च्यवनप्राश के फायदे उपयोग और नुकसान - chyawanprash benefits uses in Hindi
जड़ीबूटी

च्यवनप्राश के फायदे उपयोग और नुकसान – Chyawanprash Benefits Uses And Side Effects In Hindi

च्यवनप्राश के फायदे उपयोग और नुकसान - Chyawanprash Benefits Uses And Side Effects In Hindi

Chyawanprash Benefits In Hindi: च्यवनप्राश आंवला एवं विभिन्न तरह की जड़ी-बूटियों एवं अन्य सामग्री को मिलाकर बना एक जैम है। यह रंग में काला या भूरा जैम की तरह दिखता है। सर्दियों में विशेष रूप से लोग च्यवनप्राश खाते हैं। क्योंकि सर्दियों में च्यवनप्राश शरीर को गर्म रखता है, साथ ही सेहत को भी कई मायनों में फायदा पहुंचाता है। च्यवनप्राश का नियमित सेवन करने से महिलाओं के साथ पुरूषों के स्वास्थ्य को भी बहुत लाभ पहुंचता है। च्यवनप्राश स्वाद में मीठा, हल्का खट्टा और कुछ मसालेदार सा होता है। हम यहां आपको च्यवनप्राश का सेवन कैसे करें, च्यवनप्राश के फायदे एवं च्यवनप्राश के सेवन से नुकसान के विषय में बताएंगे।

च्यवनप्राश कई औषधीय गुणों से युक्त जड़ी-बूटियों, आंवला और विभिन्न पौधों के अर्क से बनाया जाता है। च्यवनप्राश बनाने में उपयोग की जाने वाली जड़ी-बूटियों में रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने और ऊर्जा प्रदान करने के गुण मौजूद होते हैं। आजकल बाजारों में पतंजलि से लेकर हिमालया, झंड़ु और डाबर आदि ब्रांडों के च्यवनप्राश उपलब्ध हैं। च्यवनप्राश बनाने में आंवला, अश्वगंधा, नीम, पिप्पली, सफेद चंदर पावडर, तुलसी, सौंफ, दालचीनी, इलायची, अर्जुन, ब्राह्मी, शुद्ध शहद एवं घी का इस्तेमाल किया जाता है।

विषय सूची

च्यवनप्राश का सेवन कैसे करें – How to use Chyawanprash in Hindi

आपको यह ज्ञात होना चाहिए कि च्यवनप्राश के सेवन की मात्रा प्रत्येक व्यक्ति के लिए भिन्न-भिन्न होती है। च्यवनप्राश का लंबे समय तक सेवन करने से यह शरीर की इम्युनिटी को सुधारता है और शरीर को निरोगी बनाता है।

  • च्यवनप्राश बनाने वाली कुछ कंपनियां इसका सेवन दूध के साथ करने की सलाह देती हैं। लेकिन च्यवनप्राश बिना दूध के सुबह खाली पेट भी खाया जा सकता है। इसके अलावा च्यवनप्राश को गुनगुने पानी के साथ भी खाया जा सकता है।
  • गर्भवती महिलाओं को एक चम्मच सुबह और एक चम्मच रात को सोते समय नियमित च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए।
  • एक से पांच वर्ष तक के बच्चों को ढाई ग्राम या आधा चम्मच च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए।
  • छह से बाहर वर्ष तक के बच्चों को पांच ग्राम या एक चम्मच च्यवनप्राश खाना चाहिए।
  • बारह वर्ष से अधिक उम्र के लोग एक से चार चम्मच च्यवनप्राश का सेवन कर सकते हैं।
  • लेकिन किसी भी परिस्थिति में बीस ग्राम से अधिक च्यवनप्राश का सेवन नहीं करना चाहिए।

च्यवनप्राश के फायदे – Chyawanprash benefits in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे - Chyawanprash benefits in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे मौसमी संक्रमण से बचने में – Chyawanprash benefits Prevents Seasonal Infections in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे मौसमी संक्रमण से बचने में - Chyawanprash benefits Prevents Seasonal Infections in Hindi

सर्दियां शुरू होते ही मौसम में नमी बढ़ जाती है और लगातार मौसम में परिवर्तन होता रहता है। ऐसे में मौसम में नमी के कारण हवा में नए तरह के बैक्टीरिया पैदा होते रहते हैं। इस कारण से लोग बहुत जल्दी ही संक्रमण के चपेट में आ जाते हैं और संक्रमण के कारण व्यक्ति को बुखार की भी समस्या होने लगती है।

इस परिस्थिति में च्यवनप्राश हमारे शरीर को फंगल एवं बैक्टीरियल संक्रमण से लड़ने के लिए मजबूत बनाता है। इसलिए जाड़े के दिनों में ज्यादातर लोग च्यवनप्राश का सेवन बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचने के लिए करते है।

(और पढ़े – ऐसे दूर रहें वायरल फीवर से)

च्यवनप्राश के फायदे पाचन क्रिया बढ़ाने में – Chyawanprash benefits Enhances The Digestive System in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे पाचन क्रिया बढ़ाने में - Chyawanprash benefits Enhances The Digestive System in Hindi

यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जिसका पाचन तंत्र बहुत कमजोर है तो नियमित च्यवनप्राश का सेवन करने से आपका बहुत फायदा होगा। च्यवनप्राश पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में सहायक होता है। यह आंत की क्रियाओं को सुव्यवस्थित बनाता है जिससे कि पेट में भोजन को पचने में काफी आसानी होती है।

च्यवनप्राश में दालचीनी और आंवला होता है जिसमें अग्निवर्धक गुण मौजूद होता है जो पेट फूलने या उदर स्फीति की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। इसके अलावा च्यवनप्राश का नियमित सेवन करने से कब्ज से पीड़ित व्यक्ति को बहुत राहत मिलती है।

(और पढ़ें – पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय)

च्यवनप्राश के फायदे ब्लड को प्यूरीफाई करने में – Chyawanprash benefits Aids In Purifying Blood in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे ब्लड को प्यूरीफाई करने में - Chyawanprash benefits Aids In Purifying Blood in Hindi

ऐसे लोग जो काम का ज्यादा दबाव लेते हैं और काम को निपटाने के चक्कर में भरपूर नींद नहीं ले पाते या संतुलित भोजन की जगह जंक फूड खाकर पेट भर लेते हैं, ऐसे व्यक्तियों के  शरीर में पर्याप्त विषाक्त जम जाता है। शरीर में इन हानिकारक पदार्थों के जमा हो जाने से व्यक्ति का शरीर धीरे-धीरे बीमारियों की चपेट में आने लगता है।

इसकी वजह से शरीर के खून की प्राकृतिक तरीके से सफाई होने में भी बाधा उत्पन्न होती है। ऐसी स्थिति में रोजाना च्यवनप्राश खाने से सही तरीके से ब्लड प्यूरीफाई हो जाता है और शरीर में जमा हानिकारक पदार्थों की वजह से उत्पन्न बीमारियों से भी लड़ने के लिए हमारा शरीर सशक्त हो जाता है।

(और पढ़ें – खून साफ करने के घरेलू उपाय)

च्यवनप्राश के फायदे यौन शक्ति बढ़ाने में – Chyawanprash benefits Enhances Sexual Prowess in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे यौन शक्ति बढ़ाने में - Chyawanprash benefits Enhances Sexual Prowess in Hindi

ज्यादातर लोग इस बात से अनभिज्ञ हैं कि च्यवनप्राश का नियमित सेवन करने से व्यक्ति की यौन शक्ति बढ़ती है और यौन संबंधी बीमारियों से भी निजात दिलाने में च्यवनप्राश काफी फायदेमंद होता है। च्यवनप्राश में मौजूद जड़ी-बूटियां महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म की समस्या को भी दूर करने में बहुत लाभकारी साबित होती हैं।

(और पढ़ें – यौन शक्ति बढ़ाने के लिए प्राक्रतिक जड़ी बूटी)

च्यवनप्राश के फायदे याददाश्त बढ़ाने में – Chyawanprash benefits Sharpens Memory in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे याददाश्त बढ़ाने में - Chyawanprash benefits Sharpens Memory in Hindi

भूलने की बीमारी ज्यादातर लोगों में एक आम समस्या होती है। उम्र बढ़ने के साथ ही एक समय के बाद हम सभी बहुत सी बातें भूलने लगते हैं। ऐसे में च्यवनप्राश का सेवन करने से इसमें मौजूद जड़ी-बूटियां दिमाग के कार्य करने की क्षमता को बेहतर करती हैं और व्यक्ति के यादाश्त को भी सुधारने में मदद करती हैं।

वयस्कों के अलावा च्यवनप्राश का सेवन करने से बच्चों में भी आत्मकेंद्रण की शक्ति बढ़ती है और उनका पढ़ाई में ज्यादा मन लगता है। च्यवनप्राश का सेवन करने से स्वास्थ्य को और भी कई फायदे होते हैं। यह दिमाग के तंत्रिका तंत्र को बेहतर रखता है जिससे की व्यक्ति को किसी भी तरह का स्ट्रेस नहीं होता है।

(और पढ़े – शंखपुष्पी के फायदे याददाश्त बढ़ाने से लेकर चिंता दूर करने तक)

च्यवनप्राश के बेनिफिट्स शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में Chyawanprash benefits For Energy in Hindi

च्यवनप्राश के फायदे शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में - Chyawanprash benefits For Energy in Hindi

च्यवनप्राश का नियमित सेवन करने से यह टेंशन को रिलिज करता है और शरीर को ऊर्जा से भर देता है। जिससे व्यक्ति अधिक सक्रिय होकर अपने रोजमर्रा के काम को करता है। इसमें मौजूद हर्ब शरीर को गर्माहट प्रदान करते हैं इसलिए ज्यादातर लोग ठंड के मौसम में इसका सेवन करते हैं।

यह थकान को दूर करता है और फेफड़े के कार्यों को बेहतर करता है जिससे व्यक्ति को श्वसन से जुड़ा रोग नहीं होता है। च्यवनप्राश का सेवन वजन घटाने और कोलेस्ट्राल के स्तर को संतुलित बनाए रखने के लिए भी किया जाता है।

(और पढ़ें – शरीर की ताकत बढ़ाने के घरेलू उपाय)

च्यवनप्राश कब और कैसे खाना चाहिए – Chyawanprash kab aur kaise khana chahie

च्यवनप्राश खाने को खाने का सही समय सुबह होता है आप इसे खाली पेट खा सकते है। च्यवनप्राश का सेवन दूध के साथ करना अधिक फायदेमंद होता है। इसका सेवन दिन में एक बार करना पर्याप्त है। हालांकि दिन में दो बार खाने से भी कोई नुकसान नहीं होते है। च्यवनप्राश को सर्दियों के मौसम में खाना अधिक लाभकारी होता है। क्योंकि यह सर्दी जुकाम की रोकथाम के लिए बहुत ही अच्छी औषधि है।

च्यवनप्राश के सेवन से नुकसान – Side Effects of chyawanprash in Hindi

कम मात्रा और सही समय पर च्यवनप्राश का सेवन करने से स्वास्थ्य को कोई विशेष नुकसान नहीं पहुंचता है क्योंकि इसमें मौजूद आंवला एवं अन्य जड़ी-बूटियां स्वास्थ्यवर्धक होती हैं। लेकिन फिर भी इसके फायदे के साथ ही इसका कुछ नुकसान भी होते हैं। शरीर के कुछ ऐसे रोग हैं जिनसे ग्रसित व्यक्ति को च्यवनप्राश का सेवन नहीं करना चाहिए। तो आइए जानें इसके नुकसान

च्यवनप्राश में मौजूद जड़ी-बूटियां शरीर को गर्माहट देती हैं इसलिए गर्मी के मौसम में च्यवनप्राश का सेवन करने से व्यक्ति के पित्त में असंतुलन पैदा हो सकता है। अल्सर से पीड़ित व्यक्तियों को भी च्यवनप्राश का सेवन नहीं करना चाहिए।

डायरिया एवं अपच की समस्या से ग्रस्त लोगों को च्यवनप्राश का सेवन नहीं करना चाहिए। च्यवनप्राश स्वाद में मीठा होता है और अगर आप हाइपोग्लाइसेमिया के मरीज है और एंटीप्लेटलेट दवाएं ले रहे हों तो आपको च्यवनप्राश का सेवन नहीं करना चाहिए।

यदि आप वृक्क में प्रदाह, डायबिटीज, विटामिन सी मेटाबोलिक डिसऑर्डर से ग्रसित हों या शहद से आपको किसी तरह की एलर्जी हो तो च्यवनप्राश का सेवन न करें।

च्यवनप्राश के फायदे उपयोग और नुकसान (Chyawanprash Benefits Uses And Side Effects In Hindi) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration