प्यार और दोस्ती में क्या फर्क होता है – Difference Between Love And Friendship in Hindi

प्यार और दोस्ती में क्या फर्क होता है - Difference Between Love And Friendship in Hindi
Written by Daivansh

love vs friendship in Hindi क्या दोस्त और प्रेमिका के बीच का अंतर आपको मालूम है क्या आपकी कोई दोस्त है और आप दोस्ती और गर्लफ्रेंड में फर्क नहीं कर पा रहें है तो जानें दोस्ती और प्यार में क्या अंतर होता है, दोस्ती और प्यार में क्या फर्क है?  माना जाता है कि दोस्ती और प्यार एक ही सिक्के के दो पहलू होते हैं। लड़का और लड़की में सबसे पहले दोस्ती होती है और बाद में प्यार हो जाता है। चूंकि हमारे समाज में लड़कियों का लड़कों से बात करना सही नहीं माना जाता है और लड़कियों पर पाबंदियां भी लगायी जाती हैं शायद यही कारण है कि लड़के और लड़कियों की दोस्ती बहुत ही कम देखने को मिलती है लेकिन गर्लफ्रेंड और ब्वॉयफ्रेंड बनाने का चलन तो बहुत ही आम है।

इन सबके बावजूद भी स्कूल और कॉलेजों में लड़के लड़कियां दोस्ती करते हैं और उसे निभाते भी हैं। लेकिन फिर भी लोग इनकी दोस्ती को शक की निगाह से देखते हैं। अगर आप भी दोस्ती और प्यार को लेकर भ्रम में हैं तो इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि दोस्ती और प्यार में क्या अंतर है।

  1. प्यार में शारीरिक आकर्षण ज्यादा होता है, दोस्ती में नहीं – Physical attraction is main Difference Between Love And Friendship in Hindi
  2. प्यार और दोस्ती में फर्क प्यार में जलन की भावना होती है, दोस्ती में नहीं – Jealousy is key Difference Between love vs friendship in Hindi
  3. दोस्ती और प्यार की फीलिंग भी अलग होती है – Feeling is Different Between love vs friendship in Hindi
  4. प्यार और दोस्ती में फर्क, प्यार में दोस्ती की अपेक्षा बहाने अधिक खोजे जाते हैं – More excuses in love than friendship in Hindi
  5. प्यार में फोन कॉल्स दोस्ती से ज्यादा जरूरी होता है – Phone call is main Different Between love vs friendship in Hindi
  6. प्यार में अलग और दोस्ती में अलग गिफ्ट दिए जाते हैं  – gift’s importance Different Between love vs friendship in Hindi
  7. प्यार और दोस्ती की भावनाओं में अंतर होता है – Emotion difference Between love vs friendship in Hindi
  8. प्यार में उनकी याद ज्यादा आती है दोस्ती में नहीं – You remember more in love than friendship in Hindi
  9. प्यार और दोस्ती में फर्क प्यार में लोग रोते हैं जबकि दोस्ती में नहीं – You will cry in love but not in friendship in Hindi

प्यार में शारीरिक आकर्षण ज्यादा होता है, दोस्ती में नहीं – Physical attraction is main Difference Between Love And Friendship in Hindi

प्यार में शारीरिक आकर्षण ज्यादा होता है, दोस्ती में नहीं - Physical attraction is main Difference Between Love And Friendship in Hindi

वास्तव में दोस्ती और प्यार में अंतर का पता लगाने का तरीका बेहद आसान है। यदि आप किसी लड़की को सिर्फ अपना दोस्त मानते हैं लेकिन वह आपकी तरफ आकर्षित हो रही हो और आपको छूने या आपके साथ अकेले में समय बिताने का मौका ढूंढ रही हो तो इसका मतलब यह है कि यह दोस्ती नहीं बल्कि प्यार है। दोस्ती होने पर लड़का लड़की शारीरिक रूप से एक दूसरे के प्रति आकर्षित नहीं होते हैं ना ही एक दूसरे को छूने का मौका खोजते हैं। ऐसी स्थिति तब आती है जब दोनों के बीच प्यार पनपता है। इससे आप दोनों में अंतर समझ सकते हैं।

(और पढ़े – लव या लस्‍ट जानें प्यार और वासना में क्या अंतर होता है…)

प्यार और दोस्ती में फर्क प्यार में जलन की भावना होती है, दोस्ती में नहीं – Jealousy is key Difference Between love vs friendship in Hindi

प्यार और दोस्ती में फर्क प्यार में जलन की भावना होती है, दोस्ती में नहीं - Jealousy is key Difference Between love vs friendship in Hindi

अगर कोई लड़की और लड़का सिर्फ दोस्त हैं तो लड़की किसी अन्य लड़के और लड़का किसी अन्य लड़की की ओर आकर्षित होता है तो दोनों में जलन का कोई भाव नहीं होगा लेकिन यदि दोनों में से किसी एक व्यक्ति को भी अपने दोस्त से प्यार है तो वह कभी नहीं चाहेगा कि आप दोनों के बीच कोई तीसरा आए या आप किसी और व्यक्ति के प्यार में पड़ें। यदि आपके साथ ऐसा हो रहा हो और मन ही मन इस बात से ईर्ष्या हो रही हो कि आपका दोस्त किसी और लड़की से क्यों बात करता है तो जनाब आप अपने दोस्त के साथ प्यार में हैं।

(और पढ़े – इन आदतों से जानें कि आपका बॉयफ्रेंड किसी दूसरी लड़की को चाहता है…)

दोस्ती और प्यार की फीलिंग भी अलग होती है – Feeling is Different Between love vs friendship in Hindi

दोस्ती और प्यार की फीलिंग भी अलग होती है - Feeling is Different Between love vs friendship in Hindi

वैसे तो दोस्ती में सभी लोग अपने दोस्तों की परवाह करते हैं, उसका ध्यान भी रखते हैं लेकिन यदि दोनों के बीच दोस्ती से आगे कुछ और ही पनप रहा है तो यह सिर्फ दोस्ती ही नहीं बल्कि प्यार है। दोस्ती में लोग अपने दोस्तों को लेकर अधिक कैजुअल रहते हैं और उसको लेकर ज्यादा टेंशन नहीं लेते हैं जबकि प्यार में आप छोटी छोटी चीजों का ध्यान रखते हैं। उसने खाना खाया या नहीं, ये सवाल पूछने से लेकर वह आपके लिए क्या महसूस कर रही है या कर रहा है यह बात भी आप जानना चाहते हैं जबकि दोस्ती की फीलिंग ऐसी नहीं होती है।

(और पढ़े – प्यार जताने के अनोखे तरीके…)

प्यार और दोस्ती में फर्क, प्यार में दोस्ती की अपेक्षा बहाने अधिक खोजे जाते हैं – More excuses in love than friendship in Hindi

प्यार और दोस्ती में फर्क, प्यार में दोस्ती की अपेक्षा बहाने अधिक खोजे जाते हैं - More excuses in love than friendship in Hindi

ज्यादातर लोग दोस्तों के बुलाने पर ही उनसे मिलने जाते हैं या उनके साथ पार्टी करते हैं जबकि प्यार में ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता है। प्यार होने पर आप उससे मिलने के लिए हजार तरह के बहाने और मौके ढूंढेंगे। कोई भी त्योहार या उसके बर्थडे की तारीख पर उसे विश करना नहीं भूलेंगे जबकि आप ऐसे मौकों पर दोस्तों को सिर्फ मैसेज करके काम चला लेते हैं। दोस्ती में इस बात की भी चिंता नहीं रहती है कि आप क्या पहनकर अपनी दोस्त से मिलने जा रहे हैं जबकि प्यार होने पर उससे मिलने जाने से पहले यह सोचना पड़ता है कि क्या पहनें।

(और पढ़े – प्यार जताने के लिए कैसे करें किस और इसे बेहतर बनाने के तरीके…)

प्यार में फोन कॉल्स दोस्ती से ज्यादा जरूरी होता है – Phone call is main Different Between love vs friendship in Hindi

प्यार में फोन कॉल्स दोस्ती से ज्यादा जरूरी होता है - Phone call is main Different Between love vs friendship in Hindi

हम सभी जानते हैं कि हम अपने दोस्तों से रोजाना फोन पर बातें नहीं करते हैं और कभी कभी बहुत जरूरी काम होने पर भी उसे फोन करने की बजाय व्हाट्सएप संदेश पर बात करके काम चला लेते हैं। जबकि प्यार में ऐसा नहीं होता है। प्यार में लोग एक दूसरे को रोज फोन करते हैं। कुछ लोग तो अपने लवर्स को पूरे दिन फोन करके पल पल की खबर लेते रहते हैं। प्यार में लोग देर रात तक और छुपछुपकर बातें करते हैं जबकि दोस्ती खुली किताब की तरह होती है और दोस्त से बात करने के लिए किसी से छुपना नहीं पड़ता है।

(और पढ़े – लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप क्या है, फायदे, नुकसान और बनाए रखने के उपाय…)

प्यार में अलग और दोस्ती में अलग गिफ्ट दिए जाते हैं  – gift’s importance Different Between love vs friendship in Hindi

प्यार में अलग और दोस्ती में अलग गिफ्ट दिए जाते हैं  - gift’s importance Different Between love vs friendship in Hindi

वैसे तो लोग विभिन्न अवसरों पर अपनी दोस्त को गिफ्ट तो देते ही हैं लेकिन अगर किसी कारणवश गिफ्ट नहीं दे पाते हैं तो दोस्त को बुरा भी नहीं लगता है। जबकि प्यार में ऐसा नहीं होता है। अगर आप प्यार में हैं तो आपको इस बात कि चिंता रहेगी की आप अपने लवर्स को गिफ्ट क्या दें। अगर आप परिस्थितिवश गिफ्ट खरीदने में सक्षम नहीं हैं तो भी आप कहीं न कहीं से व्यवस्था करके उसे देने के लिए गिफ्ट खरीदेंगे ही। अगर आप अपने लवर्स को गिफ्ट न दें तो हो सकता है कि उसे बुरा लगे लेकिन दोस्ती में गिफ्ट न देने के बावजूद आपकी दोस्त का व्यवहार आपके लिए वैसा ही रहेगा।

(और पढ़े – पार्टनर गर्लफ्रेंड या पत्नी के साथ आपका स्वभाव बताएगा आपका रिलेशनशिप स्टेटस्…)

प्यार और दोस्ती की भावनाओं में अंतर होता है – Emotion difference Between love vs friendship in Hindi

प्यार और दोस्ती की भावनाओं में अंतर होता है - Emotion difference Between love vs friendship in Hindi

अगर आप दोनों सिर्फ दोस्त हैं तो एक दूसरे के साथ होने पर बिल्कुल सामान्य तरीके से रहेंगे लेकिन आप दोनों के बीच प्यार है तो आप दोनों दूसरों के सामने सामान्य नहीं हो पाएंगे। इसका अर्थ यह है कि दूसरों के सामने आपलोग खुलकर बातें नहीं करेंगे। दोस्ती में रोमांटिक ख्याल नहीं आते हैं जबकि प्यार होने पर दोनों अपने को हीरो हीरोइन समझते हैं। आपका सजना संवरना, हावभाव, बात करने का तरीका, एक दूसरे को देखकर खुश होना, एक दूसरे को याद करना, फोन न करने पर शिकायत करना या लड़ना जैसी बातें होंगी।

(और पढ़े – महिलाओं को रोमांटिक बनाने के आसान तरीके…)

प्यार में उनकी याद ज्यादा आती है दोस्ती में नहीं – You remember more in love than friendship in Hindi

प्यार में उनकी याद ज्यादा आती है दोस्ती में नहीं - You remember more in love than friendship in Hindi

यदि सिर्फ दोस्ती है तो दोस्ती में कोई अपने दोस्त को चौबीस घंटे याद नहीं करता है। ज्यादातर लोग तो अपने दोस्तों को काम पड़ने पर ही याद करते हैं। लेकिन प्यार में लोग अपने लवर्स को हर दो मिनट पर याद करते हैं। कभी कभी तो बहुत व्यस्तता होने के बावजूद प्यार में लोग मैसेज करके उनका हालचाल पूछना नहीं भूलते हैं। लेकिन दोस्ती में यदि दोस्त फोन न करने की शिकायत करता है तो लोग काम की व्यस्तता का बहाना बनाते हैं और कहते हैं कि टाइम नहीं मिलता है। दोस्ती और प्यार के इस अंतर को आसानी से समझा जा सकता है।

(और पढ़े – रिलेशनशिप जिसे आप प्यार समझ रहे हैं, शायद वो प्यार नहीं धोखा हो…)

प्यार और दोस्ती में फर्क प्यार में लोग रोते हैं जबकि दोस्ती में नहीं – You will cry in love but not in friendship in Hindi

प्यार और दोस्ती में फर्क प्यार में लोग रोते हैं जबकि दोस्ती में नहीं - You will cry in love but not in friendship in Hindi

आमतौर पर दोस्ती में ऐसा होता है कि लोग अपनी दोस्त के दूर चले जाने पर रोते नहीं हैं और ना ही बहुत ज्यादा दुखी होते हैं क्योंकि वे फिर नए लोगों से दोस्ती कर लेते हैं। जबकि प्यार में लवर्स के दूर जाने पर आंखों से सिर्फ आंसू ही बहते हैं। प्रेमी या प्रेमिका के दूर चले जाने पर कई लोग देवदास जैसी हालत बना लेते हैं। लड़के ड्रिंक करने लगते हैं और उसे भूलने के लिए नशे के आदी हो जाते हैं। यदि लवर्स से ब्रेकअप हो गया हो तो जीने मरने की नौबत आ जाती है लेकिन यदि दोस्ती टूटती है तो कुछ दिनों बाद सबकुछ नॉर्मल हो जाता है और कोई भी व्यक्ति एक जगह बैठकर इसके लिए मातम नहीं मनाता है।

(और पढ़े – जब आपका प्यार एकतरफा (वन साइडेड लव) हो तो क्या करें…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration