पत्‍थरचट्टा के फायदे और नुकसान – Patharchatta Benefits and Side effects in Hindi

पत्‍थरचट्टा के फायदे और नुकसान – Patharchatta Benefits and Side effects in Hindi
Written by Jaideep

पत्‍थरचट्टा (Patharchatta) एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है, पत्थरचट्टा का वैज्ञानिक नाम ब्रायोफिलम पिनाटा (Bryophyllum pinnatum) है। आमतौर पर पथरचटा को अन्‍य नामों जैसे कि मिरेकल लीफ (Miracle Leaf), एयर प्‍लांट (air plant), कैथेड्रल वेल (cathedral bells), लीफ आफ लाइफ (leaf of life) और गोएथे पौधे (Goethe plant) के रूप मे जाना जाता है। यह एक लोकप्रिय घरेलू पौधा है जो उष्‍णकटिबंधीय क्षेत्रों में प्राकृतिक रूप से होता है। यह क्रसुलाकेआ (Crassulaceae) परिवार से संबंधित है। पथरचटा के फायदे बहुत से घरेलू उपचारों के लिए उपयोग किये जाते है। पथरचटा के गुण पथरी हटाने, रक्‍तचाप, सिरदर्द, अस्‍थमा, मूत्ररोग आदि को ठीक करने के लिए जाने जाते है। आइये जाने पत्‍थरचट्टा के फायदे और पत्‍थरचट्टा के नुकसान (Patharchatta ke fayde aur Nuksan) के बारे में।

1. पत्‍थरचट्टा का पौधा – Patharchatta Plant in Hindi
2. पत्‍थरचट्टा के पोषक तत्‍व – Patharchatta Nutrition Value in Hindi
3. पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Ke Fayde in Hindi

4. पत्‍थरचट्टा के नुकसान (साइड इफेक्ट्स) – Patharchatta ke Nuksan (Side effects) in Hindi

पत्‍थरचट्टा का पौधा – Patharchatta Plant in Hindi

एयर प्‍लांट एक लंबा, सीधा और बारहमासी पौधा होता है जो लगभग 1-2 मीटर तक लंबा होता है। यह एक जड़ी बूटी है जो आमतौर पर भारत के सभी घरों में घरेलू पौधे के रूप में मौजूद रहता है। इसके पत्‍ते विभिन्‍न औषधीय उपयोग के लिए जाने जाते हैं। इस पौधे के तने खोखले होते हैं जिनका रंग हरा या लाल होता है। इस पौधे की छाल मोटी, चमकदार और रसीली होती है।

इसकी पत्तियां 5-25 सेमी. लंबी और 2-12 सेमी. चौड़ी होती है। इस पौधे की शाखाओं में 6-7 पत्‍ते होते हैं। इसकी एक विशेषता यह है कि इसके पत्‍ते गीली जमीन पर अलग से नये पौधे को जन्‍म दे सकती हैं। इसके फूलों का रंग हरा-पीला या गुलाबी हो सकता है। ये फूल सर्दी और बसंत के मौसम में फूलते हैं। इसके फल झिल्‍लीदार आवरण से ढके रहते हैं, जिनमें चार भाग होते हैं, ये बीज आकार में छोटे होते हैं जो फूल के आंतरिक भाग में लगे होते हैं। इस पौधे का प्रजनन पत्तियों या बीज से होता है।

पत्‍थरचट्टा के पोषक तत्‍व – Patharchatta Nutrition Value in Hindi

इस घरेलू पौधे के पौधे का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्‍सा में उपयोग किया जाता है। पथरचटा में जीवाणुरोधी, एंटीवायरल, एंटीमिक्राबियल, एंटीफंगल, एंटीहिस्‍टामाइन और एनाफिलेक्टिक गुण होते हैं जो कि लगभग सभी प्रकार की बीमारियों को कम करने में मदद करते हैं।

पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Ke Fayde in Hindi

  1. गुर्दे की पथरी के लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे – Miracle Leaf for Kidney Stones in Hindi
  2. फोड़ों के इलाज में पत्थरचट्टा के पत्तों के फायदे – Leaf of Life for Treating boils in Hindi
  3. पथरचटा के गुण योनि समस्‍याओं के लिए – Patharchatta ke fayde for Vaginal problems in Hindi
  4. सिर दर्द के लिए पत्‍थरचट्टा के लाभ – Patharchatta for Treats Headache in Hindi
  5. पत्थरचट्टा का पेड़ घावों को ठीक करे – Patharchatta ke fayde for Wounds in Hindi
  6. पत्‍थरचट्टा का उपयोग खूनी दस्‍त मे – Patharchatta Treat Bleeding Diarrhea in Hindi
  7. हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए पथरचटा का इस्तेमाल – Patharchatta Helps Heart health in Hindi
  8. मूत्र संबंधी विकारों के लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Useful for Urinary problems in Hindi
  9. दांत दर्द के लिए पत्‍थरचट्टा का उपयोग – Patharchatta Ka Upyog for Toothache in Hindi
  10. पत्‍थरचट्टा के घरेलू उपयोग बुखार के लिए – Patharchatta ke fayde for Fever in Hindi
  11. गर्भावस्‍था में पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Benefits for Pregnancy in Hindi
  12. पत्‍थरचट्टा के गुण बालों के लिए लाभकारी – Patharchatta Ke Gun for Hair in Hindi
  13. अस्‍थमा के लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे – Miracle Leaf for Asthma in Hindi
  14. मधुमेह के लिए पत्थरचट्टा के पत्तों के फायदे – Patharchatta Helpful for Diabetics in Hindi
  15. पत्‍थरचट्टा के उपयोग कब्‍ज को दूर करे – Leaf of Life for Constipation in Hindi
  16. खून को साफ करने में पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta for Purifies Blood in Hindi

पोषक तत्‍वों की अच्‍छी मात्रा और एंटीवायरल गुणों के कारण पत्‍थरचट्टा के फायदे सूजन को कम करने, मासिक धर्म की ऐंठन को रोकने, घावों को भरने, गुर्दे की पथरी को हटाने, आंखों के दर्द को दूर करने, पाचन, दस्‍त आदि समस्‍यओं को दूर करने में मदद करता है। अगर आप पत्‍थरचट्टा के फायदे नहीं जानते हैं, तो यह लेख पत्‍थरचट्टा के फायदे जानने में आपकी मदद करेगा।

(और पढ़े – आँखों को स्वस्थ रखने के लिए 10 सबसे अच्छे खाद्य पदार्थ…)

गुर्दे की पथरी के लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे – Miracle Leaf for Kidney Stones in Hindi

जिन लोगों को गुर्दे की पथरी की समस्‍या होती है, उनके लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे इसलिए हैं क्‍योंकि यह आसानी से पित्‍त पत्‍थर (bile stone) को ठीक कर सकता है। गुर्दे के पत्‍थरों के मामले में पत्‍थरचट्टा के पूरे पौधे को उबालकर 40-50 मिली लीटर काढ़ा तैयार करें जिसे दिन में दो बार सेवन करें। आप 5 ग्राम शिलाजीत के साथ 2 ग्राम पथरचटा के काढ़ें (Decoction) को भी दे सकते हैं आप इसे स्‍वादिष्‍ट बनाने के लिए शहद भी मिला सकते हैं। इस मिश्रण को भी दिन में दो बार तक सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से आप पथरी की समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं।

(और पढ़े – पथरी होना क्या है? (किडनी स्टोन) पथरी के लक्षण, कारण और रोकथाम…)

फोड़ों के इलाज में पत्थरचट्टा के पत्तों के फायदे – Leaf of Life for Treating boils in Hindi

इस आयुर्वेदिक औषधी पथरचटा के फायदे फोड़ों का उपचार करने के लिए चमत्‍कारिक है। पत्थरचट्टा के पत्तों को तोड़कर इन्‍हें हल्‍का गर्म करने के बाद फोड़े और सूजन वाली जगह पर रखकर बांधलें। यह आपकी सूजन को कम करने के साथ ही फोड़ों का उपचार करने में मदद करता है।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

पथरचटा के गुण योनि समस्‍याओं के लिए – Patharchatta ke fayde for Vaginal problems in Hindi

अगर महिलाओं को योनि स्राव का अनुभव होता है तो तुरंत राहत पाने के लिए आप पत्थरचट्टा के पत्तों का उपयोग कर सकतीं हैं। इसके लिए आपको पत्थरचट्टा के पत्तों का 40-60 मिली ग्राम काढ़े (Decoction) के साथ 2 ग्राम शहद को मिलाकर सेवन करें। इस मिश्रण का उपयोग आपको दिन में दो बार करना चाहिए।

(और पढ़े – योनि में सूखेपन का कारण और दूर करने के घरेलू उपाय…)

सिर दर्द के लिए पत्‍थरचट्टा के लाभ – Patharchatta for Treats Headache in Hindi

एयर प्‍लांट या पत्‍थरचट्टा के फायदे उन लोगों के लिए भी होते हैं जो अक्‍सर सिरदर्द की समस्‍याओं से ग्रसित रहते हैं। पथरचटा की पत्तियों से आप अपने सिरदर्द का उपचार कर सकते हैं। इस पौधे की पत्तियों को तोड़ें और उन्‍हें माथे पर चिपकाएं। यह आपके लिए किसी दवा से कम नहीं है। ऐसा करने से आपको सिरदर्द से छुटकारा पाने में मदद मिलती है।

(और पढ़े – सिरदर्द दूर करने के घरेलू उपाय…)

पत्थरचट्टा का पेड़ घावों को ठीक करे – Patharchatta ke fayde for Wounds in Hindi

यदि आपके शरीर के किसी भी अंग में कोई घाव है तो आप पत्‍थरचट्टा का उपयोग करके इन घावों का उपचार कर सकते हैं। आप इसकी पत्तियों को तोड़कर इन्‍हें पीस लें और हल्‍की आंच में गर्म करें। फिर इस मिश्रण को फोड़ों के ऊपर लगाएं। यह जड़ी बूटी घावों को ठीक करने के साथ साथ उनके निशानों को भी दूर करने में आपकी मदद करेगी।

(और पढ़े – गाउट (Gout) के कारण, लक्षण, उपचार, बचाव और घरलू उपाय…)

पत्‍थरचट्टा का उपयोग खूनी दस्‍त मे – Patharchatta Treat Bleeding Diarrhea in Hindi

ब्रायोफिलम पिनाटम (पत्थरचट्टा का पेड़) का उपयोग कर आप दस्‍त के सा‍थ आने वाले खून को रोक सकते हैं। यह पत्‍थरचट्टा के फायदों में से एक है। आप पत्थरचट्टा का पेड़ की पत्तियों के 3-6 ग्राम जूस के साथ जीरा और घी मिलाकर रोगी को रोजाना दो बार पिलाएं। यह दस्‍त के साथ आने वाले खून को रोकने में मदद करता है।

(और पढ़े – दस्त ठीक करने के घरेलू उपाय…)

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए पथरचटा का इस्तेमाल – Patharchatta Helps Heart health in Hindi

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए पथरचटा का इस्तेमाल – Patharchatta Helps Heart health in Hindi

इस आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के फायदे दिल को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए भी जाने जाते है। यह आपके शरीर के सबसे महत्‍वपूर्ण अंग दिल को सुरक्षित रखने में मदद करता है।

(और पढ़े – हार्ट अटेक कारण और बचाव…)

मूत्र संबंधी विकारों के लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Useful for Urinary problems in Hindi

प्‍यास और मूत्र (thirst and urine) से सं‍बंधित परेशानियों को दूर करने के लिए पथरचटा के पत्‍तों का 5 मिली लीटर रस दें। यह इस समस्‍या का प्रभावी रूप से इलाज करने में मदद करता है। पुरुषों में मूत्र संबंधी विकार के मामले में पत्‍थरचट्टा के 40 – 60 ग्राम काढ़ें के साथ 2 ग्राम शहद मिला कर सेवन करना चाहिए। ऐसी स्थिति में इस मिश्रण को दिन में दो बार लेना चाहिए।

(और पढ़े – मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) के कारण, लक्षण और उपचार…)

दांत दर्द के लिए पत्‍थरचट्टा का उपयोग – Patharchatta Ka Upyog for Toothache in Hindi

दांतों के दर्द को ठीक करने के लिए पत्‍थरचट्टा को पारंपरिक दवा के रूप में उपयोग किया जाता है। पत्‍थरचट्टा में एंटी-वायरस और एंटी-बैक्‍टीरिया (anti-bacterial) गुण होते हैं जो आपके दांतों के दर्द को दूर करने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – दांत दर्द ठीक करने के 10 घरेलू उपाय…)

पत्‍थरचट्टा के घरेलू उपयोग बुखार के लिए – Patharchatta ke fayde for Fever in Hindi

पत्‍थरचट्टा के एंटीप्रियेटिक (Antipyretic) गुणों के कारण यह बुखार का इलाज करने में मदद करता है। बुखार एक शर्त के साथ शारीरिक तापमान 38 डिग्री सेल्सियस के ऊपर होने पर होता है। यह वायरस और बैक्‍टीरिया के विरूध शरीर की रक्षा करता है। इन पत्तियों के रस का सेवन करने से बुखार को कम किया जा सकता है।

(और पढ़े – ऐसे दूर रहें वायरल फीवर से…)

गर्भावस्‍था में पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Benefits for Pregnancy in Hindi

गर्भावस्‍था में पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta Benefits for Pregnancy in Hindi

कुछ अध्‍ययनों से पता चलता है कि पत्‍थरचट्टा के पत्‍ते गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद होते हैं। जानवरों पर किये गए अध्‍ययन से यह साबित होता है कि यह गर्भावस्‍था के समय इन पत्तियों का काढ़ा पीने से यह वजन को बढ़ने से रोकता है और मां और उसक भ्रूण को कोई भी नुकसान नही पहुंचाता है। गर्भावस्‍था के समय महिलाओं द्वारा इन पत्तियों के रस का सेवन करने से नींद संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में मदद मिलती है।

(और पढ़े – गर्भावस्था में आहार जो देगा माँ और बच्चे को पूरा पोषण…)

पत्‍थरचट्टा के गुण बालों के लिए लाभकारी – Patharchatta Ke Gun for Hair in Hindi

पत्‍थरचट्टा के गुण बालों के लिए लाभकारी – Patharchatta Ke Gun for Hair in Hindi

कुछ लोगों का मानना है कि पत्‍थरचट्टा के फायदे बालों को स्‍वस्‍थ्‍य बनाते हैं और उन्‍हें प्राकृतिक रंग दिलाने में मदद करते हैं। हालाकि इसके अभी तक कोई भी वैज्ञानिक पुष्टि नहीं की गई है। फिर भी कुछ लोगों का दावा है कि इस पौधे की पत्तियों के रस का उपयोग बालों पर करने से यह उन्‍हें भूरे रंग से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है। आप भी इस आयुर्वेदिक औषधी का उपयोग कर लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

(और पढ़े – जल्दी बाल बढ़ाने के लिए सबसे असरदार तेल…)

अस्‍थमा के लिए पत्‍थरचट्टा के फायदे – Miracle Leaf for Asthma in Hindi

कई पशु अध्‍ययनों से पता चलता है कि पत्‍थरचट्टा में एंटी-अस्‍थमा गुण होते हैं। पत्‍थरचट्टा में एंटीमाइक्रोबायल एजेंट होते हैं जो अस्‍थमा के इलाज में मदद करते हैं। यदि आप अस्‍थमा रोग से परेशान हैं तो आप पत्‍थरचट्टा का उपयोग कर सकते हैं, यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

(और पढ़े – अस्थमा (दमा) के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव…)

मधुमेह के लिए पत्थरचट्टा के पत्तों के फायदे – Patharchatta Helpful for Diabetics in Hindi

मधुमेह के लिए पत्थरचट्टा के पत्तों के फायदे – Patharchatta Helpful for Diabetics in Hindi

ब्रायोफिलम पिनाटम (Bryophyllum pinnatum) की पत्तियों का उपयोग कर आप मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं। मधुमेह रोगी को प्रतिदिन दो बार पत्थरचट्टा के पत्तों के काढ़े का सेवन करना चाहिए। यह आपके शरीर में रक्‍तशर्करा के स्‍तर को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़े – शुगर ,मधुमेह लक्षण, कारण, निदान और बचाव के उपाय…)

पत्‍थरचट्टा के उपयोग कब्‍ज को दूर करे – Leaf of Life for Constipation in Hindi

कब्‍ज को दूर करने के लिए पत्‍थरचट्टा के पत्‍तों का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है। आप इसके लिए पत्‍थरचट्टा के सूखे पत्‍तों की चाय का सेवन कर सकते हैं। यह आपको कब्‍ज से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा।

(और पढ़े – कब्ज के कारण और इलाज…)

खून को साफ करने में पत्‍थरचट्टा के फायदे – Patharchatta for Purifies Blood in Hindi

इस जड़ी बूटी में खून को साफ करने वाले गुण होते हैं, जो शरीर से विषाक्‍त पदार्थों को हटाने में मदद करता है। खून मे अशुद्धियां होने के कारण त्‍वचा संबंधी बहुत सी परेशानियां हो सकती है। ऐसी परेशानियों से बचने के लिए आप पत्‍थरचट्टा का उपयोग कर सकते हैं। यह आपके रक्‍त को साफ कर आपके शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने में मदद करता है।

(और पढ़े – क्या आप जानते हैं टैटू के नैनोकणों वास्तव में आपके रक्त के साथ घुल सकते हैं…)

पत्‍थरचट्टा के नुकसान (साइड इफेक्ट्स) – Patharchatta ke Nuksan (Side effects) in Hindi

ऊपर आपने जाना पत्‍थरचट्टा के फायदों के बारे में, अभी तक ज्ञात अध्‍ययनों के आधार पर पत्‍थरचट्टा के किसी भी गंभीर नुकसान की जानकारी नहीं है। लेंकिन फिर भी आप किसी भी प्रकार की चिकित्‍सकीय दवाओं का सेवन कर रहें हैं मुख्‍य रूप से एस्प्रिन या अन्‍य दवाएं तो हो सकता है ऐसे में पत्‍थरचट्टा का सेवन करना इन दवाओं के असर को कम या बढ़ा दे, इसलिए ऐसी किसी भी समस्‍या से बचने के‍ लिए इलाज के दौरान या बिना पूर्ण जानकारी के पत्‍थरचट्टा का सेवन करने से बचें।

(और पढ़े – ब्राह्मी के फायदे और नुकसान…)

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration