क्यों मनाते है हम दीवाली (दीपावली) – Why Do We Celebrate Diwali In Hindi

क्यों मनाते है हम दीवाली (दीपावली) - Why Do We Celebrate Diwali In Hindi
Written by Deepak

क्यों मनाते है हम दीपावली why do we celebrate diwali in hindi ऐसा माना जाता है कि दीवाली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से उल्लासित था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माँ सद्गमय, तमसो माँ ज्योतिर्गमय।

दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।दिवाली, एक धार्मिक, विविध रंगों के प्रयोग से रंगोली सजाने, प्रकाश औऱ खुशी का, अंधकार हटाने का, मिठाईयों का,पूजा आदि का त्यौहार है, जो पूरे भारत के साथ साथ देश के बाहर भी कई स्थानों पर मनाया जाता है। यह रोशनी की कतार या प्रकाश का त्यौहार कहा जाता है।

यह पाँच दिन (धनतेरस, नरक चतुर्दशी, अमावश्या, कार्तिक सुधा पधमी, यम द्वितीया या भाई दूज) का त्यौहार है जो धनतेरस (अश्वनी माह के पहले दिन का त्यौहार है) से शुरु होता है और भाई दूज (कार्तिक माह के अन्तिम दिन का त्यौहार है) पर खत्म होता है। दिवाली के त्यौहार की तारीख हिन्दू चन्द्र सौर कलैण्डर के अनुसार र्निधारित होती है। यह बहुत खुशी से घरों को सजाकर बहुत सारी लाइटों, दिये, मोमबत्तियॉ, आरती पढ़कर, उपहार बॉटकर, मिठाईयॉ, ग्रीटिंग कार्ड, एस एम एस भेजकर, रंगोली बनाकर, खेल खेलकर, मिठाईयॉ खाकर, और भी बहुत सारी गतिविधियों के साथ मनाते है।

दिवाली 2018 (दीपावली 2018 डेट)

  • इस वर्ष दिवाली 07 नवम्बर 2018 दिन बुधवार को मनायी जाएगी
  • धनतेरस: सोमवार, 5 नवंबर 2018
  • नरक चतुर्दशी (छोटी दीवाली): मंगलवार, 06 नवम्बर 2018
  • लक्ष्मी पूजा (मुख्य दिवाली): 07 नवम्बर 2018 दिन बुधवार
  • बाली प्रतिप्रदा या गोवर्धन पूजा: गुरुवार, 08 नवम्बर 2018
  • यम द्वितीय या भाईदूज: शुक्रवार, 09 नवम्बर 2018

(और पढ़े – दीपावली के प्रदूषण से बचाने के लिए 8 आयुर्वेदिक हैक्स Ayurvedic Hacks To Protect You From Pollution)

दिवाली क्यों मनायी जाती है – Diwali kyu manai jati hai

भगवान राम की विजय और आगमन: 

हिन्दू महाकाव्य रामायण के अनुसार, भगवान राम राक्षस राजा रावण को मारकर और उसके राज्य लंका को जीतकर अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अपने राज्य, अयोध्या, बहुत लम्बे समय (14 वर्ष) के बाद वापस आये थे। अयोध्या के लोग अपने सबसे प्रिय और दयालु राजा राम, उनकी पत्नी और भाई लक्ष्मण के आने से बहुत खुश थे। इसलिये उन्होनें भगवान राम का लौटने का दिन अपने घर और पूरे राज्य को सजाकर, मिट्टी से बने दिये जलाकर दीवाली मनायी।

देवी लक्ष्मी का जन्मदिन:

देवी लक्ष्मी धन और समृद्धि की स्वामिनी है। यह माना जाता है कि राक्षस और देवताओं द्वारा समुन्द्र मंथन के समय देवी लक्ष्मी दूध के समुन्द्र (क्षीर सागर) से कार्तिक महीने की अमावश्या को ब्रह्माण्ड में आयी थी। यही कारण है कि यह दिन माता लक्ष्मी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में दिवाली के त्यौहार के रूप में मनाना शुरू कर दिया।

भगवान विष्णु ने लक्ष्मी को बचाया:

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, एक महान दानव राजा बाली था, जो सभी तीनों लोक (पृथ्वी, आकाश और पाताल) का मालिक बनना चाहता था, उसे भगवान विष्णु से असीमित शक्तियों का वरदान प्राप्त था। पूरे विश्व में केवल गरीबी थी क्योंकि पृथ्वी का सम्पूर्ण धन राजा बाली द्वारा रोका हुआ था। भगवान के बनाये ब्रह्मांण्ड के नियम जारी रखने के लिए भगवान विष्णु ने सभी तीनों लोकों को बचाया था (अपने वामन अवतार, 5 वें अवतार में) और देवी लक्ष्मी को उसकी जेल से छुड़ाया था। तब से, यह दिन बुराई की सत्ता पर भगवान की जीत और धन की देवी को बचाने के रूप में मनाया जाना शुरू किया गया।

भगवान कृष्ण ने नरकासुर को मार डाला:

मुख्य दिवाली से एक दिन पहले का दिन नरक चतुर्दशी के रूप में मनाया जाता है। बहुत समय पहले, नरकासुर नाम का राक्षस राजा (प्रदोषपुरम में राज्य करता था) था, जो लोगों पर अत्याचार करता था और उसने अपनी जेल में 16000 औरतों को बंधी बना रखा था। भगवान कृष्ण (भगवान विष्णु के 8 वें अवतार) उसकी हत्या करके नरकासुर की हिरासत से उन सभी महिलाओं की जान बचाई थी। उस दिन से यह बुराई सत्ता पर सत्य की विजय के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

राज्य में पांडवों की वापसी:

महान हिंदू महाकाव्य महाभारत के अनुसार, निष्कासन के लम्बे समय(12 वर्ष) के बाद कार्तिक महीने की अमावश्या को पांडव अपने ऱाज्य लौटे थे। कोरवों से जुऐं में हारने के बाद उन्हें 12 वर्ष के लिये निष्कासित कर दिया गया था। पांडवों के राज्य के लोग पांडवों के राज्य में आने के लिए बहुत खुश थे और मिट्टी के दीपक जलाकर पांडवों के लौटने दिन मनाना शुरू कर दिया।

विक्रमादित्य का राज्याभिषेक:

राजा विक्रमादित्य एक महान हिन्दू राजा का विशेष दिन पर राज्यभिषेक हुआ तब लोगों ने दिवाली को ऐतिहासिक रुप से मनाना शुरु कर दिया।

आर्य समाज के लिए विशेष दिन:

महर्षि दयानंद महान हिन्दू सुधारक के साथ साथ आर्य समाज के संस्थापक थे और उन्होंने कार्तिक के महीने में नया चाँद(अमावश्या) के दिन निर्वाण प्राप्त किया। उस दिन से इस खास दिन के उपलक्ष्य में दीवाली के रूप में मनाया जा रहा है।

जैनियों के लिए विशेष दिन:

तीर्थंकर महावीर, जिन्होंने आधुनिक जैन धर्म की स्थापना की, उन्हें इस विशेष दिन दिवाली पर निर्वाण की प्राप्ति हुई जिसके उपलक्ष्य में जैनियों में यह दिन दीवाली के रूप में मनाया जाता है।

मारवाड़ी नया साल:

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, मारवाड़ी अश्विन की कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन पर महान हिंदू त्यौहार दीवाली पर अपने नए साल का जश्न मनाते है।

गुजरातियों के लिए नया साल:

चंद्र कैलेंडर के अनुसार, गुजराती भी कार्तिक के महीने में शुक्ल पक्ष के पहले दिन दीवाली के एक दिन बाद अपने नए साल का जश्न मनाते है।

सिखों के लिए विशेष दिन: 

अमर दास (तीसरे सिख गुरु) ने दिवाली को लाल-पत्र दिन के पारंम्परिक रुप में बदल दिया जिस पर सभी सिख अपने गुरुजनों का आशार्वाद पाने के लिये एक साथ मिलते है। अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की स्थापना भी वर्ष 1577 में दीवाली के मौके पर की गयी थी। हरगोबिंद जी (6 सिख गुरु) को वर्ष 1619 में मुगल सम्राट जहांगीर की हिरासत से ग्वालियर किले से रिहा किया गया था।

(और पढ़े – सुरक्षित दीपावली के लिए 10 टिप्स)

दीपावली कहाँ – कहाँ मनाई जाती है:

दीपावली का त्यौहार भारत देश मे ही नहीं बाहर विदेशों मे भी मनाया जाता है।दीपावली का त्यौहार दुनिया भर मे हिन्दूजैन और सिख समुदाय द्वारा मनाया जाता है  श्रीलंकापाकिस्तानम्यांमारथाईलैंडमलेशियासिंगापुरइन्डोनेशियाआस्ट्रेलियान्यूजीलैंडफिजीमॉरीशसकेन्यातंजानिया,दक्षिण अफ्रीकासूरीनामत्रिनिदादटोबैगोनीदरलैंडकनाडाब्रिटेनसयुंक्त अरब अमीरातसयुंक्त राज्य अमेरिका आदि देशों मे दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है  भारतीय संस्कृति की समझ और भारतीय मूल के वैश्विक प्रवास के कारण दीपावली मनाने वाले देशों की संख्या धीरेधीरे बढ़ रही है। कई देशों मे इस दिन राष्ट्रिय अवकाश भी रहता है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration