घरेलू उपाय

कोरोना वायरस से बचने के घरेलू उपाय – Coronavirus Se Bachne Ke Gharelu Upay Hindi

कोरोना वायरस से बचने के घरेलू उपाय - Coronavirus Se Bachne Ke Gharelu Upay Hindi

चीन के बाद अब कोरोना वायरस भारत में भी पहुच चूका है। इसका अभी तक कोई इलाज या टीका नहीं मिला है कोरोना वायरस से बचाव ही इसका इलाज है। इसलिए आज हम आपको कोरोना वायरस से बचने के घरेलू उपाय (Coronavirus Se Bachne Ke Gharelu Upay Hindi) बताने जा रहे हैं। कोरोना वायरस की चपेट में वह लोग ज्यादा आ रहे हैं जो बुजुर्ग हैं या जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है, इसलिए अपनी इम्युनिटी को बढ़ाकर और पर्याप्त साफ-सफाई रखकर इससे बचा जा सकता है।

कोरोना वायरस के लक्षण – Symptoms of coronavirus in Hindi

कोरोना वायरस के लक्षण - Symptoms of coronavirus in Hindi

निम्न लक्षण संक्रमित होने के 2-14 दिन बाद दिखाई दे सकते हैं।

  • बुखार
  • खांसी
  • साँस लेने में परेशानी

अपने डॉक्टर से मिलें यदि आप…

यदि आप इन लक्षणों को विकसित कर रहें हैं, और COVID -19 के सीकर ज्ञात व्यक्ति के साथ निकट संपर्क में रहे हैं।

ध्यान रखें ये लक्षण अन्य वायरस या फ्लू के भी हो सकते हैं इसलिए घबराएँ नहीं और अपनी जांचा कराएँ। हो सकता है आपको सामान्य सर्दी-जुकाम की सिकायत हो।

कोरोना वायरस से बचने के घरेलू उपाय – Corona Virus Prevention Tips in Hindi

वर्तमान में कोरोनवायरस बीमारी 2019 (COVID-19) को रोकने के लिए कोई टीका नहीं है। बीमारी को रोकने का सबसे अच्छा तरीका इस वायरस के संपर्क में आने से बचना है। जिनमें शामिल हैं:

जो लोग बीमार हैं उनसे निकट संपर्क से बचें।

अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।

बीमार होने पर घर पर ही रहें।

खांसी या छींक आने पर उसे हाँथ की बांह से कवर करें या एक टिसू से नाक और मुह को ढ़ककर छींकें, फिर उस टिसू को बंद कूड़े दान में फेंक दें।

नियमित रूप से खुद की सफाई पर ध्यान दें और घर की सफाई स्प्रे या पोंछे का उपयोग करके साफ करें।

फेसमास्क का उपयोग करने के लिए सीडीसी की सिफारिशों का पालन करें।

फेसमास्क का उपयोग उन लोगों द्वारा किया जाना चाहिए जो दूसरों को बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए COVID-19 के लक्षण दिखाते हैं। फेसमास्क का उपयोग स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और उन लोगों के लिए भी महत्वपूर्ण है, जो करीबी सेटिंग्स (घर पर या अस्पतालों) में किसी की देखभाल कर रहे हैं।

कम से कम 20 सेकंड के लिए अपने हाथों को बार- बार साबुन और पानी से धोएं, खासकर बाथरूम जाने के बाद; खाने से पहले; और अपनी नाक पोंछने के बाद, खाँसना, या छींकना।

जानें – हाथ धोने का सही तरीका

यदि साबुन और पानी आसानी से उपलब्ध नहीं हैं, तो कम से कम 60% अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें। अगर हाथ दिखने में गंदे हैं तो हमेशा साबुन और पानी से हाथ धोएं।

ये रोजमर्रा की आदतें हैं जो कई वायरस के प्रसार को रोकने में मदद कर सकती हैं।

कोरोना वायरस का इलाज – Coronavirus Treatment In Hindi

कोरोना वायरस का इलाज - Coronavirus Treatment In Hindi

COVID-19 के लिए अनुशंसित कोई विशिष्ट एंटीवायरल उपचार नहीं है। सीओवीआईडी -19 वाले लोगों को लक्षणों से राहत पाने के लिए सहायक देखभाल प्राप्त करनी चाहिए। गंभीर मामलों के लिए, उपचार में महत्वपूर्ण अंग के कार्यों का समर्थन करने के लिए देखभाल शामिल होनी चाहिए।

जो लोग सोचते हैं कि वे COVID-19 के संपर्क में आ सकते हैं, उन्हें अपने नजदीकी अस्पताल में जाकर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए।

जैसा कि कोरोना , या COVID -19, विश्व स्तर पर फैलता जा रहा है, यह बातचीत का एक आम विषय भी बनता जा रहा है कि हम कोरोना वायरस से बचने के लिए क्या कर सकते हैं? वास्तव में इस कोरोना वायरस से बचाने में क्या हमारी मदद करेगा? इस लेख में बताये गए जरुरी स्टेप्स को अपनाकर आप  आप अपने और अपने परिवार की रक्षा कर सकते हैं।

यह वायरस संक्रामक है, लेकिन अभी तक यह अन्य प्रकोपों जितना घातक नहीं है

चीन में, तीन-चौथाई से अधिक मामलों को हल्के रूप में वर्गीकृत किया गया है। लक्षणों में निम्न-श्रेणी का बुखार और एक खांसी शामिल है। कुछ लोगों को थकान, सिरदर्द और, कभी-कभी दस्त का अनुभव होता है।

कुल मिलाकर, चीन में मृत्यु दर 2% अनुमानित है, और COVID-19 के साथ मृत्यु की औसत आयु 70 बर्ष के आसपास है। पहले से ही किसी बीमारी के शिकार लोग, और विशेष रूप से धूम्रपान करने वाले लोग, उच्च जोखिम वाले लगते हैं।

नोवल कोरोना वायरस के पहले के प्रकोपों की तुलना में कम घातक प्रतीत होता है

यह कोरोनोवायरस हाल के वर्षों में फैले अन्य मानव कोरोना वायरस की तुलना में कम घातक प्रतीत होता है। उदाहरण के लिए,वर्ष 2012 में फैले MERS के लिए मृत्यु दर लगभग 34% और वर्ष 2002-03 में फैले SARS के लिए मृत्यु दर लगभग 10% थी।

कोरोनावायरस से बचाव के लिए फ्लू से बचाव के नुस्खे अपनाएं

शीर्ष टिप: अपने हाथ धो लें। क्योंकि? श्वसन की बूंदों के माध्यम से वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकते हैं। जब एक संक्रमित व्यक्ति खांसता है या छींकता है, तो निकट संपर्क होने पर दुसरे व्यक्ति भी संक्रमित हो सकते हैं। इसके अलावा, वायरस दरबाजे के हेंडिल, लिफ्ट की बटन और अन्य सतहों पर भी हो सकता है। यदि आप उन सतहों को छूते हैं और फिर अपनी आंखों, नाक या मुंह को छूते हैं, तो आप संक्रमित हो सकते हैं।

यही कारण है कि अच्छे से अपने हाथों को धोना महत्वपूर्ण है।

“अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं, विशेष रूप से बाथरूम जाने से पहले, खाने से पहले, और अपनी नाक पोंछने, खांसने या छींकने के बाद।”

जो लोग हाथ मिलाते हैं, या गले लगते हैं। ये ऐसे तरीके हैं जिनसे वह वायरस को फैला सकते हैं या उसकी चपेट में आ सकते हैं। इसकी जगह आप नमस्कार कर सकते हैं जो कोरोनावायरस से बचाव के लिए अभिवादन का सही तरीका हो सकता है।

घबराएं नहीं – तैयारी शुरू करें

“यह घबराने का समय नहीं है, बल्कि इससे बचने की तैयारी करने का समय है – अपने परिवार और खुद के लिए अच्छे से तैयारियां कर लें।”

अपने संभावित प्रकोप के खतरे के बारे में सोचें जिस तरह से आप एक बड़े तूफान के बारे में सोचते हैं। हो सकता है यह कभी न आये। लेकिन अगर ऐसा होता है, तो आपको खुशी होगी कि आप तैयार हैं।

हर चीज को इकट्ठा न करें, लेकिन कुछ अतिरिक्त भोजन और सफाई के सामान को अपने पास रखें।

यदि आप एक दैनिक डॉक्टर के पर्चे की दवा लेते हैं, तो जितना संभव हो उतनी दवा लेकर रख लें।

बीमारी से बचाव के लिए मास्क की अनिश्चितता

कुल मिलाकर, ऐसे निर्णायक सबूत नहीं हैं कि फेस मास्क पहनने से वायरस से संक्रमित होने से बचा जा सके। और सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी आम जनता के लिए उपयोगिता के बारे में मिश्रित संदेश देते हैं। जैसा कि हमने बताया है, मास्क चेहरे पर कसकर फिट नहीं हो सकते हैं, इसलिए आप अभी भी संक्रमित बूंदों को सांस में लेने में सक्षम हैं। और विशेषज्ञों को चिंता है कि मास्क सुरक्षा की झूठी भावना दे सकते हैं।

स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं को मास्क का सही उपयोग करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है, और इस बात के सबूत हैं कि वे नैदानिक सेटिंग्स में प्रभावी हैं। घर पर लोगों के लिए, सीडीसी कुछ स्थितियों में मास्क का उपयोग करने की सलाह देता है। उदाहरण के लिए, यदि आप घर में किसी संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो मास्क का उचित उपयोग देखभाल करने वाले की रक्षा कर सकता है।

अपनी यात्रा को लेकर सतर्क रहें

सीडीसी अपनी यात्रा सलाहकार सूचनाओं को अक्सर अपडेट करता है। सरकार जोखिम को रैंक करने के लिए चार-स्तरीय पैमाने का उपयोग करती है। स्तर 1 सबसे कम जोखिम के बराबर है, और स्तर 4, उच्चतम है।

इटली के कुछ हिस्सों के लिए, जहां नोवल कोरोनावायरस का निरंतर प्रसार हुआ है, अब स्तर 4 अलर्ट है। सीडीसी की सलाह है कि बुजुर्ग व्यक्तियों और पुरानी चिकित्सा स्थितियों वाले लोगों को अपनी यात्रा स्थगित करने पर विचार करना चाहिए। “यात्रियों को कम से कम 20 सेकंड के लिए साबुन और पानी से हाथ धोने चाहिए या 60% -95% अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करके हाथ धोने चाहिए, अक्सर बीमार लोगों के संपर्क से बचना चाहिए और अपने हाथों को साफ करना चाहिए।”

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय अपनाएं

वैसे तो रोग प्रतिरोधक क्षमता (immune system) हर रोग के खिलाफ लड़ने में बहुत ही अच्छा कार्य करती है। लेकिन कभी कभी इसके कार्य करने की क्षमता कम होती चली जाती है जिस वजह बैक्टीरिया और वायरस हमारे शरीर में प्रवेश करने लगते है और हम गंभीर बीमारियों का शिकार हो जाते हैं।

हमारे शरीर कि रोग प्रतिरोधक क्षमता कई चीजो पर निर्भर करती है जैसे कि हमारा खान-पान और हमारी जीवनशैली। तो आज हम आपको रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय और स्वस्थ जीवनशैली से संबंधित कुछ ज़रूरी जानकारी देने वाले हैं।

हमारे शरीर को सही से कार्य करने के लिए विटामिन, मिनरल के साथ एंटीओक्सिडेंट की जरुरत होती है। अध्ययन के अनुसार फलों और सब्जियों को अधिक मात्रा में खाने वाले लोगो का प्रतिरक्षा तंत्र उन लोगो की तुलना में अच्छा होता है जो खाने में ज्यादा सब्जियां और फल नहीं खाते है। शरीर कि रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए Zinc, Iron, Selenium, Copper, Folic acid और Vitamin A, B6, C, E जैसे Micro-nutrients और Anti-Oxidants कि जरुरत होती है।

सही आहार से बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता

Anti-Oxidants: शरीर कि रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ाने के लिए योग्य प्रमाण में एंटीऑक्सीडेंट लेना जरुरी है। एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर के ख़राब सेल को ठीक करते है और बुढ़ापे को दूर भगाते है। आप निचे दिए हुए आहार लेकर या अपने डॉक्टर कि सलाह अनुसार एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन (Vitamin) युक्त दवा ले सकते है।

बीटा कैरोटीन(Beta Carotene)– यह खुबानी (Apricot), ब्रोकोली (Broccoli), चुकंदर (Beet), पालक (Spinach), टमाटर (Tomatoes), मका (Corn) और गाजर (Carrots) में पाया जाता है।

सेलेनियम (Selenium)– यह जौ (Oats), प्याज (Onions), सूरजमुखी फूल के बीज (Sunflower seeds), मशरुम (Mushroom), भूरे चावल (Brown Rice), अंडा (Eggs), मछली (Fish) में पाया जाता है। यह कई प्रकार के Cancer से शरीर को बचाने में मदद करता है।

विटामिन A– यह शक्कर कंद (Sweet Potato), गाजर (Carrots),  खुबानी (Apricot), हरी सब्जिया (Green Vegetables), लाल मिर्च (Red Pepper), Cantaloupe (खरबूजा) में अधिक पाया जाता है।

Vitamin B2–  यह पालक (Spinach), बदाम (Almonds), सोयाबीन (Soyabeans), मशरूम (Mushroom), गाय का दूध (Cow’s Milk) में पाया जाता है।

विटामिन B6– यह पालक (Spinach), केला (Banana), आलू (Potato),  सूरजमुखी फूल के बीज (Sunflower seeds) में पाया जाता है।

Vitamin C– यह संतरा (Oranges), टमाटर (Tomatoes), पपीता (Papaya), स्ट्रॉबेरी (Strawberry), पत्तागोभी (Cauliflower) में पाया जाता है।

विटामिन E– यह  गाजर (Carrots), पपीता (Papaya),  पालक (Spinach), सूरजमुखी फूल के बीज (Sunflower seeds), बादाम (Almonds) में पाया जाता है।

Vitamin D– यह दूध (Milk),  मशरूम (Mushroom), अंडा (Eggs), सालमन (Salmon), सार्डिन मछली (Sardines) में पाया जाता है।

जिंक Zinc– यह लौकी के बिज (Pumpkin seeds), तिल (Sesame seeds),  जौ (Oats), दही (Yogurt), झींगा (Shrimp),  ऑयस्‍टर (कस्तूरी या सीप) (Oysters),  में पाया जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए पानी

दिन भर में कम से कम 8-10 ग्लास पानी पीना चाहिए। सही और निरंतर अन्तराल में पानी पीने से शरीर को बल प्राप्त होता है और पाचन ठीक से होता है। पानी शरीर के अनावश्यक पदार्थो को शरीर से बाहर निकलता है। इसलिए सही खाना खाने के साथ अपने पानी पीने पर भी ध्यान दें।

रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए खाएं लहसुन

लहसुन शरीर और दिमाग दोनों के लिए ही फायदेमंद है, अपने खाने में रोजाना लहसुन का सेवन अवश्य रूप से करे।

विटामिन सी से भरपूर फल से बढ़ाएं अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता

संतरे, नींबू और अनानास जैसे खट्टे फलो में विटामिन सी की मात्रा अधिक होती है, इसलिए यह फल कई तरह से संक्रमणों से लड़ने में मदद करते है। इनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता सक्रिय होती है| इसीलिए रोजाना भोजन में खट्टे फलो का सेवन अवश्य करना चाहिए।

कोरोना वायरस से बचने के लिए योग करें

कोरोना वायरस को रोकने के लिए लोगो को अनुलोम विलोम प्राणायाम, सूर्य नमस्कार,  और कपालभाति जैसे योग करने चाहिए। इससे शरीर की इम्युनिटी बढ़ेगी, जिससे कोरोना वायरस के साथ ही अन्य प्रकार की बीमारियों पर रोकथाम लगाई जा सकती है।

ये तो थे कोरोना वायरस से बचने के घरेलू उपाय आप इन उपायों को अपनाकर खुद को कोरोना वायरस के संक्रमण से दूर रख सकते हैं, तो आज से ही इनपर अमल करना शुरू कर दें।

और पढ़े – 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration