कोरोना वायरस के ये हैं शुरुआती लक्षण और बचाव - Coronavirus Starting Symptoms In Hindi
हेल्थ टिप्स

कोरोना वायरस से पीड़ित होने के ये हैं शुरुआती लक्षण और बचाव – Coronavirus Starting Symptoms In Hindi

कोरोना वायरस के ये हैं शुरुआती लक्षण और बचाव - Coronavirus Starting Symptoms In Hindi

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, कोरोना वायरस अब भारत, इटली और संयुक्त राज्य अमेरिका सहित दुनिया के 198 से अधिक देशों में फैल चुका है और पांच हजार से अधिक लोगों की जान ले चुका है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया भर में संक्रमण के 471,802 मामलों की पुष्टि की गई है।

लेकिन खुशी की बात यह है कि 114,703 से अधिक लोग इससे पूरी तरह ठीक हो चुके हैं।

अगर हम भारत की बात करें तो भारत में अब तक कोरोना वायरस के 673 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। जिसमें से 13 लोगों की मौत भी हो गई है। और 43 लोग इससे पूरी तरह से उबर चुके हैं।

आइए इस लेख में जानते हैं कि कोरोना वायरस क्या है और यह कैसे फैलता है? कोरोना वायरस से पीड़ित होने के शुरुआती लक्षण क्या हैं (coronavirus ke shuruaati lakshan) और आप इससे बचने के लिए क्या कर सकते हैं।

जब कोरोना वायरस से संक्रमित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो उसके थूक के बहुत महीन कण हवा में फैल जाते हैं। इन कणों में कोरोना वायरस के वायरस होते हैं।

एक संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर, ये वायरल कण सांस के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।

यदि आप किसी ऐसे स्थान को स्पर्श करते हैं जहाँ ये कण गिरे हैं और फिर उसी हाथ से अपनी आँख, नाक या मुँह को छूते करते हैं, तो ये कण आपके शरीर में पहुँच जाते हैं।

ऐसे में, खाँसते और छींकते समय टिसू का उपयोग करना, हाथ धोए बिना अपने चेहरे को नहीं छूना और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क से बचना वायरस को फैलने से रोकने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार, साधारण फेस मास्क इससे प्रभावी सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं।

आइए जानते हैं कि कोरोनो वायरस के संक्रमण के लक्षण क्या हैं?

कोरोनो वायरस के संक्रमण के लक्षण क्या हैं? – Coronavirus Starting Symptoms In Hindi

कोरोनो वायरस के संक्रमण के लक्षण क्या हैं? - Coronavirus Starting Symptoms In Hindi

कोरोना वायरस के शुरुआती लक्षण? मानव शरीर में पहुंचने के बाद, कोरोना वायरस उसके फेफड़ों में संक्रमण पैदा करता है। यह पहले बुखार का कारण बनता है, इसके बाद सूखी खांसी होती है। और बाद में सांस लेने में समस्या हो सकती है।

वायरस के संक्रमण के लक्षण दिखने में औसतन पाँच दिन लगते हैं। हालांकि, वैज्ञानिकों का कहना है कि कुछ लोगों में कोरोना वायरस के शुरुआती लक्षण बाद में भी देखे जा सकते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, वायरस को शरीर तक पहुंचने और लक्षण दिखाने में 14 दिन तक का समय लग सकता है। हालांकि कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि यह समय 24 दिन तक का भी हो सकता है।

कोरोना वायरस उन लोगों के शरीर से अधिक फैलता है जो संक्रमण के लक्षण दिखाते हैं। लेकिन कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह वायरस किसी व्यक्ति को बीमार बनाने से पहले भी अन्य लोगों में फैल सकता है।

रोग के प्रारंभिक लक्षण सर्दी और फ्लू के समान हैं, जिसके कारण लोग आसानी से भ्रमित हो सकते है।

और पढ़ें – कैसे पता चलेगा साधारण खांसी है या कोरोना?, घर बैठे मोबाइल से जानें

आइए जानते हैं कि कोरोना वायरस कितना घातक है?

कोरोना वायरस कितना घातक है?

कोरोना वायरस के संक्रमण के आँकड़ों की तुलना में, मरने वालों की संख्या बहुत कम है। हालांकि इन आंकड़ों पर अभी पूरी तरह भरोसा नहीं किया जा सकता है, लेकिन यदि इन आंकड़ों पर विश्वास किया जाए, तो संक्रमण के कारण होने वाली मृत्यु दर केवल दो से तीन प्रतिशत हो सकती है।

वर्तमान में, इससे संक्रमित हजारों लोगों का कई देशों में इलाज चल रहा है और मरने वालों की संख्या बढ़ भी सकती है।

56,000 संक्रमित लोगों के बारे में एकत्रित जानकारी के आधार पर, विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अध्ययन में कहा गया है कि –

इस वायरस के कारण 6 प्रतिशत लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए। इनमें फेफड़ों की विफलता, सेप्टिक शॉक, अंग विफलता और मृत्यु का जोखिम शामिल था।

14 प्रतिशत लोगों में संक्रमण के गंभीर लक्षण देखे गए। सांस लेने में दिक्क़त और जल्दी-जल्दी सांस लेने जैसी तकलीफ हुई।

80 प्रतिशत लोगों में संक्रमण के मामूली लक्षण देखे गए, जैसे कि बुखार और खांसी। कई में इसके कारण निमोनिया भी देखा गया।

कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण वृद्ध लोगों और जो पहले से ही श्वसन रोग (अस्थमा) से पीड़ित हैं, और मधुमेह और हृदय रोग जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, उनके इस वायरस से गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना है।

(और पढ़ें – कोरोना वायरस आपकी कोशिकाओं को कैसे हाईजैक करता है)

कोरोना वायरस का उपचार रोगी को सांस लेने और शरीर की प्रतिरक्षा बढ़ाने में मदद करने पर आधारित है ताकि व्यक्ति का शरीर वायरस से लड़ने में खुद ही सक्षम हो सके।

क्योंकि अभी तक इसका कोई भी टीका या वैक्सीन नहीं बनी है। कोरोना वायरस का टीका बनाने के लिए अभी भी काम चल रहा है।

यदि आप किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं, तो आपको कुछ दिनों के लिए दूसरों से दूर रहने की सलाह दी जा सकती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी लोगों के लिए सावधानी बरतने के तरीकों के बारे में जानकारी जारी की है।

संक्रमण के लक्षण दिखने पर व्यक्ति को अपने स्थानीय स्वास्थ्य सेवा अधिकारी या कर्मचारी से संपर्क करना चाहिए। जो लोग बीते दिनों में किसी कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हैं, उनकी जांच की जाएगी।

फ्लू (जुकाम और सांस फूलने) के लक्षणों के साथ अस्पताल पहुंचने वाले सभी रोगियों का स्वास्थ्य देखभाल अधिकारियों द्वारा परीक्षण किया जाएगा।

आपको परीक्षा परिणाम निकलने तक प्रतीक्षा करने और खुद को दूसरों से दूर रखने के लिए कहा जाएगा।

अब जानते हैं कि कोरोना वायरस कितनी तेजी से फैल रहा है?

कोरोना वायरस कितनी तेजी से फैल रहा है?

दुनियाभर में कोरोना वायरस के सैकड़ों मामले हैं। लेकिन यह भी माना जाता है कि कई मामले अभी भी स्वास्थ्य एजेंसियों की नजरों से बचे हुए हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, दुनिया के 198 देशों में कोरोना वायरस के संक्रमण के 471,802 मामलों की पुष्टि की गई है। इसके कारण अब तक 21,297 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

इस वायरस से संक्रमण के सबसे अधिक मामले चीन, इटली, ईरान और कोरिया में सामने आए हैं। अगर आपको कोरोना वायरस के शुरुआती लक्षण दिखें तो तुरंत इसकी जांच कराएँ और अपनी और अपने परिवार की जान बचाएं।

और पढ़े – 

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration