बारिश के मौसम में बाल झड़ने की समस्या को चुटकी में दूर करेंगें ये 6 आयुर्वेदिक नुस्खे

बारिश में बालों को झड़ने से बचाएंगे ये 6 आयुर्वेदिक नुस्खे - These 6 Ayurvedic tips to prevent hair fall in rainy season in Hindi
Written by Diksha

इस भाग दौड़ भरी ज़िंदगी और गलत खानपान की आदतें व व्यस्त लाइफ़स्टाइल की वजह से बालों के झड़ने की समस्या बिल्कुल आम हो गयी है। लड़की हो या लड़का, आजकल सभी को बाल झड़ने की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई बार पुरुषों में बाल झड़ने की समस्या आनुवांशकीय कारण से भी होती है, लेकिन महिलाओं में बाल झड़ने की परेशानी का आनुवांशकीय कारणों से कोई संबंध नहीं होता है। बाल झड़ने की यह परेशानी उनमे पोषक तत्वों की कमी, हार्मोनल बदलाव या किसी बीमारी की वजह से हो सकती है। बारिश में बालों का झाड़ना काफी तेज हो जाता है। बालों को झड़ने से रोकने के लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है, इसके अलावा आयुर्वेद में बालों के लिए कई अमृत समान औषधियां मौजूद हैं जिनका उपयोग करने से बालों का झड़ना कम कर उन्हें स्वस्थ और मज़बूत बनाया जा सकता है।

बारिश में बाल झड़ने की समस्या को चुटकी में दूर करेंगें ये 6 आयुर्वेदिक नुस्खे

बारिश के मौसम में बाल झड़ने की समस्या को चुटकी में दूर करेगा ये 6 आयुर्वेदिक नुस्खे

बालों का झड़ना आज के समय में सबसे आम समस्या है! चाहे वह पुरुष हों या महिलाएं, कोई भी कमजोर बाल की समस्या से नहीं बचा है, जो बालों के झड़ने का मुख्य कारण मानी जाती है। जबकि बालों के गिरने के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं, जिनमें थायराइड, एनीमिया, प्रोटीन की कमी, विटामिन का स्तर कम होना, बालों की देखभाल करने वाले उत्पादों के नाम पर रसायनों का अधिक उपयोग शीर्ष कारणों में से एक है! आइये जानतें हैं बाल झड़ने से रोकने के लिए 6 आसान घरेलू उपाय के बारे में

1. बारिश में बालों को झड़ने से रोकने के लिए आंवला

आंवला को आयुर्वेद की दिव्य औषधि के रूप में जाना जाता है। जिसमे 6 अलग-अलग तरह के रस पाये जाते हैं। इसमें मौजूद विटामिन्स मिनरल्स और एल्कलॉइड बालों का झड़ना रोकने के लिए इसे एक आयुर्वेदिक टॉनिक बनाते हैं। आंवला एक प्राकृतिक प्रतिरक्षा बूस्टर है और बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए सबसे पसंदीदा घटक है। “इसमें आवश्यक फैटी एसिड के ओडल्स होते हैं, जो बालों के रोम को मजबूत करते हैं, जिससे आपके बालों को मजबूती और चमक मिलती है,” बालों को स्वस्थ रखने और टूटने से बचाने के लिए हमें आंवला और उससे बने खाद्य पदार्थों को अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। इसके आलावा सुबह-शाम आंवला जूस और चूर्ण का भी सेवन किया जा सकता है।

“इसमें पाया जाने वाला विटामिन सी समय से पहले बालों का सफ़ेद होने सेरोकने में मदद करता है। इसमें मौजूद उच्च लौह सामग्री, शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट, गैलिक एसिड और कैरोटीन सिर के चारों ओर रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं जो बालों के विकास को उत्तेजित करता है और रूसी को कम करने के साथ खुजली वाली सर की त्वचा से राहत देता है।”

आंवला का उपयोग कर बालों का झड़ना रोकने के लिए एक सरल घरेलू उपाय जो आप कर सकते है।

  1. पेस्ट बनाने के लिए नींबू का रस और आंवला पाउडर मिलाएं।
  2. इससे अपने स्कैल्प और बालों में मालिश करें।
  3. अपने सिर को ढंकने के लिए शॉवर कैप का उपयोग करें ताकि पेस्ट सूख न जाए।
  4. इसे एक घंटे तक रखें और फिर इसे सामान्य पानी से धो लें।

(और पढ़े – आंवला के फायदे, गुण, लाभ)

2. बारिश में बालों को झड़ने से बचायेगा एलोवेरा

एलोवेरा के ताज़े जेल में एक प्रकार का एन्जाइम होता है, जिसका इस्तेमाल सिर की त्वचा पर करने से मृत कोशिकाएं (Dead cells) समाप्त होकर नई कोशिकाएं विकसित होती हैं। इसके अलावा यदि आप एलोवेरा को जूस के रूप में लेते हैं या साबूत खाते हैं तो इससे रूसी की समस्या ख़त्म होती है, और बालों का झड़ना रुक जाता है और कुछ समय बाद नए बालों का आना शुरू हो जाता है।

  1. एलो वेरा का डंठल लें और जेल निकालें।
  2. जेल को अपने बालों और खोपड़ी पर लगाये और इसे लगभग एक घंटे के लिए छोड़ दें।
  3. सामान्य पानी से अपने बालों को धो लें।
  4. बालों के बेहतर विकास के लिए सप्ताह में तीन से चार बार ऐसा करें।

(और पढ़े – एलोवेरा का उपयोग बालों के लिए)

3. बारिश में बालों का झड़ना कम करे शिकाकाई

उन दिनों को याद करें जब हमारी दादी बालों की देखभाल के लिए शिकाकाई का इस्तेमाल करती थीं? अपने शानदार बाल-सफाई गुणों के कारण, इसे अक्सर शैम्पू के लिए एक प्राकृतिक विकल्प माना जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि शिकाकाई एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन ए, सी, के और डी से भरपूर होता है, जो बालों को पोषण देता है।

यहाँ बाल को बढ़ाने के लिए शिकाकाई का उपयोग करने का एक सरल तरीका बताया गया है:

  1. कुछ दिनों के लिए धूप में फली को सुखाकर घर पर शिकाकाई पाउडर बनाएं और फिर इसे मिक्सी में पीस लें।
  2. इस पाउडर के 2 बड़े चम्मच लें और इसे नारियल तेल के एक जार में डालें।
  3. कंटेनर को लगभग 15 दिनों के लिए ठंडे, अंधेरे स्थान पर रखें।
  4. उपयोग करने से पहले अच्छे से हिलाएं। हफ्ते में कम से कम दो बार इससे अपने स्कैल्प की मसाज करें।

(और पढ़े – शिकाकाई के फायदे और उपयोग)

4. बारिश में बालों का झड़ना कम करे रीठा

रीठा एक अन्य घटक है जिसका उपयोग सदियों से बालों की देखभाल के लिए किया जाता है। रीठा एक सैपोनिन (saponin) है जो आपके बालों को स्वस्थ रखने के लिए जिम्मेदार है।

आप घर पर अपना खुद का रीठा शैम्पू तैयार कर सकते हैं:

  1. रीठा और शिकाकाई के कुछ टुकड़े लें।
  2. उन्हें 500 मिली लीटर पानी में उबालें।
  3. ठंडा होने के लिए मिश्रण को रात भर छोड़ दें।
  4. मिश्रण को अच्छे से हिलाएं और इसे शैम्पू के रूप में उपयोग करें।

(और पढ़े – रीठा के फायदे और नुकसान)

5. बारिश में बालों को झड़ने से रोकने के लिए ब्राह्मी

आयुर्वेदिक औषधी ब्राह्मी, बालों को झड़ने से रोकने और बालों बालों के विकास में सहायक होती है। यह हमारे बालों की जड़ों को पोषण प्रदान कर उन्हें अंदर से मज़बूत बनाती है। इसके इस्तेमाल के लिए ब्राह्मी की पत्तियों को सुखाकर इसका पाउडर बना लें, इसे आप गर्म पानी में मिलाकर पी सकते हैं। इसके आलवा आप ब्राह्मी तेल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, यह चिंता और तनाव के कारण होने वाले हेयर फॉल (Hair fall) को रोकने में बहुत कारगर होती है।

(और पढ़े – ब्राह्मी के फायदे और नुकसान)

6. बारिश में बालों को झड़ने से रोकने के लिए भृंगराज

भृंगराज तेल सभी तरह से बालों के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। भृंगराज जड़ी-बूटि के पत्तों में कई ऐसे गुण होते हैं जो आपकी सिर की त्वचा को पोषक तत्व प्रदान करती है। आप भृंगराज तेल का उपयोग बालों को फिर से उगाने के लिए कर सकते हैं।

भृंगराज एक प्राकृतिक घटक है जो इन दिनों बालों की देखभाल के लिए सबसे अधिक चर्चित हो गया है। आपको अक्सर ब्यूटी थेरेपिस्ट मिलेंगे जो आपको नियमित रूप से भृंगराज तेल से अपने स्कैल्प की मालिश करने की सलाह देते हैं क्योंकि यह तेजी से बालों के विकास को प्रोत्साहित कर सकता है। भृंगराज एक जड़ी बूटी है जो नम क्षेत्रों में सबसे अच्छा बढ़ता है।

आप शुद्ध भृंगराज, के साथ आप आंवला, नारियल और सेंटेला को शामिल कर सकते हैं जो बालों की जड़े मजबूत करता हैं। और उन्हें सफेद होने से रोकते हैं। बालों के झड़ने के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपचारों में से एक, भृंगराज तेल भूरे बालों को कम करने और सर की खुजली को रोकने में भी फायदेमंद है।

(और पढ़े – भृंगराज के फायदे उपयोग और नुकसान)

हालांकि विभिन्न प्राकृतिक कॉस्मेटिक ब्रांड भृंगराज तेल के अपने संस्करणों के साथ उपलब्ध हैं, लेकिन आप इसे अपने घर पर बना सकते हैं।

  1. कुछ भृंगराज पत्ते लें, उन्हें कुछ दिनों के लिए धूप में सुखाएं।
  2. पत्तों को नारियल के तेल के जार में डालें।
  3. कंटेनर को दूसरे दो दिनों के लिए धूप में छोड़ दें।
  4. हल्के हरे रंग में बदलने के लिए तेल के रंग की प्रतीक्षा करें।
  5. इसे सिर की त्वचा और बालों पर मालिश करें और रात भर बालों में लगाये रखें।

आपको ये भी जानना चाहिये – 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration