दीवाली के प्रदूषण से बचने के आयुर्वेदिक तरीके – Ayurvedic Hacks To Protect You From Pollution in hindi

दीवाली के प्रदूषण से बचाने के लिए 8 आयुर्वेदिक हैक्स - Ayurvedic Hacks To Protect You From Pollution
Written by Deepak

क्या आप जानते हैं कि पिछले साल वायु की गुणवत्ता दीवाली के दौरान “गंभीर” श्रेणी में आ गयी थी। सर्दियों की शुरुआत और पटाखो से देश को विशेष रूप से राजधानी और उसके आस-पास के इलाकों में प्रदूषण की चिंता का सामना करना पड़ता है। दीवाली के दौरान वायु प्रदूषण से कई तरह कि स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जैसे कि खाँसी, सांस की तकलीफ, त्वचा रोग आदि तो इस दिवाली, अपने जीवन को आयुर्वेद की ओर आगे बढ़ाए और स्वाभाविक रूप से जीने के लिए आपनी चारों ओर की हवा को शुद्ध करने के लिए नीचे दिए गए कुछ सरल उपायों का पालन करें, यह स्वस्थ रहने के लिए सबसे अच्छा व आसन रास्ता है।

दीवाली के दौरान वायु प्रदूषण से बचने के आयुर्वेदिक उपाय

1. प्रदूषण से बचने के लिए नीम का उपयोग

यह हर्बल पौधा प्रदूषक को अब्सोर्ब करता है। हवा शुद्ध करने के लिए अपने घर में नीम के पत्तों का एक गुच्छा रखें। नीम के पानी में उबली हुई पत्तियों के साथ अपने चेहरे को धो लें। सप्ताह में कम से कम दो बार तीन से चार नीम के पत्ते खाने की कोशिश करें। यह खाने में कड़वा लगता है, लेकिन यह आपके रक्त को शुद्ध करने और रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करेगा।

(और पढ़े – नीम की पत्ती के फायदे और नुकसान)

2. वायु प्रदूषण से बचने के लिए तुलसी

यह हर भारतीय घर में पाया जाने बाला एक आम पौधा है। हालांकि, अगर आपने अभी तक इसे नहीं लगाया है, तो आपको इसे अपने परिवार के लिए जरूर लगाना चाहिए। तुलसी के कुछ पत्ते ले, इसे कुचल दें और शहद के कुछ बूंदों को इसमें डालकर पी ले। यह आपके प्रदूषण के कारण श्वसन पथ (respiratory tract) में होने वाली खराबी को रोकने के लिए दैनिक उपचार है।

(और पढ़े – तुलसी के फायदे और नुकसान)

(और पढ़े – तुलसी की चाय के फायदे और नुकसान)

3. एयर पोल्यूशन से बचने के लिए घी

आपने सोचा होगा कि घी केवल स्वादिष्ट खाना बनाने में मदद करता है। तो आपको फिर से सोचने की जरुरत है! प्रतिदिन सुबह और शाम नाक में गाय के घी की 2 बूँदें आपको प्रदूषकों से दूर रहने में मदद करेगी।

(और पढ़े – घी के फायदे और नुकसान)

4.  वायु प्रदूषण से बचने के लिए हल्दी

हल्दी, एक आसानी से उपलब्ध होने वाला घटक है जो हर घर में मिलता है शहद के 1 चम्मच के साथ हल्दी पाउडर का आधा चम्मच हर सुबह खाली पेट लेंने से आप दीवाली के दौरान वायु प्रदूषण से बच सकते है ।

(और पढ़े – हल्दी के फायदे गुण लाभ और नुकसान)

5 हवा के प्रदूषण से बचने के लिए पीपली

इसे ‘लांग काली मिर्च’ के रूप में भी जाना जाता है, पीपली फेफड़े के संक्रमण के खिलाफ प्रभावी एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है दैनिक आहार में पीपली को लेने का एक आसान तरीका यह है कि उसे काली मिर्च के स्थान पर उपयोग करना चाहिए और इसे किसी भी दिलकश पकवान में जोड़ें। गंभीर ठंड से बचने के लिए 1¼ चम्मच अदरक, ¼ चम्मच हल्दी और 1 / 8 चम्मच पीपली पाउडर 1 tbsp शहद में मिश्रित करे और जागने के तुरंत बाद गर्म पानी के साथ सेवन करें।

(और पढ़े – पिप्पली (पीपलामूल) के फायदे और नुकसान)

6.वायु प्रदूषण से बचने के लिए त्रिफला

तीन फलों का अर्थ, त्रिफला एक पारंपरिक आयुर्वेदिक हर्बल सूत्रीकरण है जो प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में सहायता करता है। रात में शहद के 1 चम्मच के साथ त्रिफला का एक बड़ा चम्मच आपके शरीर की प्रतिरक्षा को बहाल करने के लिए एकदम सही है।

(और पढ़े – त्रिफला चूर्ण के फायदे और नुकसान)

7. एयर पोल्यूशन से बचने के लिए लहसुन

अपने आहार में ताजी लहसुन शामिल करें क्योंकि संक्रमण के खिलाफ लड़ने के लिए इसमें माइक्रोबियल-विरोधी गुण हैं।

(और पढ़े – जानिए लहसुन के चमत्कारी स्वास्थ्यवर्धक गुणों के बारे में)

8. वायु प्रदूषण से बचने के लिए च्यवनप्राश

यह प्राचीन आयुर्वेदिक हर्बल नुस्खा हमें समग्र शक्ति और प्रतिरक्षा प्रदान करता है, जो सर्वश्रेष्ठ परिवार टॉनिक में से एक माना जाता है, यह सब उम्र के लोगों के लिए उपयुक्त है, छोटे बच्चों से बुजुर्गों तक।

(और पढ़े – च्यवनप्राश के फायदे उपयोग और नुकसान)

हर साल दिवाली, हमारे घरों को साफ, सजाने और रोशनी देने के लिए आती है, लेकिन हमारे शरीर-प्रणाली को शुद्ध करने और सुरक्षा करने के लिए हमें ये सरल आयुर्वेदिक युक्तियां सीखनी चाहिए।

जिससे हमारा शरीर भी हमारे घर की तरह साफ बना रहे।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration