पहले महीने में गर्भपात (मिसकैरेज) के लक्षण - Miscarriage in first-month Symptoms in Hindi - Healthunbox
गर्भावस्था

पहले महीने में गर्भपात (मिसकैरेज) के लक्षण, कारण एवं निदान – Miscarriage in first-month Symptoms, causes, and diagnosis in Hindi

पहले महीने में गर्भपात (मिसकैरेज) के लक्षण - Miscarriage in first-month Symptoms in Hindi

जैसे ही कोई महिला गर्भधारण करती है, तो उसका पूरा परिवार खुशी मनाने लगता है लेकिन कभी-कभी शारीरिक समस्याओं के कारण कुछ महिलाओं का प्रेगनेंसी के पहले महीने में ही अचानक से गर्भपात (miscarriage) हो जाता है। यह अचानक गर्भपात महिला को शारीरिक से अधिक मानसिक रूप से कमजोर बनाता है। ऐसी स्थिति में फिर से गर्भधारण करने के लिए महिला को मानसिक रूप से ठीक होने में मदद की जानी चाहिए, ताकि यह झटका धीरे-धीरे उसके दिमाग से निकल जाए।

कई मामलों में, गर्भावस्था के 4-8 सप्ताह के भीतर ही गर्भपात हो जाता है और महिलाओं को पता भी नहीं चल पाता है। ऐसी स्थिति में, यह महत्वपूर्ण है कि महिलाओं को पहले महीने में गर्भपात के लक्षणों के बारे में बताया जाए, ताकि वे तुरंत डॉक्टर के पास जा सकें, अगर उन्हें ऐसा कोई संकेत मिले।

गर्भपात क्या होता है – What is miscarriage in Hindi

यदि गर्भावस्था के 20 वें सप्ताह से पहले गर्भ में भ्रूण की मृत्यु हो जाती है, तो इसे गर्भपात कहा जाता है। किसी महिला का गर्भपात उसकी गर्भावस्था की स्थिति पर निर्भर करता है। इनके कई प्रकार हैं। प्रत्येक गर्भपात के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान गर्भपात कई महिलाओं को हो सकता है और यह बहुत ही आम है। गर्भावस्था के 20 वें सप्ताह से पहले गर्भवती महिलाओं में पांच में से एक गर्भपात का सामना करतीं हैं।

गर्भपात के प्रकार – Miscarriage types in Hindi

मिस्ड मिसकैरेज – इसमें प्रेग्नेंसी अपने आप खत्म हो जाती है। इस दौरान न तो रक्तस्राव होता है और न ही किसी प्रकार के पहले महीने में गर्भपात के लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ मामलों में, गर्भ के बाद भी भ्रूण गर्भ में रहता है और यह तब पता चलता है जब गर्भ में भ्रूण का विकास रुक जाता है। अल्ट्रासाउंड द्वारा इसका पता लगाया जाता है।

अधूरा गर्भपात – इसमें महिला को निचले पेट में तेज दर्द और भारी रक्तस्राव होता है। इसमें भ्रूण का केवल कुछ हिस्सा ही बाहर आने में सक्षम होता है। यही कारण है कि इसे अधूरा गर्भपात कहा जाता है। इसकी जाँच भी अल्ट्रासाउंड द्वारा की जाती है।

पूर्ण गर्भपात – गंभीर पेट दर्द और भारी रक्तस्राव पूर्ण गर्भपात के लक्षण हो सकते हैं। इसमें गर्भाशय से भ्रूण पूरी तरह से बाहर आ जाता है।

अपरिहार्य गर्भपात – इसमें रक्तस्राव होता है और गर्भाशय ग्रीवा खुल जाती है, जिससे भ्रूण बाहर आ जाता है। इस समय के दौरान, महिला को अक्सर पेट में ऐंठन होती है।

सेप्टिक गर्भपात – गर्भ में संक्रमण होने के कारण ऐसा गर्भपात होता है।

प्रेगनेंसी के पहले महीने में गर्भपात के लक्षण – Miscarriage in first-month Symptoms in Hindi

पहले महीने में के सबसे आम लक्षण पेट में ऐंठन और योनि से खून बहना होता है। यदि गर्भावस्था के दौरान कुछ ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क किया जाना चाहिए।

गर्भपात के लक्षण

योनि से रक्तस्राव: योनि से भूरा या गहरा लाल रक्तस्राव गर्भपात का सबसे महत्वपूर्ण लक्षण हो सकता है। इस दौरान, स्पॉटिंग, रक्त के थक्के या अत्यधिक रक्तस्राव होता है। यदि गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में आपको रक्तस्राव होता है, तो जरूरी नहीं कि इसका मतलब गर्भपात ही हो। आमतौर पर शुरुआती दिनों के दौरान हल्का रक्तस्राव होना सामान्य है लेकिन यह चिंताजनक है यदि आपको स्पॉटिंग या थक्के के साथ अत्यधिक रक्तस्राव होता है और रक्तस्राव के दौरान रक्त का रंग भूरा या गहरा लाल होता है।

गंभीर पीठ दर्द: गर्भावस्था में पीठ दर्द आम है, लेकिन यह दर्द कभी-कभी असहनीय हो सकता है। इस मामले में, आपको तुरंत एक डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए क्योंकि यह गर्भपात का संकेत हो सकता है। पीठ दर्द और पीठ के निचले हिस्से में दर्द गर्भपात का संकेत हो सकता है।

पेट के निचले हिस्से में ऐंठन: निचले पेट में दर्द गर्भपात के लक्षणों में से एक है। यह चिंता का विषय हो सकता है क्योंकि यह दर्द मासिक धर्म की अवधि के दौरान होने वाले दर्द से तीव्र या बहुत अधिक ज्यादा हो सकता है। इसके अलावा, कई बार होता है कि गर्भपात के लक्षण महसूस नहीं होते हैं और गर्भवती नियमित जांच के लिए डॉक्टर के पास जाती है, तो पता चलता है कि गर्भपात हो गया है।

कई बार महिलाओं को पता नहीं होता है कि वे गर्भवती हो गई हैं। इस बात से अनजान, वे सामान्य दिनों की तरह दिनचर्या बिता रही होती हैं। ऐसी स्थिति में, यह देखा जाता है कि प्रेगनेंसी के पहले महीने में ही महिलाओं का गर्भपात हो जाता है, यहाँ तक कि उन्हें पता भी नहीं होता कि वह गर्भवती थी।

(और पढ़े – जानें गर्भधारण करने का सही समय क्या है…)

गर्भपात के कारण – Miscarriage causes in Hindi

  • हार्मोनल असंतुलन।
  • इम्यूनिटी या ब्लड क्लॉटिंग की समस्या।
  • थायराइड या मधुमेह जैसी समस्याएं।
  • गर्भ या गर्भाशय में कोई समस्या।
  • बहुत ज्यादा धूम्रपान करना

(और पढ़े – गर्भपात के बाद होने वाली समस्‍याएं…)

गर्भपात के विशिष्ट कारण – Specific causes of miscarriage in Hindi

गुणसूत्र असामान्यता: गर्भपात का एक कारण असामान्य गुणसूत्र भी है। किसी व्यक्ति के शरीर में मौजूद छोटी छोटी संरचनाओं को क्रोमोसोम कहा जाता है। ये संरचनाएं जीन को ले जाती हैं। किसी-किसी मामले में, जब एक पुरुष का शुक्राणु अंडे से मिलता है, तो अंडे या शुक्राणुओं में से किसी एक में एक त्रुटि होती है, जो भ्रूण में एक गुणसूत्र के असामान्य संयोजन का कारण बनाता है ऐसे में गर्भपात हो सकता है।

गर्भाशय की असामान्यताएं और अक्षम गर्भाशय ग्रीवा (सर्विक्स): जब महिला के गर्भाशय का आकार और गर्भाशय का विभाजन असामान्य होता है, तो गर्भपात हो सकता है क्योंकि ऐसी स्थति में भ्रूण को गर्भाशय में प्रत्यारोपित नहीं किया जा सकता है।

(और पढ़े – फाइब्रॉएड (गर्भाशय में रसौली) क्या है, लक्षण, कारण, जांच और इलाज…)

इम्यूनोलॉजी डिसऑर्डर: कभी-कभी एक इम्यूनोलॉजी डिसऑर्डर भ्रूण को गर्भाशय में सही से प्रत्यारोपित नहीं होने देता है, जिससे गर्भपात हो सकता है। इम्यूनोलॉजी विकार में अस्थमा, एलर्जी, स्वप्रतिरक्षात्मक सिंड्रोम जैसी समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम: पीसीओएस वाली महिलाओं में गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। इस स्थिति में, प्रोजेस्ट्रोन और एस्ट्रोजन हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है जिसके कारण गर्भधारण के लिए अंडे विकसित नहीं होते हैं।

बार-बार गर्भपात होने का कारण – The reason for repeated miscarriages in Hindi

जिन महिलाओं में बार-बार गर्भपात होता है, उनके पीछे असामान्यगुणसूत्र एक महत्वपूर्ण कारण हो सकते हैं। यहां हम कुछ अन्य कारण बता रहे हैं जिससे बार-बार गर्भपात हो सकता है।

अधिक उम्र में गर्भधारण करने की कोशिश करना: 35 साल की उम्र में गर्भधारण करने की कोशिश करने वाली महिलाओं को बार-बार गर्भपात हो सकता है।

(और पढ़े – 30 के बाद गर्भावस्था के लिए तैयारी करने के लिए टिप्स…)

अत्यधिक भाग-दौड़ या बहुत अधिक यात्रा करना: गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक भाग-दौड़ या पहली और तीसरी तिमाही में यात्रा करने से गर्भपात हो सकता है।

पेट का दबाव या चोट: यदि गर्भावस्था के दौरान किसी महिला के पेट में चोट लगी हो या दबाव डाला गया हो, तो भी गर्भपात हो सकता है।

योनि में किसी तरह का संक्रमण होना: महिलाओं में योनि संक्रमण होना आम बात है। ऐसे में बार-बार योनि में संक्रमण से गर्भपात हो सकता है।

(और पढ़े – जानें प्रेगनेंसी में योनि से सफेद स्राव होना सामान्य है या नहीं…)

गर्भपात का निदान और उपचार – Diagnosis and treatment of abortion in Hindi

अगर सही समय पर गर्भपात का निदान किया जाता है, तो संक्रमण जैसी समस्याओं से बचा जा सकता है। अगर ऐसा नहीं किया जाता है, तो महिला खतरे में पड़ सकती है।

पेल्विक जांच: इसमें डॉक्टर गर्भाशय ग्रीवा के प्रसार की जांच करेंगे।

अल्ट्रासाउंड: अल्ट्रासाउंड के दौरान, डॉक्टर यह पता लगाने के लिए भ्रूण के दिल की धड़कन की जांच करेंगे कि क्या भ्रूण सामान्य रूप से विकसित हो रहा है।

रक्त परीक्षण: इस टेस्ट के दौरान, डॉक्टर आपके रक्त का एक नमूना ले सकते हैं और मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) के स्तर की पिछले स्तर के साथ तुलना कर सकते हैं। अगर यह बदल जाता है तो यह समस्या का संकेत हो सकता है। इसके अलावा आप एनीमिया की जांच भी करा सकते हैं।

ऊतक परीक्षण: यदि गर्भाशय ग्रीवा से ऊतक निकलना शुरू हो गए है, तो डॉक्टर गर्भपात का पता लगाने के लिए उनकी जांच कर सकते हैं।

गुणसूत्र परीक्षण: यदि आपका पहले भी गर्भपात हो चुका है, तो आपका डॉक्टर गुणसूत्र संबंधी समस्याओं का पता लगाने के लिए आपका और आपके पति का रक्त परीक्षण कर सकता है।

(और पढ़े – महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के कारण, लक्षण और इलाज…)

गर्भपात को रोकने के लिए प्राकृतिक तरीके – Natural ways to prevent miscarriage in Hindi

फोलिक एसिड और प्रीनेटल विटामिन लें: गर्भपात के जोखिम से बचने के लिए, आपको गर्भवती होने से पहले और गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड और अन्य विटामिन लेने की सलाह दी जाती है। डॉक्टर रोजाना 400 से 800 मिलीग्राम फोलिक एसिड लेने की सलाह देते हैं।

नियमित टीकाकरण: पुरानी बीमारियों के कारण गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में जरूरी टीके लगवाकर आप इस समस्या से बच सकते हैं।

नियमित व्यायाम करें: गर्भावस्था के दौरान हल्का व्यायाम फायदेमंद हो सकता है। इस दौरान स्ट्रेचिंग और योगा आदि करने से गर्भपात का खतरा कम हो सकता है। ऐसा करने से पहले, अपने चिकित्सक से सलाह लें और इसे किसी योग्य प्रशिक्षक की देखरेख में ही व्यायाम करें।

(और पढ़े – गोली द्वारा गर्भपात (मेडिकल एबॉर्शन) कैसे किया जाता है, तरीका, नुकसान और कानून…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration