इस दीवाली गर्भवती महिलाएं कैसे रहें स्‍वस्‍थ और सुरक्षित

दीवाली
Written by Shivam

क्या आप मां बनने वाली हैं? यह तो खुशी की बात है, मगर दिवाली में आपको बहुत सतर्क रहने की जरूरत है। पटाखों से निकलने वाला धुआं, धमाके की आवाज और कठोर रसायन गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक होते हैं। साथ ही ये भ्रूण को भी नुकसान पहुंचाते हैं। गर्भावस्था के दौरान प्रदूषण गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए समस्या उत्पन्न कर सकता है।

दीवाली के पटाखों से निकलने वाले धुएं में काफी अधिक मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड और नाइट्रस आक्साइड होता है। ऐसे में इन रसायनों के सीधे संपर्क में आने से गर्भ में पल रहे बच्चे और मां दोनों को खतरा हो सकता है।यदि आपको यह लग रहा है कि दीवाली आपको और आपके बच्चे दोनों को नुक्सान पंहुचा सकती है तो परेशान होने की जरुरत नहीं है। आज हम आपको यह बताने जा रहें हैं कि इस बार आप कैसे अपनी दिवाली को कैसे सुरक्षित मना सकती हैं।

1.दीवाली में जितना हो सके प्रदूषण से दूर रहें

दिवाली एक ऐसा समय होता है जब आपका पूरा घर साफ़ और खूबसूरत लगना चाहिए। जिसकी वजह से घर की सफाई करनी पड़ती है और इस वक़्त पूरे घर में धुल मिट्टी और पॉइंट्स की महक होती है। ऐसे में घर में हवा में धुल और मिट्टी होती है। जो आपको एलर्जी दे सकती है साथ ही सांस से संबंधित परेशानियां हो सकती हैं। अगर आपके घर में पेंट हो रहा है तो एक समय में एक ही कमरे में पेंट कराएं जिससे आप धुल और पेंट की महक से दूर रहें आप किसी दूसरे कमरे में रहें। और अगर आपको मजबूरन कोई काम करना पड़ता है तो अपने मुँह पर कपड़ा लपेट लें फिर धुल मिट्टी में जाएँ|

2.दीवाली में घर के काम को सीमित करें

अपने आपको कुछ कामों से दूर रखें। आपको मुड़ना , झुकना, घुमा, वजन उठाने जैसे काम नहीं करने चाहिए। क्योंकि मुड़ने से आपको बैक को नुक्सान पहुंचाएंगी और यह आपके और आपके आने वाले बच्चे होनो के लिए हानिकारक हो सकता है। आपका पेट भी बाहर की तरफ निकला होगा तो झुक के सामान उठने की कोशिश मत करियेगा।

3.दीवाली में फूलों से हो सकती है एलर्जी

एलर्जी के खतरे को कम करने के लिए जब तक संभव हो सजावट की फूल-मालाएं आदि को घर से बाहर ही रखें। साथ ही उन्हें घर के भीतर लाने से पहले पानी से अच्छी तरह से छिड़काव करें। ऐसा करने से उन फूलों पर लगी धूल और पराग खत्म हो जाएगी और एलर्जी से भी बचाव होगा।

4.पटाखों से दूर रहें

पटाखें जिनसे आपको सबसे ज्यादा सावधान रहना है। पटाखें का धूआं सबसे ज्यादा खतरनाक होता है इससे आपके एलर्जी और फेफड़ों को नुक्सान पहुंच सकता है। पटाखें के धुएं में कार्बन डाइऑक्साइड और नाइट्राइट ऑक्साइड होता है जो आपके और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक है। लेकिन अगर आपको फिर भी मज़ा लेना है तो पटाखों को दूर से जलते हुए देखें। और अगर आप को दमे की शिकायत रहती है तो घर के अंदर ही रहें।

4. ध्वनि प्रदूषण को कहें ना

दिवाली वाले दिन हर कोने से पटाखों की आवाज़ आती है जिससे सर में दर्द होने लगता है। आपका बच्चा आपके गर्भ में सुरक्षित है लेकिन आप नहीं। 85 डेसीबल से अधिक की आवाज आपकी सुनने की शक्ति को नुक्सान पंहुचा सकती हैं। और उसे ज्यादा जैसे 110 डेसीबल आपके बच्चे के लिए भी नुकसानदेह साबित हो सकती है। इसलिए घर के अंदर ही रहें और किसी भी तरह का शोर घर के अंदर ना आने दें। शोर से बचने के लिए आप कॉटन बॉल्स अपने कानों में लगा सकती हैं।

5.स्वास्थ वर्धक भोजन खाएं हर घंटे पिएं पानी

दिवाली के समय घर में खूब सारी मिठाई और नमकीन बनती हैं, लेकिन आपको यह कम से कम खाना है। क्योंकि ज्यादा कैलोरी और फैट आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए अच्छा नहीं है। उन्हें थोड़ी-थोड़ी मात्रा में 1 से 2 घंटे के अंतराल पर पौष्टिक भोजन ग्रहण करना चाहिए और संभव हो तो हर घंटे में पानी पीते रहना चाहिए। ऐसा करने से चक्कर आने की समस्या, बेहोशी और सुस्ती से आप खुद को बचा सकती हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration