क्या गर्मी में खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? - Will Coronavirus end in summer in Hindi? - Healthunbox
हेल्थ टिप्स

क्या गर्मी में खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? – Will Coronavirus end in summer in Hindi?

क्या गर्मी में खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? - Will Coronavirus end in summer in Hindi?

क्या भारत का गर्म मौसम कोरोना वायरस को ख़त्म कर देगा? क्या मौसम बदलने के साथ ही कोरोना पर क़ाबू पाया जा सकता है और तापमान बढ़ने से कोरोना वायरस पर क्या असर पड़ेगा इस लेख में हम आज ऐसे ही सवालों पर चर्चा करने वाले हैं। दुनिया भर में कोरोनो वायरस के लगभग एक लाख मामले सामने आ चुके हैं और मरने वालों की संख्या 4000 को पार कर गई है। लेकिन एक ख़ुशी की बात भी है कि 60000 से अधिक लोग इससे ठीक भी हो गए हैं भारत में कोरोना के रोगियों की संख्या 62 हो चुकी है, हालांकि इनमें से 4 रोगियों का सफल इलाज हो चुका है।

एक ओर जहाँ कोरोना वायरस पूरी दुनिया के लिए चिंता का कारण बन गया है, वहीं यह भी दावा किया जा रहा है कि गर्मी का मौसम आते ही कोरोनो वायरस भारत से खत्म हो जाएगा क्योंकि वायरस उच्च तापमान पर कमजोर पड़ जाते हैं।

आमतौर पर अप्रैल और मार्च में फ्लू का मौसम कम हो जाता है, लेकिन क्या कोरोना वायरस इसके साथ जाएगा? पिछले कोरोना वायरस के प्रकोप से सुराग मिल सकता है।

संभावना है कि गर्मी इस महामारी को रोक सकती है। पिछले महीने, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने वायरस को रोकने के चीन के प्रयासों के बारे में ट्वीट करते हुए कहा कि वे सफल होंगे, “विशेष रूप से जब मौसम गर्म होना शुरू होगा।”

तापमान और वायरस से जुड़ी रिपोर्ट क्या कहती है

एक अध्ययन के मुताबिक, कोरोना वायरस 22-25 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर 40-50 फीसदी नमी के साथ टेबल, डोर हैंडल्स, फोन और कीबोर्ड जैसे पर 5 दिनों तक रह सकता है। ये हालात एक एसी के वातावरण में निर्मित होते हैं।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के एक वैज्ञानिक का कहना है कि 38 डिग्री सेल्सियस और 95 प्रतिशत आर्द्रता पर कोरोना वायरस की क्षमता कम होने लगती है। बंद तापमान जैसे घर के अन्दर में इस वायरस का खतरा अधिक होता है।

कम तापमान वाले स्थानों में कोरोना वायरस अधिक तेजी से फैल रहा है, जबकि मलेशिया, इंडोनेशिया और थाईलैंड जैसे गर्म देशों में अभी इसके कम मामले सामने आए हैं। हालाँकि, कोरोनो वायरस और तापमान को लेकर दुनिया भर के कई वैज्ञानिकों की राय अलग-अलग है।

कोरोना वायरस और गर्म मौसम को लेकर विशेषज्ञों की राय अलग-अलग

नेशनल ज्योग्राफिक के एक लेख के अनुसार, वायरस के कारण इन्फ्लूएंजा या कोरोना वायरस से होने वाली सर्दी जुकाम, गर्मी के महीनों में कम हो जाते है क्योंकि इस प्रकार के वायरस को वैज्ञानिक रूप से ‘सीजनल वायरस’ कहा जाता है।

वहीं, TIME की एक रिपोर्ट में, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि गर्म मौसम वायरस को फैलने से रोकने में कितना प्रभावी होगा, इसपर अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।

पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी में सेंटर फॉर इंफेक्शियस डिसीज डायनेमिक्स के निदेशक एलिजाबेथ मैक्रोग्रा का कहना है, ” कोरोना वायरस कितने समय तक चलेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि यह कितना फैलता है और इसका कितना नियंत्रण में रहता है।” इसके अलावा, लोगों की प्रतिरक्षा (इम्यूनिटी) और मौसम भी इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

गर्म मौसम और कोरोना वायरस को लेकर मिलीजुली प्रतिक्रिया

यूएस सीडीसी (रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र) ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है कि अभी तक इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि मौसम और तापमान COVID-19 को कितना प्रभावित करते हैं।

सीडीसी के अनुसार, “कुछ वायरस, जैसे कि सामान्य सर्दी और फ्लू, ठंड के मौसम में अधिक फैलते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इन वायरस के साथ अन्य महीनों में बीमार होना असंभव है।”

मौसम गर्म होने पर कोरोना वायरस फैलने से रूक जायेगा इसकी अभी कोई सूचना नहीं है। COVID-19 कैसे फैलता है और यह कितना गंभीर हो सकता है, इस बारे में अभी भी जानकारी एकत्र की जा रही है।

TIME रिपोर्ट के विशेषज्ञों का कहना है कि भले ही COVID-19 गर्मियों में कम सक्रिय हो सकता है, लेकिन यह अपने प्रकोप के नियंत्रण के बिना वापिस भी लौट सकता है।

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में प्रयोगशाला चिकित्सा के प्रोफेसर चार्ल्स चिउ कहते हैं, “यदि कोरोना वायरस ऐसे ही कई देशों में फैलता रहेगा, तो वायरस को खत्म करना बहुत मुश्किल होगा।”

इस कोरोना वायरस के बारे में हमें क्या पता है?

यद्यपि कोरोना वायरस और फ्लू दोनों श्वसन संक्रमण हैं, लेकिन यह पर्याप्त नहीं है कि कोरोनो वायरस का भी मौसमी पैटर्न होगा।

इस प्रकोप को बेहतर ढंग से समझने के लिए, वैज्ञानिक सार्स और मर्स जैसे तुलनीय प्रकोपों ​​को देख रहे हैं। SARS, जिसने 2002 के अंत में अपना प्रसार शुरू किया था, अपने डीएनए का लगभग 90% वर्तमान वायरस के साथ साझा करता है। वेस्ट्स का कहना है कि SARS का प्रकोप नवंबर में शुरू हुआ था और जुलाई तक चला था, जो केवल मौसम के हिसाब से संकेत देता है। दूसरे शब्दों में, क्या यह गर्म मौसम के साथ गायब हो गया, या क्या उपचार और रोकथाम के प्रयास बस काम करते हैं?

सितंबर 2012 में MERS की शुरुआत सऊदी अरब में हुई, जहां तापमान आमतौर पर अधिक रहता है। सार्स के विपरीत, यह कभी भी पूरी तरह से निहित नहीं था, और नए मामलों को कभी-कभी सूचित किया जाता था। नोवल कोरोना वायरस भी मध्य पूर्व में ईरान और संयुक्त अरब अमीरात में स्थानीय रूप से प्रसारित होना शुरू हो गया है।

आगे क्या होगा?

हालांकि, विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि उच्च तापमान अकेले नए कोरोना वायरस पर अंकुश लगाने में मदद नहीं कर सकता है। हार्वर्ड के महामारी विज्ञानी मार्क लिप्सविच को नहीं लगता कि कोई भी मौसम परिवर्तन वायरस को फैलाने में बड़ा सेंध लगाएगा। COVID-19 को अब दुनिया भर में फ़ैल गया है। यदि वायरस एक विशिष्ट फ्लू वायरस की तरह है, तो यह दक्षिणी गोलार्ध क्षेत्रों में हालत और खराब कर सकता है क्योंकि वहां इस समय मौसम में परिवर्तन होता है।

केवल वर्तमान कोरोना वायरस का प्रकोप ही नहीं, यहां तक ​​कि पूर्ववर्ती महामारियों जैसे MERS, SARS, इबोला और पीला बुखार, जिसने पूरे एशिया, अमेरिका और अफ्रीका में हजारों लोगों की जान ले ली, लेकिन इसका भारत में कम से कम प्रभाव पड़ा। इसलिए, वैज्ञानिकों का सुझाव है कि इस श्रेणी के वायरल संक्रमण भारत में उतनी तेजी से नहीं फैल सकते हैं, जितना कि वे ठंडे जलवायु वाले देशों में फैलते हैं क्योंकि उच्च तापमान और आर्द्रता में वायरस के लिए जीवित रहना और शक्तिशाली बने रहना मुश्किल हो सकता है।

भारत ने सौभाग्य से, COVID-19 की कम संख्या में पुष्टि की गयी है, किसी भी वायरस से होने वाली बीमारी को रोकने के लिए, विश्व स्वास्थ्य संगठन अपने हाथों को बार-बार धोने, खांसी या छींकने जैसे लक्षणों वाले व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से बचने और बीमार होने पर तुरंत उपचार कराने की सिफारिश करता है।

इस वायरस को लेकर लोगों में सवाल उठ रहा है कि क्या बढ़ती गर्मी के साथ इस वायरस का प्रकोप कम हो जाएगा। विशेषज्ञों ने कहा कि यह अनुमान लगाया जा रहा है कि गर्मी से वायरस समाप्त हो जाएगा। लेकिन फिर भी हम इस मामले पर कुछ नहीं कह सकते। अभी भी यह पता लगाने के लिए इंतजार करना होगा कि गर्मी के मौसम में कोरोना वायरस कैसे व्यवहार करता है।

और पढ़े – 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration