प्रेगनेंसी के दौरान अरंडी के तेल का उपयोग, उसके फायदे और नुकसान - Castor Oil In Pregnancy In Hindi - Healthunbox
गर्भावस्था

प्रेगनेंसी के दौरान अरंडी के तेल का उपयोग, उसके फायदे और नुकसान – Castor Oil In Pregnancy In Hindi

प्रेगनेंसी के दौरान अरंडी के तेल का उपयोग, उसके फायदे और नुकसान - Castor Oil In Pregnancy In Hindi

Castor Oil In Pregnancy In Hindi: गर्भावस्था का समय बहुत ही महत्वपूर्ण होता है इसलिए इस दौरान महिलाओं को अपना विशेष ध्यान रखने की आवश्कता होती है। क्या प्रेगनेंसी में अरंडी का तेल इस्तेमाल करना सुरक्षित है या नहीं, क्या प्रसव पीड़ा प्रेरित करने के लिए कैस्टर ऑयल उपयोग सही है, और प्रेगनेंसी के दौरान अरंडी के तेल का उपयोग करना का सही तरीका क्या है, आज आपको इसके बारे में जानकारी देंगे।

कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल प्राचीन समय से उन महिलाओं के लिए किया जाता था, जब प्रसव का समय पूरा होने के बाद भी उनको लिवर पैन शुरू नहीं होता था। हम खाना पकाने के लिए सरसों, नारियल, जैतून आदि कई प्रकार के तेलों का इस्तेमाल करते है, लेकिन गर्भावस्था में कुछ भी खाने से गर्भ में पल रहे बच्चे के बारे में सोचना बहुत जरूरी होता है।

आइये जानते कि प्रेगनेंसी के दौरान लेबर पैन शुरू करने के लिए कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करना सुरक्षित है या नहीं, और अरंडी के तेल का उपयोग गर्भावस्था में कब करना चाहिए।

अरंडी के तेल फायदे लेबर पैन में – Castor Oil to Induce Labor In Hindi

अरंडी के तेल फायदे लेबर पैन में - Castor Oil to Induce Labor In Hindi

गर्भावस्था के 40 हफ्तों के बाद अब तक, दोस्तों और परिवार ने शायद आपको लेबर पैन को शुरू करने के लिए सुझाव और तरकीबें देनी शुरू कर दी हैं। लेकिन अगर अभी भी आपके शिशु के आपके गर्भाशय से बाहर आने के कोई लक्षण दिखाई नहीं दे रहा है, तो आप अरंडी के तेल को आज़मा सकती हैं। यह एक पुराना तरीका है जो अरंडी के पौधे के बीजों को दबाकर निकाला जाता है।

यह माना जाता है कि कैस्टर ऑयल का उपयोग मिस्रवासियों के द्वारा लेबर पैन को प्रेरित करने के लिए किया जाता था। आज भी इसका उपयोग कही कही पर लेबर पैन को शुरू करने के लिए किया जाता है। आइये जाते है कि प्रेगनेंसी में कब और कितना करना चाहिए।

अरंडी का तेल क्या है? – What is castor oil In Hindi

अरंडी का तेल क्या है? - What is castor oil In Hindi

कैस्टर ऑयल रिकिनस कम्युनिस (Ricinus communis) नामक पौधे के बीज से प्राप्त होता है। यह भारत का मूल निवासी पौधा है। अरंडी के तेल की रासायनिक संरचना असामान्य है क्योंकि इसमें मुख्य रूप से रिकिनोइलिक एसिड (Ricinoleic acid) होता है, जो एक फैटी एसिड है।

अरंडी के तेल को विभिन्न उपचार गुणों के लिए जाना जाता है। हजारों वर्षों से, कैस्टर ऑयल  का उपयोग दुनिया भर में विभिन्न बीमारियों के लिए औषधीय रूप से किया जाता है। जैसे –

(और पढ़ें – अरंडी के तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान)

लेबर पैन के लिए अरंडी का तेल – Castor oil for labor in Hindi

लेबर पैन के लिए अरंडी का तेल - Castor oil for labor in Hindi

अरंडी का तेल एक लैक्सेटिव के रूप में सबसे अच्छा जाना जा सकता है। इसलिए यह माना जाता है कि यह लेबर पैन में भी सहायक होता है। कम मात्रा में अरंडी का तेल लगाने से आंतों में ऐंठन हो सकती है, जो आंत्र और योनि तंत्रिका को उत्तेजित कर सकती है। यह ऐंठन और उत्तेजना फिर गर्भाशय में जलन पैदा कर सकती है, जो संकुचन शुरू करती है।

यह भी माना जाता है कि अरंडी का तेल छोटी आंत में द्रव अवशोषण और इलेक्ट्रोलाइट्स को कम कर सकता है। यह दस्त और संकुचन भी पैदा कर सकता है। अरंडी का तेल भी प्रोस्टाग्लैंडीन रिसेप्टर्स (prostaglandin receptors) रिलीज को बढ़ावा दे सकता है, जिससे गर्भाशय ग्रीवा पतला हो सकता है।

(यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में केला खाना चाहिए या नहीं)

क्या कैस्टर ऑयल लेबर में काम करता है? – Does castor oil work in labor in Hindi

क्या कैस्टर ऑयल लेबर में काम करता है? - Does castor oil work in labor in Hindi

कैस्टर ऑयल से लेबर पैन शुरू होने के परिणाम मिश्रित होते हैं। एक स्टडी के अनुसार यह पता चला कि अरंडी के तेल  का उपयोग करने से आधे से अधिक महिलाएं 24 घंटे के भीतर सक्रिय लेबर में चली गई थी।

लेकिन एक और बड़ा अध्ययन, लगभग 10 साल बाद में प्रकाशित हुआ ऑस्ट्रेलियाई और न्यूजीलैंड जर्नल ऑफ़ ऑब्स्टेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी फिर से अरंडी के तेल का उपयोग करते हुए देखा, कि जबकि अरंडी के तेल के साथ तो माँ या बच्चे से जुड़े कोई हानिकारक प्रभाव नहीं थे। इसके अलावा यह यह श्रम को प्रेरित करने में विशेष रूप से सहायक नहीं था।

कभी कभी यह अरंडी का तेल अनियमित और दर्दनाक संकुचन पैदा कर सकता है। जो माँ और बच्चे के लिए समान रूप से तनावपूर्ण हो सकता है और इससे थकावट भी हो सकती है। यह जन्म के बाद समस्याग्रस्त हो सकता है।

(यह भी पढ़ें – गर्भवती महिलाओं के लिए जरूरी पोषक तत्‍व)

क्या आपको प्रेरित करना चाहिए? – Should you induce in Hindi

क्या आपको प्रेरित करना चाहिए? - Should you induce in Hindi

अमेरिकन कांग्रेस ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट (American Congress of Obstetricians and Gynecologists) के अनुसार, एक गर्भावस्था को 39 सप्ताह से 40 सप्ताह, 6 दिनों के बीच पूर्ण माना जाता है। 41 सप्ताह और 41 सप्ताह, 6 दिनों के बीच, यह देर से माना जाता है। 42 सप्ताह के बाद, यह पोस्ट-टर्म है।

लेबर को प्रेरित करना आपके और आपके बच्चे की सुरक्षा के लिए किया गया एक चिकित्सा निर्णय है। यदि आपके आप निम्नलिखित स्थिति है:

  • अपनी नियत तारीख से लगभग दो सप्ताह पहले हैं और श्रम शुरू नहीं हुआ है।
  • आपको संकुचन नहीं हो रहा है, लेकिन आपका पानी टूट गया है।
  • आपके गर्भाशय में संक्रमण है।
  • आपका बच्चा अपेक्षित दर से नहीं बढ़ रहा है।
  • आपके बच्चे के आसपास पर्याप्त एमनियोटिक द्रव नहीं है।
  • आप Placental abruption का सामना कर रही हैं।
  • आपको उच्च रक्तचाप, मधुमेह या कोई अन्य स्थिति है जो आपको या आपके बच्चे को खतरे में डाल सकती है।

यदि इनमें से कोई भी स्थिति आपके लिए लागू नहीं होती है और आपकी गर्भावस्था पूर्ण- टर्म है, तो आप श्रम शुरू करने के लिए अन्य तरीकों को आजमाने पर विचार कर सकती हैं। इसमे शामिल है –

ऐसा कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है जो यह दर्शाता हो कि ये तरीके काम करते हैं।

गर्भावस्था में अरंडी का तेल कैसे इस्तेमाल करें? – How to use castor oil in pregnancy in Hindi

गर्भावस्था में अरंडी का तेल कैसे इस्तेमाल करें? - How to use castor oil in pregnancy in Hindi

लेबर पैन को शुरू करने के लिए महिलाएं 40-41वें सप्ताह के बीच 60 मिली अरंडी के तेल को 200 मिली गर्म पानी के साथ मिला लें और फिर इसका सेवना करें। आप चाहें तो कैस्टर ऑयल को किसी फल के जूस के साथ मिलाकर भी इसका सेवन कर सकती है। इसके बाद आप पर्याप्त मात्रा में पानी पियें। गर्भवती महिलाओं को इस उपाय को करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लेना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भावस्था के समय क्या न खाएं…)

गर्भावस्था में अरंडी का तेल कब इस्तेमाल करें? – When to use castor oil in pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी के 40 से 41वें सप्ताह के बीच लेबर पैन के लिए इस उपाय को किया जा सकता है। चिकित्सक से परामर्श के बाद इस उपाय को करें।

(और पढ़ें – प्रेगनेंसी में प्रोटीन पाउडर)

प्रेगनेंसी में अरंडी का तेल कितनी मात्रा में इस्तेमाल करें – What amount of castor oil to use during pregnancy

प्रेगनेंसी में अरंडी का तेल कितनी मात्रा में इस्तेमाल करें - What amount of castor oil to use during pregnancy

अरंडी के तेल का उपयोग करने की कोई निश्चित मात्रा का वैज्ञानिक प्रमाण मौजूद नहीं है। लेकिन एक अध्ययन में 60 मिली तेल को 200 मिली गर्म पानी के साथ दिया गया था। इस बारे में डॉक्टर की सलाह लेना सही रहेगा।

(और पढ़े – गर्भावस्‍था के पहली तिमाही में क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं…)

गर्भावस्था में अरंडी के तेल के नुकसान – Side Effects of Castor Oil in Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था में अरंडी के तेल के नुकसान - Side Effects of Castor Oil in Pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी के दौरान कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करने से निम्न नुकसान हो सकते है-

(और पढ़ें – अरंडी के तेल के फायदे कब्ज के लिए)

प्रेगनेंसी के दौरान अरंडी के तेल का उपयोग, उसके फायदे और नुकसान (Castor Oil In Pregnancy In Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Reference

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration