मटके का पानी पीने के फायदे और नुकसान – Clay or pot (Matka) water benefits and side effects in Hindi

मटके का पानी पीने के फायदे और नुकसान - Clay or pot (Matka) water benefits and side effects in Hindi
Written by Jaideep

इस लेख में आप जानेंगे मटके (घड़े या सुराही) का पानी पीने के फायदे और नुकसान के बारे में, पृथ्‍वी विभिन्‍न विटामिन और खनिजों में समृद्ध है। मिट्टी के बर्तनों में धरती के समान गुण होते हैं। हमारे पूर्वजों को इन गुणों के बारे में पता था, यही कारण है कि वे इन मिट्टी के बर्तनों (clay pots) का ही उपयोग करते थे। अब भी कुछ घरों में पुराने नियमों का पालन किया जाता है और रेफ्रिजेरेटर का उपयोग करने के बजाय इन बर्तनों में पानी रखने को प्राथमिकता देते हैं। मिट्टी के बर्तनों (मटके ) में पानी रखने के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ (health benefits) इस प्रकार हैं

1. मटके का पानी ठंडा क्यों होता है –matke ka pani thanda kyo hota hai
2. मटके का पानी पीने के फायदे गले के उपचार में –Clay or pot (Matka) water Treats bad throat in Hindi
3. मटके का पानी पीने के लाभ पीएच संतुलन में –Matka ke pani ke fayde Alkaline in nature in Hindi
4. मटका वाटर बेनिफिट्स फ़ॉर पाचन – Matka water benefits for digestion in Hindi
5. मटके का पानी पीने के लाभ गर्मी से बचने में  – Matka water benefits Prevents sun strokes in Hindi
6. मिट्टी के बर्तन के फायदे उपचारात्मक गुणों से भरपूर –Clay or pot (Matka) water Healing properties in Hindi
7.
घड़े का पानी बचाए हानिकारक रसायनों से –Matka water Absence of Toxic chemicals in Hindi
8.
मटके के पानी के लाभ एसिडिटी को रोके –Matka water Great cure for acidity in Hindi
9.
मिट्टी के बर्तन प्लास्टिक की बोतलों से सस्ते है –Matka is Cheaper than plastic bottles in Hindi
10.
मिट्टी के बर्तन पर्यावरण के अनुकूल –Matka is Eco-friendly option in Hindi
11. मटके का पानी पीने के नुकसान – Clay or pot (Matka) water side effects in Hindi

मटके का पानी ठंडा क्यों होता है – Matke ka pani thanda kyo hota hai

मिट्टी के बर्तन में प्राकृतिक में छिद्र (porous) होते हैं जो पानी को ठंडा करने में मदद करते हैं। मटके में पानी रखने पर इसका वाष्पीकरणहोता है,  जिससे पानी के कण गर्मी के रूप में ऊर्जा प्राप्त करते हैं और फिर गैस में बदल जाते हैं और हवा के साथ मिश्रित होते हैं और मटके में फैल जाते है,जिससे मटके का पानी ठंडा हो जाता है ये बर्तन आपको केवल पीने के लिए ठंडा पानी नहीं देते बल्कि आपको पृथ्वी (मिट्टी) के गुण भी प्रदान करते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मिट्टी के बर्तनों में जलवायु के अनुसार पानी को ठंडा करने की क्षमता होती है। यह एक विशेष गुणवत्ता है क्योंकि कोई अन्य पात्र (container) इसके समान गुणवत्ता नहीं रखते हैं।

(और पढें – गर्मी से बचने के आसान उपाय)

मटके का पानी पीने के फायदे गले के उपचार में – Clay or pot (Matka) water Treats bad throat in Hindi

गर्मी के महीनों के दौरान फ्रिज (refrigerators) से ठंडा पानी पीना सामान्य बात है। लेकिन रेफ्रजरेटर से पानी के तापमान में अचानक परिवर्तन गले की समस्याओं का कारण बन सकता है। इसके बजाय, मिट्टी के बर्तन से पानी पीने का प्रयास करें। यह पानी अच्छा और पीने में बेहद सुखद होता है। मिट्टी के बर्तन में रखा पानी गले पर अच्छा प्रभाव डालता है। यह खांसी या ठंड (cough or cold) से पीड़ित लोगों के लिए एक आदर्श पेय है। मिट्टी के बर्तन का पानी पूरी तरह आपकी प्‍यास बुझाने के लिए जाने जाते हैं।

(और पढें – गले की खराश को ठीक करने के घरेलू उपाय)

मटके का पानी पीने के लाभ पीएच संतुलन में – Matka ke pani ke fayde Alkaline in nature in Hindi

मिट्टी की प्रकृति क्षारीय होती हैइसलिए यह हमारे शरीर में पीएच संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है, क्‍योंकि ऐसा माना जाता है कि मानव शरीर की प्रकृति अम्‍लीय होती है। क्षारीय मिट्टी अम्‍लीय पानी से प्रतिक्रिया करता है जिससे उचित पीएच संतुलन पैदा होता है। मिट्टी के बर्तन का पानी पीने से अम्‍लता और गैस्‍ट्रोनोमिक दर्द (gastronomic pains) से राहत मिलती है।

(और पढेें – ठंडा पानी पीने के फायदे और नुकसान)

मटका वाटर बेनिफिट्स फ़ॉर पाचन – Matka water benefits for digestion in Hindi

मिट्टी के बर्तन से पानी पीना बीपीए जैसे खतरनाक रसायनों के बिना चयापचय को बढ़ावा दे सकता है जो प्‍लास्टिक की बोतलों और कंटेनरों में पाया जा सकता है। प्‍लास्टिक की बोतलों की अपेक्षा यह शरीर में टेस्‍टोस्‍टेरोन (testosterone) के स्‍तर को संतुलित रखने मे मदद करता है। इसमें उपस्थित खनिज पदार्थ पाचन मे सुधार करने में भी मदद करता है। शरीर की प्राकृतिक चयापचय प्रणाली को मिट्टी के बर्तन में संग्रहीत पानी का उपयोग करके बढ़ाया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि यह पानी किसी भी प्रकार के रासायनिक घटकों के संपर्क में नहीं आता है।

मटके का पानी पीने के लाभ गर्मी से बचने में  – Matka water benefits Prevents sun strokes in Hindi

हम सभी जानते हैं कि गर्मियों में सूर्य की तपन (sun strokes)  कितने आम हैं। आप इसे आसानी से नियंत्रित कर सकते हैं, बस मिट्टी के बर्तन से पानी पीना शुरू करें। क्‍योंकि यह शरीर में ग्‍लूकोज (glucose) को बनाए रखने के लिए आवश्‍यक पोषक तत्‍वों और विटामिनों को उपलब्‍ध करा कर हमें गर्मी के स्‍ट्रोक से रोकता है।

यदि आप वर्तमान में पानी को स्‍टोर करने के लिए मिट्टी के बर्तन का उपयोग नहीं कर रहे हैं, तो आपको सलाह दी जाती है‍ कि आप मटके का उपयोग करें। और यह भी ध्‍यान रखें कि इन बर्तनों को 2-3 दिनों में अच्‍छी तरह से साफ करें और फिर इसमें ताजा पानी भरें।

(और  पढें – लू लगने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज )

मिट्टी के बर्तन के फायदे उपचारात्मक गुणों से भरपूर –Clay or pot (Matka) water Healing properties in Hindi

शायद आपको पता न हो लेकिन मिट्टी के बर्तनों में उपचार गुण (healing properties) होते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि मिट्टी के बर्तन बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की मिनरल युक्‍त मिट्टी का उपयोग किया जाता है। जब पानी को मिट्टी के बर्तन में रखा जाता है तो मिट्टी उपचार शक्तियां पानी के साथ मिलकर आपके शरीर को लाभ प्रदान करती है।

घड़े का पानी बचाए हानिकारक रसायनों से –Matka water Absence of Toxic chemicals in Hindi

मिट्टी के बर्तन से पानी पीने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें किसी भी प्रकार के हानिकारक रसायनों का डर नहीं है। प्‍लास्टिक की बोतलों में एक शक्तिशाली जहरीला रसायन बीपीए के कारण अंत:स्रावी (Endocrine) व्‍यवधान का डर होता है जो कि मिट्टी के बर्तनों में नहीं होता है। मिट्टी के बर्तन में प्रदूषण की संभावनाएं लगभग अनुपस्थित होती हैं। मिट्टी के बर्तनों में पानी भंडारण इसलिए करना चाहिए क्‍योंकि यह न केवल पानी को समृद्ध करता है बल्कि यह भी सुनिश्चित करता है कि यह दूषित नहीं है।

मटके के पानी के लाभ एसिडिटी को रोके –Matka water Great cure for acidity in Hindi

आपको और आपके परिवार के बुजुर्ग सदस्‍यों को मिट्टी के बर्तनों का पानी पीना चाहिए और इसके लाभ प्राप्‍त करना चाहिए। मिट्टी के बर्तनों में पानी के पीएच स्‍तर को संतुलित किया जा सकता है, इसलिए यह गैस्ट्रिक और अम्‍लता (gastric and acidity) से संबंधित समस्‍याओं को रोकने में हमारी मदद करते हैं।

(और पढेें – एसिडिटी के कारण, लक्षण और बचाव के घरेलू उपाय)

मिट्टी के बर्तन प्लास्टिक की बोतलों से सस्ते है –Matka is Cheaper than plastic bottles in Hindi

मिट्टी के बर्तन प्लास्टिक की बोतलों से सस्ते है –Matkais Cheaper than plastic bottles in Hindi

कई वर्षों तक मिट्टी के बर्तनों (clay pots) का उपयोग किया जा सकता है यदि उन्‍हें अच्‍छी तरह से साफ और सुरक्षित रखा जाए। साथ ही ये बर्तन पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल होते हैं, जबकी प्‍लास्टिक बोतलों का केवल एक ही बार उपयोग किया जा सकता है और ये हमारे पर्यावरण को नुकसान भी पहुंचाते हैं। लंबे समय तक उपयोग होने के कारण मिट्टी के बर्तन प्‍लास्टिक बोतलों (plastic bottles) की आपेक्षा काफी सस्‍ते साबित होते हैं।

मिट्टी के बर्तन पर्यावरण के अनुकूल –Matka is Eco-friendly option in Hindi

जीवन के सभी क्षेत्रों में पर्यावरण अनुकूल (Eco-friendly)विकल्पों का उपयोग करना अच्छी पहल है। हम में से अधिकांश लोग प्लास्टिक की बोतलों में पानी रखते हैं और स्‍टोर करते हैं। जबकि हम सभी जानते हैं कि प्लास्टिक आसानी से विघटित (decomposed) नहीं होता है। इसके अलावा इसमें हानिकारक जहरीले रसायन होते हैं। इससे लाखों टन प्लास्टिक कचरे का निर्माण किया जाता है और एक बहुत ही छोटे हिस्सों का पुनर्नवीनीकरण (recycled) किया जाता है। मिट्टी के बर्तन बिल्कुलप्राकृतिक,जैविक (organic) और पर्यावरण के अनुकूल विकल्प होते है।

मटके का पानी पीने के नुकसान – Clay or pot (Matka) water side effects in Hindi

मटका में पानी रखकर उसके इस्तेमाल करने से किसी भी प्रकार के नुकसान की जानकारी नहीं है फिर भी आपको कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है

मटके का पानी पीते समय ध्यान रखने योग्य कुछ सुझाव

  • अपने मटका को साफ और रोगाणु मुक्त रखें। मिट्टी के बर्तन पानी को बरकरार रख सकते हैं और जल्दी से मैल इकट्ठा कर सकते हैं। मटके को भरने से पहले और प्रत्येक उपयोग के बाद साफ़ करना और सुखाना सबसे अच्छा माना जाता है।
  • बाजार में विभिन्न प्रकार के मिट्टी के बर्तन उपलब्ध हैं। एक छोटा सुराही संभालना आसान हो सकता है, जबकि एक बड़ा मटका या घड़ा चारों ओर घूमना मुश्किल हो सकता है।
  • यदि आप मटका का उपयोग करते हैं, तो इसे कीड़ों, धूल और अन्य दूषित पदार्थों को गिरने से रोकने के लिए इसे हर समय ढक कर रखें।
  • पॉट को एक मजबूत टेबल पर रखें या खिड़की के पास रखना चाहिए। हवा पानी को ठंडा रखने में मदद करेगी। गर्म महीनों के दौरान, आप ज्यादा कूलिंग के लिए मटका के चारों ओर एक साफ नम कपड़े को लपेट सकते हैं।
  • मटका से पानी बाहर निकालने के लिए एक साफ, लंबे हाथ वाले हेंडल का प्रयोग करें। एक गिलास डुबोना या अपने हाथ से पानी को छूना इसे दूषित कर सकता है।

(और पढ़े – पर्सनल हाइजीन से जुड़ी 10 गलतियां जिन्हें कभी नहीं करना चाहिए)

Subscribe for daily wellness inspiration