अजमोद खाने के फायदे और नुकसान – Celery (ajmod) benefits and side effects in Hindi

अजमोद खाने के फायदे और नुकसान - Celery (ajmod) benefits and side effects in Hindi
Written by Anamika

Health Benefits of Celery Ajmod in Hindi अजमोद एक पौधा है जिसका वैज्ञानिक नाम एपियमग्रेविओलिंस (Apiumgraveolens) है। अजमोद का फल और बीज सूखाकर तेल निकाला जाता है और इसके तेल के साथ बीजों का इस्तेमाल दवा के रूप में किया जाता है। अजमोद की पत्तियों का उपयोग बहुत सी बीमारियों के इलाज में किया जाता है आइये जानते है अजमोद के फायदे और अजमोद का सेवन के नुकसान (ajmod ke fayde aur nuksan in Hindi) के बारें में।

अजमोद का तेल कैप्सूल के रूप में भी बाजारों में बिकता है जो कई बीमारियों को ठीक करने में उपयोग में लाया जाता है। कुछ लोग अजमोद के रस का उपयोग दवा के रूप में करते हैं। अजमोद का उपयोग गठिया (rheumatism), हिस्टीरिया, घबराहट, सिरदर्द, कुपोषण के कारण वजन घटना, भूख की कमी और थकावट के उपचार में किया जाता है।

अजमोद के फायदे – Health Benefits Of Celery (ajmod) in Hindi

अजमोद के फायदे - Health Benefits Of Celery (ajmod) in Hindi

Celery (ajmod) में विटामिन ए, विटामिन B1, पोटैशियम, विटामिन B2, पॉलीन, सोडियम,विटामिन B6, एमिनो एसिट और विटामिन C, प्लांट हार्मोन और इसेंशियल ऑयल पाया जाता है, कई बीमारियों को दूर करने में उपयोग में लाया जाता है। तो आइये जानते हैं कि किन-किन बीमारियों के इलाज में अजमोद फायदेमंद होता है।

अजमोद के फायदे वजन घटाने में – Celery for Weight Loss in Hindi

इसमें कैलोरी बहुत कम होती है इसलिए अजमोद वजन घटाने में सहायक होता है। अजमोद महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रदान करने एवं लिपिड (वसा) के मेटाबोलिज्म को नियंत्रित करने में मदद करता है। अजमोद का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट, इलेक्ट्रोलाइट, विटामिन C, B एवं पोटैशियम जैसे मिनरल पाये जाते हैं और कैलोरी कम होने के कारण इसके सेवन से वजन घटता है।

(और पढ़े: घर पर करें आसान वर्कआउट और कम करें वजन)

अजमोद के फायदे कोलेस्ट्रॉल घटाने में – Celery for LDL Cholesterol in Hindi

स्टडी में पाया गया है कि अजमोद (Celery) में ब्यूटिल प्थैलाइड पाया जाता है और यह शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल या एलडीएल के स्तर को कम करने में मदद करता है। अजमोद में उच्च मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो शरीर में पित्त स्राव (bile secretion) को बढ़ाता है और कोलेस्ट्रॉल को घटाने में मदद करता है।

अजमोद के फायदे यूरीनरी इंफेक्शन में – Celery Prevent Urinary Tract Infections in Hindi

यह यूरिकएसिड को कम करता है और मूत्र के निर्माण को उत्तेजित करता है। अजमोद पाचन तंत्र और जननांगों के अंदर एंटीबैक्टीरियल इंफेक्शन से लड़ता है और यूटीआई, ब्लैडर की बीमारी, किडनी की समस्या और प्रजनन अंगों में सिस्ट बनने से बचाता है।

(और पढ़े: मूत्राशय में संक्रमण के कारण, लक्षण और बचाव)

अजमोद के लाभ पाचन में – Ajmod Boosts Digestion in Hindi

यह पाचन क्रिया को बेहतर बनाने एवं शरीर एवं पेट के सूजन को दूर करने में उपयोग किया जाता है। आंत में सर्कुलेशन को बेहतर करने में अजमोद महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अजमोद के बीच में एंटी-हाइपरटेंशिव गुण होता है जिसके कारण इसके सेवन से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है। अजमोद के बीज में गंधहीन और ऑयली यौगिक मौजूद होते हैं जिसे एनबीपी के नाम से जाना जाता है और यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है।

अजमोद के गुण सूजन दूर करने में – Celery Anti-inflammatory Effect in Hindi

रूमैटॉयड अर्थराइटिस, ऑस्टियोपोरोसिस, अस्थमा एवं ब्रोंकाइटिस (Bronchitis) जैसी बीमारियों के इलाज में भी अजमोद बहुत फायदेमंद होता है। अजमोद में पॉलीएसिटिलीन नामक रसायन मौजूद होता है जो इन बीमारियों को दूर करने में बहुत प्रभावी होता है। अजमोद का रस हर्ब का कार्यकरता है और यह शरीर के सूजन को दूर करने में मदद करता है।

अदमोद का उपयोग अनिद्रा दूर करने में – Celery Regulates Sleep in Hindi

सुबह एक गिलास अजमोद का जूस पीने से व्यक्ति पूरे दिन तरोताजा महसूस करता है। अजमोद के रस में मैग्नीशियम पाया जाता है जो हार्ट रेट को तो कम करता ही है साथ में अनिद्रा की बीमारी को दूर कर अच्छी नींद लाने में मदद करता है।

(और पढ़े: अनिद्रा के कारण, लक्षण और उपचार)

अजमोद के फायदे अल्सर में – Ajmod Prevent Ulcers in Hindi

शोधकर्ताओं का मानना है कि अजमोद में फ्लेनॉयड, टैनिन एंवं एल्केनॉयड पाया जाता है जो पेट, कोलोन एवं आंत को पोषण प्रदान करता है। अजमोद पेट में अल्सर को उत्पन्न होने से रोकता है क्योंकि अजमोद में एक विशेष प्रकार का एथेनॉल पाया जाता है जो अल्सर से पाचन तंत्र के परत को सुरक्षा प्रदान करता है।

अजमोद का सेवन हृदय के लिए फायदेमंद – Ajmod for Heart Health in Hindi

इसके रस में कुछ एंटी-ऑक्सीडेंट पाये जाते हैं जिन्हें प्थैलाइड्स के नाम से जानते हैं। ये एंटी-ऑक्सीडेंट धमनी (artery) की दीवारों को मजबूत करने और कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम के अंदर मरम्मत करने में मदद करते हैं। जिससे कि हृदय का तनाव एवं दबाव कम होता है और हार्ट अटैक एवं स्ट्रोक का खतरा कम होता है।

अजमोद के गुण हार्मोनल समस्याओं के लिए – Celery for Hormonal Issues in Hindi

महिलाओं में हार्मोन असंतुलन की समस्या को दूर करने के लिए अजमोद का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा बांझपन, मेनोपॉज के लक्षणों एवं मासिक धर्म की समस्याओं को दूर करने के लिए भी अजमोद बहुत लाभकारी माना जाता है।

सेलेरी बेनेफिट्स फ़ॉर कैंसर – Celery Prevents Cancer in Hindi

दो यौगिक ल्यूटीओलिन एवं एपिजेनिन अजमोद में उच्च सांद्रता में पाये जाते हैं और ये यौगिक एंटी-कार्सिनोजेनिक प्रभाव के होते हैं। ये फ्लैनॉयड ट्यूमर को कम करने एवं शरीर के विभिन्न हिस्सों में कैंसर को फैलने से रोकते हैं और मुक्त कणों को बेअसर करने में मदद करते हैं।

अजमोद के नुकसान – Ajmod ke nuksan in Hindi

अजमोद के नुकसान – Ajmod ke nuksan in Hindi

  • Celery (ajmod) side effects in hindi अजमोद का बीज यदि चबाने भर के लिए इस्तेमाल किया जाये तो यह पूरी तरह सुरक्षित है। अजमोद के तेल को ज्यादातर लोग मुंह या त्वचा की समस्याओं में दवा के रूप में इस्तेमाल करते हैं। लेकिन अधिक सेवन करने पर यह त्वचा में सूजन उत्पन्न कर सकता है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान अजमोद का सेवन सुरक्षित नहीं माना जाता है क्योंकि यह गर्भाशय में संकुचन पैदा कर देता है जिसकी वजह से गर्भपात (miscarriage) हो सकता है।
  • यदि आप बच्चे को अपना दूध पिलाती हैं तो अजमोद के तेल या अजमोदक के बीज का सेवन करने से परहेज करना चाहिए।
  • अजमोद का अधिक सेवन करने से एलर्जिक रिएक्शन भी हो सकता है।
  • यदि आपको रक्त स्राव की समस्या है तो अजमोद का सेवन करने से अधिक रक्त स्राव (bleeding) होने लगती है, इसलिए ऐसी समस्या हो तो अजमोद से परहेज करें।
  • अगर आपको किडनी में समस्या है तो अजमोद का सेवन न करें अन्यथा इससे सूजन बढ़ सकती है।
  • ब्लड प्रेशर को कम करने में अजमोद का दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता है लेकिन यदि आपका ब्लड प्रेशर पहले से ही कम हो तो अजमोद का सेवन न करें अन्यथा यह ब्लड प्रेशर को ज्याद घटा सकता है।
  • अजमोद केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकता है। सर्जरी के बाद एवं पहले एनेस्थिशिया या अन्य दवाओं के साथ अजमोद का सेवन न करें अन्यथा यह तंत्रिका तंत्र (central nervous system) को धीमा कर सकता है। सर्जरी या शल्य चिकित्सा के दो हफ्ते पहले से ही अजमोद का सेवन बंद कर देना चाहिए।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration