जानें शारीरिक संबंध बनाने के बाद मर्दों को कैसा महसूस होता है – How Men Feel After Sex In Hindi

जानें शारीरिक संबंध बनाने के बाद मर्दों को कैसा महसूस होता है - How Men Feel After Sex In Hindi
Written by Daivansh

क्या आप जानतें हैं शारीरिक संबंध बनाने के बाद मर्दों को कैसा महसूस होता है? एक उम्र पर पहुँचने के बाद पुरुष और महिलाओं दोनों में ही सेक्स (शारीरिक सम्बन्ध बनाने) के प्रति रूचि बढ़ती है। अनेक व्यक्तियों का मानना है कि शारीरिक सम्बन्ध बनाने के बाद व्यक्ति सुख की अनुभूति करते हैं, लेकिन शोध के अनुसार कुछ अलग ही देखने को मिला है जो व्यक्तियों को आश्चर्यचकित कर सकता है। सामान्यतः पुरुष सुख और आनंद को प्राप्त करने के लिए शारीरिक संबंध बनता है, लेकिन यह विपरीत परिणाम प्रदान कर सकता है, जैसा कि आप इस लेख के माध्यम से जानेंगे।

  1. शारीरिक संबंध बनाने के बाद पुरुषों को कैसा महसूस होता है – How Do Men Feel After Having Sex In Hindi
  2. पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया क्या है – What Is Post-Coital Dysphoria In Hindi
  3. पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया के लक्षण – Post-Coital Dysphoria Symptoms in Hindi
  4. पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया का कारण – Post-Coital Dysphoria Causes In Hindi
  5. क्या यह मेरे सेक्स जीवन या मेरे साथी के बारे में कुछ कहता है? – Does it say something about my sex life or my partner in Hindi
  6. मैं सेक्स के बाद दुखी होने के बारे में क्या कर सकता हूं – What can I do about feeling sad after sex in Hindi

शारीरिक संबंध बनाने के बाद पुरुषों को कैसा महसूस होता है – How Do Men Feel After Having Sex In Hindi

शारीरिक संबंध बनाने के बाद पुरुषों को कैसा महसूस होता है - How Do Men Feel After Having Sex In Hindi

जर्नल ऑफ सेक्स एंड मैरिटल थेरेपी (Journal of Sex & Marital Therapy) में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है, 41% पुरुष सेक्स के बाद अपने आपको दुखी महसूस करते हैं। कम सेक्स ड्राइव से सम्बंधित व्यक्ति का, सेक्स करने के बाद नकारात्मक भावनाओं से ग्रस्त हो जाना, एक सामान्य बात है।

अध्ययन से पता चला है कि सेक्स के बाद न कि केवल महिलाओं द्वारा, बल्कि आमतौर पर पुरुषों द्वारा भी अच्छा महसूस करने की बजाय ज्यादातर बुरा महसूस किया जा सकता है। अतः सेक्स के बाद बुरा महसूस होने की स्थिति को पोस्ट-कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) या पोस्ट-सेक्स ब्लूज़ (“post-sex blues) के रूप में जाना जाता है। यह स्थिति सर्वप्रथम महिलाओं में अधिक प्रचलित थी। लेकिन वैज्ञानिक अनुसंधान में पाया गया है, कि यह स्थिति पुरुषों को भी समान रूप से प्रभावित कर सकती है।

(और पढ़े – पुरुषों के लिए सेक्‍स करने के फायदे…)

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया क्या है – What Is Post-Coital Dysphoria In Hindi

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया क्या है - What Is Post-Coital Dysphoria In Hindi

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया, जिसे कभी-कभी पोस्ट कोइटल ट्रिस्टेसी (postcoital tristesse) या “पोस्ट-सेक्स ब्लूज़” (post-sex blues) के नाम से भी जाना जाता है, इसका सम्बन्ध संभोग के बाद उदासी, चिंता (anxiety), व्याकुलता या शत्रुतापूर्ण व्यवहार की भावना से होता है। यदि कोई व्यक्ति भले ही प्रेममय, संतोषजनक या सुखद तरीके से सेक्स करता है, परन्तु वह पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) को महसूस कर सकता है।

दरअसल ये शोध से ये बात सामने आई है कि इंटिमेट रिलेशनशिप बनाने के बाद पुरुषों को अच्छा नहीं लगता और उन्हें बुरा एहसास होता है।

सेक्स के बाद कोई भी व्यक्ति अपने आपको प्रोत्साहित और उत्तेजित महसूस करना चाहता है। लेकिन कुछ व्यक्ति सेक्स के बाद सुख का अनुभव न करते हुए परेशानी, घबराहट, चिंता या उदासी की भावनाओं को महसूस कर सकते हैं। इन भावनाओं का महसूस होना यौन संबंध की गुणवत्ता से कोई लेना-देना नहीं होता है। पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया वाले लोगों को यह नहीं पता होता है, कि वे सम्भोग के बाद इतना बुरा क्यों महसूस करते हैं।

(और पढ़े – फर्स्ट टाइम सेक्स टिप्स महिला और पुरुष दोनों के लिए…)

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया के लक्षण – Post-Coital Dysphoria Symptoms in Hindi

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया के लक्षण – Post-Coital Dysphoria Symptoms in Hindi

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) के प्राथमिक लक्षणों में सेक्स के बाद उदास भावना को महसूस करना शामिल है, इसके साथ ही घबराहट, चिंता और हीन भावनाएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। संभोग के बाद उदासीन मनोदशा, विशिष्ट कारणों के बिना ही एक नकारात्मक भावनात्मक विचारों के उत्पन्न हो सकती है। यह भावनाएं अस्पष्ट, जटिल और स्पष्ट हो सकती हैं। तथा यह भावनाएं शारीरिक सम्बन्ध बनाने के बाद कई दिनों तक बनी रहती हैं।

(और पढ़े – जानिए सेक्स करने के फायदे और ना करने के नुकसान…)

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया का कारण – Post-Coital Dysphoria Causes In Hindi

पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया का कारण - Post-Coital Dysphoria Causes In Hindi

वैज्ञानिक द्वारा अभी भी यह निश्चित नहीं किया गया है कि पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) किस कारण से होता है। इसके विकास में अनेक कारकों का एक संयोजन शामिल हो सकता है। वास्तविक कारणों को अभी पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है। लेकिन यह स्थिति उत्पन्न होने के लिए कुछ सिद्धांतिक कारण निम्न हो सकती हैं:

  • मस्तिष्क रसायन ऑक्सीटोसिन (oxytocin), जिसे लव हार्मोन कहते है, यह सेक्स के दौरान पार्टनर के साथ घनिष्ट सम्बन्ध की भावना को प्रेरित करता है, लेकिन सेक्स के बाद इसकी मात्रा कम होने पर व्यक्ति उदासी महसूस करता है, और सम्बन्ध कमजोर हो जाता है
  • यौन शोषण से जुड़ी भावनाओं के फलस्वरूप भी पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया की स्थिति उत्पन्न हो सकती है
  • संबंधों में झगड़ा होना पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया का एक अंतर्निहित कारण बन सकता है
  • प्रारंभिक आघात के दौरान नकारात्मक भावनाओं को ट्रिगर करने और पुरानी बुरी यादों को याद करने से भी पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया ट्रिगर हो सकता है।

(और पढ़े – यौन उत्पीड़न क्या होता है इससे कैसे बचें…)

क्या यह मेरे सेक्स जीवन या मेरे साथी के बारे में कुछ कहता है? – Does it say something about my sex life or my partner in Hindi

क्या यह मेरे सेक्स जीवन या मेरे साथी के बारे में कुछ कहता है? - Does it say something about my sex life or my partner in Hindi

अध्ययन के अनुसार, पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) की स्थिति या शारीरिक सम्बन्ध बनाने के बाद उदासी महसूस करने की स्थिति संभवतः रिश्ते के बारे में कोई जानकारी नहीं देती है, और न ही यह स्थिति यौन साथियों के बीच प्रेम की तुलना करती है। शोधकर्ता  के अनुसार जब तक व्यक्ति पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया के विशिष्ट कारणों का निदान नहीं कर लेता, तब तक किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचा नहीं जा सकता है।

(और पढ़े – लंबा जीवन जीने के लिए सेक्‍स का महत्‍व…)

मैं सेक्स के बाद दुखी होने के बारे में क्या कर सकता हूं – What can I do about feeling sad after sex in Hindi

मैं सेक्स के बाद दुखी होने के बारे में क्या कर सकता हूं - What can I do about feeling sad after sex in Hindi

यदि कोई भी व्यक्ति सोचता है कि पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) की स्थिति बिना कोई प्रयास किये ही ठीक हो जाएगी, तो ऐसा नहीं है। शोध के माध्यम से यह बताया गया है, कि यह स्थिति बिना किसी प्रयास के ठीक नहीं हो सकती है, बल्कि इससे भी बदतर हो सकती है। यदि व्यक्ति पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया के लक्षणों को अनदेखा करते हैं, तो संभोग करने से पहले ही इसके लक्षण और अधिक गंभीर हो सकते हैं।

अतः पोस्ट कोइटल डिस्फोरिया (post-coital dysphoria) के लक्षण प्रगट होने की स्थिति में, सम्बंधित व्यक्ति एक यौन स्वास्थ्य विशेषज्ञ की सहायता ले सकता है। अतः एक यौन स्वास्थ्य विशेषज्ञ मूड विकार को ठीक करने के लिए दवा की सिफारिश कर सकते हैं। इस स्थिति से छुटकारा पाने के लिए दवा के साथ कुछ परामर्श प्राप्त करना भी महत्वपूर्ण होता है। इसके अतिरिक्त बेहतर तरीके से सेक्स करने और रिश्ते को बेहतर बनाने के लिए नवीनतम तकनीक का उपयोग करना उचित होता है।

(और पढ़े – सेक्स थेरेपी क्या है, कैसे काम करती है, और जरूरत क्यों पड़ती है…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration