल हृदय संबंधी समस्‍याओं का प्रमुख कारण होता है। उच्‍च कोलेस्‍ट्रॉल शरीर में स्‍वस्‍थ रक्‍त परिसंचरण को बाधित करता है। लेकिन नियमित रूप से मैंगोस्‍टीन फल का सेवन करना हृदय के कामकाज को बेहतर बनाता है। क्‍योंकि यह ट्राइग्लिसराइड्स (triglycerides) के स्‍तर को नियंत्रित करने में प्रभावी योगदान देता है। आप भी अपने हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाए रखने के लिए मैंगोस्‍टीन फल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलू उपाय)

मैंगोस्‍टीन फल के लाभ क्षय रोग में – Mangosteen fruits for Tuberculosis in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले गुण अच्‍छी मात्रा में होते हैं। इसके अलावा इस औषधीय फल में जीवाणुरोधी और एंटीफंगल गुण भी होते हैं। जिसके कारण यह हानिकारक बैक्‍टीरिया जनित स्‍वास्थ्‍य समस्‍याओं और तपेदिक जैसे रोगों से बचाने में सक्षम है। आप भी क्षय रोग (Tuberculosis) और अन्‍य समस्‍याओं के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए  नियमित आहार में इस फल को शामिल कर लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

मैंगोस्‍टीन फल के फायदे अल्‍जाइमर के लिए – Mangosteen For treats Alzheimer’s Disease in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल अल्‍जाइमर रोग का इलाज कर सकता है। अल्‍जाइमर रोग (Alzheimer’s Disease) होने के दौरान रोगी को भ्रम, चिंता, तनाव, भूलने की बीमारी आदि लक्षणों का सामना करना पड़ता है। लेकिन मैंगोस्‍टीन फल का नियमित सेवन इस समस्‍या का स्‍थाई इलाज कर सकता है। आप तनाव प्रबंधन के लिए भी मैंगोस्‍टीन फल का उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़ें – अल्जाइमर डिजीज क्या है)

मैंगोस्‍टीन का यूज मसूड़े स्‍वस्‍थ रखे – Mangosteen benefits for Gum disease in Hindi

यदि आप मसूड़ों संबंधी समस्‍या से परेशान हैं तो घरेलू उपचार के लिए मैंगोस्‍टीन फल का प्रयोग कर सकते हैं। यह मसूड़ों में होने वाली पीरियोडोंटाइटिस (periodontitis) नामक मसूड़ों संबंधी समस्‍या का प्रभावी रूप से उपचार करने में सहायक है। मैंगोस्‍टीन फल से प्राप्‍त जेल मसूड़ों की परेशानी को ठीक करने और उन्‍हें स्‍वस्‍थ रखने में मदद करता है।

(और पढ़ें – दांतों को मजबूत करने के उपाय)

मैंगोस्‍टीन के अन्य स्वास्थ्य लाभ – Other Health Benefits of Mangosteen in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल आपके दिल, मस्तिष्क और पाचन तंत्र पर भी सकारात्मक प्रभाव डालता है:

दिल: अध्ययन से पता चलता है कि एचडीएल (अच्छा) कोलेस्ट्रॉल बढ़ाते हुए मैंगोस्टीन एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को बाहर निकलकर हृदय रोग के जोखिम कारकों को प्रभावी ढंग से कम किया जा सकता है।

मस्तिष्क स्वास्थ्य: अध्ययनों से संकेत मिलता है कि मैंगोस्टीन अर्क मानसिक गिरावट को रोकने, मस्तिष्क की सूजन को कम करने और अवसाद के लक्षणों में सुधार करने में मदद करता है, हालांकि इस क्षेत्र में मानव अध्ययन की कमी है।

पाचन स्वास्थ्य: मैंगोस्टीन फाइबर से भरा होता है। सिर्फ 1 कप (196 ग्राम) आरडीआई का लगभग 14% प्रदान करता है। फाइबर पाचन स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, और उच्च फाइबर आहार आंत्र नियमितता (आंत को स्वस्थ्य) को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

मनुष्यों में मस्तिष्क, हृदय और पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करने में मैंगोस्टीन की भूमिका के बारे में निश्चित दावे करना अभी भी जल्दबाजी है।

मैंगोस्टीन कैसे खाएं – How to Eat Mangosteen in Hindi

मैंगोस्टीन तैयार करना और खाना आसान है – हालांकि आप जहां रहते हैं, उसके आधार पर इसे खोजना मुश्किल हो सकता है। फलों का मौसम अपेक्षाकृत कम होता है, जो अक्सर इसकी उपलब्धता को सीमित करता है।

आपके लिए  सबसे अच्छा यह है कि इसे विशेष एशियाई बाजारों से खरींदे, लेकिन ध्यान रखें कि ताजा मैंगोस्टीन काफी महंगा हो सकता है। जमे हुए या डिब्बाबंद रूपों को सस्ते दामों में आसानी से खरीदा जा सकता है – लेकिन ध्यान रखें कि डिब्बाबंद संस्करणों में अक्सर चीनी को जोड़ा जाता है।

मैंगोस्टीन फल को रस के रूप में या पाउडर के पूरक के रूप में भी खाया जा सकता है।

यदि आप एक ताजा फल खाते हैं, तो एक चिकने, गहरे बैंगनी रंग के बाहरी छिलके वाले फल को चुनें। इसकी छाल अखाद्य (inedible) है, इसे आप एक चाकू के साथ आसानी से हटा सकते है।

पके होने पर आंतरिक मांस सफेद और बहुत रसदार होता है। फलों के इस हिस्से को स्वाद बढ़ाने के लिए फलों के सलाद में मिला कर खाया जा सकता है।

मैंगोस्‍टीन के नुकसान – Mangosteen ke Nuksan in Hindi

मैंगोस्‍टीन फल का सेवन करना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए मैंगोस्‍टीन के नुकसान भी हो सकते हैं। इसलिए अधिक मात्रा में इस फल का सेवन करने से बचना चाहिए। मैंगोस्टीन का सेवन करने से बहुत कम प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभावों की सूचना मिली है, और यह अधिकांश लोगों के लिए सुरक्षित है।

हालांकि, अधिक केंद्रित रूप – जैसे पूरक, रस या पाउडर – 100% जोखिम-मुक्त नहीं हैं।

  • अधिक मात्रा में मैंगोस्‍टीन फल का सेवन करने से पाचन संबंधी समस्‍याएं बढ़ सकती हैं। क्‍योंकि इस फल में फाइबर उच्‍च मात्रा में होता है। जिसके कारण यह दस्‍त या पेट दर्द की समस्‍या पैदा कर सकता है।
  • शुरुआती शोध बताते हैं कि हर्बल सप्लीमेंट्स में पाए जाने वाले एक्सथोन्स रक्त के थक्के बनने की प्रक्रिया को धीमा कर सकते हैं।
  • क्योंकि मैंगोस्टीन ज़ेन्थोन्स का एक समृद्ध स्रोत है, अगर आप रक्त के थक्के जमने की स्थिति में हैं या रक्त के पतले होने की दवाएँ ले रहे हैं, तो इसके केंद्रित स्रोतों से बचना एक अच्छा विचार हो सकता है।
  • कुछ लोगों को मैंगोस्‍टोन और इस परिवार से संबंधित फलों का सेवन करने से एलर्जी हो सकती है। ऐसे लोगों को हैंमोस्‍टोन का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • यदि आप किसी विशेष स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या के लिए दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो मैंगोस्‍टीन फल का सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से सलाह लें।
  • गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि यह भ्रूण के लिए हानिकारक हो सकता है।
  • मैंगोस्टीन फल को पानी से अच्छी तरह से धोएं और इसे साफ करने के लिए एक नरम तौलिया के साथ पोंछें।
  • मैंगोस्टीन फल गर्मियों के महीनों के दौरान ताजा उपलब्ध हैं।
  • फल के लिए चोट पूरे फल को कड़वा और अखाद्य बना सकता है।
  • हमेशा ताजे फल खरीदें जो भारी लगें और चमकीले बैंगनी रंग के हों। सूखी और धब्बेदार त्वचा एक पुराने स्टॉक को इंगित करती है।
  • पके फलों को ठंडी और सूखी जगह पर रखना चाहिए। वे रेफ्रिजरेटर में भी संग्रहीत किए जा सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration