गर्भावस्था के लिए रक्त परीक्षण - Blood Test for Pregnancy in hindi
गर्भावस्था

गर्भावस्था के लिए रक्त परीक्षण – Blood Test for Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के लिए रक्त परीक्षण - Blood Test for Pregnancy in Hindi

Blood Test for Pregnancy in Hindi गर्भावस्था के समय रक्त परीक्षण करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था का दौर हर महिला के लिए एक बहुत ही खूबसूरत समय होता है। ऐसे में हर तरह के जरुरी गर्भावस्था परीक्षण करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योकि इससे होने वाले बच्चे और महिला को प्रसवपूर्व होने वाली समस्याओं से बचाया जा सकता है और सही समय पर उचित इलाज भी दिया जा सकता है। इसलिए गर्भावस्था का पता लगाने के लिए और गर्भावस्था के समय किये जाने वाले मूत्र और रक्त परीक्षण बहुत ही जरुरी होते है साथ ही इससे प्रेगनेंसी की सटीकता का अंदाजा भी लगाया जा सकता है। इसलिए गर्भावस्था में रक्त परीक्षण करवाना बहुत ही जरुरी है।

आज इस लेख में हम जानेंगे की गर्भावस्था के लिए रक्त परीक्षण करवाना क्यों जरुरी है और कौन कौन से तरह के रक्त परीक्षण गर्भावस्था के समय किये जाते है।

विषय सूची

  1. प्रेगनेंसी में ब्लड टेस्ट करवाना क्यों जरुरी है – Why blood test is necessary in pregnancy in hindi
  2. गर्भावस्था में ब्लड टेस्ट के प्रकार – Types of pregnancy blood test in hindi
  3. प्रेगनेंसी में पहली बार में डॉक्टर आपका कौन सा रक्त परीक्षण करेगा – Which blood tests will doctor prescribe in first time of pregnancy in Hindi
  4. गर्भावस्था की पहली तिमाही में किये जाने वाले ब्लड टेस्ट – Blood test done in first trimester of pregnancy in hindi
  5. प्रेगनेंसी की दूसरी और तीसरी तिमाही में किये जाने वाले ब्लड टेस्ट – Blood test done in second and third trimester of pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी में ब्लड टेस्ट करवाना क्यों जरुरी है – Why blood test is necessary in pregnancy in hindi

प्रेगनेंसी में ब्लड टेस्ट करवाना क्यों जरुरी है – Why blood test is necessary in pregnancy in hindi

रक्त परीक्षण आपकी प्रसवपूर्व देखभाल का एक नियमित हिस्सा है। जब आप अपनी पहली प्रसवपूर्व मीटिंग के लिए अपने डॉक्टर के पास जाती हैं, तो आपको रक्त परीक्षण कराने के लिए कहा जाता है। आपकी अन्य जांचों के साथ ही आपके रक्त समूह की भी जांच की जाती है, इससे यह पता लगाया जा सकता है की कहीं आपको कोई संक्रमण या बीमारियां और आपके शिशु में कोई भ्रूण असामान्यता तो नहीं है। यह प्रारंभिक रक्त परीक्षण बहुत महत्वपूर्ण होता हैं। यह आपकी गर्भावस्था में किसी भी संभावित समस्याओं को भी उजागर कर सकते हैं। आपकी गर्भावस्था की पहली तिमाही में कुछ बिंदु के आधार पर, आपको एक स्क्रीनिंग रक्त परीक्षण की सलाह दी जाती है, जैसे कि एएफपी टेस्ट। यह टेस्ट निर्धारित कर सकता है कि कुछ असामान्यताओं वाले बच्चे को जन्म देने में आपको कोई जोखिम तो नहीं है।

यदि आपके परीक्षण का परिणाम आरएचडी नेगेटिव (RhD negative) हैं, तो आपके रक्त में एंटीबॉडी का पता करने के लिए आपका रक्त परीक्षण 28 सप्ताह के बाद हर चार साप्ताहिक अंतराल पर किया जाएगा।

(और पढ़े – पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी) क्या है, क्यों आवश्यक है, टेस्ट के परिणाम, सामान्य स्तर और कीमत…)

गर्भावस्था में ब्लड टेस्ट के प्रकार – Types of pregnancy blood test in Hindi

गर्भावस्था में ब्लड टेस्ट के प्रकार – Types of pregnancy blood test in hindi

शुरूआती गर्भावस्था के रक्त परीक्षण दो प्रकार से किये जाते है और यह दोनों ही टेस्ट एचसीजी का पता लगाने के लिए आपके डॉक्टर द्वारा उनके क्लिनिक या प्रयोगशाला में किये जाते है, जिनमें शामिल है-

गुणात्मक एचसीजी रक्त परीक्षण (Qualitative HCG blood test)- यह रक्त परीक्षण यह जांचता है कि क्या शरीर में कोई एचसीजी का उत्पादन किया जा रहा है या नहीं। यह रक्त परीक्षण एक साधारण हां या ना जवाब देता है कि क्या आप गर्भवती हैं या नहीं।

मात्रात्मक एचसीजी रक्त परीक्षण (Quantitative HCG blood test) – यह परीक्षण रक्त में मौजूद एचसीजी के विशिष्ट स्तर को मापता है।

यदि आपका एचसीजी स्तर गर्भावस्था के आधार पर आपके अनुमान से अधिक या कम होता है, तो आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं, इसलिए आपका डॉक्टर कुछ अन्य परीक्षण करने की भी सलाह देता है। डॉक्टर आपको अल्ट्रासाउंड करवाने का भी कह सकते है या कुछ दिनों बाद दोबारा एचसीजी परीक्षण दोहरा सकते हैं। एचसीजी स्तर के असामान्य दिखने का सबसे आम कारण आपकी पीरियड्स की तारीखों के बारे में अनिश्चित होना है।

मात्रात्मक एचसीजी रक्त परीक्षण बहुत सटीक होते हैं क्योंकि वे रक्त में एचसीजी की सटीक मात्रा को मापते हैं। वे गुणात्मक एचसीजी रक्त परीक्षण या मूत्र परीक्षण की तुलना में हार्मोन की थोड़ी मात्रा का पता लगा सकते हैं।

(और पढ़े – एचसीजी लेवल कम होने के लक्षण, कारण, इलाज और उपचार…)

प्रेगनेंसी में पहली बार में डॉक्टर आपका कौन सा रक्त परीक्षण करेगा – Which blood tests will doctor prescribe in first time of pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी में पहली बार में डॉक्टर आपका कौन सा रक्त परीक्षण करेगा - Which blood tests will doctor prescribe in first time of pregnancy in Hindi

सबसे सामान्य रक्त परीक्षण जो नियमित रूप से गर्भावस्था की शुरुआत में किए जाते हैं उनमें शामिल है-

रक्त समूह (Blood group)

आपके रक्त समूह को जानना बहुत ही महत्वपूर्ण है, अगर आपको गर्भावस्था या लेबर के दौरान ट्रांसफ्यूज़न की आवश्यकता हो सकती है। रक्त समूह O सबसे आम है। समूह ए, बी और एबी कम आम हैं।

रीसस (आरएच) कारक (Rhesus (Rh) factor)

आपके डॉक्टर को यह जानना होगा कि क्या आप RhD पॉजिटिव हैं, इसका मतलब है कि आपके लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर एक निश्चित प्रोटीन है, या RhD नेगेटिव है, जिसका अर्थ है कि प्रोटीन नहीं है। यदि आप RhD नकारात्मक हैं और आपके पति सकारात्मक हैं, तो एक अच्छा मौका है कि आपका बच्चा RhD सकारात्मक हो सकता है। इस मामले में, आपका शरीर एंटीबॉडी का उत्पादन कर सकता है जो बच्चे की लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट करना शुरू कर देगा।

आयरन लेवल (Iron levels)

यह रक्त परीक्षण आपको बता सकता है कि क्या आपका हीमोग्लोबिन का स्तर कम है, जो आयरन की कमी वाले एनीमिया का संकेत भी हो सकता है। आपके शरीर को लाल रक्त कोशिकाओं में शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन ले जाने के लिए हीमोग्लोबिन का उत्पादन करने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है। यदि आप आयरन की कमी के कारण एनेमिक हैं, तो आपका डॉक्टर आपके शरीर में आयरन को बढ़ावा देने के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों को लेने के लिए कहेगा। वह आयरन की गोलियां भी दे सकते है, क्योंकि गर्भावस्था में एनीमिया के इलाज का यह सबसे अच्छा तरीका है।

28 सप्ताह की गर्भावस्था में आपके हीमोग्लोबिन के स्तर को फिर से जांचा जाएगा। यदि आप थकावट से बहुत पीड़ित हैं या आप जुड़वां बच्चे या अधिक बच्चों को जन्म देने वाली हैं, तो आपका डॉक्टर आपको पहले रक्त परीक्षण कराने की सलाह देगा, ताकि वह जांच सके की कहीं आप एनीमिया से पीड़ित तो नहीं है।

ब्लड शुगर (Blood sugar)

आपका रक्त आपके शरीर में शर्करा के स्तर को इंगित कर सकता है। यदि आप अधिक वजन वाली हैं या आपके परिवार में मधुमेह का पारिवारिक इतिहास रहा है, तो आप में भी गर्भकालीन मधुमेह (gestational diabetes) का विकास हो सकता हैं।

हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B)

यदि आप हेपेटाइटिस बी वायरस की वाहक (carrier) हैं तो रक्त परीक्षण निश्चित रूप से पता लगाने का एकमात्र तरीका है। यदि आप अपने बच्चे के जन्म से पहले या उसके बाद इस बीमारी को अपने बच्चे को देती हैं, तो यह उसके जिगर को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है। शिशुओं में अपनी मां से हेपेटाइटिस बी वायरस के पकड़े जाने के जोखिम को कम करने के लिए बच्चे के पैदा होते ही जल्दी से जल्दी एंटीबॉडीज का इंजेक्शन दिया जाना चाहिए।

एचआईवी / एड्स (HIV/AIDS)

एचआईवी और एड्स का पता लगाने के लिए सभी माताओं को रक्त परीक्षण करवाने की सलाह दी जाती है। यदि आपको पता है कि आपको संक्रमण है, तो गर्भावस्था, जन्म और उसके बाद आपके बच्चे को वायरस के संक्रमण की संभावना को कम करने के लिए कदम उठाए जा सकते हैं। गर्भावस्था में एचआईवी और एड्स के बारे में अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करना जरुरी है।

उपदंश (Syphilis)

गर्भावस्था में यह यौन संचारित रोग आजकल काफी दुर्लभ है, लेकिन अगर आपको यह रोग है और गर्भावस्था के दौरान इसका इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे आपके बच्चे में असामान्यता हो सकती है। सिफलिस के लिए रक्त परीक्षण, जिसे VDRL कहा जाता है, आमतौर पर एक सटीक परीक्षण है, लेकिन यह कभी-कभी एक गलत सकारात्मक परिणाम उत्पन्न कर सकता है, खासकर अगर महिला की जांच की जा रही है जिसे ल्यूपस (lupus) है।

(और पढ़े – रक्त समूह परीक्षण (ब्लड ग्रुप टेस्ट) क्या है, प्रकार, प्रक्रिया, आवश्यकता, और कीमत…)

गर्भावस्था की पहली तिमाही में किये जाने वाले ब्लड टेस्ट – Blood test done in first trimester of pregnancy in hindi

गर्भावस्था की पहली तिमाही में किये जाने वाले ब्लड टेस्ट – Blood test done in first trimester of pregnancy in hindi

कुछ ऐसे गर्भावस्था रक्त परीक्षण है जो आपका डॉक्टर आपको आपकी पहली तिमाही के दौरान करवाने के कह सकता है, ताकि आपके होने वाले बच्चे और आपको प्रसवपूर्व किसी तरह की समस्याओं का सामना ना करना पड़े। पहली तिमाही के गर्भावस्था रक्त परीक्षण में शामिल है-

  • थायराइड के लिए स्क्रीनिंग (Screening for thyroid)
  • रूबेला (जर्मन खसरा) (Rubella (German measles)
  • संयुक्त स्क्रीनिंग टेस्ट (Combined screening test)
  • साइटोमेगालोवायरस (CMV) (Cytomegalovirus CMV)
  • हेपेटाइटस सी (Hepatitis C)
  • हरपीज सिंप्लेक्स वायरस (एचएसवी) (Herpes simplex virus HSV)
  • सिकल सेल रोग और थैलेसीमिया (Sickle cell disease and Thalassemia)
  • विटामिन डी के स्तर के लिए स्क्रीनिंग (Screening for vitamin D levels)

(और पढ़े – गर्भावस्था की पहली तिमाही में भ्रूण का विकास, शारीरिक बदलाव और देखभाल…)

प्रेगनेंसी की दूसरी और तीसरी तिमाही में किये जाने वाले ब्लड टेस्ट – Blood test done in second and third trimester of pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी की दूसरी और तीसरी तिमाही में किये जाने वाले ब्लड टेस्ट – Blood test done in second and third trimester of pregnancy in Hindi

सभी गर्भवती महिलाओं को दूसरी तिमाही के अंत में गर्भकालीन मधुमेह (gestational diabetes) के लिए नियमित रूप से परीक्षण किया जाता है, और उनकी तीसरी तिमाही में भी।

संयुक्त स्क्रीनिंग टेस्ट से डाउन सिंड्रोम के लिए आपके परिणामों के आधार पर, आपको आगे की स्क्रीनिंग टेस्ट की सलाह दी जा सकती है या नहीं भी दी जाती है। दूसरी तिमाही में गर्भावस्था के 15 से 21 सप्ताह के बीच ये अतिरिक्त जांच की जाती है। आपका डॉक्टर यह भी तय करेगा कि आपके थायरॉयड और आयरन के स्तर की निगरानी की आवश्यकता है या नहीं।

(और पढ़े – गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में भ्रूण का विकास, शारीरिक बदलाव और देखभाल…)

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Reference

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration