भृंगराज के फायदे उपयोग और नुकसान – Bhringraj benefits and side effects in hindi

भृंगराज के फायदे उपयोग और नुकसान - Bhringraj benefits and side effects in hindi
Written by Pratistha

Bhringraj in hindi भृंगराज एक प्रसिद्ध औषधि है जिसे बालों से जुड़ी समस्याओं और लीवर विकारों मैं उपयोग किया जाता है यह त्वचा रोगों खांसी अस्थमा आंख के रोग और  सिर की किसी भी हिस्से से संबंधित बीमारियों के लिए प्रभावी दवा है यह बाल के विकास को बढ़ाता है बालों का झड़ना कम करता है और बालों के समय से पहले सफेद होने से बचाता है भृंगराज के फायदे बहुत हैं आज हम आपको भ्रंगराज के फायदे और उपयोग के बारे में बताने वाले हैं।

भृंगराज त्वचा के रंग को और चमक को बेहतर बनाता है कई त्वचा रोगों को रोकता है जैसे की खुजली घाव अल्सर और त्वचा में पाई जाने वाली सूजन को कम करने में भृंगराज फायदेमंद है यह लीवर के पित्त के उत्पादन को बढ़ाता है और जिगर के कार्यों को सुधार कर  कब्ज को ठीक करता है और हमारे पाचन को सुचारु रुप से चलाने में सहायक होता है।

भृंगराज के औषधीय भाग – Bhringraj plant Medicinal Parts in hindi

औषधीय रूप में भृंगराज के पूरे पेड़ (पंचांग) को आयुर्वेदिक और हर्बल दवाइयां तैयार करने के लिए उपयोग किया जाता है।

भृंगराज जूस का उपयोग कई आयुर्वेदिक चीजों में किया जाता है जिनमें भृंगराज तेल , नीलीभ्रादीदी तेल और महाभृंगराज तेल शामिल हैं ।

भृंगराज के फायदे और औषधीय उपयोग – Bhringraj ke Fayde in Hindi

यहाँ भृंगराज के फायदे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ और औषधीय उपयोगों के बारे में नीचे जानकारी दी जा रही है।

भृंगराज चूर्ण के फायदे लीवर को स्वस्थ रखने में – Bhringraj for Liver in Hindi

स्वास्थ लाभ के रूप में भृंगराज के फायदे लीवर के लिए किसी वरदान से कम नहीं है यह  हेपेटोप्रोटेक्टिवके रूप में कार्य करता है और लीवर की कोशिकाओं के पुनर्जन्म को उत्तेजित करता है पित्त के उत्पादन को बढ़ाता है जिससे हमारा पाचन सही रहता है और यह शरीर के विषाक्त पदार्थों को तोड़ने और बाहर निकालने का काम करता है इस प्रकार भृंगराज के फायदे संपूर्ण लीवर के लिए लाभदायक होते हैं।

(और पढ़े – लीवर की कमजोरी कारण लक्षण और दूर करने के उपाय)

पीलिया को दूर करने में भ्रंगराज के फायदे – Bhringraj Powder for Jaundice in hindi

लिवर की सूजन बिलीरुबिन को काम करने की क्षमता को कम कर देती है जिससे रक्त में बिलीरुबिन के अधिक हो जाने के कारण पीलिया रोग हो जाता है को हाईपरबिलीरुबिनमिया भी कहा जाता है।

आयुर्वेद में भृंगराज को अन्य पदार्थों के साथ पीलिया का इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है इसके लिए आपको भृंगराज रस 10 मिलीलीटर काली मिर्च 1 ग्राम मिश्री 3 ग्राम को लेना है और एक मिश्रण तैयार कर लेना है इस मिश्रण को पीलिया के इलाज के लिए 3 से 5 दिनों तक दिन में तीन बार लिया जा सकता है उपचार के दौरान दही और चावल आधारित भोजन खाने को दीया जाना सही माना जाता है।

भृंगराज के फायदे रोके आपके झड़ते बालों को –  Bhringraj Powder Benefits for Hair in Hindi

स्वस्थ लीवर शरीर में हार्मोन और वसा के स्तर में सुधार करके बालों का गिरना कम करने में मदद करते हैं गिरते बालों की रोकथाम और उपचार के लिए भृंगराज एक प्रभावी दवा है इसकी बाहरी प्रयोगों के द्वारा जड़ों को मजबूत करके बालों को गिरने से रोकने में मदद मिलती है आप इसे अपने बालों में लगा सकते हैं और इसके पाउडर को दिन में दो बार 1 से 3 ग्राम की खुराक बनाकर ली जा सकती है सिर में लगाने के लिए तेल का उपयोग किया जाता है इसके लिए भृंगराज रस का उपयोग करके तेल तैयार किया जाता है जो बालों के झड़ने, सिर की खुजली और बालों का समय से पहले सफेद होने को कम करता है।

(और पढ़े – गंजेपन का घरेलू इलाज)

भृंगराज के फायदे पुरानी बुखार को ठीक करने में – Bhringraj juce for Chronic Fever in hindi

मौसम बदलते ही सर्दी और बुखार होना आम बात है भृंगराज का उपयोग पुरानी बुखार के इलाज के लिए अन्य आयुर्वेदिक दवाओं के साथ किया जा सकता है इसका प्रयोग तब किया जाता है जब रोगी में पाचन भूख और शरीर में कफ दोष उत्पन्न हो जाता है ऐसे मामलों में तीन से 5 मिलीलीटर भृंगराज जूस दिन में दो बार दूध के साथ दिया जा सकता है और यह उपचार 2 से 3 सप्ताह के लिए किया जाता है

(और पढ़े – ऐसे दूर रहें वायरल फीवर से)

भृंगराज चूर्ण के फायदे दमा को ठीक करने में – Bhringraj juce for Asthma in hindi

यदि किसी रोगी को खांसी के साथ अस्थमा होता है तो भृंगराज को ऊपर बताए गए तरीके के आधार पर रोगी को दिया जा सकता है बच्चों में भृंगराज का रस और उतनी ही बराबर मात्रा में शहद को मिलाकर दिन में तीन से चार बार दिया जा सकता है जब तक कि बच्चे  को सांस लेने में परेशानी दूर नहीं होती यह खांसी घबराहट और छाती के दर्द को कम करने में मदद करता है।

भृंगराज का रस के लाभ खांसी दूर करने में – Bhringraj juce for Cough in hindi

किसी को खांसी होने पर भृंगराज के रस को शहद के साथ उपयोग किया जाता है। यह थूक का बनना बढ़ाता है और फेफड़ों को साफ करता है। यह फेफड़ों में बलगम बनने से रोकता है और खांसी से राहत देता है।

(और पढ़े – खांसी का घरेलू उपचार, ड्राई कफ हो या वेट कफ)

भृंगराज चूर्ण के फायदे दस्त को ठीक करने में – Bhringraj powder for Diarrhea in hindi

जब किसी मरीज को दस्त या पाचन से संबंधित कोई बीमारी होती है जिसका मुख्य कारण जीवाणु संक्रमण होता है तब इन मामलों में भृंगराज का सेवन पाचन को सुधारने में मदद करता है यह पेट के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और अपने एंटीबायोटिक प्रभावों के कारण यह संक्रमण का भी इलाज करता है

भृंगराज का रस गर्भपात को रोकता है – Bhringraj  for Recurrent Miscarriage in hindi

भृंगराज गर्भावस्था में होने वाले नुकसान को रोकता है। गर्भपात से पीड़ित महिलाएं सुबह खाली पेट 3 मिलीलीटर भृंगराजा रस ले सकती हैं, साथ ही गाय का दूध भी साथ में लिया जा सकता है। परंपरागत रूप से, गर्भपात को रोकने और गर्भाशय को मजबूत करने के लिए इस उपाय का उपयोग किया जाता है।

(और पढ़े – गर्भपात के बाद होने वाली समस्‍याएं)

जिनका पहले गर्भपात हो चुका हो उनको, गर्भावस्था के पुन: नियोजन से पहले इसे शुरू किया जाना चाहिए और गर्भावस्था के दौरान इसे जारी रखा जाना चाहिए। सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, यह अश्वगंधा के साथ भी लिया जा सकता है, जिसका उपयोग इसी तरह के प्रयोजन के लिए भी किया जाता है।

(और पढ़े – गर्भावस्था में आहार जो देगा माँ और बच्चे को पूरा पोषण)

भृंगराज का उपयोग आंख विकार को ठीक करने में – Bhringraj for Eyesight & Eye Disorders in hindi

भृंगराज को दृष्टि में सुधार और कई नेत्र विकारों का इलाज करने के लिए पाउडर के रूप में प्रयोग किया जाता है। भृंगराज पत्ता पाउडर 3 ग्राम, गाय का घी 5 ग्राम और शहद 10 ग्राम लेकर मिश्रण बना लें

उपरोक्त मिश्रण को दृष्टि बेहतर बनाने और नेत्र रोगों का इलाज करने के लिए 40 दिन के लिए दिन में दो बार दिया जाता है।

भृंगराज के फायदे सिर दर्द और माइग्रेन को ठीक करने में – Bhringraj powder for Headache & Migraine in hindi

सिर दर्द की समस्या अब आम होती जा रही है भृंगराज का सेवन सिर दर्द और माइग्रेन में किया जा सकता है भृंगराज को रोजाना 3 से 5 मिलीलीटर दिन में तीन बार रोगी को दिया जा सकता है यह माइग्रेन का इलाज करने के लिए एक उपयोगी दवा माना जाता है आप इसे भृंगराज का रस और बराबर मात्रा में दूध के साथ मिलाकर पी सकते हैं इसके गुण में वृद्धि होती है और सिर दर्द में जल्द राहत मिलती है।

(और पढ़े – सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय)

भृंगराज के लाभ चक्कर आने में – Bhringraj for Vertigo in hindi

चक्कर आने पर भृंगराज का रस 5 मिलीलीटर मैं 3 ग्राम ब्राउन शुगर को मिलाकर चक्कर का इलाज किया जा सकता है।

भृंगराज के फायदे मुंह के छाले ठीक करने में – Bhringraj for Mouth Ulcers in hindi

इसका उपयोग मुह के छालों को ठीक करने के लिए किया जा सकता है इसके लिए भृंगराज के ताजे पत्तों को चवाने से मुंह के छाले और अल्सर को ठीक करने में मदद मिलती है।

भृंगराज के नुकसान – Side Effects of Bhringraj in hindi

आमतौर पर भृंगराज के साथ शरीर में कोई भी दुष्प्रभाव नहीं पाया जाता लेकिन स्वास्थ्य स्थितियों  के अनुसार इसका उपयोग समझदारी के साथ और निश्चित मात्रा में करना ठीक होता है।

भृंगराज गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए पूरी तरह से सुरक्षित नहीं माना जाता इसलिए भृंगराज का उपयोग करने से पहले एक आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration