गठिया (आर्थराइटिस) के लिए योग – Yoga for Arthritis in Hindi

गठिया (आर्थराइटिस) के लिए योग - Yoga for Arthritis in Hindi
Written by Shivam

Yoga for arthritis in Hindi इस लेख में गठिया रोग के लिए योग के बारे में बताया गया है गठिया (आर्थराइटिस) रोग एक बहुत ही बड़ी समस्या हैं, यह एक गंभीर रोग हैं। इसके कारण आपके शरीर के जोड़ो में सूजन और दर्द होने लगता हैं। कुछ लोग इसे संधिशोथ के नाम से भी बुलाते हैं। अगर यह लगता हैं की यह रोग केवल दादा-दादी की उम्र में होता हैं तो आप गलत हो सकते हैं क्योंकि यह किसी भी उम्र बच्चें, किशोर, युवा, व्यस्क में भी हो सकता हैं। अगर आप गठिया रोग से ग्रस्त हैं और दवाइयां खा-खा के परेशान हो गए हैं तो आप इसके इलाज के लिए योग को अवश्य करें आपको लाभ होगा। आइये गठिया के उपचार के लिए कुछ योग आसन के बारे में विस्तार से जानते हैं।

  1. गठिया रोग क्या हैं – What is Arthritis in Hindi
  2. गठिया के लिए योग – Arthritis Ke Liye Yoga in Hindi

गठिया रोग क्या हैं – What is Arthritis in Hindi

गठिया रोग जोड़ों में होने वाला एक रोग हैं जिस संधिशोथ नाम से भी जाना हैं, इसके कारण आपको जोड़ों में दर्द और सूजन हो जाती हैं। इसके कारण शरीर की कोमल हड्डी भी टूट सकती हैं, हाथों में छोटी-छोटी गांठ भी हो जाती हैं। इसके कारण सुबह के समय जोड़ो में अधिक दर्द होता हैं और आपकी त्वचा पर लालीपन आ जाता हैं। इसके उपचार के लिए हम आपको कुछ योग बताने जा रहें जिससे आप इसमें आराम पा सकते हैं।

(और पढ़ें – गठिया (आर्थराइटिस) कारण लक्षण और वचाब)

गठिया के लिए योग – Arthritis Ke Liye Yoga in Hindi

गठिया रोग के उपचार के लिए हम यहाँ कुछ प्रमुख योग आसन दे रहे हैं जिसका अभ्यास करके आप अपने रोग में आराम पा सकते हैं-

सेतुबंधासन योग गठिया ट्रीटमेंट में है फायदेमंद – Bridge Pose for Arthritis in Hindi

सेतुबंधासन योग गठिया ट्रीटमेंट में है फायदेमंद - Bridge Pose for Arthritis in Hindi

यह आसन उन लोगों के लिए थोड़ा कठिन हो सकता हैं जो अभी योग में नये हैं पर अभ्यास से इसे किया जा सकता हैं। इसे आसन को करने के लिए आप एक चटाई बिछा के पीठ के बल सीधे लेट जाएं। इसके बाद आप अपने दोनों पैरों को घुटने के यहाँ से मोड़ लें और अपने कूल्हों को ऊपर की ओर उठायें। अब अपने दोनों हाथों को अपने कन्धों के पीछे याने सिर के पास जमीन से टिका लें। उसके बाद आप दोनों हाथों पर अपना वजन डालते हुए कन्धों को ऊपर उठायें। इसके बाद अपने दोनों पैरों को घुटनों के यहाँ से धीरे धीरे सीधे करते जाएं साथ में हाथों को भी पूरी तरह से सीधा कर लें।

इसके बाद दोनों पैरों को अपने दोनों हाथों के पास लाने का प्रयास करें जितना आप कर सकते हैं। इस आसन में आपको 20 से 30 सेकंड तक रहना हैं। यह आसन आपकी उंगली के जोड़, कलाई, और कन्धों को मजबूत करता हैं और आपकी छाती और कूल्हों को फैलता हैं।

(और पढ़ें – सेतुबंधासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां)

गठिया के लिए योगासन में करें बालासन – Child Pose for Arthritis in Hindi

गठिया के लिए योगासन में करें बालासन - Child Pose for Arthritis in Hindi

बालासन विभिन्न योग आसन में से एक सरल आसन हैं इसमें योग करने वाले की स्थिति एक बच्चे के सामान दिखाई देती हैं। यह आसन पीठ दर्द में भी राहत देता हैं दिमाग को शांत रखता हैं। बालासन करने के लिए आप सबसे पहले किसी साफ स्थान पर चटाई बिछा के घुटनों के बल बैठ जाएं, इसेक लिए आप वज्रासन में भी बैठ सकते हैं। अपने कूल्हों को अपनी एड़ी पर रखें। साँस को अंदर की ओर लें और अपने दोनों हाथों को सीधा ऊपर की ओर रखें, इसमें अपनी हथेली को खुली रखें यानि उंगलियों को सीधा रखना हैं। अपनी साँस को बाहर की ओर छोड़ते हुयें शरीर के ऊपर के हिस्से को यानि धड़ को धीरे धीरे जमीन पर झुकाते जाएं और अपने सिर को जमीन पर रख दें।

इस आसन में आपको कम से कम 45 सेकंड से 1 मिनिट तक रुकना हैं। इसके बाद अपने हाथों को नीचे करें और शरीर के ऊपर हिस्से को ऊपर उठाते जाएं, इस प्रकार आप पुनः अपनी प्रारंभिक स्थिति में आ जाएंगे। यह आसन गठिया रोग के लिए लाभ दायक होती हैं।

(और पढ़ें – बालासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां)

गठिया में आराम के लिए योग कबूतर मुद्रा – Pigeon Pose for Arthritis in Hindi

गठिया में आराम के लिए योग कबूतर मुद्रा - Pigeon Pose for Arthritis in Hindi

इस आसन में व्यक्ति की स्थिति एक कबूतर के समान दिखाई देती हैं, यह आसन आपके शरीर में एक अद्भुत खिंचाव देता हैं। यह योग आपके हिप्स को बड़े  करने में भी मदद करता हैं। इसके अलवा यह आसन शरीर के सभी अंगों पर कार्य करता हैं।

इस योग आसन को करने के लिए सबसे पहले आप किस चटाई पर वज्रासन में या घुटने टेक के बैठ जाएं। इसके बाद आप अपने दोनों हाथों को जमीन रखें अपने कूल्हों को ऊपर उठाएं इस स्थिति में आप मार्जरी आसन के सामान हो जायेगें। इसके बाद अपने बाएं पैर को पीछे की ओर सीधा कर लें और दाएं पैर को घुटने के यह से मोड़े और बैठ जाएं। अपने दोनों हाथों को ऊपर उठायें और दोनों हाथों को जोड़ के पीछे की ओर ले जाएं। अब आप इस स्थिति में समय अपनी क्षमता के अनुसार रहें। इस स्थिति से बाहर आने के लिए अपने दोनों हाथों को नीचे ले आयें और जमीन से टिका लें। पीछे के पैर को आगे लाएं। यह आसन करके आप अपने जोड़ों को मजबूत कर सकते हैं।

(और पढ़ें – कपोतासन के फायदे और करने का तरीका )

गठिया के इलाज लिए कपालभाति प्राणायाम – Kapalbhati Pranayam for Arthritis in Hindi

गठिया के इलाज लिए कपालभाति प्राणायाम - Kapalbhati Pranayam for Arthritis in Hindi

कपालभाति योगासन हमारे पेट के अनेक रोगों के लिए एक बहुत ही अच्छा उपचार हैं। जब आप कपालभाति करते हैं तो साँस के साथ 80% हानिकारक तत्व आपके पेट से बहार निकल जाते हैं। यह पाचन की समस्या को खत्म कर देता हैं।

कपालभाति योग आसन को करने के लिए आप पहले किसी स्थान पर चटाई बिछा के बैठ जाएं। इसके लिए आप पद्मासन की स्थिति में बैठे और अपनी रीड के हड्डी को सीधा रखें। अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें। अब एक गहरी साँस को अन्दर की ओर लें। उसके बाद साँस को बाहर की ओर छोड़ते हुए अपने पेट को अन्दर की ओर जितना अधिक हो सकते हैं खींचे। इसमें आपके पेट की मांसपेशियां पूरी तरह से सिकुड़ जाएगी और नाभि अन्दर की ओर हो जाएगी। फिर साँस को अन्दर लेते हुए अपनें पेट को ढीला करते जाएं। यह क्रिया आपको 1 से 5 मिनिट करना हैं। यह आसन गठिया रोग के इलाज में मदद करेगा।

(और पढ़ें – कपालभाति करने का तरीका और लाभ)

गठिया को दूर भगाने के लिए गोमुखासन – Arthritis ke liye yoga cow face pose in Hindi

गठिया को दूर भगाने के लिए गोमुखासन - Arthritis ke liye yoga cow face pose in Hindi

गोमुखासन योग गठिया रोग के उपचार के लिए बहुत ही लाभदायक हैं इस आसन में व्यक्ति की स्थिति गाय के मुख के सामान दिखाई देता हैं, यह आसन जांघ और कंधे की मांसपेशियों को मजबूत करता हैं। इस आसन को करने के लिए आप आप सबसे एक चटाई बिछा के सुखासन में बैठ जाएं। अपने दाएं पैर को खिंच के अपने शरीर के पास लाएं फिर अपने बाएं पैर को भी खिंच के दाएं पैर की जांघ के ऊपर से अपने पास लाएं। अब अपने दाएं हाथ को कंधे के ऊपर से पीठ पर ले जाएं और बाएं हाथ को कोहनी के यह से मोड़ें के पीठ के पीछे ले जाये और अपने दोनों हाथों को आपस में मिला लें। आप इस स्थिति में कुछ समय तक रहें।

(और पढ़ें – वजन और मोटापा कम करने के लिए योग मुद्रा)

गठिया रोग के उपचार के लिये मार्जरासन – Gathiya ke liye yoga marjariasana in Hindi

यह आसन करने वाला बिल्ली के समान दिखाई देता हैं इसलिए इसे कैट पोज़ भी कहते हैं। यह आपकी रीड की हड्डी को लचीला बनता हैं और रक्त के प्रवाह को बढ़ता हैं। इस आसन को करने के लिए आप घुटने टेक के अपने दोनों हाथों को जमीन पर रख लें, अपने सिर को सीधा रखें। अब साँस को अन्दर लेते हुए अपने सिर को पीछे की और अपनी ठोड़ी को ऊपर करें। अब साँस छोड़ते हुए सिर को सीधा करें। इसके बाद फिर से अपने सिर को नीचे करें और अपनी ठोड़ी को अपनी छाती से लगाने का प्रयास करें। इस आसन को पांच से छः बार करें इससे आपको लाभ होगा।

(और पढ़ें – बकासन योग करने की विधि और फायदे)

गठिया रोग के लिए योग में करें वृक्षासन – Tree Pose yoga for arthritis in Hindi

गठिया रोग के लिए योग में करें वृक्षासन - Tree Pose yoga for arthritis in Hindi

इस आसन में आप एक पेड़ के समान दिखाई देते हैं। यह आसन आपके पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता हैं। इस आसन को करने लिए आप एक चटाई पर सीधे खड़े हो जाएं अपने दोनों हाथों को जोड़ लें। अब अपने एक पैर को ऊपर कर के दूसरे पैर की जांघ पर रखें। अब इस आसन में अपनी क्षमता के अनुसार रहें और फिर पैर को नीचे करके प्रारंभिक अवस्था में आयें। यह आसन गठिया रोग में मदद करेगा।

(और पढ़ें – वृक्षासन के फायदे और करने का तरीका)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration