सुदर्शन क्रिया क्या है, कैसे करें और इसके फायदे – Sudarshan Kriya steps and benefits in Hindi

सुदर्शन क्रिया क्या है, कैसे करें और इसके फायदे - Sudarshan Kriya steps and benefits in Hindi
Written by Shivam

Sudarshan Kriya in Hindi सुदर्शन क्रिया एक साँस लेने की तकनीक हैं। श्वास लेना जीवन की पहली क्रिया है। सांस के भीतर जीवन का अस्पष्टीकृत रहस्य छुपा हुआ है। सुदर्शन क्रिया शक्तिशाली सरल लयबद्ध श्वसन तकनीक है जो सांस की विशिष्ट प्राकृतिक लय को शामिल करती है, जो शरीर, मन और भावनाओं को सामंजस्य प्रदान करती है। तनाव और चिंता हमारे आधुनिक जीवन शैली के उप-उत्पाद हैं। यह क्रिया आपके शरीर, मन और आत्मा को शुद्ध करने के लिए एक योगिक अभ्यास है। इस क्रिया को श्री श्री रविशंकर ने विकसित किया और अपने आर्ट ऑफ़ लिविंग फाउंडेशन द्वारा पेटेंट कराया।

यह क्रिया चिंता, तनाव और अवसाद जैसे मुद्दों के लिए भी प्रभावी बताई गयी है। कुछ धैर्य और एक अच्छी शुरुआत के साथ, आप इस क्रिया के साथ अपने शरीर और मन को शुद्ध करना और डिटॉक्सिफाई (detoxifying) करना शुरू कर सकते हैं, जो लंबे समय तक चलने वाले परिणाम देते हैं।

सुदर्शन क्रिया तनाव, थकान और नकारात्मक भावनाओं जैसे हताशा, क्रोध और अवसाद को समाप्त करती है, जिससे मन शांत, केंद्रित और शरीर ऊर्जावान और पूरी तरह से तनावमुक्त हो जाता है। आइये सुदर्शन क्रिया को करने के तरीके और इससे होने वाले लाभ को विस्तार से जानते हैं।

1. सुदर्शन क्रिया क्या है – What is Sudarshan Kriya in Hindi
2. सुदर्शन क्रिया करने का तरीका – Steps to do Sudarshan Kriya in Hindi

3. सुदर्शन क्रिया करने के फायदे – Sudarshan Kriya Karne Ke Fayde in Hindi
4. सुदर्शन क्रिया करने से पहले यह सावधानी रखें – Precautions to do Sudarshan Kriya in Hindi

सुदर्शन क्रिया क्या है – What is Sudarshan Kriya in Hindi

सुदर्शन क्रिया क्या है - What is Sudarshan Kriya in Hindi

सुदर्शन क्रिया साँस लेने की तकनीक जिसे नियमित रूप से विश्राम और तनाव प्रबंधन के लिए किया जाता हैं। सुदर्शन क्रिया एक तीन-भाग योगिक श्वास अभ्यास है जिसे थकान और नकारात्मक भावनाओं को समाप्त करने के लिए बनाया गया है जिससे संपूर्ण शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। सुदर्शन क्रिया संस्कृत भाषा से लिए गया शब्द हैं जिस में “सु” का अर्थ “उचित” है, “दर्शन” का अर्थ है “दृष्टि” और “क्रिया” का अर्थ “कार्य”, “उपक्रम” या “संस्कार” होता है। योग के संदर्भ में, यह क्रिया शरीर को शुद्ध करने के लिए किया जाने वाला एक अभ्यास है। सुदर्शन क्रिया भारत की प्राचीन योगिक विज्ञान में एक प्रमुख विधि है। सुदर्शन क्रिया एक अद्वितीय साँस लेने का अभ्यास है जिसमें चक्रीय श्वास पैटर्न शामिल हैं जो धीमी और शांत करने से लेकर तीव्र और उत्तेजक तक होते हैं। आइये सुदर्शन क्रिया को करने की विधि को जानते हैं।

(और पढ़े – ध्यान योग के फायदे और करने का तरीका…)

सुदर्शन क्रिया करने का तरीका – Steps to do Sudarshan Kriya in Hindi

  1. सुदर्शन क्रिया करने का तरीका उज्जायी प्राणायाम – Sudarshan Kriya Karne Ka Tarika Ujjayi Pranayama in Hindi
  2. सुदर्शन क्रिया क्रिया में करें भस्त्रिका प्राणायाम – Sudarshan Kriya Me Kare Bhastrika Pranayama in Hindi
  3. ओम जप करें सुदर्शन क्रिया क्रिया में – Om jaap kare sudarshan kriya me in Hindi
  4. सुदर्शन क्रिया है सांस को शुद्ध करना – Sudarshan Kriya Hai Saans Ko Shudh Karna in Hindi

सुदर्शन क्रिया करने निम्न चार प्राणायाम से पूरी की जाती हैं। आइये इन चार प्राणयाम को विस्तार से जानते हैं।

सुदर्शन क्रिया करने का तरीका उज्जायी प्राणायाम – Sudarshan Kriya Karne Ka Tarika Ujjayi Pranayama in Hindi

सुदर्शन क्रिया करने का तरीका उज्जायी प्राणायाम - Sudarshan Kriya Karne Ka Tarika Ujjayi Pranayama in Hindi

उज्जायी प्राणायाम में आपको सचेत रूप से सांस लेने की आवश्यकता होती है। आप अपने गले को छूकर अपनी सांस को महसूस कर सकते हैं। उज्जायी एक धीमी गति से साँस लेने की प्रक्रिया है जहाँ आप साँस लेते और साँस छोड़ते हैं। साँस लेना और साँस छोड़ने की अवधि बराबर रखते हैं। इस तकनीक से आपको लगभग प्रति मिनट 2-4 साँस लेने की आवश्यकता होती है। धीमी सांसें आपको अपनी सांस पर नियंत्रण करना सिखाती हैं। उज्जायी प्राणायाम आपको शांत करता है और आपको सचेत रखता है।

(और पढ़े – सिद्धासन करने का तरीका और फायदे…)

सुदर्शन क्रिया क्रिया में करें भस्त्रिका प्राणायाम – Sudarshan Kriya Me Kare Bhastrika Pranayama in Hindi

सुदर्शन क्रिया क्रिया में करें भस्त्रिका प्राणायाम – Sudarshan Kriya Me Kare Bhastrika Pranayama in Hindi

इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक योगा मैट को जमीन पर बिछा के पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं। अपनी रीढ़ की हड्डी को, गर्दन और सिर को सीधा रखें। अपने दोनों हाथों को सीधा करके घुटनों पर रखें और तर्जनी को अंगूठे से मिलाएं। अब एक गहरी साँस अन्दर लें और फिर बलपूर्वक उसके बाहर निकालें। फिर से बलपूर्वक अन्दर की ओर साँस लें और फिर से बलपूर्वक उसे बाहर निकले। इसे कम से कम 21 बार करें। आपको प्रति मिनट 30 साँस लेने में सक्षम होना चाहिए। भस्त्रिका में शरीर को शांत करने के बाद उत्तेजित करने का अनूठा प्रभाव है।

(और पढ़े – भस्त्रिका प्राणायाम करने की विधि और फायदे…)

ओम जप करें सुदर्शन क्रिया क्रिया में – Om jaap kare sudarshan kriya me in Hindi

ओम जप करें सुदर्शन क्रिया क्रिया में - Om jaap kare sudarshan kriya me in Hindi

‘ओम’ की शुद्ध ध्वनि सभी जीवन का आधार है इसका 3 बार जप भी बहुत लाभकारी होता है। ओम का जाप आपको ब्रह्मांड की उत्पत्ति और जीवन के उद्देश्य से जोड़ता है। ओम आपकी सांसों में चलता है जो जीवन का निर्वाह करता है। ओम, जब ज़ोर से कहा जाता है, उसे तीन भागों ए-यू-एम में विभाजित किया जाता है। दो बार ॐ का जाप करें और उसके बाद थोड़ी देर मौन रहें।

(और पढ़े – ओम का अर्थ, महत्व, जप करने का तरीका और फायदे…)

सुदर्शन क्रिया है सांस को शुद्ध करना – Sudarshan Kriya Hai Saans Ko Shudh Karna in Hindi

सुदर्शन क्रिया है सांस को शुद्ध करना - Sudarshan Kriya Hai Saans Ko Shudh Karna in Hindi

सुदर्शन क्रिया सांस लेने का एक उन्नत रूप है। इसके लिए आपको धीमे, मध्यम और तेज चक्रों में सांस लेने की आवश्यकता होती है। साँस चक्रीय और लयबद्ध होनी चाहिए। सुनिश्चित करें कि आपके साँस लेने की अवधि आपके साँस छोड़ने की अवधि से दोगुनी हो। यह अंतिम चरण आपकी दृष्टि को साफ करता है और आपके अस्तित्व को शुद्ध करता है।

(और पढ़े – प्राणायाम करने के तरीके और फायदे…)

सुदर्शन क्रिया करने के फायदे – Sudarshan Kriya Karne Ke Fayde in Hindi

सुदर्शन क्रिया करने के फायदे - Sudarshan Kriya Karne Ke Fayde in Hindi

सुदर्शन क्रिया करने के अनेक लाभ है आइये इनको विस्तार से जानते हैं-

  • यह क्रिया आपको तनाव और चिंता मुक्त रखने में मदद करती है।
  • यह क्रिया आपके मस्तिष्क के कार्य और आपकी रचनात्मकता को बढ़ती है।
  • सुदर्शन क्रिया आपके ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है।
  • यह क्रिया आपकी नींद की गुणवत्ता में सुधार करेगी।
  • सुदर्शन क्रिया कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है और पेट के अंगों के कार्यों में सुधार करती है।
  • सुदर्शन क्रिया आपके संपूर्ण स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार करती है।
  • यह क्रिया आपके आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाएगी और आपको अधिक सहनशील बनाती हैं।
  • यह आपको पूरी तरह से आराम देगी और आपको आंतरिक शांति प्राप्त करने में मदद करेगी।

(और पढ़े – तनाव दूर करने के लिए योग…)

सुदर्शन क्रिया करने से पहले यह सावधानी रखें – Precautions to do Sudarshan Kriya in Hindi

सुदर्शन क्रिया करने से पहले यह सावधानी रखें - Precautions to do Sudarshan Kriya in Hindi

सुदर्शन क्रिया करने से पहले आपको नीचे दी गई कुछ सावधानियां रखना बहुत ही आवश्यक हैं-

  • योग शिक्षक के मार्गदर्शन में सुदर्शन क्रिया सही तरीके से की जानी चाहिए।
  • आप अपने चिकित्सक और योग प्रशिक्षक से परामर्श करके सुनिश्चित करें कि आप सुदर्शन क्रिया करने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से योग्य हैं।
  • गर्भवती महिलाओं को सुदर्शन क्रिया को करने से बचना चाहिए।
  • मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को इस क्रिया को नहीं करना चाहिए।
  • शराब और नशीली दवाओं के का सेवन के बाद इस क्रिया को ना करें।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी में किये जाने वाले योग…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration