सिट अप्स एक्सरसाइज करने का तरीका और फायदे – Sit Ups Exercise And Their Benefits In Hindi

सिट अप्स एक्सरसाइज करने का तरीका और फायदे – Sit Ups Exercise And Their Benefits In Hindi
Written by Shivam

Sit Ups Exercise In Hindi सिट अप्स एक्सरसाइज आपके शरीर को फिट रखने के लिए बहुत ही अच्छा व्यायाम माना जाता है। आज  हर व्यक्ति स्लिम और ट्रिम कोर (trim core) के लिए तरसता है पर उसे यह आसानी से नहीं मिल पाता है। अपने पेट से वसा को कम करने के लिए सिट अप एक्सरसाइज बहुत ही फायदेमंद होती है। यदि सावधानी से किया जाएं तो सिट अप्स व्यायाम करने अनेक लाभ है। सिट अप एक्सरसाइज को अपनी नियमित दिनचर्या में जोड़ा जा सकता है क्योंकि यह अपने वर्कआउट के लिए अच्छा व्यायाम है। आज के इस लेख में हम सिट अप्स एक्सरसाइज करने का तरीका और सिट अप्स करने के फायदे को विस्तार से जानेगें।

  1. सिट अप्स व्यायाम कई मांशपेशियों पर कार्य करता है – Sit Up Work multiple muscles in Hindi
  2. सिट अप एक्सरसाइज से चोट की संभावना होती है – Sit ups Exercise se chot ke sambhavna hoti hai in Hindi
  3. सिट अप्स एक्सरसाइज करने का तरीका – Steps to do Sit ups Exercise in Hindi
  4. सिट अप के अन्य प्रकार –  Other types of sit ups in Hindi
  5. सिट अप्स एक्सरसाइज करने के फायदे – Sit Ups Exercise Benefits In Hindi
  6. सिट-अप एक्सरसाइज करने के लिए टिप्स – Tips for Doing Sit-ups Exercises in Hindi
  7. सिट-अप एक्सरसाइज करने के लिए सावधानी – Precautions to do Sit-ups Exercises in Hindi

सिट अप्स व्यायाम कई मांशपेशियों पर कार्य करता है – Sit Up Work multiple muscles in Hindi

सिट अप्स व्यायाम कई मांशपेशियों पर कार्य करता है - Sit Up Work multiple muscles in Hindi

सिट अप व्यायाम मल्टीपल मसल्स पर काम करता है हालांकि सिट अप्स विशेष रूप से पेट की चर्बी को लक्षित नहीं होते हैं। यह वास्तव में एब्डोमिनल के साथ-साथ अन्य मांसपेशियों के समूहों को पर काम करता है। सिट अप एक्सरसाइज छाती, पीठ के निचले हिस्से में, गर्दन और हिप फ्लेक्सर (hip flexors) आदि पर काम करता है। मांसपेशियों की कोशिकाएं, वसा कोशिकाओं की तुलना में अधिक चयापचय रूप से सक्रिय होती हैं। अर्थात वे आराम से भी कैलोरी जलाते हैं। सिट अप व्यायाम मांसपेशियों का निर्माण करने में आपकी मदद करके लंबे समय में आपको अधिक कैलोरी जलाने में मदद करेगा। साथ ही मजबूत कोर मांसपेशियां इस व्यायाम को बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं। सही तरीके से किया गया सिट अप व्यायाम वजन घटाने में लाभदायक होता है।

(और पढ़े – पेट और मोटापा कम करने की एक्सरसाइज…)

सिट अप एक्सरसाइज से चोट की संभावना होती है – Sit ups Exercise se chot ke sambhavna hoti hai in Hindi

सिट अप करते समय आपको अधिक सावधानी रखने की आवश्यकता होती है। सिटअप्स की सबसे बड़ी कमी यह है कि यदि इसे सही ढंग से नहीं किया गया तो पीठ के निचले हिस्से और गर्दन की चोटों की संभावना होती है। यदि आपको इस व्यायाम के दौरान किसी प्रकार का खिंचाव महसूस होता है तो आप डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – पीठ दर्द से छुटकारा पाना है तो अपनाएं ये घरेलू उपाय…)

सिट अप्स एक्सरसाइज करने का तरीका – Steps to do Sit ups Exercise in Hindi

सिट अप्स एक्सरसाइज करने का तरीका - Steps to do Sit ups Exercise in Hindi

सिट अप्स व्यायाम एक सरल वर्कआउट है इसे करने के लिए आप निम्न स्टेप्स का पालन करें।

  • सिट अप्स एक्सरसाइज करने के लिए आप सबसे पहले आप किसी स्थान पर एक्सरसाइज मैट को बिछा कर उस पर सीधे लेट जाएं
  • अपने दोनों हाथों को सीधा फर्श पर रखें और दोनों पैरों को घुटनों से मोड़ कर जमीन पर रखें।
  • अब अपने दोनों हाथों को ऊपर ले जाकर सिर के पीछे रख लें।
  • अब साँस को छोड़ते हुए अपने शरीर के ऊपर के हिस्से को अपने घुटनों की ओर ले जाएं।
  • अब साँस को लेते हुयें पुनः नीचे की ओर आयें और फिर से लेट जाएं।
  • यह सिट अप का एक reps होता है। आपको शुरआत में ऐसे 10 reps करने है फिर धीरे-धीरे इसकी संख्या को बढ़ाते जाएं।

(और पढ़े – बॉडी फिटनेस टिप्स इन हिंदी…)

सिट अप के अन्य प्रकार –  Other types of sit ups in Hindi

सिट अप व्यायाम के कुछ अन्य प्रकार भी होते हैं, आइये इन प्रकारों को करने के तरीको को विस्तार से जानते है।

  • सिट अप्स एक्सरसाइज करने के लिए आप सबसे पहले आप किसी स्थान पर एक्सरसाइज मैट को बिछा कर उस पर सीधे लेट जाएं।
  • दोनों पैरों को घुटनों से मोड़ कर जमीन पर रखें।
  • अपने दोनों हाथों को क्रास की स्थिति में कंधे पर रख लें, अर्थात दायां हाथ बाएं कंधे पर और बायां हाथ दायं कंधे पर रखें।
  • अब साँस को छोड़ते हुए अपने शरीर के ऊपर के हिस्से को अपने घुटनों की ओर ले जाएं।
  • अब साँस को लेते हुयें पुनः नीचे की ओर आयें और फिर से लेट जाएं।

इसके साथ आप आप कुछ सिट अप को भी कर सकते हैं

  1. तिरछा सिट अप्स एक्सरसाइज- Oblique sit ups in Hindi – इसमें अपने साइड एब्स पर कम काम करना होता है। इस व्यायाम को करने के लिए आपको सामान्य सिट अप में लेटना होता है फिर दोनों हाथों को क्रास की स्थिति में कंधे पर रखकर दाएं और बाएं ओर घूमना होता है।
  2. बाइसिकल सिट-अप्स – Bicycle sit-ups in Hindiइस व्यायाम में अपने पैरों को साइकिल के जैसे ऊपर नीचे करना होता है। बाइसिकल सिट-अप्स आपके पैरों की कसरत के लिए अच्छा होता है।
  3. रिवर्स क्रंचेस एक्सरसाइज – Reverse crunch in Hindi – सिट अप व्यायाम के इस प्रकार में आपको अपने दोनों हाथों और ऊपर के शरीर को जमीन पर रख कर केवल दोनों पैरों को ऊपर उठाना होता है।
  4. जैकनाइफ सिट अप्स – Jackknife Sit Ups in Hindi – जैकनाइफ सिट अप्स व्यायाम में आपके ऊपर के शरीर और पैरों की अच्छी कसरत हो जाती है। इस सिट अप्स एक्सरसाइज के इस प्रकार में आपको दोनों हाथ और पैर को ऊपर उठाना होता है।
  5. एक्सरसाइज बॉल – exercise ball Sit Ups in Hindi – एक्सरसाइज बॉल सिट अप्स उन लोगों के लिए लाभदायक है जिनके पीठ में दर्द रहता है। अपने पीठ के नीचे एक्सरसाइज बॉल को रख कर आप इस व्यायाम को कर सकते है।

(और पढ़े – फिट बॉडी बनाने के लिए एक्सरसाइज…)

सिट अप्स एक्सरसाइज करने के फायदे – Sit Ups Exercise Benefits In Hindi

सिट अप्स एक्सरसाइज करने के फायदे - Sit Ups Exercise Benefits In Hindi

सिट अप एक्सरसाइज करने से हमारे शरीर को अनेक लाभ प्राप्त होते हैं आइये इसके लाभों को विस्तार से जानते हैं-

  • सिट अप एक्सरसाइज कोर ताकत में सुधार करता है।
  • हिप फ्लेक्सर (hip flexor) ताकत में सुधार करने के लिए सिट अप व्यायाम लाभदायक होता है।
  • सिट अप व्यायाम पेट की चर्बी कम करने में मदद करता है।
  • आपके शरीर में लचीलापन बढ़ाने के लिए यह व्यायाम अच्छा माना जाता है।
  • एब क्षेत्र (abs area) को टोन करने के लिए सिट अप एक्सरसाइज एक अच्छा वर्कआउट माना जाता है।
  • यह व्यायाम आपके शरीर की मुद्रा में भी सुधार करता है।

(और पढ़े – पेट कम करने की एक्सरसाइज हिंदी…)

सिट-अप एक्सरसाइज करने के लिए टिप्स – Tips for Doing Sit-ups Exercises in Hindi

सिट-अप एक्सरसाइज करने के लिए आपको निम्न टिप्स को अपने ध्यान में रखें-

  • शुरुआती को 10 प्रतिनिधि के 3 सेट के साथ शुरू करना चाहिए और उसके बाद धीरे-धीरे इसकी संख्या को बढ़ाना चाहिए।
  • इस व्यायाम के दौरान गहरी साँस लें और धीरे-धीरे छोड़ें।
  • अपने दोनों पैरों को बट (butt) से 12-18 इंच की दूरी पर रखें। यदि आप इसे नहीं कर सकते हैं अपने पैरों की दूरी को बढ़ा लें।
  • लोअर बैक पेन (Lower back pain) सिट-अप्स का अभ्यास करने वाले लोगों की मुख्य शिकायत है। दर्द से बचने के लिए पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव को कम करने के लिए आप एक्सरसाइज बॉल के साथ सिट-अप कर सकते हैं।

(और पढ़े – हिप्स कम करने के घरेलू उपाय और एक्सरसाइज…)

सिट-अप एक्सरसाइज करने के लिए सावधानी – Precautions to do Sit-ups Exercises in Hindi

सिट-अप एक्सरसाइज करने के लिए सावधानी - Precautions to do Sit-ups Exercises in Hindi

सिट-अप व्यायाम करने लिए आपको निम्न सावधानी को रखना बहुत ही आवश्यक हैं-

  • अगर आपको सिट अप व्यायाम करने में गर्दन में खिंचाव महसूस होता है तो व्यायाम बंद कर दें। और अपने सिर की मुद्रा ठीक करें।
  • सिट अप एक्सरसाइज में नीचे जाते समय अपनी पीठ को पूरी तरह से जमीन पर ना रखें, इससे आप इस कसरत की पूरा लाभ नहीं ले पायेंगें।
  • इस व्यायाम को करते समय अपनी दोनों पैरों को जमीन पर ही रखा रखने दें, उनको ऊपर ना उठने दें।

(और पढ़े – फिट रहने के लिए सिर्फ दस मिनट में किए जाने वाले वर्कआउट और एक्सरसाइज…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration