शादी के बाद पीरियड लेट होने के कारण – Irregular Periods After Marriage In Hindi




शादी के बाद पीरियड लेट होने के कारण - Irregular Periods After Marriage In Hindi
Written by Daivansh

Irregular Periods After Marriage In Hindi शादी के बाद पीरियड लेट होने के कारण, पीरियड मिस होने पर क्या करें, रीज़न ऑफ़ लेट पीरियड आफ्टर मैरिज, शादी के बाद महिलाओं के जीवन में बदलाव के साथ ही उनके शरीर में भी कई तरह के बदलाव होते हैं। शादी के बाद मासिक धर्म में अनियमितता या पीरियड का देर से आना महिलाओं में एक आम समस्या है और दुनियाभर में ज्यादातर महिलाएं इस समस्या से पीड़ित हैं। हालांकि कभी-कभी यह समस्या बहुत स्वाभाविक होती है तो कभी-कभी गंभीर बीमारियों से जुड़ी होती है। शादी के बाद पीरियड देरी से आने का कई कारण होता है और एक कारण प्रेगनेंसी भी होती है। लेकिन पीरियड रूकने या देरी से आने का अर्थ हमेशा प्रेगनेंसी ही नहीं होती है इसलिए पीरियड रूकने पर जांच (checkup) कराकर कारणों का पता कर लेना चाहिए।

1. शादी के बाद पीरियड लेट होने के कारण – Reason For Late Periods After Marriage in Hindi

शादी के बाद पीरियड लेट होने के कारण – Reason For Late Periods After Marriage in Hindi

पीरियड लेट होने के कई कारण होते है लेकिन शादी के बाद मासिक धर्म के लेट होने के कारण हर महिला को पता होने चाहिए क्योकि पीरियड का लेट या मिस होना विभिन्न कारणों पर निर्भर करता है उनमें से मुख्य कारणों को नीचे बाते जा रहा है। (और पढ़े –प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग)

मासिक धर्म के देर से आने का कारण है गर्भनिरोधक गोलियां – Birth Control Pills for late periods after marriage in Hindi

शादी के बाद महिलाएं सेक्सुअली रूप से अधिक एक्टिव हो जाती हैं जिससे ज्यादातर महिलाएं रोज सेक्स करने और अनचाही प्रेगनेंसी (unwanted pregnancies) से बचने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों (birth control pills)का सेवन करती हैं। इसकी वजह से महिलाओं का मासिक धर्म अनियमित हो जाता है। गर्भनिरोधक गोलियां हार्मोन्स को गड़बड़ कर देती हैं जिसके कारण शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ जाता है और हार्मोन असंतुलन की समस्या उत्पन्न हो जाती है। यही कारण है कि महिलाओं का पीरियड देरी से आता है या मासिक धर्म चक्र अनियमित हो जाता है।

(और पढ़े – गर्भनिरोधक दवाओं और उनके शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जानें…)

शादी के बाद पीरियड लेट होने का कारण इमोशनल स्ट्रेस – Emotional Stress causes of Irregular Periods after marriage in Hindi

विवाह के बाद अपना घर छोड़कर ससुराल जाने पर हर लड़की खुद को भावनात्मक रूप से कमजोर (emotionally weak) महसूस करती है। हालांकि हर लड़की को अलग-अलग तरीके का भावनात्मक स्ट्रेस होता है और तरह-तरह के ख्याल दिमाग में आते हैं। वह इस सोच में डूबी रहती है कि वह अच्छी पत्नी कैसे बने और अपनी शादीशुदा जीवन को खुशहाल बनाने के लिए क्या करे। इमोशनल स्ट्रेस बहुत खतरनाक होता है और इसके कारण लड़की को अधिक तनाव (intense stress) और चिंता होती है। इसके अलावा ससुराल के प्रत्येक सदस्य को खुश करने की जिम्मेदारी आने पर लड़की पर दबाव बढ़ जाता है। चिंता करने से प्रजनन अंगों (reproductive organ) की सेहत पर इसका असर पड़ता है और इसके कारण मासिक धर्म चक्र गड़बड़ हो जाता है।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

रूटीन बदलने से प्रभावित होता है पीरियड – Changes in Routine causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

शादी के बाद महिलाओं की जिम्मेदारियां तो बढ़ती ही हैं साथ में रूटीन में भी बदलाव आता है। महिलाओं को सुबह जल्दी उठना पड़ता है और घर के काम भी जल्दी निपटाने पड़ते हैं। इस स्थिति में शरीर को एडजस्ट करने में काफी लंबा वक्त लगता है। इसका पूरा असर महिलाओं के मासिक धर्म पर पड़ता है। एक स्टडी में पाया गया है कि जब एक बार मासिक धर्म चक्र (menstrual cycle) अनियमित हो जाता है तो वह काफी समय तक वैसा ही बना रहता है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार…)

वजन बढ़ने और घटने से भी देर से आता है मासिक धर्म – Weight Gain/Loss causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

वजन बढ़ने और घटने से भी देर से आता है मासिक धर्म - Weight Gain/Loss causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

शादी के बाद महिलाओं का शरीर पहले की तरह नहीं रह जाता है। सेक्स करने के बाद महिलाओं के शरीर का वजन या तो बढ़ता है या घटता है। शरीर में इस तरह का परिवर्तन आने पर हार्मोन भी असंतुलित हो जाता है जिसके कारण महिलाओं का मासिक धर्म रूक जाता है या काफी देर से आता है। आपको बता दें कि शादी के बाद बिना किसी विशेष कारण के महिलाओं के शरीर का वजन बढ़ने या घटने का कारण हार्मोन में परिवर्तन ही होता है। इसके अलावा जीवनशैली में बदलाव होने औऱ समय पर भोजन न लेने और असंतुलित आहार (imbalance diet) लेने के कारण भी पीरियड प्रभावित होता है।

(और पढ़े – सेक्स करके अपना वजन कम कैसे करें…)

शादी के बाद पीरियड मिस होने का कारण बीमारियां – Illness causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

शादी के बाद पीरियड मिस होने का कारण बीमारियां - Illness causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

विवाह के बाद महिलाओं को विभिन्न तरह की बीमारियां होने लगती हैं। शादी के बाद पहले दिन पति के साथ सेक्स करने पर महिलाओं के मूड में परिवर्तन होता है। पहली बार सेक्स करने पर थकान (exhaustion) और कमजोरी महसूस होना या खाने पीने का मन न करना इन सभी चीजों का असर महिलाओं के पीरियड पर पड़ता है। महिला हमेशा सुस्त पड़ी रहती है और खुद को बीमार सा महसूस करती है। इन सभी कारणों से महिलाओं का मासिक धर्म देर से आता है। इसके अलावा हार्मोन में परिवर्तन के कारण अंडाशय में सिस्ट बन जाता है जिसके कारण मासिक धर्म आने में देरी होती है।

(और पढ़े – फर्स्ट टाइम सेक्स टिप्स महिला और पुरुष दोनों के लिए…)

अधिक एक्सरसाइज करने से गड़बड़ हो जाता है मासिक धर्म – Excessive Exercise causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

जो महिलाएं या लड़कियां अपने फिगर को लेकर ज्यादा चिंतित रहती हैं उन्हें शादी के बाद शरीर को फिट रखने की चिंता और ज्यादा सताने लगती है। क्योंकि ज्यादातर महिलाओं और लड़कियों को यह मालूम होता है कि शादी के बाद सेक्स करने के कारण उनका शरीर मोटा हो जाता है। इसलिए वे अपने शरीर को पहले की तरह मेंटेन रखने के लिए अधिक से अधिक एक्सरसाइज करती हैं। एक्सरसाइज की कई प्रक्रियाएं मासिक धर्म को प्रभावित करती हैं और मासिक धर्म में देरी का कारण बनती हैं।

(और पढ़े – फिट रहने के लिए प्लैंक एक्सरसाइज जानें फायदे और सावधानियाँ…)

शादी के बाद पीरियड लेट होने का कारण है खराब भोजन – Diet Causes of Irregular Periods After Marriage In Hindi

शादी के बाद पीरियड लेट होने का कारण है खराब भोजन - Diet Causes of Irregular Periods After Marriage In Hindi

शादी के बाद बहुत ज्यादा खाने या बहुत कम खाने से महिलाओं का मासिक धर्म प्रभावित होता है। घर में महिलाओं के सबसे अंत में खाना खाने की आदत औऱ कुछ भी खा लेने की आदत बहुत हानिकारक होती है क्योंकि इसका सीधा असर उनके प्रजनन अंगों पर पड़ता है जिससे उनके पीरियड में देरी होती है। इसके अलावा भोजन में पर्याप्त पोषक तत्व (nutrition) न लेने और एल्कोहल का अधिक सेवन करने और स्मोकिंग करने से मासिक धर्म गड़बड़ हो जाता है।

(और पढ़े – शराब पीने के फायदे और नुकसान और शरीर पर इसका प्रभाव…)

पीरियड में देरी का कारण है स्तनपान – Breastfeeding causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

एक स्टडी में पाया गया है कि ज्यादातर महिलाएं जब तक बच्चे को स्तनपान कराती रहती हैं तब तक उनका मासिक धर्म देरी से आता है। हालांकि सभी महिलाओं में इस तरह के लक्षण नहीं देखे गए हैं लेकिन लंबे समय तक स्तनपान (long term breastfeeding) कराना भी मासिक धर्म में देरी का कारण बनता है।

(और पढ़े – ब्रेस्ट मिल्क (मां का दूध) बढ़ाने के लिए क्या खाएं…)

थॉयराइड में अनियमितता के कारण देर से आता है पीरियड – Thyroid Irregularity causes of Irregular Periods After Marriage in Hindi

महिलाओं में थॉयराइड ग्लैंड गले में पायी जाता है जो मेटाबोलिज्म को रेगुलेट करने का काम करती है। यह शरीर के अन्य प्रणालियों को कार्य करने के लिए भी मदद करती है। यदि किसी महिला का थॉयराइड (thyroid) असंतुलित है तो इसका सीधा असर (effect) उसके पीरियड पर पड़ता है। यदि महिला को हाइपो या हाइपरथॉयराइडिज्म हो तो इसका मासिक धर्म पर बहुत खराब असर पड़ता है और मासिक धर्म काफी लंबे समय तक (long term) अनियमित रहता है।

(और पढ़े – थायराइड के लक्षण कारण व घरलू उपचार…)

मेनोपॉज होने से पहले प्रभावित होता है पीरियड – Early Menopause causes of Irregular Periods in Hindi

आमतौर पर महिलाओं को मेनोपॉज होने से पहले भी उनके मासिक धर्म में देरी (irregularity) होती है। मेनोपॉज होने से पहले ज्यादातर महिलाओं को पीरियड बहुत देर से, बहुत हल्का या बहुत भारी या लगातार या रूक रूककर आता है। लेकिन ऐसी स्थिति का सामना एक उम्र के बाद करना पड़ता है। लेकिन पीरियड में देरी का यह भी एक कारण होता है।

(और पढ़े – रजोनिवृत्ति के कारण, लक्षण और दूर करने के उपाय…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration