अनंतासन योग करने के करने के तरीके और उनके फायदे – Anantasana steps and benefits in Hindi

अनंतासन योग करने के करने के तरीके और उनके फायदे - Anantasana steps and benefits in Hindi
Written by Hemant

Anantasana In Hindi अनंतासन एक महत्वपूर्ण योग आसन है। इस आसन को विष्णु आसन भी कहा जाता है क्योंकि यह भगवान विष्णु के नाम पर रखा गया हैं। अनंतासन योग करना हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। इस योग आसन को करने से पूरे शरीर में रक्त का परिसंचरण अच्छी तरह से होता हैं। यह योग पेल्विक मांसपेशियों को बेहतर करता है और प्रोस्टेट ग्रंथि के कार्य को भी बढ़ावा देता हैं। आइये अनंतासन योग को करने की विधि और उससे होने होने वाले लाभों को विस्तार से जानते हैं।

1. अनंतासन योग क्या हैं – What is Anantasana in Hindi
2. अनंतासन योग करने से पहले करें यह आसन – Anantasana yoga karne se pahle Kare ye aasan in Hindi
3. अनंतासन योग करने का तरीका – Steps to do Anantasana in Hindi
4. अनंतासन योग के लाभ – Anantasana Benefits In Hindi

5. अनंतासन योग करने से पहले रखें यह सावधानी – Precautions to do Anantasana yoga in Hindi

अनंतासन योग क्या हैं – What is Anantasana in Hindi

अनंतासन योग क्या हैं – What is Anantasana in Hindi

अनंतासन को योग श्रंखला का सबसे अच्छा योग आसन माना जाता है। अनंतासन एक संस्कृत भाषा का शब्द है जो शब्दों से मिलकर बना है जिसका पहला शब्द “अनंत” है जिसका अर्थ “असीम” होता है और दूसरा शब्द “आसन” है जिसका अर्थ “पोज़” या “मुद्रा” होता है। अनंतासन योग को विष्णु आसन भी कहा जाता है। अनंत भगवान विष्णु के कई प्रसिद्ध नामो में से एक हैं। जब आप अनंतासन करते हैं तो आपका शरीर भगवान विष्णु के आराम मुद्रा जैसा दिखता है। हिन्दू धर्म के अनुसार 1000 सिर वाले नाग को “अनंत” के रूप में भी जाना जाता है, जो विष्णु भगवान की शयन शय्या है। अनंतासन योग को अंग्रेजी में स्लीपिंग विष्णु पोज़ (Sleeping Vishnu Pose), इटरनल वन पोज़ (Eternal One’s Pose) और साइड-रिक्लाइनिंग लेग लिफ्ट (Side-Reclining Leg Lift) भी कहा जाता हैं।

(और पढ़े –

अनंतासन योग करने से पहले करें यह आसन – Anantasana yoga karne se pahle Kare ye aasan in Hindi

अनंतासन योग करने से पहले करें यह आसन – Anantasana yoga karne se pahle Kare ye aasan in Hindi

अनंतासन योग आसन करने से पहले आप नीचे दिए गए कुछ योग आसन का अभ्यास करें जिससे आपको इस आसन को करने में आसानी होगी-

(और पढ़े – योग की शुरुआत करने के लिए कुछ सरल आसन…)

अनंतासन योग करने का तरीका – Steps to do Anantasana in Hindi

विष्णु आसन या अनंतासन योग आसन करने के लिए आपको नीचे कुछ स्टेप्स दी जा रही हैं जिसकी सहायता से आप इस आसन को आसानी से कर सकते हैं।

  • अनंतासन योग करने के लिए आप पहले सबसे पहले एक योगा मैट को बिछाकर उस पर दायीं करवट लेकर लेट जाएं।
  • अपने दोनों हाथों और पैरों को पूरी तरह से सीधा रखें।
  • अब अपने दाएं हाथ को कोहनी से मोड़े और अपने सिर को सहारा दें।
  • फिर अपने बाएं पैर को घुटने से मोड़ें और घुटने को अपने मुँह की ओर लाएं।
  • अब बाएं हाथ से बाएं पैर के अंगूठे को पकड़े और पैर को ऊपर की ओर सीधा करें।
  • इस स्थिति में आपका बायां पैर और बायां हाथ ऊपर की ओर पूरी तरह सीधे होगें।
  • आप अनंतासन योग को कम से कम 15 से 30 सेकंड तक करने का प्रयास करें।
  • इसके बाद आप अपनी स्थिति को बदल ले और बायीं करवट लेकर दाएं पैर को ऊपर उठायें। यह क्रिया आपको दोनों तरफ से करनी हैं।

(और पढ़े – योग क्‍या है योग के प्रकार और फायदे हिंदी में…)

अनंतासन योग के लाभ – Anantasana Benefits In Hindi

विष्णु आसन या अनंतासन योग करने के अनेक लाभ हैं यह हमारे शरीर के विभिन्न प्रकार के रोगों को दूर करने में मदद करता हैं आइये इसके फायदों को विस्तार से जानते हैं-

अनंतासन योग के फायदे रक्त परिसंचरण में – Anantasana yoga for better circulation in Hindi

अनंतासन योग के फायदे रक्त परिसंचरण में - Anantasana yoga for better circulation in Hindi

पूरे शरीर में बेहतर रक्त परिसंचरण के लिए अनंतासन योग बहुत ही लाभदायक होता हैं। इस योग को करने के लिए आपको अपने पैर और हाथों को ऊपर उठाना होता हैं जिससे आपके नीचे पूरे शरीर में रक्त की अच्छा मात्रा पहुँचती है। यह श्रोणि क्षेत्र के विकास में भी मदद करता है।

(और पढ़े – ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने के घरेलू उपाय…)

विष्णु आसन पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए – Anantasana yoga for Strengthens the legs muscles in Hindi

विष्णु आसन पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए – Anantasana yoga for Strengthens the legs muscles in Hindi

अनंतासन योग पैरों, विशेष रूप से घुटना, टखनों, और जांघों में मांसपेशियों को टोन करता है। इसके अलावा इस योग से धड़ और पीठ के निचले हिस्से को मजबूत किया जाता है। इस अनंतासन योग का अभ्यास करने से कूल्हों, रीढ़ और छाती की मांसपेशियों को एक अच्छा खिंचाव मिलता है।

(और पढ़े – शरीर को ताकतवर बनाने के घरेलू उपाय और तरीके…)

पाचन तंत्र में लाभदायक अनंतासन योग – Anantasana yoga for digestive system in Hindi

पाचन तंत्र में लाभदायक अनंतासन योग - Anantasana yoga for digestive system in Hindi

अनंतासन योग हमारी पाचन क्रिया को मजबूत करता हैं और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता हैं। इस आसन के नियमित से अभ्यास पेट में बनाने वाली गैस से हमें छुटकारा मिलता हैं साथ ही यह अन्य पेट में होने वाली समस्या जैसे कब्ज, अपच, दस्त, पेट के ऐंठनdwqw`2 आदि के लिए आरामदायक होता हैं।

(और पढ़े – पाचन को मजबूत बनाने वाली एक्सरसाइज…)

अनंतासन योग के लाभ मजबूत रीढ़ में – Anantasana yoga for strong spinal cord in Hindi

अनंतासन योग के लाभ मजबूत रीढ़ में - Anantasana yoga for strong spinal cord in Hindi

रीढ़ को मजबूत करने अनंतासन योग बहुत ही लाभदायक आसन है। इस योग को करने से रीढ़ के साथ-साथ पैर की मांसपेशियाँ अधिक लचीली हो जाती हैं, हैमस्ट्रिंग भी खिंचती और मजबूत होती है। अनंतासन योग आपके धड़ के किनारों को फैलाता है और मजबूत करता है।

(और पढ़े – कमर दर्द दूर भगाने के लिए आजमाएं ये घरेलू नुस्खे और उपाय…)

जांघों को मजबूत करे अनंतासन योग – Jangho ko majbut kare Anantasana yoga in Hindi

जांघों को मजबूत करे अनंतासन योग - Jangho ko majbut kare Anantasana yoga in Hindi

अनंतासन योग आपके जांघों की मासपेशियों को मजबूत करने में लाभदायक होता हैं, यह आपके कुल्हें को मजबूत करता हैं, हैमस्ट्रिंग को फैलता हैं, यह कमर के दर्द को भी ठीक करता हैं। अनंतासन योग आप आपके कूल्हों और जांघों का वजन कम करता हैं।

(और पढ़े – जांघो को मोटा करने के उपाय और एक्सरसाइज…)

अनंतासन योग के लाभ रक्तचाप में – Anantasana yoga benefits for hypertension in Hindi

अनंतासन योग के लाभ रक्तचाप में - Anantasana yoga benefits for hypertension in Hindi

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए अनंतासन योग बहुत ही अच्छा माना जाता हैं। इसके अलावा यह योग गठिया रोग, कोलाइटिस (Colitis) और सायटिका को ठीक करने में मदद करता है। अनंतासन योग गर्भाशय, मूत्राशय, अंडाशय और प्रोस्टेट से संबंधित विकारों को ठीक करने में भी मदद करता है।

(और पढ़े – हाई बीपी के लिए योग करने का तरीका और फायदे…)

अनंतासन योग करने से पहले रखें यह सावधानी – Precautions to do Anantasana yoga in Hindi

अनंतासन योग करने से पहले रखें यह सावधानी - Precautions to do Anantasana yoga in Hindi

अनंतासन योग करने से पहले निम्न सावधानी अवश्य रखें-

  • अगर आपको गर्दन या कंधों में दर्द हो तो अनंतासन योग का अभ्यास करने से बचें।
  • यदि आपको स्पॉन्डिलाइटिस (spondylitis), स्लिप डिस्क या सायटिका की समस्या है तो आप इस योग आसन को ना करें।
  • जिन लोगों को रीढ़ की हड्डी या कमर से संबंधित कोई रोग है वो लोग अनंतासन योग ना करें।
  • अगर आप पेट की किसी समस्या से परेशान है या किसी अन्य गंभीर बीमारी से ग्रस्त है तो आप इस आसन को करने से बचें।
  • अनंतासन योग को आप किसी योग प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में ही करने का प्रयास करें।

(और पढ़े – साइटिका क्या है कारण, लक्षण, इलाज और बचाव…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration