सिद्धासन योग करने का तरीका और फायदे - Siddhasana (Accomplished Pose) Steps and Benefits in Hindi
योग

सिद्धासन योग करने का तरीका और फायदे – Siddhasana (Accomplished Pose) Steps and Benefits in Hindi

सिद्धासन करने का तरीका और फायदे - Siddhasana (Accomplished Pose) Steps and Benefits in Hindi

Siddhasana yoga in Hindi सिद्धासन योग करने के फायदे मानव स्‍वास्‍थ्य के लिए बहुत अधिक हैं। सिद्धासन या पूर्ण मुद्रा, ध्यान के लिए उपयुक्त एक आसन है। जब महिलाओं द्वारा इसे किया जाता है तो इसे सिद्ध योनी आसन भी कहा जाता है सिद्धासन सबसे लोकप्रिय ध्यान मुद्राओं में से एक है। योग में कुछ ऐसे आसन भी है जो देखने में और करने में बहुत सरल हैं पर वास्तव में वह बहुत ही शक्तिशाली हैं। इसे अंग्रेजी में Accomplished Pose के नाम से जाना जाता हैं जिसका अर्थ ‘पूरा किया’ है। सिद्धासन बिगिनर के लिए एक बहुत ही अच्छा आसन हैं क्योंकि यह आसन करने में बहुत ही आसान है और इसे आसानी से किया जा सकता हैं, सिद्धासन योग करने के लिए अधिक सावधानी रखने की आवश्यकता नहीं होती हैं। ध्यान करने के लिए सिद्धासन एक बहुत ही अच्छा आसन हैं।

यह आसन स्मरण शक्ति बढ़ाने और पुरुषों में यौन रोगों दूर करने में मदद करता हैं। आइये सिद्धासन योग करने की विधि और उससे होने वाले लाभों को विस्तार से जानते हैं।

विषय सूची

1. सिद्धासन क्या है – What is Siddhasana (Accomplished Pose) in Hindi
2. सिद्धासन करने से पहले यह आसन करें –  Siddhasana (Accomplished Pose) karne se pahle yah aasan karen in Hindi
3. सिद्धासन योग आसन करने का तरीका – Steps to do Siddhasana (Accomplished Pose) in Hindi
4. सिद्धासन योग करने के लाभ – Siddhasana Benefits (Accomplished Pose)  in Hindi

5. सिद्धासन करने से पहले यह सावधानियां रखें – Precautions to do Siddhasana in Hindi

सिद्धासन क्या है – What is Siddhasana (Accomplished Pose) in Hindi

सिद्धासन क्या है – What is Siddhasana (Accomplished Pose) in Hindi

ऐसा माना जाता है कि यह आसन सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाला है। सिद्धासन एक संस्कृत भाषा का शब्द है जो दो शब्दों से मिलके बना है जिसमे पहला शब्द “सिद्ध” जिसका अर्थ “परिपूर्ण या कुशल” है और दूसरा शब्द “आसन” जिसका अर्थ “मुद्रा या स्थिति” हैं। इस आसन को अंग्रेजी में “परफेक्ट पॉज़” (Perfect Pose), “एडप्ट्स पोज़”( Adept’s Pose) के नाम से भी जाना जाता है। एक योग पुस्तिका, हठ योग प्रदीपिका के अनुसार, सिद्धसन सभी योग पदों में सबसे प्रतिष्ठित है। सिद्धासन आपके दिमाग, शरीर और आत्मा को लाभ प्रदान करता है। हठ योग प्रदीपिका के अनुसार, सिद्धासन आपके शरीर में 72,000 नाड़ियों और ऊर्जा के प्रवेश द्वार को शुद्ध करता हैं। ध्यानकर्ता (Meditators) के अनुसार ध्यान लगाने के लिए सिद्धासन, पद्मासन के बाद दूसरा सबसे अच्छा आसन है।

यह आसन हमारे स्वस्थ के लिए अनेक प्रकार से लाभदायक है। आइये सिद्धासन योग मुद्रा को करने की विधि को विस्तार से जानते है।

(और पढ़ें – दिमाग तेज करने के लिए योग)

सिद्धासन योग करने से पहले यह आसन करें –  Siddhasana (Accomplished Pose) karne se pahle yah aasan karen in Hindi

सिद्धासन करने से पहले यह आसन करें -  Siddhasana (Accomplished Pose) karne se pahle yah aasan karen in Hindi

सिद्धासन करने से पहले आप नीचे दिए गए कुछ आसन को करें जिससे आपको सिद्धासन करने में आसानी होगी-

सिद्धासन योग आसन करने का तरीका – Steps to do Siddhasana (Accomplished Pose) in Hindi

सिद्धासन योग आसन हमारे लिए अनेक प्रकार से लाभदायक हैं, इस आसन के लाभ जानने के बाद प्रत्येक व्यक्ति इस आसन को करना चाहता हैं। नीचे कुछ स्टेप्स दी जा रही हैं जिसकी मदद से आप इस योग आसन को आसानी से कर सकते हैं-

  • सिद्धासन करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को फर्श पर बिछा के पैर को सामने की ओर सीधा करके बैठ जाएं।
  • इस आसन को करने के लिए आप दण्डासन मुद्रा में भी बैठ सकते हैं।
  • अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और साँस को सामान्य रखें।
  • अब अपने बाएं पैर को घुटने के यहाँ से मुड़ें और एड़ी को अपनी गुदा से सटाकर रख लें।
  • इसके बाद अपने दायं पैर को भी घुटने के यहाँ से मोड़ें और बाएं पैर की पिंडली के ऊपर रख लें, इसमें आपके बाएं पैर की उंगलियां दायं पैर की जांघ और पिंडली के बीच में रहेंगी।
  • इसी प्रकार दाएं पैर की उंगलियां भी बाएं पैर की जांघ और पिंडली के बीच रहेंगी।
  • बाएं पैर को इस प्रकार रखें की इस मुद्रा में बैठने पर आपकी गुदा पर दबाव बनना चाहिए।
  • दाएं पैर की एड़ी को इस प्रकार रखे कि वो आपके गुदा और अण्डकोष के मध्य में रहें।
  • अब अपने दोनों हाथों के सीधा करके दोनों घुटनों पर रख लें और ध्यान की मुद्रा में बैठे।
  • अपने शरीर को आराम की स्थिति में रखें और आँखों को बंद करके ध्यान करें।
  • इस आसन को आप कम से कम 5 से 10 मिनिट तक करें।
  • अंत में अपने पैर को खोल के अपनी प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।

(और पढ़ें – दंडासन करने का तरीका और फायदे)

सिद्धासन योग करने के लाभ – Siddhasana Benefits (Accomplished Pose)  in Hindi

सिद्धासन एक बहुत ही आसन योग है पर इसके लाभ अनेक हैं आइये इस योगासन को करने के लाभों को विस्तार से जानते हैं-

ध्यान करने में फायदेमंद सिद्धासन – Siddhasana (Accomplished Pose) Benefits for meditation in Hindi

ध्यान करने में फायदेमंद सिद्धासन – Siddhasana (Accomplished Pose) Benefits for meditation in Hindi

ध्यान करने के लिए सिद्धासन एक बहुत ही अच्छा योग आसन है। पद्मासन मुद्रा के बाद ध्यान करने के लिए सिद्धासन दूसरा सबसे अच्छा आसन माना जाता हैं। प्रत्येक व्यक्ति जो इस आसन को करना चाहता हैं वह इसे लंबी अवधि तक आसानी से कर सकता है। जिन लोगों को ध्यान करने के लिए पद्मासन करने में कठिनाई होती है वह लोग इस आसन को कर सकते हैं।

(और पढ़ें – ध्यान योग के फायदे और करने का तरीका )

सिद्धासन के फायदे यौन ऊर्जा को स्थिर रखने में – Siddhasana Benefits for Stabilizes sexual energy in Hindi

सिद्धासन के फायदे यौन ऊर्जा को स्थिर रखने में – Siddhasana Benefits for Stabilizes sexual energy in Hindi

सिद्धासन करने के लिए अपने नीचे के पैर की एड़ी को अपनी गुदा से सटाकर रखना पड़ता हैं जिससे मूलाधार चक्र पर दबाव पड़ता हैं, यह दबाव सुनिश्चित करता है कि ऊर्जा धाराएं रीढ़ की हड्डी से ऊपर की ओर बहती हैं। ऊपर के पैर को गुदा और अंडकोष के बीच में रखा जाता है जिससे स्वाधिष्ठान चक्र पर दबाव बनता है। इस प्रकार सिद्धासन मूलाधार चक्र और स्वाधिष्ठान चक्र दोनों के उत्तेजित करता है। इसलिए यह आसन यौन ऊर्जा को स्थिर रखने में फायदेमंद है।

(और पढ़ें – पुरुषों के लिए योग और उनके फायदे)

प्रोस्टेट ग्रंथि के लिए सिद्धासन के लाभ – Accomplished Pose Benefits For the prostate gland in Hindi

प्रोस्टेट ग्रंथि के लिए सिद्धासन के लाभ - Accomplished Pose Benefits For the prostate gland in Hindi

सिद्धासन करने से आपके मूलाधार चक्र और स्वाधिष्ठान चक्र दोनों पर दबाव पड़ता है यह पुरषों के लिए बहुत ही लाभदायक आसन है। यह प्रोस्टेट या पौरुष ग्रंथि को स्वस्थ रखने में मदद करता हैं, सिद्धासन में पैरों के कारण पड़ने वाला दबाव यौन ऊर्जा को परिशुद्ध करने में मदद करता है। यह दबाव विशेष रूप से टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करता है।

(और पढ़ें – प्रोस्टेट स्वास्थ्य में सुधार के तरीके)

सिद्धासन के फायदे मन को शांत रखने में – Siddhasana Benefits for To keep your mind calm in Hindi

सिद्धासन के फायदे मन को शांत रखने में - Siddhasana Benefits for To keep your mind calm in Hindi

सिद्धासन आपके मन शांत रखने में मदद करता हैं  यह आसन सेक्स आग्रह और यौन कार्यों पर नियंत्रण देता है। हठ योग प्रदीपिका में, ऐसा कहा जाता है कि सिद्धासन प्राणिक ऊर्जा को शांत करके तंत्रिका तंत्र को स्थिर करता है।

(और पढ़ें – मन की शांति के उपाय हिंदी में )

सिद्धासन के कुछ अन्य लाभ – Other benefit of Siddhasana Benefits in Hindi

सिद्धासन के कुछ अन्य लाभ - Other benefit of Siddhasana Benefits in Hindi

  • यह आसन हिप्स फ़ैलाने में मदद करता है।
  • सिद्धासन घुटनों और एड़ियों में खिंचाव देता हैं।
  • यह पेट और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करता है।
  • रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है।

(और पढ़ें – एड़ी में दर्द के घरेलू उपाय…)

सिद्धासन योग करने से पहले यह सावधानियां रखें – Precautions to do Siddhasana in Hindi

सिद्धासन करने से पहले यह सावधानियां रखें - Precautions to do Siddhasana in Hindi

वैसे तो सिद्धासन एक आसान पोज़ हैं फिर भी इससे करने के लिए आपको कुछ सावधानी रखना बहुत ही आवश्यक है। इसकी कुछ सावधानी इस प्रकार है-

  • यदि आपको घुटनों का दर्द है तो आप आसन को ना करें
  • सायटिका से परेशान व्यक्तियों को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपके हिप्स में हालही में सर्जरी हुई है तो आप इस आसन को ना करें।
  • पीठ दर्द की समस्या से परेशान लोगों को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • सिद्धासन को करने के लिए अपने पैरों की एड़ियों को सही स्थान पर रखें।

(और पढ़ें – पीठ दर्द के लिए योगासन…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration