वजन घटाने के लिए सबसे असरदार 6 योगासन – Yoga Breathing Techniques For Weight Loss in hindi

वजन घटाने के लिए सबसे असरदार 6 योगासन - Yoga Breathing Techniques For Weight Loss in hindi
Written by Shivam

Yoga for Weight Loss in hindi मोटापा लोगों के लिए किसी बोझ से कम नहीं होता अत्यधिक वजन वाले लोग मोटापे को बोझ की तरह हर जगह ढोते रहते हैं यदि आप अपने उन कपड़ों को पहनने के बारे में सोच रहे हैं जो कि अब आपको फिट नहीं होते और जो आपको सबसे ज्यादा पसंद थे तो आपको अपने मोटापे को कम करना आवश्यक हो जाता है वैसे तो मोटापे को कम करने के कई तरीके हैं जैसे कि जिम में जाकर मेहनत करना परंतु जब आप जिम में जाकर अत्यधिक मेहनत करते हैं तो आप की मांसपेशियों में ऐंठन के साथ-साथ शरीर में अत्यधिक दर्द भी होता है|

इससे बचने के लिए आप किसी विकल्प की तलाश में लग जाते हैं आज हम आपको एक ऐसा आसान तरीका बताने वाले हैं जिससे आप अपनी मांस पेशियों को दर्द दिए बिना ही अपना मोटापा कम कर पाएंगे यहां हम आपको वजन घटाने के लिए सबसे असरदार 6 योगासन के बारे में बताने वाले हैं जिन्हें आप प्रतिदिन करके अपनी अतिरिक्त वसा को नष्ट कर पाएंगे और अपने वजन को कम कर पाएंगे आइये जानते है वजन घटाने के लिए सबसे असरदार 6 योगासन के बारें में Yoga Breathing Techniques For Weight Loss in hindi

वजन घटाने के लिए योगासन – Yoga for Weight Loss in hindi

मुख्य स्वास्थ्य से संबंधित योग आपको महंगे बयान उपकरण और वजन घटाने के लिए की जाने वाली कसरत से मुक्ति दिलाता है जब भी आप गहरी सांस लेकर योग करते हैं तो आपके शरीर में ऑक्सीकरण लेवल बढ़ जाता है जिससे वजन को कम करने में मदद मिलती है आपके रक्त में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ने से चयापचय मैं वृद्धि होती है जिससे आपको अनजाने में वजन घटाने की ओर ले जाया जाता है इससे आपको चयापचय बढ़ता है और आप अपनी चर्बी को जल्दी जल्दी जला पते है

कुछ सांस लेने वाले योगासन आपके पेट की मालिश करने की तरह कार्य करते हैं जिसके परिणाम स्वरुप आपके शरीर में वसा तेजी से जल रही होती है आइए जानते हैं उन योगासन के बारे में जो हमें वजन कम करने में सहायक होते हैं

1.कपालभाती योगासन – Kapalbhati in hindi
2.अनुलोम विलोम योगासन – Anulom Vilom in hindi
3.भस्त्रिका योगासन – Bhastrika Pranayam in hindi
4.भ्रामारी योगासन – Bhramari Pranayama in hindi
5.सूर्य नमस्कार – Surya Namaskar (Sun Salutation) in hindi
6.अर्धमत्स्येन्द्रासन – Ardha Matsyendrasana in hindi

1. कपालभाती योगासन – Kapalbhati in hindi

कपालभाती योगासन - Kapalbhati in hindi

लाभ: कपालभाती वजन कम करने और मोटापे को नियंत्रित करने का एक असरदार तरीका है इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से आप अपने दिल के कामकाज, यकृत, अग्न्याशय, पेट और गुर्दे को बेहतर बना सकते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, इस प्राणायाम को जब हम जबरदस्त ताकत के साथ करते हैं तो शरीर में विषाक्त पदार्थों का 80% भाग बाहर निकल जाता है।

यह गहरी साँस लेने वाला व्यायाम है जो पेट की विकार, कब्ज, अपच, अम्लता का इलाज करता है प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, डायाफ्राम में लचीलापन लाता है और इसे मजबूत बनाता है, हर्नियास के विकास के जोखिम को कम करता है, रक्त परिसंचरण में सुधार लता है, स्तन कैंसर का इलाज, तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करता है, मन को शांत करता है और तनाव कम कर देता है|

कपालभाती करने का तरीका – How to do Kapalbhati in hindi

  1. कपालभाती करने के लिए अपने दोनों पैरों को जोड़कर फर्श पर बैठ जाएं
  2. अपनी गर्दन को सीधा रखते हुए अपने घुटनों पर अपनी हथेलियों को रखें
  3. और आंखें बंद कर ले
  4. अब धीरे-धीरे सांस लें और जल्दी जल्दी सांस को बाहर छोड़ते रहे
  5. जब आप सांस को बाहर छोड़ते हैं तो आपको लगेगा कि आपका पेट अंदर की तरफ जा रहा है
  6. इस प्रक्रिया को कम से कम 5 से 10 मिनट के लिए दोहराएं

कपालभाती के लिए सावधानियां – Precautions for Kapalbhati in hindi

रीढ़ की हड्डी के विकार, हृदय की समस्या और हर्निया से पीड़ित लोगों को कपलभाती का अभ्यास नहीं करना चाहिए जिन लोगों को उच्च रक्तचाप, स्ट्रोक और हृदय की समस्याएं हैं, उन्हें विशेषज्ञ मार्गदर्शन के तहत अभ्यास करना चाहिए या धीरे-धीरे 2 से 3 सेकंड में 1 साँस छोड़ना चाहिए। यदि किसी को श्वसन तंत्र विकार है तो उसे अभ्यास करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करने की आवश्यकता है। गर्भधारण के दौरान और मासिक धर्म या अवधि के दौरान महिलाओं को कपलाभाती का अभ्यास नहीं करना चाहिए|

2. अनुलोम विलोम योगासन – Anulom Vilom in hindi

लाभ: अनुलोम विलोम आपके पाचन तंत्र में सुधार करता है और कब्ज को ठीक करता है यह आपके हार्मोन संतुलन को बनाए रखता है और आपकी ऊर्जा को बढ़ाता है

अनसुम विलोम तनाव, अवसाद और चिंता को छोड़ने के लिए सबसे प्रभावी श्वास व्यायाम में से एक है। और यह प्राणायाम हमारे मन, शरीर, आत्मा को शुद्ध करने और शरीर की अधिकांश आंतरिक स्थितियों का इलाज करने में मदद करता है।अनोलॉम विलोम का नियमित अभ्यास दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम करता है और दिल की समस्याओं को ठीक करता है, बिना दवाओं के हृदय के धमनी रुकावट को हटाता है, मधुमेह नियंत्रण में रहता है।

इसके अलावा, यह आपके तीन दोष वात (हवा, हवा), पिटा (पित्त) और कफ (फ्लेम) में संतुलन बनाता है

अनुलोम विलोम करने का तरीका – How to do Anulom Vilom in hindi

  1. अनुलोम विलोम करने के लिए सबसे पहले कमल की स्थिति में बैठ जाएं
  2. अपने दाहिने अंगूठे के साथ अपनी दाई नाक को बंद करें और धीरे-धीरे अपने बाए नथुने के माध्यम से साँस को ले
  3. इसके बाद आप अपनी बाई नाक को अपनी अनुक्रमणिका आया मध्य की उंगली से बंद करें और दाई नाक से सांस को बाहर निकालें
  4. दूसरी बार इसी अभ्यास को ठीक इसके विपरीत दोहराएं और
  5. ऐसे प्रतिदिन 15 से 30 मिनट के लिए अभ्यास करें|

अनुलोम विलोम के लिए सावधानियां – Precautions for Anulom Vilom in hindi

प्राणायाम खाली पेट पर किया जाना चाहिए।धीरे धीरे शुरू करें और इस तरह से साँस लें कि हवा को फेफड़े में जाना चाहिए और पेट में नहीं जाना चाहिए।अपने भोजन के बाद तुरंत अभ्यास न करें और अपने भोजन और प्राणायाम अभ्यास के बीच 4 घंटे के अंतराल रखें। ताजा हवा में इस प्राणायाम का अभ्यास करें, ज़्यादा मत करें, इससे थकान हो सकती है यह प्राणायाम गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा है, लेकिन अधिक नहीं करना चाहिए|

3. भस्त्रिका योगासन – Bhastrika Pranayam in hindi

लाभ: भ्रस्तिका योगासन आपको ऊर्जा और शक्ति प्रदान करता है यह आपके मेटाबोलिज्म को मजबूत बनाता है जो कि आपके फैट को बर्न करने में हेल्प करता है और वसा को तेजी से जलाने का कार्य करता है

इस प्राणायाम का नियमित अभ्यास, हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को बढ़ावा देता है, हमारे मन और शरीर को ताज़ा करता है, स्मृति और एकाग्रता, रक्त परिसंचरण, फेफड़ों की समस्याओं, माइग्रेन, सिरदर्द, कब्ज, अस्थमा, हृदय समस्याओं, थायरॉयड, और तंत्रिका तंत्र को मजबूत करने में मदद करता है। और पढ़े – सिर दर्द दूर करने के घरेलू उपाय

Bhastrika प्राणायाम की सबसे अधिक मस्तिष्क रोग, पार्किंसंस, अवसाद, और पक्षाघात (Paralysis) के लिए सिफारिश की जाती है।

भ्रस्तिका योगासन करने का तरीका – How to do Bhastrika Pranayam in hindi

  1. भ्रस्तिका योगासन करने के लिए अपनी पीठ और गर्दन को सीधा रखते हुए बैठ जाएं अपने पेट की मांसपेशियों को आराम दें और अपनी आंखों को बंद कर ले
  2. इसके बाद अपने घुटनों पर अपनी हथेलियों को रखते हुए सांस लेने और सांस छोड़ने पर समान बल लगाते हुए सांस लेने से शुरू करे
  3. सांस लेते और सांस छोड़ने के लिए एक दूसरे की गति के साथ एक लय के बाद श्वास की गहराई और उसको लेने और छोड़ने की क्षमता में वृद्धि करें
  4. आपके फेफड़ों के नीचे पाया जाने वाला डायाफ्राम आपकी सांस लेने की गतिविधि के साथ फूलना और सिकुड़ना चाहिए
  5. इस प्रक्रिया को प्रतिदिन 5 से 10 मिनट के लिए दोहराएं

भ्रस्तिका योगासन के लिए सावधानियां – Precautions for Bhastrika Pranayam in hindi

सबसे पहले, Bhastrika प्राणायाम का केवल एक खाली पेट पर अभ्यास करना चाहिए। दूसरा,  हवा में श्वास को छाती में भरना चाहिए और पेट में नहीं जाना चाहिएतीसरा, ग्रीष्मकाल में इस आसन का अधिक अभ्यास न करें।

और अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण, हृदय रोगियों और उच्च रक्तचाप की समस्या वाले लोगों को धीरे-धीरे या विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में इसका अभ्यास करना चाहिए।

4. भ्रामारी योगासन – Bhramari Pranayama in hindi

लाभ: भ्रामारी आपके चयापचय में सुधार कर ऑक्सीजन के सेवन को बढ़ाता है और हमारे शरीर के हार्मोन के स्त्राव को संतुलित करता है जो हमें वजन कम करने में योगदान देते हैं

भ्रामरी प्राणायाम मन को शांत करने या गुस्सा को तुरंत छोड़ने, तनाव और अवसाद को कम करने, नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करने और सकारात्मक ऊर्जा देता है,

मन को शांत करता है और शरीर को शांत रखता है, हताशा और क्रोध को तुरन्त शांत करता है, उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है, दिल का रुकावट, साइनस की समस्या का इलाज करने में मदद करता है और एकाग्रता में सुधार करता है।

भ्रामारी करने का तरीका – How to do Bhramari Pranayama in hindi

  1. भ्रामारी करने के लिए शांतिपूर्ण जगह पर वज्रासन या पद्मासन में बैठ जाएं
  2. अपनी रीढ़ की हड्डी और अपने कंधों को सीधा रखते हुए अपनी हथेलियों को खोलें और अपने अंगूठे से अपने कान को बंद करें
  3. अपनी सूचक उंगलियों को माथे पर रखें उंगलियां आपकी भौहों के ऊपर और नीचे होनी चाहिए
  4. एक लंबी सांस लें और धीरे-धीरे सांस छोड़े सांस छोड़ते समय आपका मुंह बंद रखें जब आप सांस छोड़ दें तो थोड़ा गुनगुना ध्वनि उत्पन्न करें
  5. अपनी उंगलियों को ध्वनि के कंपन के साथ महसूस करना चाहिए
  6. इसके बाद उंगलियों को अपने चेहरे से धीरे-धीरे हटा लें और घुटने के बल आराम करें इस प्रकार आप का एक चरण पूरा हो जाता है
  7. यह प्रक्रिया 5 से 10 बार दोहराएं

भ्रामारी योगासन के लिए सावधानियां – Precautions for Bhramari Pranayama in hindi

हृदय रोगी को इस प्राणायाम को धीरे-धीरे अभ्यास करना चाहिए और लंबे समय तक अपनी सांस नहीं रोकनी चाहिए।

माइग्रेन या सिर ट्यूमर से पीड़ित लोगों को भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास नहीं करना चाहिए। और अगर आप किसी भी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हैं, तो हमेशा डॉक्टर से परामर्श करें

5. सूर्य नमस्कार – Surya Namaskar (Sun Salutation) in hindi

लाभ: वजन घटाने के लिए सूर्य नमस्कार एक महान योगासन है जो सांस लेने के अध्ययन के साथ सेट के रूप में किया जाता है

सूर्य नमस्कार करने का तरीका – How to do Surya Namaskar in hindi

सूर्य नमस्कार में 12 आसन होते हैं इस में से प्रत्येक आसन एक निश्चित  श्वास के साथ किया जाता है जोकि एकाग्रता और सटीकता के साथ होता है जिससे आपके पूरे शरीर को वजन घटाने मैं मदद मिलती है

(और पढ़े – सूर्य नमस्कार करने का तरीका और फायदे)

6. अर्धमत्स्येन्द्रासन – Ardha Matsyendrasana in hindi

लाभ: अर्धमत्स्येन्द्रासन में बैठना आपके पेट और पीठ के लिए अच्छा माना जाता है छाती को फ़ैलाने से फेफड़ो को ऑक्सीजन ठीक मात्रा में मिलती है|

रीढ़ की हड्डी को मजबूती मिलती है। मेरुदंड का लचीलापन बढ़ता है।

अर्धमत्स्येन्द्रासन करने का तरीका – How to do Ardha Matsyendrasana in hindi

  1. पैरों को सामने की ओर फैलाते हुए बैठ जाएँ, दोनों पैरों को साथ में रखें,रीढ़ की हड्डी सीधी रहे।
  2. बाएँ पैर को मोड़ें और बाएँ पैर की एड़ी को दाहिने कूल्हे के पास रखें (या आप बाएँ पैर को सीधा भी रख सकते हैं)|
  3. दाहिने पैर को बाएँ घुटने के ऊपर से सामने रखें।
  4. बाएँ हाथ को दाहिने घुटने पर रखें और दाहिना हाथ पीछे रखें।
  5. कमर, कन्धों व् गर्दन को दाहिनी तरफ से मोड़ते हुए दाहिने कंधे के ऊपर से देखें।
  6. रीढ़ की हड्डी सीधी रहे।
  7. इसी अवस्था को बनाए रखें ,लंबी , गहरी साधारण साँस लेते रहें।
  8. साँस छोड़ते हुए, पहले दाहिने हाथ को ढीला छोड़े,फिर कमर,फिर छाती और अंत में गर्दन को। आराम से सीधे बैठ जाएँ।
  9. दूसरी तरफ से प्रक्रिया को दोहराएँ।
  10. साँस छोड़ते हुए सामने की ओर वापस आ जाएँ|

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration