जानिए, क्यों फड़कती हैं आंखें और क्या है इसका इलाज – Eye Twitching Causes And Home Treatment In Hindi

जानिए, क्यों फड़कती हैं आंखें और क्या है इसका इलाज - Eye Twitching Causes And Home Treatment In Hindi
Written by Anamika

Aankh ka fadakna in Hindi आमतौर पर हम सभी की आंखें फड़कती हैं और कुछ देर बाद अपने आप बंद भी हो जाती हैं। लेकिन कुछ लोग आंखों के फड़कने को शुभ और अशुभ संकेतों से जोड़कर देखते हैं। वास्तव में अच्छे या बुरे संकेतों के कारण नहीं बल्कि तंत्रिका संबंधी विकारों के कारण आंखें फड़कती हैं। यह एक ऐसी समस्या है जिसके बारे में लोगों को बहुत कम जानकारी है। इसलिए इस लेख में हम आपको आंख फड़कने के कारण, इसका घरेलू इलाज और बचाव के बारे में बताने जा रहे हैं।

1. आंखों का फड़कना क्या है – What is Eye Twitching in Hindi
2. आंखों के फड़कने का कारण – Causes of Eyelid Twitching in Hindi
3. आंख फड़कने का घरेलू इलाज – Home Remedies for Eye Twitching in Hindi

4. आंख फड़कने से कैसे बचें – Prevention of Eye Twitching in Hindi

आंखों का फड़कना क्या है – What is Eye Twitching in Hindi

आंखों का फड़कना क्या है - What is Eye Twitching in Hindi

आंख और पलकों का फड़कना बिल्कुल आम समस्या है जिसे डॉक्टरों की भाषा में म्योकिमिया (myokymia) कहा जाता है। यह आमतौर पर एक आंख के निचली पलक या निचले हिस्से को प्रभावित करता है लेकिन इसके कारण पलक और आंख का ऊपरी हिस्सा भी फड़कता है। ज्यादातर आंख फड़कने की समस्याएं शुरू होकर खत्म भी हो जाती हैं लेकिन कुछ मामलों में एक सप्ताह से लेकर महीनों तक व्यक्ति की आंखें फड़क सकती है। हालांकि आंखों के फड़कने से व्यक्ति के स्वास्थ्य को किसी तरह की हानि नहीं होती है लेकिन यदि यह समस्या लंबे समय तक बनी रही तो यह गंभीर तंत्रिका संबंधी समस्याओं (neurological condition) का संकेत हो सकती है।

(और पढ़े – क्या आँखों की इन बीमारियों को जानते हैं आप…)

आंखों के फड़कने का कारण – Causes of Eyelid Twitching in Hindi

आंखों के फड़कने का कारण - Causes of Eyelid Twitching in Hindi

आमतौर पर आंखों के फड़कने से व्यक्ति को किसी तरह का दर्द या नुकसान नहीं होता है लेकिन लंबे समय तक यह समस्या बनी रहने कुछ परेशानी और चिड़चिड़ापन जरूर होता है। कई बार आंखों का फड़कना अपने आप बंद हो जाता है जबकि कभी-कभी यह कई दिनों तक लगातार होता है। आइये जानते हैं आंखों के फड़कने का कारण क्या होता है।

तनाव के कारण आंखों का फड़कना

विशेषज्ञों का मानना है कि अधिक तनाव लेना आंख फड़कने का एक कारण है। काम और जिम्मेदारियों के बोझ, कैरियर में असफलता सहित विभिन्न कारणों से लोग तनाव और अवसाद में जीते हैं जिसके कारण आंख फड़कती है।

(और पढ़े – मानसिक तनाव दूर करने के घरेलू उपाय…)

थकान के कारण आंखों का फड़कना

लंबे समय तक अनिद्रा की समस्या से ग्रसित होना, सही तरीके से नींद न आना और बहुत ज्यादा सोचने के कारण भी आंखों की पलकें फड़कती हैं।

(और पढ़े – आंखों की थकान दूर करने के घरेलू उपाय…)

आँख फड़कने का वैज्ञानिक कारण हो सकता है तनाव

कंप्यूटर, टैबलेट और स्मार्टफोन सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और डिजिटल डिवाइस के अधिक इस्तेमाल के कारण आंखों में अधिक तनाव उत्पन्न होता है जिसके कारण आंख फड़कती है।

कैफीन के सेवन से फड़क सकती हैं आँखें

कैफीन के सेवन से फड़क सकती हैं आँखें

जो लोग आवश्यकता से अधिक कैफीन का सेवन करते हैं उनकी आंखें फड़कती हैं, क्योंकि कैफीन में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो आंखों में तनाव पैदा करते हैं जिसके कारण आंखें फड़कती हैं।

(और पढ़े – कैफीन के फायदे, नुकसान और उपयोग…)

आंखों के फड़कने का कारण हो सकती है एल्कोहल

अगर आप बीयर, वाइन या अन्य नशीले पेय पदार्थों और एल्कोहल का सेवन करते हैं तो आपकी आंखें फड़क सकती हैं।

आंखें शुष्क होने के कारण आंखों का फड़कना

आमतौर पर 50 साल की उम्र के बाद आंखें शुष्क (dry) होने लगती हैं। जिसके कारण आंखों का ऊपरी भाग और पलकें फड़कने लगती हैं। इसके अलावा अर्थराइटिस और डिप्रेशन की दवाओं का सेवन करने, लेंस लगवाने के कारण भी आंखें शुष्क हो जाती हैं जिसके कारण भविष्य में आंखें फड़कने की संभावना बढ़ जाती है।

(और पढ़े – आंखों में सूखापन के कारण लक्षण और घरेलू उपाय…)

पोषक तत्वों की कमी के कारण आंखों का फड़कना

कुछ रिपोर्टों से पता चला है कि शरीर में मैग्नीशियम सहित अन्य पोषक तत्वों की कमी के कारण आंखें फड़कती हैं। स्वस्थ आंखों के लिए पर्याप्त पोषण आवश्यक होता है। इनकी कमी होने पर पलकें फड़कने लगती हैं।

आंख फड़कने का कारण एलर्जी होना

आंख फड़कने का कारण एलर्जी होना

आंखों में खुजली, पानी आना और सूजन के कारण भी आंखें फड़कती हैं। जब हम आंखों को मलते हैं तो पुतलियों के ऊत्तकों से हिस्टामिन स्रावित होता है जिसके कारण आंखों में एलर्जी हो जाती है और आंखें फड़कने लगती हैं।

(और पढ़े – आंखों की एलर्जी दूर करने के घरेलू उपाय…)

आंख फड़कने का घरेलू इलाज – Home Remedies for Eye Twitching in Hindi

  1. आलू आंख फड़कने का घरेलू उपाय – Potato for Eye Twitching in Hindi
  2. आंख फड़कने पर आंखों की मसाज करें – Eye Massage for Eye Twitching in Hindi
  3. खीरा से करें आंख फड़कने का घरेलू उपचार – Khira aankh fadakne ka gharelu upchar in Hindi
  4. केला आंख फड़कने का इलाज इन हिंदी – Banana aankh phadakna ka ilaj in Hindi
  5. आंख फड़कने पर हाइड्रोथेरेपी तकनीक अपनाएं – Hydrotherapy Technique for Eye Twitching in Hindi
  6. गुलाब जल आंख फड़कने का इलाज – Rose water for Eye Twitching in Hindi
  7. आंख फड़कने पर पलकें तेजी से झपकाएं – Fast Blinking for Eye Twitching in Hindi

चूंकि आंख का फड़कना कोई गंभीर समस्या नहीं है इसलिए इसके इलाज के लिए डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। इन घरेलू उपायों से आप आंखों के फड़कने का इलाज कर सकते हैं।

आलू आंख फड़कने का घरेलू उपाय – Potato for Eye Twitching in Hindi

आलू आंख फड़कने का घरेलू उपाय - Potato for Eye Twitching in Hindi

आलू का शीतल प्रभाव (cooling effect) आंखों की मांसपेशियों को राहत पहुंचाता है जिसके कारण आंख फड़कना रूक जाता है। इसलिए आंख फड़कने पर आलू के गोल टुकड़े को काटकर आंखों के ऊपर कुछ देर तक रखे रहें। कुछ ही देर में आंखों का फड़कना बंद हो जाएगा।

(और पढ़े – आलू के फायदे और नुकसान…)

आंख फड़कने पर आंखों की मसाज करें – Eye Massage for Eye Twitching in Hindi

आंखों के आसपास के क्षेत्र पर उंगली से मसाज करने पर आंखों की मांपेशियां मजबूत होती हैं और ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है। आंख फड़कने पर दिन में कम से कम पांच से छह बार 30 सेकेंड तक आंखों का मसाज करें। इस समस्या से तुरंत छुटकारा मिल जाएगा।

(और पढ़े – आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय…)

खीरा से करें आंख फड़कने का घरेलू उपचार – Khira aankh fadakne ka gharelu upchar in Hindi

खीरा से करें आंख फड़कने का घरेलू उपचार - Khira aankh fadakne ka gharelu upchar in Hindi

अक्सर हम चेहरे पर फेस पैक लगाते समय आंखों पर खीरे का टुकड़ा रखते हैं। यह आंखों को राहत प्रदान करने के लिए रखा जाता है। खीरे में एंटी इंफ्लैमेटरी गुण पाया जाता है जो तंत्रिका मांसपेशियों को शांत रखता है। आंख फड़कने पर प्रभावित हिस्से पर ठंडे खीरे का पतला टुकड़ा रखें और आंखें बंद करके लेट जाएं। थोड़ी ही देर में आंखों का फड़कना बंद हो जाएगा।

(और पढ़े – खीरा के फायदे गुण लाभ और नुकसान…)

केला आंख फड़कने का इलाज इन हिंदी – Banana aankh phadakna ka ilaj in Hindi

केला आंख फड़कने का इलाज इन हिंदी - Banana aankh phadakna ka ilaj in Hindi

शरीर में पोटैशियम की कमी आंखों के फड़कने का एक बड़ा कारण होता है। केले में पर्याप्त मात्रा में पोटैशियम होता है जो आंखों के फड़कने का एक बेहद इलाज माना जाता है। नियमित दो केला खाने से किसी भी उम्र में आंखें नहीं फड़कती हैं।

(और पढ़े – रोज सुबह केला और गर्म पानी के सेवन के फायदे जानकर दंग रह जाएगे आप…)

आंख फड़कने पर हाइड्रोथेरेपी तकनीक अपनाएं – Hydrotherapy Technique for Eye Twitching in Hindi

हल्के गुनगुने पानी से आंखों के ऊपर छींटे मारने से आंख के ऊत्तकों को राहत मिलती है जिसके कारण आंखों का फड़कना बंद हो जाता है। जब भी आपकी आंखें फड़कें तो यह उपाय जरूर आजमाएं।

(और पढ़े – आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योग…)

गुलाब जल आंख फड़कने का इलाज – Rose water for Eye Twitching in Hindi

गुलाब जल आंख फड़कने का इलाज - Rose water for Eye Twitching in Hindi

माना जाता है कि गुलाब जल आंखों के लिए क्लिंजर (सफाई करने) का काम करता है जिससे आंखों का फड़कना बंद हो जाता है। गुलाबजल को कुछ देर तक फ्रिज में रखें इसके बाद एक कॉटन को गुलाब जल में डुबाएं और थकी हुई आंखों के ऊपर कॉटन को दबाकर कुछ देर तक छोड़ दें। कुछ देर बाद कॉटन हटा लें और आराम से आंखें खोलें। आंखों का फड़कना बंद हो जाएगा।

(और पढ़े – खूबसूरती में चार चाँद लगा देता है गुलाब जल, जानिए कैसे…)

आंख फड़कने पर पलकें तेजी से झपकाएं – Fast Blinking for Eye Twitching in Hindi

तेजी से आंखें झपकाने का अभ्यास करने से सिर्फ आंखों की गंदगी ही बाहर नहीं निकलती बल्कि आंखों में नमी भी बनी रहती है जिससे मांसपेशियों को राहत मिलती है। आंखें फड़कने पर आंखों को तेजी से खोलें और बंद करें या पलकों को तेजी से 20 सेकेंड तक झपकाएं। आंखों का फड़कना बंद हो जाएगा।

आंख फड़कने से कैसे बचें – Prevention of Eye Twitching in Hindi

आंख फड़कने से कैसे बचें - Prevention of Eye Twitching in Hindi

  • कैफीन, तंबाकू और एल्कोहल का सेवन कम करें और तनाव कम लें। इससे आंख फड़कने की समस्या नहीं होगी।
  • प्रतिदिन कम से कम आठ घंटे की नींद लें और नियमित आठ से दस गिलास पानी पीएं
  • कंप्यूटर स्क्रीन पर देर तक काम करने के लिए आंखों पर चश्मा लगाएं और बीच बीच में अंतराल लेते रहें और आंखों को झपकाते रहें।
  • प्रत्येक एक घंटे पर आंखों को ठंडे पानी से धोते रहें।
  • आंखों में चिकनाई बने रहने के लिए आईड्राप्स (eye drops) डालें।
  • आंखों को अधिक देर तक खुजलाएं या मसलें नहीं।
  • कम से कम तनाव लें और सिर दर्द एवं डिप्रेशन से बचें।
  • पोषक तत्वों से युक्त भोजन करें और आंखों के लिए फायदेमंद फल और सब्जियां खाएं।

(और पढ़े – आँखों को स्वस्थ रखने के लिए 10 सबसे अच्छे खाद्य पदार्थ…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration