व्हे प्रोटीन के फायदे और नुकसान – whey protein benefits and side effects in hindi

व्हे प्रोटीन के फायदे और नुकसान - whey protein benefits and side effects in hindi
Written by Anamika

Whey Protein in Hindi व्हे प्रोटीन कई तरह के प्रोटीनों का मिश्रण होता है। यह दूध का तरल हिस्सा होता है जिसे पनीर बनाते समय अलग कर दिया जाता है। वास्तव में दूध में दो तरह के मुख्य प्रोटीन होते हैं- केसिन प्रोटीन (casein protein) और व्हे प्रोटीन (whey protein) । इसमें केसिन प्रोटीन की मात्रा 80 प्रतिशत होती है जबकि व्हे प्रोटीन सिर्फ 20 प्रतिशत होता है। आज हम आपको व्हे प्रोटीन के फायदे और व्हे प्रोटीन के नुकसान के बारें में बताएँगे। व्हे प्रोटीन का सेवन करने से पहले उसके बारे में जानना बहुत जरुरी होता है

पनीर बनाते समय दूध का अधिक वसा युक्त हिस्सा जम जाता है जिससे पनीर (cheese) निकाला जाता है जबकि व्हे अपने आप इससे बाइ-प्रोडक्ट के रूप में अलग हो जाता है। दही से भरे बर्तन में आपने देखा होगा कि दही के ऊपर पानी जैसा तरल पदार्थ दिखता है उसी को व्हे कहते हैं।

व्हे प्रोटीन के फायदे – whey protein health benefits in Hindi

व्हे प्रोटीन के फायदे - whey protein health benefits in Hindi

Whey Protein व्हे प्रोटीन स्वाद में बहुत अच्छा नहीं होता है। लेकिन इसके कुछ फ्लेवर स्वादिष्ट होते हैं। 25 से 50 ग्राम व्हे प्रोटीन नियमित लेना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। बॉडीबिल्डर और जिम करने वाले लोगों के लिए इसका सेवन बहुत जरूरी होता है।

(और पढ़े – सिक्स पैक एब्स बनाने के लिए क्या करें और क्या ना करें)

टाइप-2 मधुमेह रोगियों के लिए व्हे प्रोटीन – Whey Protein for Type 2 Diabetes in Hindi

टाइप-2 मधुमेह रोगियों के लिए व्हे प्रोटीन - Whey Protein for Type 2 Diabetes in Hindi

इंसुलिन की कमी और रक्त शर्करा उच्च होने के कारण टाइप-2 डायबिटीज हो जाता है। व्हे प्रोटीन  रक्त शर्करा को कम करने और इंसुलिन को बढ़ाने में मदद करता है। इसलिए व्हे प्रोटीन को टाइप-2 डायबिटीज के रोगियों के लिए अच्छा माना जाता है। व्हे प्रोटीन अंडे और मछली की अपेक्षा अधिक फायदेमंद होता है। व्हे प्रोटीन के फायदों को डायबिटीज की दवाओं में भी उपयोग किया जाता है। उच्च कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन लेने से पहले व्हे प्रोटीन का सेवन मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद है।

कैंसररोधी गुण के कारण व्हे प्रोटीन है फायदेमंद – Anti-cancer properties in Whey Protein in Hindi

व्हे प्रोटीन कैंसर के इलाज में भी बहुत फायदेमंद पाया गया है। कैंसर से पीड़ित व्यक्ति को व्हे प्रोटीन नियमित देने से उसे अपनी बीमारी में राहत महसूस होती है। व्हे प्रोटीन में कैंसर रोधी गुण (Anti-cancer properties) होते हैं जिसकी वजह से डॉक्टर कैंसर के रोगियों को व्हे प्रोटीन लेने की सलाह देते हैं।

(और पढ़े – कैंसर क्या है कारण लक्षण और बचाव के उपाय)

सूजन करने में फायदेमंद है व्हे प्रोटीन – Whey Protein benefits Reduce Inflammation in Hindi

शरीर के किसी हिस्से के क्षतिग्रस्त हो जाने से शरीर में सूजन हो जाता है। अगर यह लगातार बनी रहे तो हानिकारक हो सकती है। व्हे प्रोटीन की उच्च खुराक लेने से यह सी-रिएक्टिव प्रोटीन (CRP)के ब्लड लेवल को  कम करता है और सूजन को कम करने में मदद करता है।

उच्च रक्तचाप कम करने में व्हे प्रोटीन के फायदे Whey Protein good for Lower Blood Pressure in Hindi

उच्च रक्तचाप  हृदय रोगों का सबसे बड़ा कारण होता है। स्टडी में पाया गया है कि डेयरी के उत्पाद खाने से ब्लड प्रेशर बढ़ने की समस्या नहीं होती है। व्हे प्रोटीन ब्लड प्रेशर को कम करने में बहुत ही फायदेमंद होता है। एक स्टडी में पाया गया है कि 6 हफ्ते तक कम से कम 22 ग्राम प्रतिदिन व्हे प्रोटीन का सेवन करने से ब्लड प्रेशर से जुड़ी बीमारी ठीक हो जाती है। व्हे प्रोटीन में बायो एक्टिव पेप्टाइड होता है जिसे लैक्टोकाइनिन्स कहते हैं और यह उच्च रक्तचाप घटाने के लिए दवा का काम करता है।

(और पढ़े – हाई बीपी (उच्च रक्तचाप) लक्षण, कारण और बचाव के उपाय)

अस्थमा के इलाज में व्हे प्रोटीन के फायदे – using whey protein to cure Asthma in Hindi

व्हे प्रोटीन बच्चों के इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है और बच्चों में अस्थमा जैसी बीमारियों को दूर करने में फायदेमंद होता है। अस्थमा से पीड़ित 11 बच्चों पर एक स्टडी की गई और उन्हें 10 ग्राम व्हे प्रोटीन एक महीने तक दिन में दो बार दिया गया। इसका परिणाम यह हुआ कि उनका इम्यून सिस्टम पहले से अधिक बेहतर हो गया और बच्चों में अस्थमा के लक्षण भी दूर होने लगे।

व्हे प्रोटीन के फायदे वजन घटाने के लिए – Whey Protein for Weight Lose in Hindi

अधिक प्रोटीन लेने से वजन घटाने में यह बहुत प्रभावी तरीके से काम करता है और यह अन्य तरह की प्रोटीनों की अपेक्षा अधिक लाभदायक होता है। व्हे प्रोटीन का सेवन करने से शरीर की कैलोरी तेजी से घटती है (whey protein for low calori) जिसकी वजह से व्यक्ति का वजन भी कम होने लगता है। अगर आप अपने मोटापे से परेशान हैं तो आपको व्हे प्रोटीन का सेवन तुरंत शुरू कर देना चाहिए।

(और पढ़े – क्या हैं प्रोटीन पाउडर के फायदे)

व्हे प्रोटीन के फायदे मांसपेसियों की वृद्धि के लिए – Whey Protein Promotes Muscle Growth in Hindi

उम्र के साथ मांसपेशियां भी कमजोर होने लगती हैं। इसकी वजह से कई गंभीर बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं। ऐसी स्थिति में  उच्च मात्रा में शरीर को प्रोटीन की जरूरत पड़ती है। व्हे प्रोटीन में ल्यूसिन नामक एमीनो एसिड होता है जो इस तरह की समस्या को दूर करता है। व्हे प्रोटीन मांसपेशियों की वृद्धि और उनके बेहतर रखरखाव के लिए बहुत ही फायदेमंद है। वर्क आउट और ट्रेनिंग के बाद ज्यातातर लोग व्हे प्रोटीन का सेवन करते हैं।

(और पढ़े – जल्दी वजन बढ़ाने के घरेलू उपाय और मोटा होने के तरीके)

व्हे प्रोटीन के नुकसान – Whey Protein Side Effects in Hindi

व्हे प्रोटीन के नुकसान से हो सकती है किडनी में स्टोन– अधिक मात्रा में व्हे प्रोटीन का सेवन करने से किडनी में स्टोन होने की संभावना बनी रहती है। अगर आप पहले से ही इस बीमारी से पीड़ित हों तो व्हे प्रोटीन (whey protein) इस बीमारी को अधिक गंभीर कर सकता है।

पाचन में दिक्कत है व्हे प्रोटीन के नुकसान – व्हे प्रोटीन में अधिक मात्रा में लैक्टोज होता है, अगर आपका पाचन तंत्र गड़बड़ है और आसानी से लैक्टोज को पचा नहीं पाता है तो व्हे प्रोटीन का सेवन करने से पाचन से जुड़ी समस्या हो सकती है।

व्हे प्रोटीन के नुकसान से लीवर में परेशानी होना – अधिक मात्रा और दिन में कई बार व्हे प्रोटीन का सेवन करने से लीवर की समस्या भी हो सकती है।

ऑस्टियोपोरोसिस होना है व्हे प्रोटीन के नुकसान – लंबे समय तक व्हे प्रोटीन का सेवन करने से हड्डियों में मिनरल का संतुलन गड़बड़ हो जाता है जिसकी वजह से आपको ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या हो सकती है।

व्हे प्रोटीन के नुकसान से थकान और कमजोरी होना – अधिक मात्रा में व्हे प्रोटीन का सेवन करने से इसे सही तरीके से पचने में कठिनाई होती है जिसकी वजह से कमजोरी और थकान महसूस होने लगती है औऱ पेट में ऐंठन, सूजन (bloating), गैस और मरोड़ की परेशानी भी होने लगती है।

डायरिया और जी मिचलाना है व्हे प्रोटीन के नुकसान – व्हे प्रोटीन अधिक लेने से बच्चों को इसे पचाने में परेशानी होती है जिसकी वजह से मल में खून आने लगता है। इसके अलावा व्हे प्रोटीन अधिक लेने से जी मिचलाने और उल्टी की भी समस्या हो सकती है।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration